Home » , , , » अपनी बड़ी बहन सुरुचि दीदी की मदद से मम्मी की चुदाई

अपनी बड़ी बहन सुरुचि दीदी की मदद से मम्मी की चुदाई

आज की चुदाई कहानी मेरी दीदी और मम्मी की चुदाई की हैं । आज मैं बाटूंगा कैसे दीदी की मदद से मम्मी को चोदा,दीदी ने मेरा लण्ड चूसा, मम्मी की गांड मारी , और खड़े खड़े मम्मी को चोदा । मैने दीदी की गांड पर हाथ डाला और देखा तो दीदी ने पेंटी नही पहनी थी मैं समझ गया दीदी आज चुदना चाहती है मैं अपने लौड़ा को दीदी की बूर पर रगड़ने लगा दीदी झुक कर खड़ी थी मैने अपने लौड़ा पर थोड़ा सा थूक लगाया और दीदी की बूर मे अपना लौड़ा घुसाने लगा मेरा आधा लौड़ा दीदी की बूर मे घुस गया दीदी मेरा लौड़ा पकड़ कर बोली भाई अपनी बड़ी बहन को आराम से चोदना मैं पहली बार चुदा रही हूँ मैने सोचा भी नही था की मेरी बूर को मेरा भाई ही चोदेगा और वो मेरे लौड़ा को अपनी बूर में से निकाल कर चूसने लगी मेरे पूरे शरीर मे करंट जैसा लग गया मैने सोचा भी नही था की मेरी दीदी मेरा लौड़ा भी चूसेगी फिर 15 मिनिट के बाद वो बोली मेरे भाई मम्मी सो रही है चलो मैं तुम्हारे कमरे मे चलती हूँ |

आज मैं अपने पूरे शरीर का मजा तुमको देना चाहती हूँ मैं और दीदी दोनो कमरे मे जाकर बेड पर सो गये दीदी नंगी होकर मुझे भी नंगा करने लगी और बोली तुम मुझसे बहुत छोटे हो फिर भी मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूँ क्योकी तुम मुझे चोदना चाहते हो और मैं तुम्हारी दीदी हूँ कोई और नही जो तुम्हे तड़पता छोड़ दूँ जब तुमने पहली बार बालकनी मे मेरी गांड पर अपना लौड़ा रख दिया था हम उसी वक़्त हम दोनो भाई बहन नही रहे है लेकिन तुम किसी से भी हम दोनो के रिश्ते के बारे मे कभी नही बताओगे मैं दीदी के होठ पर किस करते हुये बोला दीदी आप जैसी दीदी सबको मिले उसके बाद मैने दीदी की बूब्स को दबाने लगा और चूसने लगा फिर दीदी लेट गयी और बोली आज मेरी बूर को अपने लौड़ा से पूरी तरह से खोल डालो मैं चाहती हूँ की मेरी शादी से पहले मेरा भाई मेरी बूर का मज़ा ले ले मैं दीदी की जांघ उठा कर अपना लौड़ा बूर मे डाल कर चोदने लगा दीदी भी मस्ती से धक्के पर धक्के मार रही थी |आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं दीदी की बूब्स ज़ोर ज़ोर से दबा दबा कर चोदने लगा और वो बोली मेरे भाई अपनी बहन की बूर मे अपना वीर्य भी डाल देना मैं तुम्हारे वीर्य को अपनी बूर मे महसूस करना चाहती हूँ मैने दीदी को एक घंटे तक चोदा और वीर्य बूर मे ही डाल दिया दीदी बोली मेरे भाई मैं प्रेग्नेंट तो नही हो जाउंगी ना मैने कहा नही फिर वो कपड़े पहन कर दूसरे रूम मे जा कर मम्मी के बगल मे जा कर सो गयी और दो घंटे बाद फिर मेरा लौड़ा फिर दीदी को चोदना चाहता था मैं कंट्रोल नही कर पाया मैं दूसरे रूम मे जाकर दीदी के बगल मे सो कर स्कर्ट उठा कर फिर से दीदी को चोदने लगा दीदी भी उठ गयी और चुदाने लगी उस रात मै दीदी को सुबह तक चोदता रहा दूसरे दिन दीदी ठीक से चल भी नही पा रही थी और हम दोनो रोज ऐसे ही सेक्स करते रहे |

फिर एक दिन जो हुआ मैने कभी नही सोचा था एक दिन मैं दूसरे रूम मे लगभग 12 बजे गया रोज की तरह मैने अपना टावल उतारकर मैं दीदी की चादर मे घुस गया कमरे के अन्दर बहुत अन्धेरा था मैं धीरे धीरे स्कर्ट उपर करने लगा लेकिन स्कर्ट बहुत सॉफ्ट लग रही थी मैने ज्यादा ध्यान नही दिया और उठा कर गांड पर लौड़ा रगड़ने लगा दीदी की गांड बहुत बड़ी लग रही थी मैं गांड दबाने लगा मुझे मज़ा आ रहा था फिर मैने अपना लौड़ा दीदी की बूर मे डाल दिया बूर बहुत टाइट लग रही थी फिर कुछ देर बाद दीदी भी जाग कर धक्का मारने लगी मैं उपर जाकर टांग उपर करके ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा तभी मैं डर गया मेरी जाँघ पर किसी का हाथ आया और मुझे वो बार बार टच हो रहा था तभी पीछे से मेरी दीदी मेरे कान मे बोली भाई ये क्या कर रहे हो मैं तो यहा हूँ तुम मम्मी को चोद रहे हो दीदी ये बोलकर सो गयी |आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मेरा लौड़ा मम्मी की बूर मे था और मम्मी अपनी गांड उठा उठा कर बूर चुदवा रही थी अब मैं लौड़ा भी बाहर नही निकाल सकता था फिर थोड़ी देर बाद मम्मी ने मेरी कमर को पकड़ कर अपने उपर खीच लिया और बोली मेरे बेटे तूने तो आज मुझे खुश कर दिया तेरे पापा ने तो मुझे 2 साल से नही चोदा है आज तूने अपनी मम्मी की बूर को खुश कर दिया तुम कब से मुझे चोदना चाहते थे मैं समझ नही पा रहा था की मैं क्या बोलू मैं यह नही बोल सकता था की मैं सुरुचि दीदी को चोदने आया था मैं समझ नही पा रहा था मम्मी ने फिर पूछा और अपना ब्लाउज खोलकर बोली बचपन मे मेरी बूब्स पीता था आज भी मेरी चूची को पीकर मस्त कर दे और जिस बूर में से तुम इस दुनिया मे आये हो उसे भी मस्त कर दो तेरा लौड़ा तो तेरे पापा से भी बड़ा है तू रोज मेरे साथ इसी रूम मे सोया कर मैने कहा फिर दीदी | मम्मी बोली वो भी यही सो जायेगी तू मुझे खुश कर दे फिर मैं तुझे तेरी बहन की भी बूर चोदने का मौका बताउंगी |मैं सुन कर खुश हो गया मैने मम्मी को पूरी तरह से नंगा कर दिया और खुद भी पूरा नंगा हो गया अब मुझे घर मे किसी से भी डर नही था मैं मम्मी को ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा और दो घंटे तक चोदता रहा और वीर्य मम्मी की बूर मे ही डाल दिया मम्मी खुश हो गयी और बोली मैं तेंरे वीर्य से प्रेग्नेन्ट होना चाहती हूँ और तुम्हे भाई और तुम्हारा बेटा देना चाहती हूँ मैने मम्मी से कहा मैं आपकी बूर से अपना बेटा चाहता हूँ मम्मी खुश होकर बोली मेरे बेटे तूने मुझे खुश कर किया अब मैं सो रही हूँ अब से तू हर रोज रात मे इसी रूम मे सोना और तुम्हारा मुझे या तेरी बहन को चोदने का मन करे तो बिना डर के चोदना फिर मैंने एक घंटे बाद दीदी को चोदा और सो गया |आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसके बाद दूसरे दिन दीदी मुझसे नाराज़ थी मैने जब दीदी से पूछा तो बोली तुम रात मे मुझे छोड़कर मम्मी को क्यो चोद रहे थे मैने कहा की तुमने अपनी जगह पर मम्मी को क्यो सोने दिया दीदी बोली मम्मी पहले से ही वहा सो रही थी मैने कहा की मैंने तुमको समझ कर मम्मी को चोदा लेकिन जब मम्मी ने पूछा तब मैं क्या कहता इसलिये मुझे मम्मी को चोदना पड़ा फिर दीदी मान गयी फिर क्या था मैं हर रोज रात मे मम्मी और दीदी के साथ नंगा होकर सोता और जिसको मन करता उसको चोदता फिर 9 महीने बाद मम्मी को एक बेटी हुई वो मेरी बहन भी थी और मेरी बेटी भी.कैसी लगी मेरी मम्मी की चुदाई कहानी , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर तुम मेरी दीदी और मम्मी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/PoojaSingh

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter