किचन में नौकरानी की जमकर चुदाई

ये चुदाई कहानी मेरी सपनो की रानी नौकरानी जिसकी टाइट चूत की चुदाई की है, नौकरानी की टाइट चूत और गोल गोल सॉलिड चूचियां जो की मुझे अपनी नौकरानी को आज तक भुला ही नहीं पाया हु. उसकी चूचियां उसके उपसे से साफ़ साफ़ गोल गोल और गोरी गोरी दिखाई दे रही थी उसमे होठ गजब रशीली थी. रंग उसका श्यामल था पर बॉडी मस्त थी. मैं ऐसे ८ बजे उठता था और वो आती थी. दोस्तों मैं उसके आने का बड़ी बेस्रबी के साथ इंतज़ार करता था. वो भी आते ही दुपटा निकाल कर रख देती थी और मेरे पुरे घर में उसकी चहलकदमी होते रहती थी उसकी मटकती हुयी कमर, आगे की और टाइट चूचियां ओह्ह्ह ओह्ह्ह्ह्ह.

मैं अपने वाइफ के साथ रहता था, अभी मेरी शादी को सिर्फ ६ ही महीने हुए थे. अचानक मेरी पत्नी के पापा का तबियत ख़राब हो गया और वो अपने मायके चली गई. मैंने अब अकेला था, मैं हमेशा नैना पे फ़िदा रहता था. वो बहूत ही ज्यादा हसमुख थी. मुझे दिल से वो अछि लगने लगी. मुझे अब उसमे इंटरेस्ट आने लगा. ऐसे वो ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं थी वो सिर्फ ६ तक ही पढ़ी थी. पर दोस्तों क्या बताऊँ अगर वो मुझे पहले मिलत्ती तो मैं उसके साथ शादी कर लेता, सच बताऊँ तो मेरी बैंक मेनेजर वाइफ भी फ़ैल थी उसके सामने. मैं अब धीरे धीरे उसके करीब आने की कोशिश करने लगा. एक दिन वो थोड़ी उदास थी मैंने पूछा नैना तुम कभी ऐसे उदास नहीं रहती हो पर आज कैसे तुम तो हमेशा हँसती रहती हो, तो वो बोली क्या बताऊँ भैया आज मैं अकेली ही हु, आज मेरे मम्मी पाप और भाई तीनो गाँव गए है. मुझे तो अपने घर में सोने में डर लगता है. क्यों की आज से तीन दिन पहले से मेरे बगल बाले घर में एक मौत हो गई है. मुझे तो अकेले अजीब लग रहा है.आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने कहा नैना तुम चाहो तो आज यहाँ रह जाना रात में. तो नैना बोली नहीं भैया मेरी मम्मी को ठीक नहीं लगेगा. और भाभी जी को हो सकता है ठीक ना लगे. मैंने कहा कौन बताएगा. उनलोगों को. तुम मत बताना और मैं भी नहीं बताऊंगा, वो बोली नहीं नहीं रहने दो. तो मैंने कहा फिर मत कहना की मैंने तुम्हे नहीं कहा. और डर लगता है तो तुम अकेले मत रहो. वो बोली ठीक है. आज मैं रात को रूक जाउंगी. वो शाम के करीब ७ बजे ही आ गयी थी. मैंने कहा तुम खाना बना लोगों की बाहर से ले आएं, क्यों की वो मेरे यहाँ सिर्फ झाड़ू और पॉच ही करती थी. तो वो बोली भैया मैंने तो रोज घर की कहती हु अगर आज मुझे बाहर का खिला दो तो और भी अच्छा हो जायेगा. मैंने तुरंत ही फ़ोन कर दिया और कहना आ गया.

मैंने भी लिया और नैना भी खाई. मैंने कहा नैना तुम बिना दुपट्टे के ही अछि लगती हो. हटा दो. तो वो बोली नहीं भैया आजकल ज़माना ख़राब है मम्मी कहती है. की दुपट्टे से हमेशा ढक कर हमेशा अपने इज्जत को रखनी चाहिए. तो मैंने कहा अरे पगली तुम बिना दुपट्टे के बहूत ही हॉट लगती हो. तभी वो दुपटा को उतार दी. मुझे उसके चूच को देखकर जैसे की लैंड में करेंट लग गया था. मैंने कहा नैना तुम बहूत खूबसूरत हो. वो शर्मा गयी. और अपना मुह झुका ली. मैंने कहा अरे तुम्हे गुसा आ गया की. तो वो बोली नहीं नहीं मुझे सरम आ रही है. मुझे लगा की वो आज मेरे साथ रंगीन रात कर सकती है. मैंने उसके हाथ को पकड़ लिया. और बोला जानती हो. नैना तुम मुझे बहूत पसंद हो. अगर मैं शादी नहीं की होती तो तुम मेरी बीवी होती.आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। नैना बोली कहा मैं और कहा आप तो मैंने कहा यार तेरे जिस्म की जो बात है वो किसी और में नहीं है. वो मुझे तिरछी नजर से देखि मैंने कहा अगर तुम चाहो तो आज रात के लिए मेरी बीवी बन जाओ. मैंने तुम्हे पांच हजार रूपये दूंगा. वो मुझे देखने लगी. मैंने कहा हां मैं सच बोल रहा हु, तुम्हे पांच हजार दूंगा. तो वो बोली पर किसी को पता तो नहीं चलेगा. मैंने कहा कसम से यार मैं किसी से नहीं बताऊंगा और अगर मैंने ऐसा किया तो तुम्हे पता है मेरी ज़िन्दगी खराब हो सकती है. तो नैना बोली अगर मुझे कुछ रह गया तो मेरी भी तो ज़िन्दगी ख़राब हो जाएगी. मैंने कहा अरे यार आजकल मार्किट में कई टेबलेट मिलता है तुम ७२ घंट के अंदर खा लोगी तो कुछ भी नहीं होगा. वो चुपचाप खड़ी हो गई. मैंने तुरंत ही आलमारी से १० नोट पांच पांच सौ के निकाले और दे दिया.

वो वही टेबल पर रख दी अपने छोटे से पर्स में, मैंने उसको दबोच लिया, और उसको तुरंत ही अपने पैरों में फसा के बेड पे लिटा दिया और उसके होठ को चूसने लगा. ओह्ह्ह, गजब, रसीली होठ. फिर मैंने अपना हाथ उसके बूब्स पे रखा वो सिहर गई. वो बोली मैंने आजतक कभी ये सब नहीं किया है.मैंने कहा कभी ना कभी तो तुम्हे करना ही है तो देर किस बात का जवानी को एन्जॉय करो और उसने भी मुझे अपनी बाहों में ले लिया और मुझे चूमने लगी. वो मेरे सर को अपने कंधे से सटा ली और आँख बंद कर के मेरे पीठ को सहलाने लगी. मैंने उसको बैठा दिया और उसके सारे कपडे उतार दिए,. शयमली बदन पर गोल गोल चूचियां और काली काली निप्पल गजब की लग रही थी. मैंने तुरंत ही मुह में ले लिया और फिर उसके निप्पल को दांतो से दबाने लगा.
वो मेरे बालों को सहलाने लगी. और मैंने फिर अपने सारे कपडे उतार दिया और अपना लंड उसके मुह में दे दिया. वो थोड़े देर तक चूसी और फिर बोली धीरे धीरे डालना, मैंने समझ गया की वो अब कामुक हो चुकी है वो चुदना चाह रही है. मैंने दोनों पैरों को फैलाया, चूत पर थोड़े थोड़े बाल थे. मैंने पहले अपने जीभ से चाटा नौकरानी की नमकीन पानी को खूब चाट चाट कर साफ़ कर दिया, नौकरानी की निप्पल एकदम खड़े हो गए थे. फिर मैंने अपना आठ इंच का लंड उसके चूत पर रखा तो उसकी सिसकियाँ शुरू हो गई. वो अपने दांत को होठ से दबा रही थी, मैंने अपने लंड को उसके चूत के ऊपर रखा, और जोर से धक्का मारा, वो चिलचिला गई. उसकी चूत काफी टाइट थी. दो तीन बार झटके दिए तो उसके चूत में मेरा लंड अंदर तक गया.आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो दर्द से कराह रही थी. वो कह रही थी फट गई मेरी चूत, मर गई. मैं आह आह आह मैंने उसके बूब्स को सहलाया वो जब थोड़ी शांत हुई मैंने फिर से झटके देने शुरू किया. वो अब आह आह आह आह उफ़ उफ़ आह आह आह बहूत अच्छा लग रहा है. आह आह आह और चोदो और चोदो आह आह उफ़, और मैंने भी अपने लंड की स्पीड तेज कर दी. वो अपने गांड को उठा उठा कर धक्के देने लगी. अब कमरे में फच फच की और आह आह आह की आवाज आ रही थी. मैंने फिर नैना को मैंने ऊपर किया और उसको अपने लंड पर बैठाया, पूरा लंड अंदर चला गया और मैंने निचे से उसको उच्छालने लगा, और वो भी हाय हाय हाय कर के चुदवाने लगी. मैंने फिर उसके कुतिया बनाया और फिर पीछे से चोदने लगा.दोस्तों पूरी रात मैंने नैना को चोदा सच बताता हु मुझे नैना से प्यार हो गया है. मैं उसको अपना बीवी बनाना चाह रहा हु, मेरी बीवी बैंक में मेनेजर है, आप समझ सकते है कितनी तनख्वाह होगी पर मुझे अब काम बाली ही पसंद है. हम दोनों में एक साल से रिलेशन है. और मैं जल्द ही नैना को अपनी पत्नी बनाने बाला हु.कैसी लगी नौकरानी की चुदाई कहानियों , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर तुम मेरी नौकरानी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/NainaKumari

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter