Home » , , , » दामाद के साथ सास की नाजायज़ सेक्स की कहानियों

दामाद के साथ सास की नाजायज़ सेक्स की कहानियों

हेलो फ्रेंड, मैं राधिका वर्मा, आज जो दामाद और सास की सेक्स कहानियों बताने जा रहा हू वो मेरी दामाद के साथ सेक्स की कहानियों हैं । आज मैं कहने जा रही हु कैसे दामाद से चूत चटवाईदूध पिलाई, दामाद से गांड मरवाई और कैसे दामाद के बच्चे की माँ बनने बाली हु ।मैं 36 साल की हु, और विधवा हु, आप सोच रहे होंगे की 36 तो हां मेरी शादी 16 में ही हो गई थी, और और मैंने अपनी बेटी की शादी इसी साल ही की, मुझे और कोई संतान नहीं था सिर्फ बेटी के अलावा, मेरा दामाद गुडगाँव में एक कॉल सेंटर में मैनेजर है, मेरी बेटी एक पब्लिक स्कूल में नौकरी करती है, घर पे मैं होती हु, बेटी सुबह 7 बजे ही चली जाती है और 4 बजे शाम को आती है, मेरा दामाद दिन में ३ बजे जाता है और रात को २ बजे आता है.

जब मेरी बेटी 8 साल की थी तभी मेरे पति का देहांत हो गया, मैं बहुत ही खुले विचार की महिला हु, मैं ना तो अपनी बेटी को किसी चीज की कमी होने दी ना तो मैं कभी ऐसे रही की मैं एक विधवा हु, पर मैंने कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया था, पति इतना पैसा छोड़ के गए थे उससे अभी तक की ज़िंदगी काफी आराम से चल रही थी, पर जब से दामाद घर जमाई बना तब से काफी कुछ चेंज हो गया. कैसे मैं आगे बताती हु, एक दिन मैं किचन में काम कर रही थी, बेटी मेरी जॉब पे गई थी, सुबह से आठ बज रहे थे मेरा दामाद अनिल उठा और किचन में आया और मुझे गले से लगा के हैप्पी बर्थडे मम्मी जी कहा, मेरे आँख से आंसू छलक गए, क्यों की इसी तरह से मेरे पति भी मुझे बर्थडे विश करते थे, मैं थोड़ी नरवश हो गई और रोने लगी, मेरा दामाद मुझे गले से लगाए रखा, दोस्तों ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मुझे बहुत अछा लग रहा था पर मैंने महसूस की की मेरी छाती उसके छाती से चिपक रही थी और ब्लाउज से बाहर आने लगी मेरा आँचल भी निचे गिरा हुआ था, और अनिल ये सब देख रहा था, मैं शर्मा गई और अपने पल्लू को ठीक की, मैं अपने दामाद को थैंक्स कहा, उस दिन मैं दिन भर सोचते रही कैसे वो मुझे अपने सीने से चिपकाये हुए खड़ा था क्यों की काफी दिनों के बाद मुझे किसी मर्द ने स्पर्श किया था वो भी इस तरह से, सच पूछिये तो मेरा मन डोल गया और मेरे मन में कई सारे विचार आने लगे, ऐसा लगा की रेगिस्तान के पेड़ में किसी ने पानी डाल दिया और वो पौधा धीरे धीरे लहलहाने लगा,

वही मेरे साथ भी होने लगा, उस दिन मेरे मन में अजीब सी कौतुहल थी, पर आगे सिर्फ मेरे तरफ ही सिर्फ नहीं थी उधर भी था, अनिल जब भी सुबह सुबह उठता अब वो गुड मॉर्निंग कहके, मुझे अपने गले से लगा लेता, क्यों की उस समय बेटी होती नहीं थी. एक दिन अनिल ने गले लगाते हुए मुझसे कहा सासु माँ आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो, जब मैं आपको गले से लगाता हु मेरे रोम रोम सिहर जाता है, मेरे दिल की धड़कन बढ़ जाती है, मैं आपसे सेक्स करना चाहता हु, मेरे तो होश हवास उड़ गए पर ये होश उड़ने का नाटक था, मैंने कहा अनिल ये गलत है मैं तुम्हारी सास हु, अगर ये सब ज्योति को पता चलेगा तो क्या कहेगी, अनिल ने कहा सासु माँ देखो मैं आपकी फीलिंग्स भी समझ रहा हु, पर अगर आप मेरे से सम्बन्ध बनाते हो तो हमारे तीनो के रिश्ते और भी प्रगाढ़ हो जायेगा, आप मना नहीं करो प्लीज मैं वादा करता हु आप दोनों को मैं बहुत खुश रखूँगा. मैंने चुचाप खड़ी थी मेरी नजर झुकी हुई थी, दोस्तों ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।और जब नजर उठाई तो वो हाथ फैलाये खड़ा था, और हम दोनों एक दूसरे को बाहों में सामा गए, मैं उसकी मजबूत बाहों में थी वो मेरी पीठ को टटोल रहा था और हाथ निचे करके मेरी चुतड के उभार को दबाते हुए अपने लण्ड के पास ले गया और मेरे होठ को चूसने लगा, मैं भी समा जाना चाहती थी, आज रेगिस्तान में वारिश हो रही थी, बारह साल के बाद मैं किसी की बाहों में झूल रही थी.

हम दोनों एक दूसरे को होठ को इस तरह से चाट रहे थे जैसे किसी प्यासे को पानी मिल गया हो. उसके बाद मेरे दामाद मुझे उठा लिया और मुझे बेड रूम में लेके बेड पे लिटा दिया और आँचल को निचे कर के मेरे चूच को अपने हाथो से सहलाने लगा, मैं उससे देख के मुस्कुरा रही थी, और बोली ये बात सिर्फ मेरे और आपके बीच में ही रहनी चाहिए, अनिल ने मेरे सर पे हाथ रखा और कहा आप विस्वास करो मैं किसी को नहीं कहुगा चाहे जो भी सिचुएशन हो जाये, और मैंने फिर से उसके होठ को चूसने लगी, दामाद ने मेरे ब्लाउज के हुक को खोल दिया और मेरे चूच को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा मेरा बड़ा बड़ा चूच ब्रा से निकलने के लिए बेताब थी मैंने खुद ही दोनों को अपने ब्रा से आज़ाद कर दिया, दामाद ने दोनों चूच को बारी बारी से चूसने लगा और फिर हाथ निचे किया और साडी को ऊपर उठा के मेरे चूत को सहलाने लगा, मैं उस दिन पेंटी नहीं पहनी थी, मेरा चूत काफी गरम और गीली हो चुकी थी, मैं दो दिन पहले ही चूत के बाल को साफ़ किया था तो अनिल ने कहा आपका चूत तो बिलकुल साफ़ है तो मैंने कहा आपको कैसा चूत पसंद है तो अनिल ने कहा मुझे क्लीन शेव चूत पसंद है मैंने रात को ज्योति के चूत की बाल को खुद अपने हाथो से साफ़ किया है रेजर से. दोस्तों ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। और फिर निचे जाके दामाद ने मेरी चूत को चाटने लगा. मैं तो बस आअह आआह आआह उफ्फ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ्फ़ कर रही थी . आप मैं पागल हो रही थी मुझे लण्ड चाहिए था,

मैंने दामाद के लण्ड को खुद ही निकाल ली और हिलाने लगी फिर मैं अपने मुह में ले ली अनिल का लण्ड इतना मोटा था की मेरे मुह में आ नहीं रहा था अनिल ने मुह को थोड़ा चिर के लण्ड डाल दिया मुझे सांस लेने में भी प्रॉब्लम होने लगी थी मेरे कंठ तक लण्ड जा रहा था. पर मैं उसके लण्ड को मुह में बर्दाश्त नहीं कर पाई मैं कहा अनिल आज तुम मुझे इतना चोदो की बारह साल की कमी पूरी हो जाये अनिल मेरे टांगो को अलग अलग किया और चूत को चिर के देखा और बोला ओह्ह माय गॉड आपकी चूत तो एकदम लाल है ऐसा लग रहा है आप वर्जिन है, मैंने कहा मत तड़पाओ चोद दो मुझे और उसने मेरे चूत पे लण्ड का सुपाड़ा रखा और लण्ड को चूत में डालने लगा पर चूत के अंदर लण्ड प्रवेश नहीं कर पा रहा था, दोस्तों ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।फिर दामाद ने चूत में और लण्ड पे वेसलिन लगाया और जोर से धक्का मार पूरा लण्ड मेरे चूत में समा गया, एक अलग ही आनंद की अनुभूति हुई, मैं अपना गांड उठा उठा के दामाद से चुदवाने लगी. मेरे मुह से सिर्फ आअह आआह उफ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ्फ़ निकल रहा था और वो मुझे चोदे जा रहा था, करीब दामाद ने मुझे १ घंटे तक चोदा मैं पसीने से तर वतर हो गई थी, अब मैं पूरी तरह से संतुष्ट थी मैं तीन से चार बार झड़ चुकी थी, अनिल एक गहरी सांस लेते हुए और और जोर से आआअह की आवाज करते हुए सारा माल मेरे चूत के अंदर ही डाल दिया और दोनों एक दूसरे को पकड़ को सो गए, फिर क्या था रात मेरी ज़िंदगी काफी अच्छी कटने लगी,

मैं सुबह होने का इंतज़ार करती थी कब सुबह हो और अनिल मेरी बाहों में हो, क्यों की वो रात को मेरी बेटी के साथ सोता था मैं तो दिन की थी.पर इस महीने गड़बड़ हो गया है, मैं घर में किट लाके चेक की मैं प्रेग्नेंट हु, क्यों की आठ माहवारी हुए आठ दिन हो गए है, किट में पॉजिटिव है, क्या करूँ अब तो मैं अपने दामाद के बच्चे की माँ बनने बाली हु, क्या करूँ समझ में नहीं आ रहा है, कैसी लगी हम डॉनो दामाद और सास की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी सास की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/RadhikaVerma


1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter