ममेरी बहन की जमकर चुदाई

मेरी मामा की एक लड़की है, उसका नाम श्रेया है और उसका फिगर ३४ - २८ - ३४ है ! मैं हमेशा दोपहर मैं उनके यहाँ कंप्यूटर चलने जाता हु ! चूँकि वो कंप्यूटर श्रेया का है तो सव्भाविक है की कंप्यूटर उसके रूम मैं ही रखा है ! एक दिन की बात है जब मैं कंप्यूटर चलने के लिए श्रेया के घर गया तो वो समय श्रेया के आने का था ! श्रेया हमेशा की तरह शोर्ट्स पहनी हुए थी जिस मैं वो बहोत ही सुंदर दिखती है! वो आते ही मुझसे पूछने लगी की भैया क्या कर रहे हो मैंने कहा कुछ नहीं कुछ नोट्स बना रहा हु वो इतना सुनकर बाथरूम चली गई! फ्रेश होकर वो आए और रोज की तरह उसने खाना खाया और कंप्यूटर के पास ही रखे बिस्तर पैर सो गई मैंने जब देखा की वो सो गई है मैंने रोज की तरह उसके सोते ही गन्दी साइट्स खोलना सुरु कर दी !
पर जैसे ही मैंने मैंने एक साईट खोली तो मैं ज्यादा ही वासना मैं पागल हो रहा था ! मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था ! मैंने सीधा गया और जाकर उस बिस्तर पर श्रेया के पास लेट गया मैंने धीरे से श्रेया की कमर पर पैर रखा ! और लेटा रहा फिर धीरे से मैंने पैर से उसके गाउन को उप्पेर किया जिससे की उसकी गोरी गोरी टंगे साफ़ साफ़ दिखने लगी उसकी नंगी टाँगे देख कर मैं पागल हो रहा था फिर धीरे से मैंने उसको पैर से सीधा किया मैं ये काम बड़े ही सावधानी से कर रहा था क्योंकि मैंने कभी भी श्रेया के साथ ऐसा काम करना तो दूर ऐसे बात भी नहीं की थी! मुझे डर भी लग रहा था पर मैं अपने काबू मैं कहा था ये सब तो अपने आप ही हो रहा था मैंने धीरे से श्रेया को पैर से सीधा किया उसके सीधा होते ही उसके बूब्स मेरे सामने दिखाई दे रहे थे मैंने सोचा जम से उसके बूब्स को दबा दू पर फिर सोचा ऐसा करना जल्दी होगी फिर मैंने धीरे से श्रेया के पेट पर हाथ रख दिया और फ़िर धीरे से उसके बूब्स पर हाथ रखा उसके बड़े बड़े बूब्स पर हाथ रखते ही मेरा लंड खडा होने लगा पर मैंने कुछ देर तक कुछ नहीं किया मैं ये देखना चाहता था कही श्रेया जग न जाये पर शायद श्रेया को ज्यादा ही गहरी नींद आ रही थी इसीलिए उसको पता नहीं चल रहा था की उसके साथ क्या हो रहा है ! आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने धीरे धीरे श्रेया के उपर के बटन खोल दिए पर उसमे से मुझे उसके बूब्स ठीक से नहीं दिख रहे थे मैंने धीरे से उसका गाउन उपर करना शुरू किया और धीरे धीरे उसको पूरा खोल दिया एक समय मुझे लगा कही श्रेया जग तो नहीं रही पर उसके हाव भावः देख कर फिर मुझे लगा शायद वो सो ही रही थी ! मैंने जैसे ही उसका गाउन उतरा तो सिर्फ पेंटी और ब्रा मैं बची थी ! उसको इस रूप मैं देख कर मेरा मन उसको चोदने का होने लगा ! पर फिर मैंने धीरे से उसके बूब्स को प्रेस करना शुरू किया श्रेया अचानक से हिली तो मैं थोडा दूर हट गया पर फिर थोडी देर बाद मैं उसके बूब्स को प्रेस करने लगा बूब्स को प्रेस करते करते मेरा लंड एकदम टाइट हो गया था ! फिर मैंने धीरे से उसका ब्रा भी खोल दिया ! इतना करने पर मुझे ये अहसास हुआ की शायद श्रेया सोने का नाटक कर रही है और उसको भी इसमें मजा आ रहा है पर मुझे पता था की चाहे जो हो अगर वो होश मैं है तो भी फैयदे मैं हु और अगर वो नींद मैं है तो भी ! मैंने जैसे ही श्रेया का ब्रा उतरा उसके भरे भरे बूब्स मेरे सामने नजर आने लगे मैंने उसको चुसना शुरू कर दिया ! चूसते चूसते मैं ये भूल गया था की श्रेया नींद मैं है ना की वो मेरे साथ जग कर चुदाई करा रही है ! पर मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था इसीलिए मैंने उसके बूब्स को चुसना शुरू रखा ! उसके बूब्स को बहोत देर तक चूसने के बाद मैंने श्रेया के गुलाबी हॉट देखे तो मुझसे रहा नहीं गया मैंने उसके होंट को चूमना शुरू कर दिया थोडी देर चूमने के बाद अचानक मेरे मुह से निकला की श्रीया मुझे पता है की तुम जाग रही हो मेरे इतना बोलते ही श्रेया ने आँख खोल दी ! उसके आँख खोलते ही वो बोली की ये आप मेरे साथ क्या कर रहे थे और आपने मेरे कपडे क्यों उतारे मैं आपका नाम पापा से बोल दूंगी !

उसके पापा मतलब मेरे मामा का नाम सुनकर मेरी तो गांड ही फट गई ! पर मैंने हिम्मत करके बोला की श्रेया मुझे माफ़ करदो मुझसे बहोत बड़ी गलती हो गई और ये बोलते बोलते मेरी नजर फिर एक बार श्रेया के बूब्स पर पद गई ! उसने फिर मुझसे कहा की पापा का नाम लेने पर भी आपकी नजर मेरे बूब्स पर ही है !उसके मुह से बूब्स सुनकर मुज्मे थोडी हिम्मत आई मैंने श्रेया से कहा पर कसम खाके कहो की तुमको अच्छा नहीं लगा ! वो बोली हम कसम नहीं खाते हमने कहा नहीं तुमको तुमरे पापा की कसम है कहो की तुम्हें अच्छा नहीं लगा वो बोली ऐसी बात नहीं है पर आप मेरे भाई है और हम कैसे ये सब कर सकते है ! अब मेरी हिम्मत और बड़ गई और मैंने श्रेया से कहा की देखो अगर हम ये सब बहार जाके करेंगे तो हमारे पापा की इज्जत ख़राब हो जायेगी और अगर हम ये घर मैं ही करे तो हमारा काम भी हो जायेगा और किसीको पता भी नहीं चलेगा ! ये सुन कर कुछ देर तक श्रेया चुप रही फिर धीरे से वो बोली ठीक है पर आप किसी से कहना नहीं मैंने ये सुनते ही उसको दबोच लिया और कहा नहीं कहूँगा मेरी जान और उसको पागलो की तरह चूमने लगा ! आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। श्रेया के होंट चुमते चुमते मैं उसके बूब्स भी दबा रहा था ! और वो भी चूमने मैं मेरा साथ दे रही थी कुछ देर श्रेया को चूमने के बाद मैंने उसके बूब्स को बारी बारी चूसा फिर श्रेया ने कहा जो करना है जल्दी करो नहीं तो घर मैं कोई आ जायेगा मैंने कहा अभी तो ३ ही बजा है ६ बजे से पहले कोई नहीं आएगा ! फिर मैंने उसको अपने कपडे उतारने को कहा उसने मेरे जींस खोली फिर मेरी शर्ट को खोल दिया ! वो भी पागलो की तरह मुझे चूमने लगी मुझे और जोश आ रहा था ! मैंने फिर उसकी पैंटी भी खोल दी उसने भी मेरी अंडरवियर खोल दी अब हम पुरे नंगे हो गए थे फिर मैंने उसकी चुत को चाटना शुरू किया उसकी चुत में से पानी आने लगा ! उसको बहोत मजा आ रहा था और वो अपने मुह से हम्म आ अआया हम्म की आवाज निकाल रही थी वो जोर जोर से कहने लगी अब मत तड़पाओ भैया इस प्यासी चुत को जल्दी से अपना लंड मेरी प्यासी चुत मैं डालदो मैंने उसकी चुत को चाटना चालू रखा और वो मदहोश होती जा रही थी ! वो जोर जोर से बोलने लगी भैया मुझे चोददो मुझे चोदो मत चाटो मेरी चुत को मैं पागल हो रही हु मुझे चोद दो !कुछ देर बाद ही श्रेया की चुतने फिर से पानी छोड़ दिया मैं समाज गया की अब मैं श्रेया की पहली चुदाई कर सकता हु क्योंकि मैं जनता था की अगर बिना पानी छोडे मैंने अगर श्रेया को चोद दिया तो उसमे वो चिकनाई नहीं आएगी और श्रेया को पहली बार चुदाने मैं दर्द होगा फिर मैंने धीरे से अपनी एक ऊँगली उसकी चुत मैं डाल दी फिर दूसरी ऊँगली डाल दी ताकि श्रेया की चुत का छेद बड़ा हो जाये और मेरा ८ इंच का लौडा उसकी चुत मैं आसानी से चला जाये!

फिर मैंने अपनी ऊँगली को अंदर बहार करना शुरू किया जिससे की श्रेया की उम्म्म आँ उन् सी आ ई उम्म्म की आवाज बड़ गई इससे मुझे समज आ रहा था की श्रेया कितनी उत्तेजित हो रही है! फिर उसने मुझसे कहा अब मत तड़पाओ भैया मेरी चुत से दो बार छुट निकल गई है ! फिर मैंने ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए श्रेया की टांगो को चोडा किया और फिर धीरे से श्रेया की चूत मैं लंड डालने का असफल प्रयास किया क्योंकि मेरा मोटा लंड उसकी छोटी चूत मैं जा ही नहीं पा रहा था ! आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो बोली भैया जल्दी से तेल लगा कर अंदर डालो अब मुझसे सहन नहीं हो रहा है चाहो तो फाड़दो मेरी चूत को पर जो करना है जल्दी करो मैंने पास ही रखे तेल को अपने लंड पर लगाया और फिर से श्रेया की चूत मैं लंड डालने लगा इस बार मुझे कामयाबी हाथ लगी मैं धीरे धीरे अपना लंड श्रेया की चूत मैं डालने लगा पर जैसे ही मैंने १ इंच लंड श्रेया की चूत मैं डाला श्रेया जोर से चिल्लाने लगी वो बोल रही थी मेरी चूत फट गई मेरी चूत फट गई मैंने उसकी एक ना सुनी और पूरा का पूरा लंड उसकी चूत मैं डाल दिया फिर मैंने श्रेया से कहा की अब में तुम्हे जन्नत की सेर करता हु फिर मैंने ज़टके से उसको पलटा दिया और उसकी प्यारी सी गांड पर नजर डाली और फिर मुझे श्रेया ने कहा की नहीं अभी में गांड मारने के लिए तैयार नहीं हूँ मैंने कहा की तुम थोडा टाइम दो में तुमको इसके भी लिए तैयार कर दूंगा फिर मैंने अपने लंड को फिर से टाइट करना शुरू किया फिर एक ही झटके से मैंने अपना लंड उसकी गांड में लंड डाल दिया फिर जोर जोर से झटके देना चालू रखा फिर कुछ देर बाद मैंने अपनी छुट श्रेया की गांड में डाल दिया ! मैंने उस दिन उसको दो बार चोदा !कैसी लगी बहन की चुदाई स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी बहन की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SreyaSharma

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter