Home » , , , » चूत की खुजली मिटवाने के लिये भाई से चुदवाई

चूत की खुजली मिटवाने के लिये भाई से चुदवाई

मेरा नाम बबीता  है, मेरी उमर 18 साल हो गयी है, आज मैं आपको मेरी गरम चूत की चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ, यह सेक्स स्टोरी मेरी ओर मेरी कज़िन ब्रदर की है जो मेरे घर के बगल मे रहता है उसका नाम नीतेश है और मनोज की है दोनो ने कैसे मेरी चुदाई की ओर मुझे अपने लंड का दीवाना बनाया बताने जा रही हूँ, पहले तो मैं ये बता दू की मैं नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम का बहूत बड़ी दीवानी हु, मुझे भी अपनी कहानी लिखने का प्रेरणा मिली इसी वेबसाइट से. मेरी हिंदी थोड़ी ठीक नहीं है गलती हो तो माफ़ कर देना.


इससे पहेले मैने आपको यह बता दूं की मुझे चुदाई का लत कहाँ से लगा असल मे मेरे कज़िन 5 है जिसमे दो बड़े है एक का नाम धीरज है ओर दूसरे का नाम रजत है मेरी छोटी वाली चाची का रजत के साथ रीलेशन है ओर मेरी आंटी मीन्स फुआ का धीरज के साथ है यह चारो चुप चुप कर रंग रलियान मानते थे, ओर मैं इनको चुप चुप कर देखा करती थी, ज़्यादा मज़ा मुझे आंटी ओर धीरज भैया की चुदाई देखने मे मज़ा आता है कुनकी सूफ़ी आंटी भूत मस्त माल वाली आंटी है उसके गांड ओर चुचिया देख कर किसी भी लड़के की लंड खड़ा हो जाता है, इन सब की चुदाई देख कर मुझे भी चुदाई का मान करने लगा था क्योंकि अब मैं भी 18 साल की हो गयी थी मेरी चुचिया अब 32 साइज़ की हो गयी है मेरी मम्मी ने मूज़े ब्रा ले कर दिया था जो मैं अक्सर पहन कर अपने +2 स्कूल ज्या करती थी, एक दिन जब मैं अपने रूम जा रही थी सोने के लिए तो देखा मेरे रूम से अटॅच्ड बातरूम मे नीतेश घुस कर मूठ मार मार कर अपने मोबाइल मे ब्लू फिल्म देख रहा था, ओर मेरा नाम ले ले कर सिसकारिया निकल रहा था …आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। कशिश मेरी जान आज तुझे मैं चोद कर तेरी सील तोड़ दूँगा तेरी मस्त जवानी को चूस चूस कर छत छत कर मज़ा लूँगा मेरी जान चूस ले मेरा लंड ओर अपने चूत मे डाल ले, यह सब सून कर मेरी तो रोंगटे खड़े हो गये मेरी भी जवान चूत मे खुजली होने लगी थी पर मैं उसे बोल नई सकती थी की मैं भी चुदवाने के लिए तैयार हूँ, तो मैने बहाना बना कर जैसे ही बातरूम मे अंदर गयी वो डर गया ओर अपना पैंट ठीक करने लगा ओर अपना लंबाओर मोटा लंड जो करीब 8इंच का होगा अंडर घुसने लगा, मैने बोला तुम यही सब करते हो रुक पापा को बताती हूँ तेरी खबर लेंगे वो डर गया ओर बोला कशिश ग़लती हो गयी अब ऐसा नई करूँगा, ओर रोने लगा, मैने उसे बोला ठीक है

फिर ऐसा मत करना, अब जब भी वो मुझे देखता भाग जाता था, पर मेरी तो प्यासी चूत को लंड की ज़रूरत थी इसलिए मैने उसे इशारा कर बुलाया अपने रूम के पास शाम 7 बजे वो डरते डरते मेरे पास आया, मैने बोला तुम तो डर गये मैने अभी किसी को नई बतया है तुम यह सब करते हो अगर तुम मेरा काम कर दो तो मैं यह सब किसी को नई बतौँगी, वो मान गया बोला क्या करना होगा मैने बोला मुझे चोदना होगा अभी वो सुन्न कर दंग हो गया बोला सच मे चुड़वावगी मुझसे तो मैने बोला हा मेरे राजा चुदवाना है, नीतेश यह सुन कर अपने लंड पर हाथ फेरने लगा ओर पैंट के उपर से खड़ा लंड दिखने लगा था, वो मुझे पागलो की तरह चूमे ओर बूब्स को रगड़ने लगा मैने बोला मेरे राजा यहाँ नही मेरे रूम चलो फिर अच्छे से चुदाई करना, जैसे ही मैं बेड पर गयी वो मेरे उपर आ गया और मुझे किस करने लगा, उसने मुझे लीप लॉक किया और हमने 5 मिनिट से ज्यादा लंबा तक मेरे होठ को चूसते रहा. फिर उसने मुझे चिक्स, नेक, फोर्हेड हर जगह किस किया, मुझे उसका किस बहूत पसंद आ रहा था, उसने मेरी ड्रेस निकल दी और साथ मे अपने कपड़े भी उतार दिए, मैं उसके सामने सिर्फ़ पेंटी मे थी और भी सिर्फ़ अंडरवेर मे, वो मेरे बूब्स देख कर बोला किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा तेरी ये बड़ी चुचियाँ देख कर, वो उसके साथ खेलने लगा, वो मेरे निपल्स को अपनी उंगली से मसल रहा था और मैं बहूत ही ज्यादा गरम हो रही थी,आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो अपने हाथ से मेरी चुचियाँ दबाने लग गया और मैं मोन कर रही थी आआहह आआहह उउउफफफ्फ़ रोनक और दबाओ मुझे बहूत अच्छा लग रहा है और वो ज़ोर-ज़ोर से मेरी चुचिया दबा रहा था, थोड़ी देर बाद उसने अपना अंडरवेर निकल दिया, उसका लंड खड़ा था और उसका लंड 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा था, उसने अपना लंड मेरे हाथ मे रखा और बोला चूस इसे मेरी कशिश रानी मैने उसका लंड मूह मे लिया और चूसने लगी, उसे बहूत मज़ा आ रहा था और 10 मिनिट तक उसका लंड चूसने के बाद उसने मेरी पेंटी निकल दी.मेरी चूत को देख कर बोला कशिश तुम तो कमाल की हो रानी आज तुमको चोद कर पाने लंड की प्यास बुझाऊँगी बहूत दिन सिर्फ़ तेरी याद मे मूठ मार मार कर काम चलया है, वो बिना कुछ पूछे मेरी चूत चाटने लग गया और पूरी जीभ मेरी चूत मे डाल दी और 3-4 दिन से मेरी चूत मे कुछ गया था तो मुझे अच्छा लग रहा था और मैं मोन कर रही थी

फिर वो खड़ा हुआ और मेरी चूत पे अपना लंड सटाया और एक ही झटके मे उसने उंड़र डाल दिया, मुझे लंड की प्यास थी इसलिए हर दर्द मंजूर था, वो मुझे ज़ोर-ज़ोर से धक्के मरने लगा और साथ मेरी चुचियाँ भी दबा रहा था, मैं उसे बोल रही थी और ज़ोर से चोदो तुम बहूत अच्छे हो आई लव यू नीतेश फाड़ दो मेरी चूत को और ज़ोर से चोदो और वो मुझे ज़ोर-ज़ोर से झटके देने लगाभाई के लंड मेरी चूत के बाहर लग रहे थे और मुझे बहूत मज़ा आ रहा था, उसने मेरी 20 मिनिट तक बिना रुके चुदाई की और उसके बाद मेरी चूत मे ही अपना पानी छोड़ दिया, इस चुदाई के दौरान मे 2 बार झड़ गयी थी, वो मेरे उपर ही लेट गया, और पूछा तुम्हारे पास प्रोटेस्क्शन की मेडिसिन तो है ना, मैने कहा चिंता करने की कोई बात नहीं मेरे पास है, बाद मे रोनक से मैने पूछा की तूमे केसे पता चला मैं वर्जिन नही हूँ.आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो उसने बताया की वो काफ़ी लड़कियों की सील तोड़ चुका है और काफ़ी आंटी लोगो की भी चुदाई कर चुका है, इसलिए इतना तो समझ जाता हूँ लड़की वर्जिन है के नही, उस रात उसने मेरी और 2 बार चुदाई की और मेरी गांड भी मारी, उसके साथ चुदाई करने मे बहूत मज़ा आया ,3 दिन मेरे घर रहा और इन 3 दीनो मे हमने चुदाई का मज़ा लिया, उसने मुझे बातरूम, बेडरूम, किचन और ड्रॉयिंग रूम जेसी अलग-अलग जगह पर अलग-अलग तरीके से चोदा , इस तरह मेरे कज़िन ने मेरी मेरी चूत मारी, हम दोनो को पता ही नहीं चला की मनोज यह सब चुप कर देख रहा था ओर मोबाइल मे रेकॉर्ड भी कर रहा था,कैसी लगी मेरी सेक्स कहानियों , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर तुम मेरी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/kanishaSharma


1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter