Home » , , , » चाची के साथ सुहागरात और चुदाई की सिलसिला

चाची के साथ सुहागरात और चुदाई की सिलसिला

मुझे चुदाई का बहुत शौक है और मेरा लंड हमेशा चूत और गांड का स्वाद चखने को बैताब रहता है। आज में आपको ऐसी ही एक स्टोरी सुनाने जा रहा हूँ जिसमे मैंने अपने लंड की प्यास अपनी चाची को चोद कर बुझाई। दोस्तों मेरे चाचा की अभी कुछ समय पहले नई नई शादी हुई थी। उनकी शादी बहुत लेट हुई थी और मेरे चाचा की उम्र 32 साल है और चाची की उम्र 29 साल है और काम की वजह से चाचा को अक्सर बाहर आना जाना पड़ता है। इस वजह से चाची को अकेले घर पर रहना पड़ता है। चाची का जिस्म बहुत ही कातिलाना, सेक्सी है और वो थोड़ी सी सांवली है लेकिन नाक नक्श बहुत मस्त है। उसकी वजह से वो एकदम मस्त लगती है। उनके होंठो का रंग भी सावला है और उनका फिगर 36-30-34 इंच है जो कि उन्होंने एकदम अच्छी देख रेख करके बहुत अच्छा बनाया हुआ है।

फिर एक दिन मेरे चाचा का फोन मेरे पास आया और उन्होंने मुझे घर पर बुलाया क्योंकि वो किसी काम से एक महीने के लिए बाहर जा रहे थे तो उन्होंने मुझे चाची के साथ रहने के लिए बुलाया। तभी में जल्दी से तैयार हो गया.. क्योंकि में पहले से ही इस मौके की तलाश में था जो मुझे आज मिल ही गया और में उनके घर पहुँचा और फिर जैसे ही मैंने दरवाजा खोला तो मेरे सामने चाची खड़ी थी.. सफेद कलर के चूड़ीदार सूट में और में तो उन्हें देखता ही रह गया। सफेद सूट में उनका सावला रंग और भी निखर कर सामने आ रहा था और में तो बस उन्हें ऊपर से नीचे तक हवस भरी आँखों से देख रहा था। तभी उन्होंने मुझे अंदर आने को कहा और में अंदर चला गया और चाचा जी जाने के लिए सामान पेक कर रहे थे और वो रात को चले गये और उनके जाने के बाद अब हम दोनों ही घर में अकेले थे।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  चाची बहुत फ्रेंक थी.. इसी वजह से में उनके साथ जल्दी घुल मिल गया और हम बहुत करीब भी आ गये। अब हम थोड़ी थोड़ी सेक्सी बातें भी करने लगे।फिर एक दिन बातों बातों में उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैंने कभी किसी के साथ सेक्स किया है? तभी मैंने हाँ कर दी तो उन्होंने कहा किसके साथ? फिर मैंने कहा कि मैंने 25 या 30 बार अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा है और अपनी पड़ोस वाली आंटी को भी कई बार चोदा है। तभी उन्होंने कहा कि उन्हें कितनी बार? तभी मैंने कहा कि उन्हें भी 15 से 20 बार। तो उन्होंने कहा कि क्या तुमने कभी 25 से 30 साल उम्र वाली की औरत से सेक्स किया है?

तभी मैंने कहा कि नहीं मुझे कभी मौका ही नहीं मिला। तभी चाची बोली कि और अगर मौका मिलेगा तो तू क्या करेगा? फिर मैंने कहा कि हाँ क्यों नहीं.. ये भी कोई पूछने वाली बात है।फिर मैंने कहा कि लेकिन किससे? तभी चाची बोली कि क्या तू मेरे साथ सेक्स करना चाहेगा? तभी मैंने कहा कि क्या आपसे? तो चाची बोली कि हाँ क्या कोई हर्ज है? फिर मैंने कहा कि ये ठीक नहीं है। तो फिर चाची बोली कि सेक्स में कुछ भी ग़लत नहीं होता और 15 मिनट चाची के समझाने के बाद में मान गया और उन्हें चोदने को तैयार हो गया और बाहर से ना चोदने का दिखावा कर रहा था लेकिन अंदर से मन ही मन बहुत खुश था। फिर हमने रात को खाना खाया और हम चाची के बेडरूम में आकर टीवी देखने लगे। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर चाची भी मेरे पास आकर बैठ गई और में टीवी देखते देखते चाची के बूब्स दबाने लगा उन्हें मज़ा आने लगा और वो भी बहुत मज़ा ले रही थी।तभी में चाची के कपड़े उतारना चाहता था लेकिन उन्होंने मना कर दिया। तभी मैंने कहा कि क्या हुआ चाची? तभी वो बोली कि मुझे तुम्हारे साथ सुहागरात मनानी है और तुम मुझे मेरे नाम से बुलाओ.. मैंने कहा कि ठीक है सपना.. उनका नाम सपना है। तभी वो उठकर अंदर चली गई और लगभग आधे घंटे बाद मुझे आवाज़ लगाई तो में टीवी बंद करके उनके पास दूसरे रूम में चला गया। फिर वो एकदम दुल्हन की तरह लाल कपड़ो में घुंघट डालकर बेड पर बैठी थी.. एकदम नई नवेली दुल्हन की तरह.. में तो ये सब देखकर पागल सा हो गया और मैंने बेड पर बैठकर उनका घूंघट बड़े आराम से उठाया।

मेकअप के कारण उनका रंग रूप और भी निखर गया था। तभी मैंने उन्हें बेड पर लेटाया और उनके लिपस्टिक लगे लाल होंठो को चूसने लगा। में उन्हें एक भूखे शेर की तरह चूस रहा था और वो भी मेरा साथ दे रही थी और हम दोनों एक दूसरे की बाहों में लिपटे हुए थे और सारी दुनिया को भुलाकर प्यार कर रहे थे। फिर मैंने चाची की ब्लाउज और ब्रा का हुक खोल डाला और चाची की चूचियों को आज़ाद कर डाला वो बहुत कामुक लग रही थी चाची की चूचियाँ बाहर आकर और बड़ी हो गई और में बड़ी बेरहमी से उन्हे दबाने चूसने लगा। में एक एक करके दोनों को बारी बारी से चूसने लगा और बीच बीच में अपनी एक ऊँगली उनकी गांड में भी डाल देता। तभी वो एकदम चीख पड़ती.. जानू ऐसा मत करो ना.. प्लीज़। में नहीं माना कुछ देर बाद उनके मुहं से भी सिसकियाँ आने लगी अहहहहह उफ़फफूफुफ ओह और वो बड़े मजे ले रही थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अब मैंने उनकी साड़ी पेटिकोट और पेंटी भी उतार दी। अब वो मेरे सामने एकदम नंगी लेटी हुई थी तभी उनकी बहुत बड़ी सी चूत देखकर में पागल सा हो गया था।तभी मैंने उनकी चूत पर किस किया.. वो गीली थी और एक मादक खुश्बू भी दे रही थी और अब मेरे सब्र का बाँध टूट पड़ा और में उनकी चूत को चाटने लगा। तभी वो बहुत जोर जोर से आवाज़े निकालने लगी और कहने लगी कि आहहहह और तेज चाटो और तेज और तेज करो ओह आआ मेरी चूत.. अब सब्र नहीं होता.. मेरी चूत में अपना लंड डाल कर फाड़ डालो। तभी मैंने चाची की दोनों पैरों को अपने कंधो पर रखा और अपना लंड चाची की चूत के निशाने पर लगाया और एक जोरदार झटका मारा जिससे मेरा आधा लंड अंदर चला गया। वो बहुत तेज चीख पड़ी उूउइíई में मर गयी रे.. उनकी चूत बहुत टाईट थी वो दर्द से कराह रही थी।

फिर में थोड़ी देर वैसे ही रहा और उनके होंठो को चूमने लगा और जब मुझे लगा कि उनका दर्द कम हो गया है तो मैंने एक और ज़ोरदार झटका मारा और मेरा पूरा लंड उनकी चूत की गहराइयों में समा गया और वो रो पड़ी उन्हे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन में धीरे धीरे झटके मारने लगा और वो भी उन झटको का मज़ा लेने लगी। अब में उनकी चूत को जमकर तेज तेज धक्को के साथ चोदने लगा और उनकी अच्छे से चुदाई करने लगा। वो एकदम जन्नत का जैसा मज़ा लूट रही थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। 45 मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद में झड़ने वाला था और फिर मैंने पूछा कि पानी कहाँ पर गिराऊँ तो उन्होंने कहा कि मेरी चूत में ही झाड़ दो.. वैसे भी में दोबारा झड़ने वाली हूँ और मैंने तेज तेज झटके मारने शुरू कर कर दिए और हम दोनों एक साथ चिपके हुए झड़ गये। उस दिन मैंने उन्हें 9 बार चोदा और उनकी चूत चुदाई की वजह से सूज गई थी। मैंने उन्हें इसके बाद पूरे 15 दिनों तक दिन रात चोदा और उन्हे बहुत मज़ा दिया और उनकी चूत के साथ साथ उनकी गांड भी मारी और अपनी लंड की पूरे 15 दिनों तक प्यास बुझाई। कैसी लगी चाची की चुदाई  की स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चाची की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/ReetuSingh

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter