अपने सौतेले बेटे के साथ सेक्स किया

मेरा नाम जसमीत कौर है, मैं 37 साल की  हूँ। मैं BA पास हूँ। हर माँ की तरह मैं भी चाहती हूँ कि मेरे बच्चे, चाहे वे मेरे पेट से नहीं जन्मे फ़िर भी, पढ़ लिख कर अच्छी नौकरी पायें !मुझे लगता है कि पायल को तो अच्छी नौकरी मिल जाएगी और वो अपने ससुराल चली जाएगी लेकिन मुझे ट्विंकल की चिंता होती है क्योंकि वो स्टडी में अपनी बहन की तरह ध्यान नहीं देता है, जबकि वो भी बहुत इंटेलिजेंट है, लेकिन कुछ समय से उसका स्टडी से बिल्कुल ध्यान हट गया है।मुझे लगता है कि किशोर-वय में अक्सर ध्यान यहाँ-वहाँ चला जाता है, इसीलिए मैं उसे बहुत समझाती हूँ कि पढ़ाई पर ध्यान दो।

वो पढ़ाई भी करता है और पास हो जाता है। लेकिन वो ज़्यादातर अपना समय अपने स्कूल के दोस्तों के साथ बिताता है और मुझे चिंता रहती है क्योंकि वो मुझसे हमेशा आगे की स्टडी के लिए बंगलौर जाने की बात अभी से करता है।मैं परेशान हो जाती हूँ, और सोचती हूँ कि कैसे उसे अपने से दूर बंगलोर भेजूँ क्योंकि डर लगता है कि कहीं वो ग़लत रास्तों पर ना चल पड़े। मैं ट्विन्कल से बहुत प्यार करती हूँ।एक दिन मैंने सोचा कि क्यूँ ना इस समस्या पर अपनी सहेलियों से इस बारे मैं बात करके उनसे कुछ सलाह लूँ।तो फिर मैंने अपनी सहेली को फोन लगाया और अपनी परेशानी बताई।उसने कहा- इंटरनेट पर जाकर गूगल पर माँ-बेटे के सम्बन्ध को सर्च करने को कहा और बोली कि मुझे मेरे सारे सवालों का जवाब वहीं मिलेगा।शाम को मैंने ऐसा ही किया। खाना बनाने के बाद मैंने सर्च किया और मुझे मेरा जवाब मिल गया।फिर मैंने ट्विन्कल को नोटिस करना चालू कर दिया और मैं उसकी सारी गतिविधियों पर नज़र रखने लगी और मैं देखने लगी कि ट्विंकल मेरे साथ कैसा व्यवहार करता है।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
मैंने पाया कि उसका व्यवहार सामान्य नहीं है। मैंने उसके कमरे की तलाशी ली लेकिन मुझे कुछ नहीं मिला। फिर मैंने उसका मोबाइल देखा तो मुझे उसमें भी कुछ नहीं मिला।
फिर मैंने उसकी पेन ड्राइव अपने लॅपटॉप पर लगा कर देखी। उसकी पेन ड्राइव मैंने जब देखा तो जो मुझे लग रहा था वो मुझे मालूम हो गया। मैंने देखा कि उसकी पेन ड्राइव में नंगी लड़कियों के फोटो थे और मैं समझ गई कि अब ट्विन्कल बड़ा हो गया है।
फिर मैंने वही किया जो मुझे करना चाहिए था। मैंने सोचा कि कहीं बाहर यह कोई गलती न कर दे, जिससे इसकी लाइफ खराब हो जाए तो क्यूँ ना मैं ही उसे इन सब बातों के बारे में बताऊँ।
मैंने उससे एक दोस्त की तरह उन सब बातों को बारे में डिसकस किया, लेकिन वो सुनने के लिए तैयार ही नहीं था। शायद वो मुझसे शरमा रहा था। और जब ही मैं इस तरह की बात समझाती, तो वो मुझे अनदेखा कर देता।
मैंने अपने पति से इस बारे में बात की तो वो बोले कि वो अपने आप समझ जाएगा।
लेकिन मेरा मन तो यही सोच रहा था कि कहीं ट्विन्कल से कोई गलती ना हो जाए या वो अपने स्कूल के दोस्तों की तरह ना हो जाए।
मैंने फ़ैसला किया कि मुझे ही कुछ करना पड़ेगा क्योंकि एक माँ ही अपने बेटे की अच्छी दोस्त होती है।
मैंने सोचा कि क्यूँ ना ट्विन्कल को थ्योरी की जगह प्रॅक्टिकल नॉलेज दी जाए और यही आख़िरी रास्ता है और मैं इसे गलत भी नहीं समझती हूँ।
और मैंने वही किया जो मुझे करना चाहिए था। अब मैं ट्विन्कल को अपनी और आकर्षित करने का प्रयास करने लगी।
ट्विन्कल बड़ा तो हो ही गया था तो मुझे ज़्यादा मेहनत भी नहीं करनी पड़ी।
मैं ट्विन्कल को शुरू से ही नहलाती थी। अभी तक नहलाती हूँ, भले ही अब वो 18 साल का हो गया है, फिर भी मैं ही उसे नहलाती हूँ।
आज से मेरा इरादा कुछ और होगा मैं हमेशा ट्विन्कल को पहले नहलाती थी और फिर मैं नहाती थी। आज मैंने पहले नहाने का इरादा किया और मैं बाथरूम मैं नहाने चली गई और सोचा क्यूँ ना बेटे ट्विंकल को भी बुला लूँ। नहाने के लिए मैंने ट्विंकल को आवाज़ लगाई।
सर्दी के दिन थे, मैंने बोला- ट्विंकल, ज़रा गरम पानी दे देना ! ट्विंकल गरम पानी लेकर बाथरूम मैं आ गया उसने मुझे जैसे ही देखा वो देखता ही रह गया।
उसने पहली बार मुझे इस नज़र से देखा था। वो मेरे दूध देख रहा था, जो ब्लाउज में से थोड़े बाहर निकल रहे थे।
मैंने अपनी साड़ी उतार रखी थी और मैं ब्लाउज और पेटीकोट में थी।
मैंने ट्विंकल से कहा- तू भी नहा ले।
उसने कहा- नहीं, पहले आप नहा लो। मैं बाद में नहा लूँगा।
मैंने कहा- तुझे स्कूल के देर हो जायेगी। मुझे नहाने में टाइम लगेगा। आजा, पहले तुझे नहला देती हूँ।
वो मान गया। मैं जैसे ही गरम पानी मिलाने के लिए नीचे झुकी, तो मेरे दूध ब्लाउज में से और ज़्यादा बाहर आ गये थे और ट्विंकल मेरे दुद्दुओं को ही देखे जा रहा था।
उसकी नज़र हट ही नहीं रही थी और फिर मैं भी तो यही चाहती थी। फिर मैंने ट्विंकल को अपने कपड़े उतारने के लिए कहा, उसने कपड़े उतार लिए।
वो सिर्फ़ अंडरविअर पहने हुए था। मैंने उसके ऊपर पानी डाला और उसे नहलाने लगी। वो भी आज बड़े मज़े से नहा रहा था।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
नहाते हुए पानी भी उछाल रहा था जिससे मैं, और मेरे कपड़े भी गीले हो गए। मैंने कले रंग का ब्लाउज पहना हुआ था और सफ़ेद ब्रा जो कि भीगे हुए ब्लाउज में से साफ़ दिख रही थी।
भीगे हुए ब्लाउज में से मेरे दूध भी नज़र आ रहे थे। जिसे ट्विंकल नज़र चुरा कर देख रहा था।
ट्विंकल अब नहा चुका था। मैंने उसे स्कूल जाने के लिए जल्दी से तैयार होने के लिए कहा, और वो बाथरूम से जाने को हुआ।
तभी मैंने उसे रोक लिया और कहा- ट्विंकल ज़रा रुक जा मेरे पीठ घिस देना, बहुत मैल जम गया है।
वो रुक गया। वो अभी भी भीगा हुआ था और सर्दी से काँप रहा था। उसने तौलिया से अपना बदन पौंछ लिया और मेरे पीछे खड़ा हो गया। मैंने भी सोचा कि ट्विंकल को और सताया जाए।
मैंने नहाने के लिए अपने ऊपर पानी डाला और साबुन लगाने लगी। मैंने अपना ब्लाउज भी उतार लिया और अपनी ब्रा भी, और फिर मैंने ट्विंकल को पीठ पर साबुन लगाने के लिए कहा।वो मेरी पीठ पर साबुन लगाने लगा। वो मेरे पीछे खड़ा था। इसीलिए वो मेरे दूध नहीं देख पा रहा था।तो वो बाथरूम में लगे दर्पण में से मेरे दूध देख रहा था और अब उसकी लुल्ली खड़ी हो गई। जो साबुन लगाते समय मैं कभी-कभी अपने पीछे महसूस कर रही थी।
ट्विंकल को भी शायद अब मज़ा आने लगा था क्योंकि साबुन लगाते समय वो मेरे दुद्दुओं को बगल से छूने की कोशिश कर रहा था, मैं भी कुछ नहीं बोल रही थी।
मेरे दूध काफ़ी बड़े हैं और ऊपर से मेरा बदन भी गोरा है। मुझे देख कर हर कोई आहें भरता है।
मैंने भी उसका साथ दिया और मैंने महसूस किया कि मेरे कुछ ना कहने पर उसे और भी मज़ा आने लगा। उसने इस बार अपनी लुल्ली मेरे पीछे से स्पर्श की और मुझे महसूस कराया।
मैंने कहा- क्या कर रहा है?
वो डर गया कि कहीं मम्मी मुझे डांटें ना।
लेकिन मैंने कहा- तेरा ध्यान किधर है? ठीक से साबुन क्यूँ नहीं लगाता?
वो बोला- हाँ, लगा तो रहा हूँ।
मैंने बोला- पीठ पर ही लगता रहेगा या थोड़ा छाती पर आगे भी लगाएगा !
उसने अपने हाथ आगे की तरफ बढ़ाये और अब वो मेरे वक्ष के उभारों पर साबुन लगाने लगा। तभी मुझे उसकी लुल्ली पीछे से थोड़ी और महसूस हुई, लेकिन इस बार उसने अपनी लुल्ली मेरे पीछे लगाए रखी।
और अब ट्विंकल ने साबुन लगाते हुए ही मेरे दूध धीरे-धीरे दबाने लगा। जिससे मुझे भी अजीब सा नशा छाने लगा। मैं भी मज़ा ले रही और कुछ नहीं बोल रही थी क्योंकि मुझे ऐसा कभी भी महसूस नहीं हुआ था।
ट्विंकल के अंडरवियर पहने होने के कारण उसकी लुल्ली ठीक से मुझे महसूस नहीं हो रही थी। तो ट्विंकल ने हिम्मत करके अपनी अंडरवियर में से लुल्ली को बाहर निकाल कर मेरे पीछे की दरार में लगाया, जो मुझे काफ़ी हद तक महसूस हुआ।
ट्विन्कल मेरे स्तनों पर साबुन लगाते हुए उनको मसलने लगा, लेकिन मैंने अभी भी कुछ नहीं कहा।
अब वो शायद बहुत उत्तेजित हो गया था लेकिन मैंने सोचा कि बस बहुत हुआ, ट्विंकल के लिए अभी के लिए इतना ही काफ़ी था।
मैंने उससे कहा- बस साबुन लग गया है।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
तो वो बोला- मम्मी हाथ-पैरों पर भी साबुन लगा दूँ क्या? “नहीं, मैं लगा लूँगी, मेरा हाथ पीठ पर नहीं जाता ना, इसलिए तुझे बुलाया था। बस अब मैं नहा लूंगी। तुम जाओ, तुम्हें स्कूल के लिए देर हो रही है।”
वो जाने लगा। मैंने देखा कि ट्विंकल की लुल्ली काफ़ी बड़ी दिख रही थी जो अभी तक खड़ी हुई थी। मैंने सोचा कि क्यूँ ना अभी ही सारी प्रॅक्टिकल नॉलेज दे दूँ !
फिर मुझे याद आया कि उसे स्कूल भी तो जाना है, बाकी ज्ञान शाम को सोते समय दे दूँगी। और वैसे भी सब्र का फल मीठा होता है।
मैंने नहाने के बाद नाश्ता बनाया, ट्विंकल ने नाश्ता किया और उसके लिए मैंने लंच बॉक्स उसके बैग में रख दिया।
ट्विंकल स्कूल चला गया और फिर मैं घर के सारे काम करने में व्यस्त हो गई और पता भी नहीं चला कि कब दोपहर के दो बज गये। फिर मैंने थोड़ा आराम किया।
नींद खुली तो शाम के चार बज चुके थे, ट्विंकल भी घर आ चुका था, मैंने उसके लिए चाय बनाई और वो थोड़ी देर बाद कोचिंग के लिए निकल गया। तभी पायल क्लास से आ गई, मैंने उसको भी चाय दी।
वो अपने कमरे मैं चली गई। अब शाम के सात बज चुके थे। मेरे पति भी आ चुके थे। मैंने फिर चाय बनाई और अपने पति को दी। वे चाय पीने के बाद अपने कमरे में चले गये। थोड़ी देर आराम करने के बाद मेरे पति और मेरी बेटी दोनों ही साथ मैं गार्डन में घूमने चले गये।
मैं डिनर तैयार करने लगी और डिनर तैयार करते हुए मुझे पता ही नहीं चला कि कब 8:30 बज गये। पायल और मेरे पति दोनों गार्डन से घूम कर आ चुके थे।
पायल ने कहा- मम्मी खाना लगा दो।
मैंने अपने पति से पूछा- आपके लिए भी खाना लगा दूँ क्या?
उन्होंने कहा- हाँ, लगा दो।
मैंने दोनों के लिए खाना लगाया तो मेरे पति ने कहा- तुम भी खाना खा लो।
मैंने कहा- नहीं आप दोनों खा लो, मुझे अभी भूख नहीं है।
पायल ख़ाना खाने के बाद अपने कमरे में चली गई और मेरे पति भी अपने कमरे में चले गए, टीवी देखने लगे।
अब रात के 9:20 बज चुके थे और मैं भी कमरे मैं जाकर उनके साथ टीवी देखने लगी, 10 मिनट बाद ही ट्विंकल आ गया। मैंने गेट खोला और पूछा- इतनी देर क्यूँ लगा दी?
तो बोला- मम्मी साइकल पंचर हो गई थी इसलिए देर हो गई।
“ठीक है, खाना लगा देती हूँ, हाथ मुँह धो लो।”
मैंने टेबल पर खाना लगाया ट्विंकल खाना खाने लगा। लेकिन और दिन की तरह आज उसका चेहरा चमक रहा था। वो बहुत खुश लग रहा था।
खाने खाते हुए मुझसे बोला- मम्मी आज मेरे टैस्ट में 10 में से 10 नंबर आए हैं।
मैं भी खुश हो गई। तभी ट्विंकल ने थोड़ी सब्जी माँगी और मैं सब्जी परोसने के लिए जैसे ही झुकी तो मेरे दूध भी ब्लाउज में से थोड़े बाहर आ गये।
तभी ट्विंकल की नजर मेरे उरोजों पर पड़ी। वो उन्हें देख रहा था और मुझे पता भी नहीं था कि ट्विंकल मेरे बूब्स देख रहा है।
मैंने जैसे ही ट्विंकल की तरफ देखा, तो मुझे पता चला कि ट्विंकल का ध्यान खाने पर नहीं बल्कि मेरे उभारों पर था। उसकी नज़रें छुप-छुप कर मेरे चूचों को निहार रही थीं। मैं भी उसे अपने स्तन दिखाने के लिए थोड़ी झुक कर खड़ी हो गई, दोनों हाथ मेज पर रख दिए, जिससे मेरे पपीते अब और भी अच्छे तरह से दिख रहे थे।
ट्विंकल खाना खाते-खाते उन्हें देख रहा था और मैं अपनी नज़र इधर-उधर कर रही थी, जिससे कि ट्विंकल को पता ना चले की मैं उसे देख रही हूँ।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
ट्विंकल खाना खा लिया था, फिर भी वो वहीं बैठा हुआ था और खाना खाने का बहाना कर रहा था, मुझसे बातें भी कर रहा था, क्योंकि वो मेरे बूब्स को ज़ी भर कर देखना चाहता था।
लेकिन थोड़ी देर ट्विंकल बोला- मम्मी क्या आपने खाना खाया?
मैंने कहा- नहीं मैं खा लूँगी, तुम खाओ अभी।
ट्विंकल ने कहा- माँ आप भी जल्दी खाना खा लिया करो, कितना काम करती हो आप। चलो आप मेरे साथ ही खाना खा लो।
मैंने भी उसकी बात नहीं टाली और उसके बगल में जाकर बैठ गई और हम एक ही थाली में खाना खाने लगे।
लेकिन अभी भी ट्विंकल की नज़र मेरी छाती पर ही थी।
मैंने भी जल्दी से खाना खाया और कहा- मैंने खाना खा लिया है, तुम्हें और खाना है?
वो बोला- नहीं।
मैंने वहाँ से सारे बर्तन उठाए और ट्विंकल अपने रूम में चला गया।
मैंने सारे बर्तन धोकर, दूध गर्म किया और पायल को दिया और फिर मैं ट्विंकल के कमरे में दूध देने गई और ट्विंकल को दूध दिया।
वो अभी पढ़ाई कर रहा था, मैंने उसे कहा- दूध ध्यान से पी लेना।
तभी ट्विंकल ने कहा- दूध दो तो, मैं पी ही लूँगा।
उसने यह बात इस तरह से की, जो वो परोक्ष मुझसे जो कहना चाहता था, वो उसने कह दिया।
और मैं भी उसकी बात का मतलब समझ गई।
“ठीक है, लेकिन ध्यान से पी लेना, भूलना नहीं !" और फिर मैं वहाँ से आ गई।
मेरे पति रूम में अभी तक टीवी देख रहे थे और साथ में ड्रिंक भी ले रहे थे।
तभी मैंने उनसे कहा- मैं ड्रिंक बना दूँ?
तो उन्होंने कहा- क्या बात है, आज बड़ी खुश लग रही हो?
मैंने कहा- बस यूँ ही, और मैं ड्रिंक बना कर उन्हें देती जा रही थी, जिससे उन्हें काफ़ी नशा हो जाए और वो जल्दी से सो जाएं, और सुबह भी देर से उठें। वैसे भी कल तो सन्डे है।
उनको काफ़ी नशा हो चुका था और वो सो गए।
मैंने टीवी ऑफ किया। कमरे की लाइट भी ऑफ की, और फिर मैं पायल के कमरे में गई और देखा कि पायल सो चुकी है या नहीं।
पायल भी सो चुकी थी और फिर मैंने ट्विंकल के रूम में जाकर देखा कि वो क्या कर रहा है?
वो अभी तक जाग रहा था और बेड पर लेटा हुआ था।
मैंने बोला- सो जाओ रात हो चुकी है।
तो वो बोला- मम्मी नींद नहीं आ रही है।
मैंने कहा- आ जाएगी, सो जाओ।
मैं फिर अपने कमरे मैं आ गई और सोने लगी लेकिन मुझे भी नींद नहीं आ रही थी।
तभी ट्विंकल मेरे कमरे में आया और बोला- मम्मी सो गईं क्या?
मैं बोली- नहीं, क्यूँ क्या बात है? क्या चाहिए?
ट्विंकल बोला- मम्मी मुझे डर लग रहा है।
मैंने कहा- इतना बड़ा हो कर डरता है, चल मैं आती हूँ।
वो अपने रूम में चला गया। मुझे पता था कि डर तो सिर्फ़ एक बहाना था, क्योंकि वो मेरे साथ सोना चाहता था।
फिर मैं भी तो यही चाहती थी। मैंने झट से कपड़े चेंज किए, एक ऐसी नाईटी पहन ली, जिसका कपड़ा पतला था और फिर मैं ट्विंकल के रूम में गई।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
ट्विंकल मुझे देख कर खुश हो गया। उसके कमरे की लाइट जल रही थी, जिससे मेरी नाईटी के अन्दर से मेरी ब्रा और पैन्टी नज़र आ रही थी।
उसने बड़े गौर से मुझे देखा। उसकी नज़र ऊपर से लेकर नीचे तक गई। फिर मैं उसके बेड पर बैठ गई। तभी मैंने देखा कि उसने अभी तक अपना दूध का गिलास खाली नहीं किया है।
मैंने उसे पूछा- अभी तक दूध क्यूँ नहीं पिया?
तो वो बोला- मैं भूल गया था अभी पीता हूँ। और फिर उसने गिलास का सारा दूध पी लिया।
वो बिस्तर में लेट गया, और मैं भी बिस्तर लेट गई।
लेकिन दोनों में से किसी को नींद नहीं आ रही थी। रात के 12:00 बज चुके थे।
मैंने सोचा कि काफ़ी समय हो गया है और शायद ट्विंकल सो गया होगा। मैंने धीरे से आवाज़ दी, “ट्विंकल !”
और वो बोला- हाँ मम्मी।
मतलब वो अभी तक जाग रहा था।
मैंने उसे पूछा- सोया नहीं, अभी तक?
तो बोला- नींद नहीं आ रही है।
और उसने मुझसे पूछा- आपको नींद क्यूँ नहीं आ रही है।
मैं समझ गई कि ट्विंकल क्या चाहता है। और अभी तक क्यूँ जाग रहा है।
मैंने उसे कहा- मुझे थोड़ी सर्दी लग रही है और आज काम भी कुछ थोड़ा ज़्यादा था ! ‘ओह !’ पूरा बदन दुख रहा है।
तभी ट्विंकल एकदम से बोला- मम्मी, मैं आपके हाथ-पैर दबा देता हूँ।
मैंने कहा- नहीं, क्यूँ परेशान होता है, तू सो जा।
तो बोला- इसमें परेशान होने की क्या बात है, लाओ मैं दबा देता हूँ।
मैं जानती थी कि वो मेरे बदन को महसूस करना चाहता है।
मैं उसे मना भी कैसे करती भला, क्योंकि जैसा मैंने सोचा था, ठीक वैसा ही हो रहा था।
जैसे ही उसने कहा- मम्मी मैं आपके पहले पैर दबा देता हूँ, मैंने कहा- ठीक है।
और वो मेरे पैर दबाने लगा।
मेरी नाईटी सिर्फ़ घुटनों तक ही लंबी थी और वो भी थोड़ी ऊपर तक खिसक गई थी। पहले कुछ मिनट ट्विंकल ने पैर ठीक से दबाए, लेकिन कुछ देर बाद उसके हाथ धीरे-धीरे ऊपर की ओर बढ़ने लगे।
मैंने ट्विंकल से कहा- ठीक से दबाओ पैर !
वो बोला- हाँ दबाता हूँ।
मैंने सोचा- क्यूँ ना ट्विंकल को और मज़ा दिया जाए।
तो मैं थोड़ा खाँसने लगी और तभी ट्विंकल ने पूछा- सर्दी हो गई है क्या?
मैंने कहा- हाँ सुबह से ही खाँसी हो रही है, ट्विंकल पैर बाद में दबा देना पहले एक काम कर दे। पापा के रूम में जो ड्रिंक्स की बॉटल रखी रहती है, उसमें से एक रम की बॉटल ले आ, जिससे ये खाँसी बंद हो जाएगी।
यह सुनते ही ट्विंकल जल्दी से गया और एक रम की बॉटल और गिलास भी ले आया।
उसने आधा गिलास रम का मुझे दे दिया और आधा गिलास रम वो खुद पी गया।
मैंने उससे पूछा- तुम क्यूँ पी रहे हो?
तो वो बोला- मुझे भी सर्दी लग रही है, इसलिए।
मैंने कुछ नहीं कहा और फिर मैं लेट गई और वो मेरे पैर दबाने लगा।
पैर दबाते-दबाते उसके हाथ मेरी जाँघों तक आ गये। वो अपने हाथ ऊपर बढ़ाते ही जा रहा था।
और मुझे भी एक अज़ीब सा नशा आने लगा था। मैंने सोचा क्यूँ ना आज ट्विंकल को खुल कर मज़ा दिया जाए।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
मैं ट्विंकल से बोली- ट्विंकल मुझे गर्मी लग रही है, तू रुक जा अभी।
मैं उठी और अपनी नाइटी भी उतार दी, अब मैं सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में ट्विंकल के शामने थी।
उसने मुझे इतना घूर कर देखा, जैसे उसने कभी शायद ऐसा नहीं देखा होगा।
मेरी उमर भले ही 37 की है लेकिन मैंने अपने आप को बहुत मेंटेन करके रखा था।
मेरा फिगर साइज़ 36-31-36 था, जिसे देख कर ट्विंकल के होश उड़ गये।
उसके बाद मैं बेड पर लेट गई, ट्विंकल से बोली- अगर मुझे नींद आ जाए तो तुम भी सो जाना, पैर दबाते मत रहना क्योंकि मुझे तो जोरों से नींद आ रही है। ठीक है? और हाँ, कमरे की लाइट बंद कर दो।
वो बोला- हाँ, आप सो जाओ, मैं बाद में सो जाऊँगा।
उसने कमरे की लाइट भी बंद कर ली और अपना मोबाइल भी ले लिया ताकि वो मोबाइल की लाइट से थोड़ा उजाला कर सके।
वो भी बेड पर आ गया और पैर दबाने लगा।
मैं नाटक करने लगी जिससे कि बात आगे बढ़े। मैं खर्राटे भरने लगी, जिससे ट्विंकल को लगे कि मैं अब सो गई हूँ।
फिर ट्विंकल उठा और उसने अपने कपड़े भी उतार दिए अब वो सिर्फ़ अंडरविअर में था और उसने अपने मोबाइल की लाइट ज़ला कर दूर रख दिया, जिससे रूम में थोड़ा उजाला होने लगा।
अब ट्विंकल की हिम्मत बढ़ गई क्योंकि वो सोच रहा था कि मैं सो चुकी हूँ, और मैं नशे मैं भी हूँ। वो कुछ भी करेगा तो मुझे पता नहीं चलेगा।
लेकिन मुझे एक पैग ड्रिंक से क्या होने वाला था। अब ट्विंकल मेरी जाँघों को दबा नहीं रहा था, बल्कि वो अब मेरी जाँघों को सहला रहा था। जिससे मुझे भी मज़ा आने लगा।
उसकी हिम्मत अब बढ़ती जा रही थी। उसने अब मेरी जाँघों पर से हाथ फेरते हुए मेरी पैन्टी के ऊपर ले आया और हाथ फेरने लगा। दूसरा हाथ उसने और ऊपर बढ़ाते हुए मेरे वक्ष पर रख दिया और थोड़ी देर के लिए रुक गया और देखा कि मैं कुछ नहीं बोल रही हूँ। तो उसने मेरे स्तन दबाना चालू कर दिया।
थोड़ी देर बाद उसने मेरे उरोजों को और ज़ोर से दबाना चालू कर दिया।
तभी मैं एकदम से उठी तो ट्विंकल घबरा गया उसका चेहरा देखने लायक था।
वो बहुत डर गया था और मैंने नाटक किया कि जैसे मैं नींद में हूँ।
मैंने उससे बोला- ट्विंकल, देख ज़रा पानी है क्या? मुझे प्यास लगी है।
और वो बोला- हाँ पानी है।
लेकिन उसने सोचा कि मैं नींद में हूँ, उसने मुझे पानी की जगह आधा गिलास रम दे दी।
मैंने उससे नींद में बुदबुदाते हुए कहा- पानी का टेस्ट कैसा है?
तो वो बोला- आपने रम पी रखी है, इसलिए आपको ऐसा लग रहा है।
मैं भी झट से रम पी गई और फिर सोने का नाटक करने लगी, खर्राटे भरने लगी।
लेकिन ट्विंकल ने 10 मिनट बाद मुझे छुआ और मैं अभी भी जाग रही थी। उसने इस बार सीधा एक हाथ मेरे चूचे पर रखा और दूसरा मेरी पैन्टी पर और दबाने लगा।
और इस बार हिम्मत करके उसने अपना हाथ पैन्टी के अन्दर धीरे से खिसकाया।
मेरे पूरे बदन में एक बिजली सी दौड़ गई। मैंने भी उसको साथ दिया और अपने पैर थोड़े फैला लिए जिससे कि उसका हाथ ठीक से मेरी चूत पर जा सके।
जैसे ही मैंने अपने पैर फैलाए, ट्विंकल ने अपना पूरा हाथ मेरी चूत पर रख दिया। अब उसने अपनी उंगलियाँ मेरी चूत में अन्दर कर दीं।
वो अपनी उंगलियों को मेरी चूत में अन्दर-बाहर करने लगा। फिर अचानक से उसने अपनी उंगली मेरी चूत में से बाहर निकाल ली।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
अब उसने अपनी अंडरवियर में से अपना लंड भी बाहर निकाल लिया।
मैंने अपनी थोड़ी से आँख खोल कर ये सब देख रही थी, उसका लौड़ा काफ़ी बड़ा लग रहा था।
अब वो पूरा नंगा मेरे सामने था। उसे पता था कि मैंने ज़्यादा पी रखी है और मुझे कुछ पता नहीं चलेगा।
उसने धीरे-धीरे मेरी पैन्टी उतार दी और मेरी ब्रा भी उसने उतार दी।
अब वो एकदम निडर होकर अपने लंड को मेरी चूत में पेलने की कोशिश कर रहा था, तभी उसका लंड मेरी चूत में चला गया।
मेरे मुँह से ‘आह’ निकल गई लेकिन ट्विंकल इस बार नहीं रुका और उसने धीरे-धीरे झटके देना चालू कर दिया और मेरे चूचों को वो अपने हाथों से मसलने लगा।
उसने अपने होंठ मेरे होंठ से मिला कर मुझे चूमने लगा। हम दोनों का बदन भी काफ़ी गर्म हो चुका था। जब मुझे लगा कि वो झड़ने वाला है तो मैंने धीरे से करवट ले ली, जिससे उसका लण्ड मेरी चूत में से बाहर आ गया।
वो झड़ भी नहीं पाया क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि वो इतनी जल्दी से झड़ जाए।
लेकिन उसने मुझे किस करना नहीं छोड़ा और फिर से मेरी चूत में अपना लंड डालने लगा।
इस बार मैंने भी उसका साथ दिया और अपने दोनों हाथों से उसे अपनी ओर इस तरह खींचा कि जैसे मैं अभी भी नींद में हूँ।
उसने फिर से अपना लंड मेरी चूत में घुसेड़ दिया।
वो मेरे उभारों के निप्पलों को वो अपनी जीभ से सहला रहा था।
उसके धक्के लगतार मुझे गर्म कर रहे थे।
कुछ देर बाद मैं झड़ गई और थोड़ी ही देर बाद ट्विंकल भी झड़ गया।
उसने मुझे बेड पर बैठाया लेकिन मैं अभी भी सोने का नाटक कर रही थी।
उसने चादर से मेरी चूत और अपने लंड को साफ़ किया। फिर मुझे ब्रा पहनाई और लिटा दिया, फिर मुझे पैन्टी पहना दी।
उसने मेरे होंठों पर एक चुम्बन भी किया और वो मुझे गले लगाया और वो सो गया।
फिर मुझे भी नींद आ गई।
सुबह मैं जब उठी तो घड़ी में 7:30 का टाइम हो रहा था।
मैं उठी और अपनी नाईटी पहनी और खिड़की का खोली जिससे बाहर से सूरज का उजाला आ रहा था।
तभी ट्विंकल भी जाग गया। मैंने उससे उठने को कहा और वो बेड पर बैठ गया। उसे यह ध्यान नहीं था कि उसने अंडरवियर नहीं पहना है। तभी उसकी नज़र नीचे पड़ी और देखा कि उसने अंडरविअर नहीं पहना है तो उसने झट से चादर को लपेट लिया।
तभी मैं मन ही मन सोचने लगी कि जब रात में मुझे चोदते समय इसे शर्म नहीं आई जो अब यह शरमा रहा है।
फिर मैंने उससे कहा- मुझसे शरमाता है? अरे पागल मैंने तो तुझे बचपन से ही ऐसा देखा है।
उसे रात की सारी बात याद आ गई, उसने सोचा कि पता नहीं कि मम्मी को पता तो नहीं चल गया तो उसने मुझसे पूछा- मम्मी, आपको नींद कैसी आई?
मैंने कहा- जब तूने मेरे इतने अच्छे से पैर दबाए तो मुझे अच्छी नींद कैसे ना आती भला!
मैंने एक अर्थ-पूर्ण मुस्कान ट्विंकल को दी और वो खुश हो गया।
उसने सुनिश्चित करने के लिए कि वास्तव में मुझे कुछ पता है या नहीं, मुझसे पूछा- मम्मी, आपको पता है कि रात में क्या हुआ?आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
मैंने भी कह दिया कि मुझे कैसे पता होगा भला ! मैंने रम जो पी रखी थी, जिससे मैं गहरी नींद में चैन से सो गई थी। तुम ही बताओ, क्या हुआ था?
‘ओह !’ ट्विंकल ने बात घुमाते हुए कहा- मम्मी रात की बिल्ली आई थी और मेरे गिलास का जो बचा हुआ दूध था, वो उसने पी लिया और मैं डर गया था।
मैंने भी कहा- क्यूँ डरता है? तेरी मम्मी जो तेरे पास सो रही थी। जब भी कभी तुझे नींद ना आए या फिर तुझे डर लगे तो मुझे बुला लिया करना ! ठीक है?
ट्विंकल ने मुझसे कहा- आपको कोई परेशानी तो नहीं होगी?
मैंने कहा- नहीं बल्कि मुझे तो अपने बेटे के साथ सोने मैं बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि तुम मेरे इतने अच्छे पैर जो 'दबाते' हो !
मैंने ‘दबाते’ शब्द को कहते हुए फिर एक आँख भी हल्के से दबा दी और जरा सी मुस्कराहट अपने होंठों पर बिखेरी।
ट्विंकल ने भी हाँ में हाँ मिला दी और ट्विंकल को जो मैं परोक्ष तरीके से जो समझाना चाहती थी। वो ट्विंकल भी समझ गया कि मुझे रात के बारे में सब पता है, और जो कुछ भी रात को हुआ, मुझे उसमें कोई आपत्ति नहीं है।अब ट्विंकल अपने बेड से नंगा ही उठा क्योंकि अब उसे सब समझ आ गया कि मेरी तरफ से उसे ‘ग्रीन-सिग्नल’ है।वो मेरी तरफ़ आया और मुझे गालों पर चूम लिया तो मैंने उसे होंठों पर लंबा चुम्बन किया और अपने दोनों हाथों से उसे जकड़ लिया, जिससे उसे अच्छी तरह से समझ आ जाए कि उसकी मम्मी को उसकी कितनी ज़रूरत है।ट्विंकल ने मुझे ‘थैंक्यू’ बोला, मैंने भी उसे ‘वेलकम’ में जवाब दिया।तभी ट्विंकल ने मुझसे कहा- मुझे नहाना है।मैंने मुस्कुरा कर कहा- अभी नहलाते हैं तुम्हें।तो वो बोला- जल्दी से नहला दो, वरना स्कूल के लिए देर हो जाएगी।मैंने उससे कहा- आज तो इतवार है।उसने कहा- अरे हाँ, आज तो रविवार है।और दोनों मिलकर जोर से हंसने लगे !कैसी लगी हम डॉनो मां बेटे की सेक्स स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/JasmeetKaur

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter