कजिन सिस्टर के साथ चुदाई की दिवाली

चुदाई कहानी, Sex kahani, बरोथेर सिस्टर सेक्स हिंदी स्टोरी, Cousin sister ki chudai xxx kahani, दीवाली में बहन की चुदाई Hindi sex story, कजिन सिस्टर को चोदा hindi story, कजिन सिस्टर की प्यास बुझाई Chudai Kahani, बहन की चूत में भाई का लंड xxx mast kahani, कजिन सिस्टर के साथ चुदाई की कहानी, hindi sex kahani, कजिन सिस्टर के साथ सेक्स की कहानी, cousin sister ko choda xxx hindi story, जवान कजिन सिस्टर की कामवासना xxx antavasna ki hindi sex stories, कजिन सिस्टर की चूचियों को चूसा, कजिन सिस्टर को घोड़ी बना के चोदा, 8" का लंड से कजिन सिस्टर की चूत फाड़ी, कजिन सिस्टर की गांड मारी, कजिन सिस्टर की कुंवारी चूत को ठोका,

ये चुदाई की कहानी आज से 5 महीने पहले की है जब में अपनी बुआ के घर पर पूजा में गया था। वहाँ पर मेरी मामा की लड़की यानी मेरी कज़िन आई थी। वो पहले तो मेरे से ढंग से बात भी नहीं करती थी.. लेकिन उस दिन वो मुझे देखकर बहुत खुश हो गयी और मुझसे बहुत चिपकने लगी। में गाड़ी से कहीं पर भी जाता तो वो मेरे साथ बैठ जाती और मुझसे एकदम चिपक कर बैठती थी। ऐसे दिनभर चलता रहा और रात हो गयी।फिर रात में जब सब अपने अपने सोने के लिए जगह ढूंड रहे थे तो मैंने पलंग पर सोने के लिये बुआ से बोला तो उन्होंने हाँ कर दी.. लेकिन वो भी उस पलंग पर मेरी जगह पर सोने के लिए बोलने लगी।

तभी मैंने उससे कहा कि में सोऊंगा और वो मुझसे लड़ने लगी और ज़िद करने लगी.. लेकिन में नहीं माना उसी टाईम पता चला कि बुआ के कोई रिश्तेदार आने वाले है तो उससे बुआ ने बोला कि तू जागना उन्हे खाना देने के लिए.. लेकिन तभी उसने कहा कि मुझे तो बहुत नींद आ रही है और वो पलंग पर सोने चली गयी। फिर मैंने बुआ से बोला कि में पलंग पर ही सोऊंगा और वो सोने का नाटक करने लगी। तभी इतने में बुआ के रिश्तेदार आ गये और फिर उन्होंने खाना खाया और दूसरे घर को देखने के लिए चले गये.. क्योंकि उन्होंने एक नया घर बनवाया था और उसी का उद्घाटन था। मेरी कज़िन सो रही थी.. लेकिन वो सो क्या रही थी बस सोने का नाटक कर रही थी।तभी मैंने उससे बोला कि मुझे भी नींद आ रही है तो प्लीज तुम दूसरी जगह पर जाकर सो जाओ.. लेकिन वो मान नहीं रही थी तो मैंने उसे गुस्से में कहा कि में यहीं पर सोऊंगा तो उसने कहा कि सो जाओ मुझे क्या पड़ी है तुम कहीं पर भी सो जावो।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  तभी मैंने उससे कहा कि.. लेकिन कोई कुछ बोलेगा तो नहीं? फिर उसने कहा कि कुछ नहीं होगा.. लेकिन में डर रहा था क्योंकि मेरे मम्मी पापा भी आए हुआ थे। मैंने उसे फिर बोला कि तुम दूसरी जगह सो जाओ लेकिन वो नहीं मानी। तभी मैंने उसे प्यार से किस किया तो वो कुछ नहीं बोली मैंने फिर से उसे जाने को बोला.. तो वो मान ही नहीं रही थी तभी मैंने उसके बूब्स दबा दिये तो वो कुछ नहीं बोली में बहुत डर भी रहा था फिर में उसे किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी।तभी मैंने उससे कहा कि अब तुम दूसरी जगह सो जाओ। फिर जब रात में सब सो जाएँगे तो तुम आ जाना लेकिन वो फिर भी नहीं मान रही थी। इतने में मेरी बुआ और फूफाजी आ गये। फिर उन्होंने सभी को सोने के लिए बोला.. सभी लोग अपनी अपनी जगह पर सोने चले गये। तभी बुआ ने उसे मेहन्दी लगाने के लिए बोला तो उसने हाँ कर दी और गुस्से में उठकर मेहन्दी लगाने चली गयी। अब उसकी नींद उड़ गई थी और मेरी भी। फिर बुआ ने मुझसे बोला कि तू मेरी दादी के पास सो जा क्योंकि दादी अकेली दूसरे पलंग पर सो रही थी। मैंने बोला ठीक है और में सोने चला गया लेकिन में सो कहाँ रहा था बस सोने का नाटक कर रहा था। फिर उसने बुआ के मेहन्दी लगा दी और बुआ के पास सोने का नाटक करने लगी और उसे भी नींद नहीं आ रही थी।

तभी थोड़ी देर में वहाँ पर मौजूद सभी लोग सो गये.. क्योंकि सभी लोग थके हुए थे.. लेकिन में और वो जाग रहे थे। फिर थोड़ी देर बाद मैंने उससे बोला कि हम दूसरे पलंग पर चलते है जो कि दूसरे रूम में था। पहले तो उसने मना किया फिर बोली कि पहले में वहाँ पर जाऊँ। फिर में दूसरे रूम पर चला गया। फिर मेरे जाने के दो मिनट बाद वो भी आ गई और मैंने जल्दी से उसे पकड़कर किस किया और बूब्स दबाने लगा। उसे तो और भी ज्यादा सेक्स चड़ गया। वो मेरा पूरा पूरा साथ दे रही और में उसके बूब्स को उसके सूट के ऊपर से ही दबा रहा था और धीरे धीरे उसे गरम कर रहा था क्योंकि पास में सभी लोग सो रहे थे। इसलिए डर भी था कि कहीं कोई जाग ना जाए.. क्योंकि हम इसलिए भी बहुत डरे हुए थे क्योंकि हमारा ये सब कुछ पहली बार था।फिर में उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा वो और फिर गरम हो गयी। तभी मैंने एक हाथ से उसकी पेंटी को धीरे से नीचे कर दिया और एक हाथ से बूब्स दबा रहा था और दूसरे से चूत को सहलाने लगा और वो सिसकियाँ लेने लगी तो मैंने उसके एक हाथ को अपने लंड पर रख दिया वो मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगी। फिर में उसके ऊपर आ गया और फिर मौका देखकर अपना लंड कजिन बहिण की चूत पर रखा.. लेकिन वो मना करने लगी कि कहीं कोई जाग ना जाए क्योंकि घर के बाहर उसके पापा भी सो रहे थे.. लेकिन में कहाँ मानने वाला था मुझ पर तो चूत का भूत सवार था। फिर में धीरे धीरे कजिन बहिण की चूत और बूब्स को फिर से सहलाने लगा। वो फिर से गरम हो गयी और मैंने अपना लंड एक हाथ से पकड़ा और उसकी चूत के पास ले जाकर सेट किया और हल्का सा धक्का दिया.. लेकिन लंड अंदर नहीं जा रहा था। क्योंकि वो वर्जिन थी।तभी मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रखे और एक ज़ोर का झटका मारा मेरा थोड़ा सा लंड अंदर गया तो वो बोली कि मुझे बहुत दर्द हो रहा है प्लीज इसे बाहर निकालो। तभी मैंने कहा कि तुम्हे अभी थोड़ा दर्द होगा.. लेकिन थोड़ी देर में मजा आने लगेगा। फिर में थोड़ी देर बिना हिले ऐसे ही रहा और फिर मैंने एक झटका और मारा तो लंड अंदर चला गया और उसे बहुत दर्द हुआ लेकिन मेरे होंठ उसके होंठो पर थे तो वो जोर से चीखी पर उसकी आवाज ज्यादा जोर से बाहर नहीं आई। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकिन उसकी आँखों से आँसू जरुर निकल गये थे। में फिर से वहीं पर रुक गया और थोड़ी देर बाद जब दर्द कम हुआ तो अपने लंड को आगे पीछे करने लगा। फिर थोड़ी देर बाद उसे भी मज़ा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी और मज़े से अपनी गांड उछाल उछाल कर मज़ा लेने लगी और कुछ 25 मिनट तक उसे चोदने के बाद मैंने उससे कहा कि में झड़ने वाला हूँ तो उनसे कहा कि तुम वीर्य बाहर निकालो और मेरे ऊपर अपना वीर्य छोड़ो। मैंने वैसा ही किया और लंड को चूत से बाहर निकालकर पूरा वीर्य उसके ऊपर छोड़ दिया। लेकिन वो अभी भी नहीं झड़ी अब रात बहुत होने के कारण मैंने उसे दुबारा और नहीं चोदा और मैंने उसे अपने वीर्य को चाटने को कहा तो वो पहले मना कर रही थी।

फिर थोड़ी देर बाद मेरे बहुत कहने पर उसने मेरे वीर्य को थोड़ा सा चाटा फिर मैंने उससे पूछा कि कैसा लगा? तो उनसे कहा कि थोड़ा नमकीन है पर बहुत अच्छा है और वो मेरे पूरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी। करीब 10 मिनट बाद मैंने उससे कहा कि अब मत करो नहीं तो ये फिर से खड़ा हो जाएगा और मुझसे रहा नहीं जाएगा और रात भी बहुत हो चुकी है। तब रात के करीब 3 बज चुके थे और वो मान गयी और हमने अपने कपड़े ठीक किए और सोने के लिए जाने लगे। तो मैंने उसे पहले बाहर जाने को कहा और वो चली गयी और उसके पांच मिनट बाद में भी चुपचाप जाकर सो गया। फिर सुबह 6 बजे घर के सभी उठे.. लेकिन मुझे तो सुबह 8 बजे तक सोने की आदत थी तो में जाग तो गया लेकिन लेटा रहा और वो भी नहीं उठी थी.. उसे भी नींद आ रही थी.. लेकिन थोड़ी देर बाद उसे बुआ ने उठा दिया तो वो मेरे पलंग पर आकर सो गयी। तभी मैंने बुआ से बोला कि इसे सोने दो ये बहुत रात तक जागी है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर हम एक चादर में लेटे रहे तो मैंने उसका हाथ अपने लंड पर और अपना एक हाथ उसके बूब्स पर रख दिया। तभी वो मेरे लंड को सहलाने लगी और में भी उसके बूब्स धीरे धीरे दबा रहा था फिर मैंने उसे किस किया और कहा कि अब उठ जाओ। तो वो उठ गयी और में भी उठ गया।दोस्तों आप सोच रहे होंगे कि मैंने लड़की का फिगर और अपने लंड का साईज़ नहीं बताया तो मुझे फिगर के बारे में ज़्यादा नहीं पता क्योंकि ये मेरी पहली चुदाई थी। लेकिन हाँ मेरा लंड 7 इंच का होगा जो किसी भी लड़की को संतुष्ट कर सकता है।कैसी लगी कजिन बहन की चुदाई  , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी कजिन बहन की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SurmaSharma

1 comments:

सेक्स कहानियाँ,Chudai kahani,sex kahaniya,maa ki chudai,behan ki chudai,bhabhi ki chudai,didi ki chudai

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter