Home » , , , » उधार के बदले पंजाबी आदमी ने माँ को बेरहमी से चोदा

उधार के बदले पंजाबी आदमी ने माँ को बेरहमी से चोदा

मेरी माँ एक 40 साल की औरत है जो गोरी है करीब 5 फीट लंबी है उनकी घने लंबे बाल है माँ की चूची लगभग 34 साईज़ की है उनके कूल्हों में बहुत चर्बी है और उनकी गांड का 38 साईज़ है और वो जब चलती है तो उनकी गांड बहुत हिलती है और सभी लोग उनकी गांड को देखकर अपना लंड बड़ा कर लेते है। करीब 4 साल हो गये है मेरे पापा को गुजरे हुए और ये कहानी उनके गुजर जाने के लगभग 6 महीने बाद की है।पापा के गुजर जाने के बाद हमारे घर की आर्थिक स्थिति थोड़ी खराब हो गई थी.. क्योंकि मेरी पड़ाई भी थी और फिर घर के सारे ज़रूरी काम ठीक से पूरे नहीं हो पाते थे। तभी मेरी मम्मी ने सोचा कि वो किसी से कुछ रुपये उधार ले ले जिससे सब कुछ थोड़ा ठीक हो जाए तो बहुत अच्छा होगा। फिर हमारे मोहल्ले में एक पंजाबी आदमी रहता था..

जो लोगों को पैसा उधार देता था और वो ब्याज भी लेता था और वो यही बिजनेस करता था। तो मम्मी उसके पास गयी और उनसे 50 हज़ार रुपये माँगे और उन्होंने कहा कि वो 2 महीने बाद वापस कर देगी। क्योंकि उन्हें मेरे पापा के बीमे के पैसे मिल जाएँगे। तो उन्होंने मेरी मम्मी को पैसे उधार दे दिए.. लेकिन जब वो मम्मी के साथ बात कर रहा था तो वो इस तरीके से मम्मी को घूरकर देख रहा था और मुझे समझ में आ रहा था कि उसको अगर मौका मिले तो वो मम्मी को नहीं छोड़ेगा। फिर उसने मम्मी से मोबाईल नंबर माँग लिया.. इस बहाने से कि अगर उसे पैसे के बारे कुछ पूछना पड़ा तो वो फोन करेगा है तो मम्मी ने उसे अपना मोबाईल नंबर दे दिया और हम चले आए।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर उस दिन के बाद से हर रोज़ वो मम्मी को गंदे गंदे चुटकुले मैसेज करता था। मम्मी भी कुछ नहीं बोल पाती थी क्योंकि उन्होंने पैसा जो लिया है। फिर ऐसे ही चलता रहा कुछ दिनों के बाद से वो मम्मी को कभी कभी फोन करके उनके हालचाल पूछता था और कभी कभी वो रात को 10 बजे भी फोन करता था। फिर धीरे धीरे मम्मी को भी उसकी इस हरकत से आदत पड़ चुकी थी तो मम्मी भी उससे फोन पर बात किया करती थी.. अब उसे लगने लगा था कि वो मेरी मम्मी को पटा सकता है। फिर कुछ दिनों बाद वो अचानक से हमारे घर पर एक दिन आ गया और जब मम्मी ने दरवाजा खोला तो उसने कहा कि बस वो हालचाल पूछने आया है तो मम्मी ने उसे बैठाकर चाय बनाकर पिलाई तो वो लगभग आधे घंटे तक रुककर चला गया और इस तरीके से उसने हमारे घर पर भी आना जाना शुरू किया और वो जब भी घर पर आता था तो वो एक लूँगी और कुर्ता पहन कर आता था।

फिर वो मम्मी के साथ बैठकर या खड़ा होकर जब भी बात करता था तो वो अपनी लूँगी के ऊपर से लंड को खुजाता रहता था। उससे पता चल जाता था कि वो अंदर अंडरवियर नहीं पहन कर आया है और ये सब देखकर मम्मी बहुत ज़्यादा शरमा जाती थी। फिर दो महीने बाद जब पापा के बीमे का पैसा नहीं आया और पता चला कि वो रुपये मिलने में और एक साल लगेगा तो मम्मी घबरा गयी और मम्मी ने उसे फोन करके सब कुछ बता दिया।तभी उसने बोला कि तुम चिंता मत करो में अभी घर पर आता हूँ और फिर हम बैठकर बात करेंगे.. तो फिर वो अगले दिन हमारे घर पर आया। लेकिन आया रात के 10.30 बजे करीब और हम लोग खाना खाने ही वाले थे। तभी वो आया और मम्मी ने उसे भी खाना खाने को कहा तो उसने कहा कि ठीक है हम खाना खाने के बाद बात करते है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर खाना खाने के बाद मम्मी उससे रूम में बैठकर बात कर रही थी तो उसने मम्मी से पूछा कि तुम्हारे पास कोई गहने है जो मेरे पास गिरवी रख सकती हो? तभी मम्मी ने कहा कि हाँ मेरे पास कुछ गहने है। तो उसने कहा कि दिखाओ तो मम्मी उसे अपने बेडरूम में जहाँ पर अलमारी में गहने रखे है वहाँ लेकर गयी। तो उसने वहाँ पर गहने देखकर कहा कि ये तो बहुत कम है। तभी मम्मी बोली कि अब में क्या करूँ? ये कहने के साथ साथ ही उसने मम्मी को बेडरूम के अंदर ही पकड़ लिया और ज़बरदस्ती उनकी चूचियों को मसलने लगा।मम्मी उससे छुड़ाने की कोशिश कर रही थी और बोली कि में जोर से शोर मचाऊँगी। तभी उसने मम्मी को छोड़ दिया और फिर कहा कि अगर मेरे पैसे वापस नहीं मिले तो कल आऊंगा और मुझे ये घर गिरवी चाहिए तुझे जो करना है कर।

तभी मम्मी रो पड़ी तो उसने मम्मी से कहा कि अगर तू मुझे तेरी चूत देती है तो तेरा पैसा मुझे नहीं चाहिए.. सोचकर कल मुझे फोन करके बताना। इतना बोलकर वो चला गया। फिर मम्मी पूरी रात रोती रही और ये बात सोच सोचकर वो सोई नहीं। फिर अगले दिन मम्मी ने दोपहर को उसे फोन किया और बोली कि और कोई चारा नहीं है क्या?तो उसने कहा कि नहीं.. फिर मम्मी ने कहा कि तो फिर आपकी जो मर्ज़ी हो वो कर लो। तभी उसने कहा कि क्या में अभी आ जाऊँ? फिर मम्मी ने उसे हाँ कर दिया और थोड़े ही देर में वो घर में आ गया और उसने आकर दरवाजा बंद कर दिया और मम्मी को हाथ पकड़ कर बेडरूम में लेकर गया और बोलने लगा कि आजा मेरी रानी अब तो तुझे में अपनी रंडी बनाऊंगा और उसने अपनी लूँगी खोल दी और मम्मी उसका लंड देखकर दंग रह गयी.. काला मोटा 9 इंच का एक सांप जैसा लंड उसने कहा कि क्या देख रही है कुतिया ले इसे अपने मुहं में.. मम्मी ने इससे पहले कभी मुहं मे लंड नहीं लिया था तो वो बहुत मुश्किल से उसे चूसने लगी घुटनो पर बैठकर। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर उसने कुछ देर बाद मम्मी के बाल पकड़ कर लंड को गले तक घुसा दिया और मुहं में जोर जोर से धक्के देकर लंड डालने लगा। तभी मम्मी की साँस रुक चुकी थी और वो छटपटा रही थी तभी उसने लंड को थोड़ा बाहर निकाल लिया और बोला कि रंडी तेरे कपड़े उतार।तभी मम्मी ने धीरे धीरे अपने सारे कपड़े उतार दिए और वो मम्मी की बिल्कुल साफ गोरी चूत देखकर पागल सा हो गया। उसने तुरंत मम्मी को उठाकर बिस्तर पर डाल दिया और थोड़ा सा थूक लगाकर मम्मी की चूत में लंड डालने लगा और मम्मी बहुत जोर से चिल्ला रही थी.. क्योंकि लंड बहुत बड़ा था और मम्मी को बहुत दर्द हो रहा था।

फिर वो किचन से तेल लेकर आया और फिर चूत पर तेल लगा दिया और लंड को ज़बरदस्ती घुसा दिया और फिर सांड की तरह चोदने लगा। मम्मी दर्द के मारे चिल्ला रही थी। फ़िर भी उसने रहम नहीं किया और बोलने लगा कि साली रांडी तेरी चूत से में अपना पैसा निकालूँगा.. तू देखती जा साली कुतिया इस तरीके से वो मम्मी को एक घंटा तक चोदता रहा और जब उसका वीर्य गिरने वाला था तो उसने मम्मी के मुहं में लंड डाल दिया और मम्मी के मुहं में सारा वीर्य गिरा दिया और मम्मी को मज़बूरी में सारा वीर्य पीना पड़ा। फिर उसने मम्मी को पकड़ा और वहीं पर सो गया। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मम्मी दर्द के मारे बिल्कुल बिखर चुकी थी तो मम्मी भी उसके सीने पर सर रखकर सो गयी कुछ एक घंटे बाद फिर से उसका लंड खड़ा होने लगा और वो धीरे धीरे मम्मी की गांड को मसलने लगा तो मम्मी भी उठ गयी। तभी मम्मी ने पूछा कि क्या हुआ? तो उसने बोला कि मेरी रानी तेरी मस्त गोरी गांड को भी चोदना है।तभी मम्मी ने कहा कि नहीं प्लीज़ वहाँ पर नहीं मैंने कभी नहीं करवाई। तो उसने बोला कि बहुत अच्छी बात है तेरी कुँवारी गांड की सील आज में तोड़ूँगा.. इतना कहकर वो उठ गया और तेल की शीशी लेकर आया और मम्मी को उल्टा करके उनकी गांड के छेद में तेल डालने लगा। मम्मी मज़बूरी में चुपचाप पड़ी रही और उसने एक उंगली घुसकर तेल लगा लिया और अपने लंड पर भी तेल लगाकर अपने लंड को मम्मी की गांड में सेट कर दिया और धीरे धीरे धक्का देकर घुसाने लगा। मम्मी के मुहं से आवाज़ निकली तो उसने एक हाथ से मम्मी का मुहं पकड़ लिया और पूरा लंड ज़बरदस्ती घुसा दिया।

 करीब 5 मिनट वहीं पर रखा और फिर धीरे धीरे आगे पीछे करके चोदने लगा। मम्मी आधी बेहोश हो गयी थी। इस तरीके से उसने फिर 10 मिनट बाद अपनी स्पीड तेज़ कर दी और फिर से वो सांड बन गया.. फिर आधे घंटे तक चोदने के बाद उसका वीर्य माँ की गांड में ही झड़ गया। वो फिर से उनके पास ही सो गया और कुछ देर सोने के बाद बोला कि अभी में जा रहा हूँ फिर रात को आऊंगा। ये कहकर वो चला गया और अब वो ना तो दिन देखता है और ना ही रात। जब भी उसका लंड खड़ा होता है तो वो मेरी माँ के पास उसे ढीला करवाने आ जाता है ।कैसी लगी माँ की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी मां की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/NeetuSharma

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter