Didi ke sath wild sex ki kahani

didi ka naam tha Dimple 20 saal figure 30.28.32 or bahut gori aur sexy hai.pura mohala didi par line marta tha par vo kisi ko ghass nahi deti thi thodi kadak sobav ki thi, didi ki mast jawani dekh kar humesa mera lund garam ho jata tha Ek din me ghar ke bahar kehl rahe the tabhi Dimple didi balcone me aai or neche ki taraf jhuk ke deepak ko padhi ke liye bulane lagi to mene dekha ki didi ke mast chikne mume unki bade gale vali salvar me se dikh rahe the ye dekh kar to meri halat hi karab ho gai or me ghar aa kar dimple didi ke badan ke bare me soch kar muth mari or apne aap ko shant kiya.

Fir me to dimple didi ke mume dekhne ka ek bhi moka nhi chodta tha ek din mene dekha ki deepak ki mumy uski choti behan ko kahi le ke ja rahi he vo shukrvar ka din tha to mene deepak se pucha ki teri mumy kha ja rahi he to usne battaya ki uski behan ke dato me tar lagi he is liye mumy har shukrvar ko sonia ko doctor ke pass le jati he fir ese hi chalta raha par dimple didi bahut kam hi ghar se bahar nikalti thi is Karan me unhe dekh nahi pata tha to mene ek plan bnaya or deepak ko kha ke yar bahar hum gande ho jate he hum tere ghar me khela karnge to vo maan gya. Agle din se hum uske gar me hi khelne lage or mujhe dimple didi ko dekhne ka moka milne laga me khus tha par me or bhi jada karna cahta tha matlab unhe chodna cahta tha. Ek din deepak ke dady ko kam ke silsile me 10-15 dino ke liye delhi jana pada to vo Deepak ko bhi apne sath le gaye or me udas ho gya ki aab me dimple didi ko kese dekhunga par meri kismat me kuch or hi likha tha. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Deepak ke jane ke do din baad mere ristedar aye or humare gar me bheed ho gai or sone ke liye ghar me jagh kam padne lagi to jagh bnane ke liye mumy ne deepak ki mumy se baat kar li ki vo mujhe apne ghar sula le jab mene ye suna to me bahut khus hua raat ko jab me sone ke liye Deepak ke gar gya to uski mummy ne kaha ki tum deepak ki jagah so jao vo apni didi ke sath sota he me bahut khus hua ku ki deepak ki mumy mujhe bhi apne bete ki trah hi manti thi to isme unhe koi problem nahi the me dimple didi ke kumare me gya unhone ek black color ki shirt pehan rakhi thi jo bahut hi louss thi or ek black color ka pejama pehan rakha tha, vo mujhe ek acha bucha samjhti thi unhone mujhe andar Bulaya or sone ko kaha mene pucha aap nahi soengi to unhone kaha me thoda pad ke soungi, me sone laga par ankho me need kha mera dhyan to un par hi tha me sone ka natak karta rha or sid me leta raha 15 mint baad vo bhi so gai or me ese hi leta raha pehle to vo pith ke bal so rahi thi or me dusari side kar ke leta hua tha meri pith unki taraf thi thodi der baad unhone apni side change ki or unki gand meri gand

Se takri mere badan me jese current dodh gya or mera lund khada ho gya meri kache ke upar he use dekha ja sakta tha me ese hi pada raha or unki gand ko apni gaand se mehsus karta raha esa karte hue mujhe 1 adh gante ho gye the or dimple didi gehri need me thi mene apni side change karte hue didi ke piche aa gaya or apna lund didi ki gand ke upar se hi lagane laga jaab didi ka koi reaction nahi aya to meri himaat bad Gai mene dhir se hat utha kar didi ke mume par rakh diya or unke reaction ka intezar karne laga par vo abhi bhi gehri need me thi to mene dhire se unke mume shurt ke upar se hi mehsus karne laga to mujhe pata chala ki unho ne bra nahi pehni thi par shirt ke upar se maza nahi aa raha tha Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.to mene didi ko thoda sa aapni taraf khich liya jiss se vo pith ke bal ho gai par ye mene itni aram se kiya ki unki need na tute.Phir mene ahista se didi ke shirt ke upar ke theen batan khol diye jise unke gore gore mume bahar aa gye or me unko night bulb ki roshni me dekh sakta tha or unhe chune laga or mujse raha nahi gya or mene unhe mu me le liya or chusne laga me to jese jannat me tha tabhi ek hath uth kar mere sir par aya or mere balo ko sehlane laga me buri tarah dar gya or didi se alag ho gya to unhaone kha ruk ku gaye karteRaho acha lag raha tha me samjh gya ki vo razi he fir me kha rukne vala tha me is baar didi ke upar aa gya or unke mume ko zor zor se chusne laga vo halki halki ahe bhar rahi thi aaaaaah karte raho karte raho keh rahi thi or mere balo me apni ungliya fira rahi thi fir mene kaha me aap ki chut dekhna chata hu to unhone kha nahi yahi tak thik he mene unki bahit minte ki to vo bas dikhane ko razi ho gai or me jaldi se Niche ki taraf aya or unka pejama nikal kar unki chadi nikal di unki chut pe thode se baal the jese kuch hafte pehle ki kate ho me unki chut dekhne laga or ek ungli unki chut me dalne laga to unke muh se aah nikal gai vo aabhi kuvari thi kehne lagi ye mat karo par me kaha mane vala tha mene uski chut chati to bada ajib se laga or namkin sa test tha me thodi der tak uski chut chata raha or vo masti me halki hali aah aah

Aaah aah ki avaze nikal rahi thi fir mene jaldi se apni kacha nikali or apna lund uski chut ke samne le gya mene apne lund pe thoda sa thuk lagya or uski chut pe tika ke ek daka mara to mera lund fisal gaya mene dubara apna lund uski chut ke ched pe lagya or ek daka mara mere lund ka topa uski chut me gus gya or vo karrah uthi or or uski chut se khun nukla or usne mujhe rukne ke liye kha thodi der baad me pir dake Marne laga or aab mera pura lund uski chut me tha Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.or vo gand utha kar mujh se chudva rahi thi or halke halke ah ah ah ah ah ah ah ah ah ah awaz kar rahi thi thodi der baad mene use dogi bane ko kha or use piche se chodne laga or 10 minutes baad me uski chut me hi jhad gya or mera sara maal uski chut me chala gya us raat mene uske 3 baar chudai ki or hum 3 baje soye agle di shukrvar tha to sonia or didi ki Mummy doctor ke paas jaldi chale gaye or hum thoda der se uthe didi ne mujhe uthaya vo gar me nungi hi ghum rahi thi or mujhe utane aai une is hal me dekh ke mera fir khada ho gya to didi kehti ye kya ye to fir betab ho raha he me didi ko vahi bitha kar kiss karne laga or unke mume ko dabane laga or unhe bistar pe leta diya or unke upar chad gya or hum ne dobara sex kiya us din ke baad Hume jab bhi time milta hum sex karte or ye silsila 2 sal tak chala .kaisi lagi didi ke sath sex ki story.. ascha lage to share karo ,, agar kisine meri didi ki chikni chut se masti karna chahte ho to add karo Facebook.com/DimpleDidi

Besharam chachi ki kuttiya bana kar chudai

Aaj jo chudai ki kahani batane jaa raha hu wo meri chachi ki chudai ki hai.. aaj main bataunga kaise besharam chachi ko choda,kaise nanga kar ke chachi ki choot ko chata ,chachi ki mast boobs ko chusa aur kuttiya bana kar chachi ko choda, chod chod kar chachi ki chut phad diya,chachi ki mast gand mari,ye ek sacchi sex kahani hai..Mere chachi ki height 5ft 4inch he. chachi ki boobs reasonably bade aur soft he. Soft itne ki agar wo nangi so jaye to boobs yaha waha spread hojate. Unki umar pata nahi he. aur chachi ki gaand to unke sharir ka best part he. chachi ki gaand badi fleshy he, itni flehy he ki hath lagaye to uchalti he aur chapata maare to lal laal hojaati he. The best thing about my aunt is her name. chachi ka naam madhu.

Toh jab me unke bedroom pahucha unko meri aahat hui aur unhone mujhe dekha aur khush hoke mujhe 'ronit kaise ho?' kaha aur comb table pe rakh ke merepass aai. aate hue unke chudiya sadi blouse aur bindi dekhke ke me pagal hogaya. Unka chalne ka style bhi bada pyara tha. Wo mere pass aayi, aur mere foreheaad pe kiss karke boli ''Tujko dekhke hamesha acha lagta he rohit. abhi jaldi se fresh hoja mere bathroom me aur fir sath me khana khaenge. Maine teri fav mutton handi banayi he 'Maine kaha 'thik he me meri airbag leke aata hu'. wo boli '' nahi me laati hu tum fresh hone lagjaao''. Main turant unke bathroom gaya aur kapde nikal ke shower cabin me ghussgaya. Bathroom me badi achi smell arahi thi.Aunty hamesha Acqua di Pharma ke shower gell use karti thi. Wo badi sexy mahek dete he. Maine bhi kafi sara shower gell spread karke nhaya. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Nhate samay meri nazar aunty ke panties pe gayi, wo waha sukh rahi thi. Shayad aunty ne abhi hi shower liya tha. Panty yellow color ki netted thi. Me use dekh ke pagal hogaya aur mere dick ko 'lund ko tight karke masalne laga'. Kabhi kabhi aisa ehsas hota tha ki aunty mujhe key hole se dekh rahi he, toh me aur jor jor se mastrubate karta. Lekin meri aunty bedroom me nahi hogi mujhe pata tha, kyuki wo aise chichore kaam karnewalo mese nahi he iska mujhe andaja tha. mera nahana hua ur me towel lapetke bahar aagaya. bahar aake me mere baal dry kar raha tha tabhi meri aunty aayi aur mere bag me se meri shorts aur t shirt nikaalne lagi. Fir me turn hoke unko dekha to wo boli ''kya baat he ronit aaj kal khana jamke kha raha he tu. Badi achi body banali he'' fir merepass aake merer pait pe hath ghumake bolnelagi ''pet bhi bada hogaya he tera abto. kuch hi din me seth ki tarah dikhega tu. Jara exercise kiya kar aur ye peth na badhe iska dyaan rakha kar nahi to tere paith ke karan teri biei bore hojaaegi''. mainne kaha 'madhu aunty me samjha nahi, mere paith ke karan meri biwi kyu bore hojaaegi'. aunty baat cut karte boli 'uncle ko puchlena wo bata denge. Aur tere body se badi mast khushboo arahi he ''me bola ''kyu nahi aaegi aapka he shower gell use kiya he''....to wo muskuraane lagi.

Me ready hoke hall me aaya tab tak uncle aagaye the aur drinks bhar rahe the glass me. Hum dono ne pina shuru kiya maine do beer pee aur unhone ek quater whiky khatam kar di. Fir hum teeno khana khane lage aur khate hue bhi unho kaafi whisky peeli. Aunty jab unko kaha bas hogaya tab wo ruke. Hamara khana hone ke baad hum tino sofe pe baithe maine aur aunty ne ice cream khaya. Uncle ko kafi daaru chad gayi thi me unko bedroom leke gaya aur sulaya. Auntyne kaha ki guest room ka AC kharab he isliye tum hamare bed room me hi so jaao, uncle ne bhi force kiya ki me unke sath sijaau. unka be king size bada tha. teeno aaram se so sakte he. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Aunty ne mujhe bola  ''ronit kya tum do minute bahar jaa sakte ho mujhe change karna he''. uncle abhi masti ke mood me the wo majak karte bole ''use kyu bhahr bhej rahi ho, wo toh bacha he sirf beer pita he uske samne hi change karlo''. aunty boli ''aap chup raho warna aapko bhi bahar jaana hoga!'' Fir me bahar gaya aur 5min se aunty ne mujhe bulaya. AAhhhhhh kya lag rahi thi madhu aunty. Unhone red colour ka satin nighty pahena tha magar saala sleevelesss nahi tha!Hum teeno aara se so gaye aur mujhe kalpana bhi nahi thi ki aagle 1 ghante me meresath kya hone wala tha. uncle bed pe bichme soye the aunty dressing table ke side se soi thi aur me duri bedside pe soya tha. Toh karib ek ghante beed jab maine karwat badli aur halki se aakh kholke dekha toh uncle aur aunty ek dusre ke upar lete hue ek dusre ko masal rahe the. un done blanket liya hua tha aur me kuch nahi dekh paaraha tha. unke sar se leke pair tak blanket tightly odha hua tha. wo dono ek dusre pe badan ghiss rahe the aur kuch second baad baat karne lage. Pata nahi kya karahe the. aur fir blanket unke badan se nikaal ne laga. mera lund hard rock tight hogaya. mera dimaakh imagine karne laga ki wo kya karrahehe aur maine mera hath shorts me daalke mere lund ko sahalane laga. tabhi achanak wo log blanket ouri taraha hatane lage. maine karwat badal di dar ke maare aur diwar ke side dekhne laga. 5 min baad mere lund ko raha nahi gaya aur aur maine karwat badal ke unko face karnelaga lekin aakhe band rakhi.

10 sec baad aunty ka aaah aah haahaaaahhh aisa awaz aane laga maine halke se aakh kholi to dekha uncle aunty ne ek dusre ko hug kiya tha, lekin me sirf mere uncle ko dekhsakta tha wo sirf unke underwear me the aur aunty ka ek haath unke gale me tha jisko me dekh sakta tha. us hath me mast chudiyaan thi aur aunty ka dusra hath uncle ke under wear me jaa raha tha.  Aunty ne fir uncle ki gaand ko jor se squueze kiya aur unclt tura aunty ko kich ke sides change karlee. ab me madhu aunty ki back dekh sara tha.  ohhhhh my gooodnessss unhone sirf bra panty pahini thi. unhone dark red booty panty pahini thi aur wohi color ki sexy bra pahini thi. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Uncle ne aunty ke panty me hath daalke unki gaand squeeze karne lage. ahhh kya gaand thi sali wo. aisa lagra tha mera bully ghusa du usme..bhenchhhoodd... uncle ne madhu aunty ki gaand squeeze karte karte jorse aaunty ke asshole me yaani gaand me unki ungli ghusa di. aur aunty dhire se chillake uncle ko jor se chipak gayi aur aapne pussy unke underwear pe rub karnelagi.Aunty ne phir uncle ka haath nikaala aur wohi hath ko unke pussy ke aandar daal diya. kuch sec aunty ke chut me ungli karne ke baad uncle ne aunty ke upar aake unko kiss kiya toh aunty boli. ''pati dev jaldi karro hum aaj aakele nahi he''. uncle '''aahhhh meri jaan tujhe kaha aakele pasand aata he. aaj me tujhe ronit ke saamne choodu kya jor jor se'' aunty garam hogayi aur phatak se uncle ki paty niche khich di aur khudke bhie nikaal di. auty ki chut itni gili thi ki mujhe uske chiknaayi ka chip chip awaaz aa raha tha. Aunty ne jhat se uncle ka lund liya aur khud ke chut me gusa diya yur boli 'harami pati ronit ke samne kyu chodna he tereko, patni ki ijjat ka khayal nahi he kya aaaahhhhh''. uncle bole ''harami to tu he ronit ka naam sunte hi josh me aagayi chhood jor chood'' aaunty ''maadarchoooood aahhh chod tere patni ko aur jor se chood'' uncle ne aunty ke muh ko dabaya aur bole ''oohhh bhenchood saali bada majha aara he aaj choood ke maardunga tujhe aaj to me sali'' aur uncle ne aunty ko upar laya aur wo niche aagaye.

aunty unimaginably jor joooooor se uncle pe kud rahi thi uncle gali aur pyaar jor jor se derahe the aunty seriously boli ''aaho aaram se ronit uthne naa paae''. uncle ne aunty ko bola ''saali chudna he kya tereko usse bol aaj me bahot mood me hu tujhe khush karne ke liye'' aunty boli 'sale sahi me chodungi na toh gaand jal jaaegi aapki'' aur aur badi jor se unke chut ko uncke lund pe dabane lagi. uncle josh me aake aunty ko hug karke mere aur karib leke aagaye.  aunty aur mereme sirf ek ungli ka aatar tha. aur afir uncle aunty ki chut ko chaatne lage unhone shayad unki puri tonguge unke chut me daal di. Aunty ki shakal mere sar ke paas hi tha to me unki siskaar sunsakra tha.....wo ''aaaaahh aaaahhh swami aur chato aur chato mere swami......daalo aapki zabaan ek lund ki tarha aur kha jaao meri chut koooo''Uncle bole aaj me tujhe dara dara ke chodunga. aunty boli kaise. unhone aunty ko khakar mere pass laya maine aake band kardi aur kariban 2 min badd maine mere aaju baaju kuch hulchal mehsus ki aur suna auty ki muh se ''Aaji mat kar ronit uth jaaega''. uncle bole wo nahi thta he usni daru pi rakhi he.Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai. maine halke se jab 3 min baad aakhe kholi to mere face ke left side me aunty ka ek hi pair dekha jaise ki wo merebaju me khadi he. me hairaan hogaya dekh ke ki madhu aunty ka pair mere left side me tha aur ek pair right side me tha that means i was sleeping in between the legs of aunty aur jab upar dekha to aunty ki fleshy chut dikhi jisme uncle tight lund tha jo jor jor se aunty ki chut me aajaa raha tha. dono bhi mujhe nahi dekh sakte the. Aunty ke dono haath diwaar tike the , unki chut exactly mere muh ke upar 1ft pe this aur uncle aunty ki kamar ko piche se pakad ke chood rahe the aur bole...''kaisa lagra he meri harami patni ko bhatije ke upar chudne ke liye''...aunty boli ''harami bhenke laude agar bhatija uth gaya to to maachud jaaegi'' aaahhh kya scene tha wo me to pagal horaha tha. saala me muth bhi nahi maar pa a raha tha kyuki unko pata chaljaata..

chudte chudte aautny siskarilene lagi....gaando chod aur chod aahh aah chod madarchod aur chod nahi to iske muh pe beth jaaaungi me bhenchood. uncle ne ye sunte he aunty ke gaand pe tamacha maarte hue unko jooooor se chod ne lage aur aunty ke gaand me ungli daal di!! auty ne jor se gaali di... 'gaaandu bhadve'' aur ek hath aapne chut ke paas laake ungliyon se aapni chut ke clitoris ko khisne lagi aur pagal hoyi. uncle jor jorse chhos rahe the aur aunty jor jorse chut ghis rahi thi. aur achanak ek haadsa hua.....aunty ke chut ka paani itna badh gaya ki uska ek chotasa drop mere honto pe gira. madhu aunty ka madhur chut ka paani mere hot ko chuh kar mujhe pagal kar gaya. maine wo piya aur ab maire sher ne khoon chakh liya tha!!! uncle ne fir aunty ki bra ko piche se pakad ke jor jor se chooda. mujhe aunty ke boobs dekhne the magar us raat nahi dekhne ko mili. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Uncle ne aunty ke bra ko piche se dono hath se pakad ke jor jor se speed badhake chodne lage aur auty ke boobs jhool rahe the aur bolri the commmon common me  jhadne wali hu kamine haramkhor choddddd bhenchooooooooooooooood aur wo dono jhad gaye aur unko dono ka thoda sa juice mere chaati aur neck pe gira.  aunty aur uncle alag hue uncle turant daaru ke nashe me sogaye. aaunty ne turant aapne paanty se mere uapr ke gire juice ko aaramse saaf kiya aur ronit naam se mujhe pukaara check karne ko, lekin me sone ka natak kiya. ab aunty bhi nangi hi mere baajume yaani dono ke bich me sogayi. aunty ki pith mere tarf thi aur wo pata nahi kyu adha ghanta rote rote sogayi. wo kyu ro rahi thu mujhe samajh me nahi aaya, kya wo khushi ke aasu the, aafsos ke, pachtaave ke, dar ke ya pyaar ke aasu the mujhe kuch samajra nahi tha.karib ek ghante beed uncle jorke kharrate lene lage me sure hogaya tha ki wo soye he. aur aunty bhi shayad sogayi thi lekin mera mastrubation baaki tha me jor jor se mere lund ko hilane laga phir aunty ke gand pe unknowingly hath ferne laga.

gaand chu ke mera lund aur tan gaya. phir maine ek ungli chachi ki gand me daali aur chut ke pass legaya. chachi ki chut gilli thi maine chachi ki chut ras ungli pe lagake madhhoshi meuse mere lund ke upar lagaya . aur ek baar maine chachi ki chut ko hath lagaya aur aur wo ras bhari ungli mere muh me daal di. auurrrrrrrr fir mr jhad gaya mere pure hath me mera hi juice tha, thoda sa juice maine chachi ki chut pe laga diya aur khush hoke so gaya Dusre din sabere me jab utha tab uncle tayyar hoke aunty se kuch baat karre the. wo monday tha aur uncle ko kisi aur city transfer ke karan job ke liye jaana padta he. main utha aur uncle mujhe good morning bole maine bhi unhe aur aunty ko good morning bola. Uncle ne mujhe bataya ki wo 5 din ghar pe nahi honge ab wo sidhe agle weekend ko aaenge me OK bola aur fir sogaya! Me khushi ke maare pagal hogaya soch ke ki ab me aur madhu aunty aakele honge ek hi bed pe ek hi shower me ek hi sofe me ek hi kitchen me aahhhhh!friends.. kaisi lagi chachi ko chodne ki kahani.. ascha lage to share karo .. agar kisine meri kamuk chachi ki chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/MadhuRaniBala

Gadhe se meri chudai ki kahani

Main ek indian sexy housewife hu, mere boobs bhi 38 size ke hai , meri kamar 30 aur meri gand 36 ki hai,; Ab mein apni first sex ki kahani batane jaa rahi hu, yeh baat kuch din pehle ki hai ,mujse lund lene ka bhut shok ho gaya tha ,me us rat daily ke tah chunde ke liye ja rahi the.Daily ke tarh pink colour ke sari pahni mene ,blouse same bra black colour ke the aur panty bhi black colur ke the aur haa mere sath 2 lady aur the ek meri maya bhabhi, ek meri devrani jeska naam tha vasu . me unko bhi car me betha ke ley ja rahi the. hum 3 no chuut car me beth gay .Maya drive kar rahi the. Me aur Vasu piche Wali sheet pe beth the. mere hath me mobile tha me chat kar rahi the apne friend priya se. Vo janti the Sab kuch mere barme ke me kaha jati .hu daily rat ko .maine use nude pic send karne ko kaha .

Usne pic send ki mujse .Me dekh  rahi the pic. maine vasu ko bi garam karne kaa socha .me vasu ke jagh par hath firane lagi .use acchaa laga raha tha . me karti gai uski sari upar uth the gai .me uki chut tak agai.Usene kuch na kaha mujse. mene uske panty side me ki aur chut pe hath firne  aur Fir chut me apni ugli dal ne lagi aur age piche karne lagi. Vo garm ho gai.hum daly ke tarh bikario ke ghar puch gaye The me car se utari. aur bekari ke pas gaii. me unke pass daily chudne ayaa karti the . maine khaa chudi kaa khle shuru kiya jay. Par vo 2 lund the aur hum 3ne chut . mene unse kaha aur lund chaiye chudne ke liye. use kaha ajayge par 2 shart he meri me boli lyaa to use kaha hum 6 lund aur he vo bhi chdi karge ge mene haa kah de. aur 2 shart unki ye the ke hum  3 ne chut me se un 8 o lund ke dulhan bna hoga. mene kaha th
eek he bulao lund hum 3no chut readt the chudai ke liye.par !dulhan ke liye mene apni devrani ko raji kiya 8o lund ayge .Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.UN me se 1 lund mene pakd liya aur baki 4 lund meri devrani ne aur 3 m,eri bhabhi ne . me apni chut chus vane lagi car ke bonat pe beth ke apna peticot upar kar liya tha vo meri chut chat raha tha me aaaaaaaaaahhhhhhhhh uuuummmmm kar rahi the .Idar vasu ke Mga bhar rahe the vo 4ro lund ek ek kar ke aur vasu niche beth the .Idar meri bhabi maya 3 none stop gadhe ka lund chus rahi the ek ek kar ke aur chut bhi chus va rahi the.meri chut chune ke bad gadhe ka lund meri chut me dal diya .eaaaaaaaaaaaaaaaa kar ne lagi gadhe ka lund khub bada tha kam se kam 11 inches zor zor se vo meri mar raha tha me aahhhhh ummmmmmmm kar rahi the .idhar vasu lund chusne lagi unka aur ek chut chus raha tha ek gand uski vo bhi aaahhhhhhhhh kar rahi the .Maya meri bhabhi bht jada tej vo ek lund pe beth gai aur ek lund use chut me dal va liya . vo mar gai ho is tarh buri hath me 2 no lund uski mar rahe the. Kub power se aur vo kub maze se chu rahi the.

MUH  se aaaaaa uuuuuuuhhhhhhhhhhhhh kar rahi the. edar meri nazaj ek gadhe pe padi me animal se kabi na chudi the. par aj me chudna chati the . me 2 lundo ke sath donkey ke pass gai. vo donkey UN bekariy ka he tha .Mene ek bekari se use ke age wale per pakd vaye aur ek se piche wale.Me use ke niche gus gai .aur uska lund muh me lene lagi kub bda tha uska lund ek hath jitna laba .Me chusne lagi .maja bhi araha tha par smell bhi arahi the sath he sath.mene oil liya aur uske lund pe laga diya.aur apni chut pe bhi. me upar uthi aur ek bikari se kha ke iska lund pakd ke meri chut me aram se gusye . fir use aisa he kiya vo dihre andar dalta gaya aner meri chut me me mar he gai .the bohut tez dard ho raha tha mujse. me phali bar le rahi the animal lund vo hath se pakd ke andar karta aur bhar karta me use kahti aur andar dhire leti gai.Mujse maza bhi bhut araha tha ,sath he dard bhi ho raha tha .Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.idhar vashu 4 lund ko lekar behos hone wali the . q ke vo ise pehle kbhi chudi na the is tarah . use apni chut me 2 lund ek sath le rake the! jese lag raha tha mar ne wali hee. muh se aaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa uuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuummmmmmmmmmmm; kar rahi the. idar meri bhabhi maze se chd rahi the 3 no lund se.EK lund uske muh me tha jse vo chus rahi the.Ek lund uski gand me tha aur ek uski chut me . kub zor se cud rahi the . .ME to uska lund le he rahi the .Dard bhut ho raha tha mujse par maza bhi kub arha tha chudne me ,kub andar tak chala gaya tha meri chut me pet me chub ne laga tha .ab me thak gai the. mene bhar nik diya uska lund meri chut kaaaaa hole kub open tha band na hua tha jese ke isme aur 3 4 lund ek sath le skti hu me .Maya apna rounder finish kar ke car me beth chuki the. vasu bhi kapde phne lagi aur me bhi. fir hum 3no chut car me beth ke ghar ke aur chalne lage. vasu ki halat kuch jada he kab dek rahi the jese ke abi behous hone wali ho .

ke rani kaha jata he mujse. Me rat ko gai chudne ke liye bhar .hum chut 4 the . me ,aarti, priyanka , aur radhika meri maa lagti the. vo .Hum puchese bikariyo ke ghar pe. jo road pe the .vaha jakare meri bat 3 bikariyo se hue. me car ke bonat pe bet ke apna peticot upar kare chut chus vane lagi. vo meri chut chus ta me.aaaaaaaahhhhhhhhh kartie. usene meri chut 25 min take chti.idar pryanka,aarti ,aur radika jo meri maa lagiti the ek ek lund leker karne lagi .me kadi hue bonat se.aur us bikari ne meri gand chatne shuru kiya ab mera peticot upar karke vo .Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.apna lund gusa ne laga .jese he lund andar ja raha tha na meri jaan nik ne wali .the q ke uska lund kub bda tha hoga 11 inches .vo mujse chod ta gya me aaahhhhh ummmmmmmm karti gai . me 30 min gand mar vane ke bad let gai aur vo mere upar chad gaya .ye bi kam se kam 40 min is style me chodta raha. merki chut me pani chod diya usene. me apni story pahli bar l ik rahi hu. ye mene mix kardi he nice ,ye me pahlie bar lik rahi hu ,yadi mene kuch galti ke ho likne me to mujse maf karna. .. kaisi lagi meri widl sex ki kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri ras bhari chut me 9 inch ka lund se chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/MadhuSharma

चुदाई की भूखी लड़की के साथ वाइल्ड सेक्स कहानी

एक लड़की थी सपना उम्र 18 साल उससे बात करके मैने जाना की वो थोड़ी ग़रीब परिवार से है। दिल की अच्छी है। और सेक्स की भूखी है। उसके घर मे माँ, बाप, भाई, भाभी और वो है। मैने उससे बहुत बार सेक्स चैट करी हे। और उसको नेट भी ज़्यादा चलाना नही आता था तो मैने उसे समझाया ओर उसके लिए आई-डी बनाई। वो जब भी मुझे सेक्स चैट करती थी तो वो बहुत जज्बाती हो जाती थी। और कहती थी मुझे कुछ डालना है चूत मे ओर कभी बोलती की मोमबती डाल रही हू तो कभी बोलती केला डाल रही हू।

मुझे तो लगता था झूट बोल रही है। उसने मुझसे कहा की मे तुमसे जीवन मे एक बार ज़रूर चुद्वाऊगी। फिर धीरे धीरे समय चलता गया। कभी कभी बात होती थी। फिर जब मुझे उस पर विश्वास हुआ तो मैने उसको अपनी फोटो दिखाई। जब तक वो नेट में एक्सपर्ट हो गयी थी। उसको मे बहुत अच्छा लगा। उसने मुझे कहा की वो मिलना चाहती है। मुझे लगा था की वो घर से नही निकल पाएगी। तो मैने उससे कहा तो उसने कहा की घर से निकालने की क्या ज़रूरत है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। जब आप मेरे घर पर ही रुकोगे तो उसने मुझे बताया की हम टूरिस्ट लोगो को अपने यहा रेस्ट करने देते है।पैसे लेकर आप आ जाना और पापा से बात कर लेना। तो वो आपको 1 रात के लिए 400 रु. किराया लेगें। मैने कहा ठीक हे। उसने कहा की आप ऐसे दिखावा करना की आप मुझे जानते नही। तो मैने कहा ठीक है। मे शुक्रवार को निकला और रात 8 बजे पहुचा और उसके पापा को फोन किया और कहा की मेरा दोस्त आपके यहा रुका था तो उसी से नंबर मिला मुझे 3 दिन के लिए रुकना है उन्होने मुझे रूम बताया मे पहुचा तो सपना मुझे पहली बार दिखी क्या माल थी गोरी नही थी। सावली थी। हाइट 5’5 इंच होगी। और फिगर देखने लायक था। उसका फिगर 34 28 36 था। मे तो देखते ही खुश हो गया। वो मुझे देख के मुस्कुराई वो आगन मे काम कर रही थी घर का। और वो अपना काम करने लगी। उसने ब्लाउस टाइप का शर्ट पहना था। बॉडी ज़्यादा भी टाइट नही। पर उसका बोब्स दिख रहे थे।

और वो नीचे लोंग स्कर्ट पहनी थी मे तो मन ही मन बहुत खुश हुआ। और वो चल रही थी तो उसकी गांड क्या हिल रही थी। मुझे लड़कियो की मटकती गांड कुछ ज़्यादा ही पसंद है। मेरा लंड हिलना शुरु हो गया। मे ज़्यादा नहीं देख पाया क्योंकि उसका बाप वही कुछ और काम कर रहा था। मे उनसे मिला उन्होने मुझे एक कमरा दिया। मैने खाना खाया वो मुझे नही दिखी उसके बाप ने ही खाना खिलाया। रात के 10 बज गये। खाना खाते खाते फिर सोचने लगा कब मिलेगी ये। मैने लैपटॉप चालू किया और ब्लू फिल्म देखने लगा अपने रूम मे। वहा पर लोग जल्दी सो जाते है। 11 बजे करीब पूरा सुनसान था। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो मुझे आगन मे से झूला हिलने की आवाज़ आई। मे खुश हुआ देखा तो वो झूला झूल रही थी और मेरे दरवाजे की तरफ ही देख रही थी। वो वही कपड़े पहनी थी। और झूले की वजह से उसके बोब्स मस्त हिल रहे थे। लग रहा था की ब्रा नही पहनी।मैने दरवाजा खोला और उससे अंदर आने का इशारा किया। तो वो इधर उधर देख के दबे पाँव मेरे रूम मे आ गयी मैने दरवाजा बंद किया और उसे देखने लगा। बहुत सुंदर थी और उसकी बड़ी बड़ी लिप्स किस करने लायक थे। वो मेरे पास आई और मेरे गले लग गयी। मैने बनियान पहने हुवे था। वो जब मेरे गले लगी तो उसके बोब्स क्या प्रेस हो रहे थे। तब मुझे लग गया की ब्रा नही पहनी। मैने उसका चेहरा पकड़ा और ढेर सारे होटो पर किस करने लगा। फिर मे अपना हाथ कमर से लेते हुए। उसकी गांड पे ले गया। उसने पेंटी नही पहनी थी। मे उसकी गांड  को ज़ोर से दबाने लगा। उसको जोश आ गया और मेरा सर के पीछे  बॉल पकड़ कर मुझे ज़ोर से किस करने लगी। मेरी जीभ चुस रही थी। और अपनी डाल रही थी। मज़ा ही आ गया।

मे एक हाथ से उसके गांड दबा रहा था और दूसरा हाथ आगे लाकर स्कर्ट के उपर से चूत पर फेरने लगा। वो गीली हो गयी थी। मेरा तो मन कर रहा था की अभी नीचे जाके चूत चाट लू। और फिर मैने किस रोक दिया। वो तो करे ही जा रही थी। और क्या मुह से आवाजे निकल रही थी। किस करते वक्त।फिर हमने एक दूसरे को देखा और मुस्कुराए। फिर मैने उसका हाथ पकड़ के उल्टा किया और पीछे से उसके बॉल एक तरफ किये। और उसके कंधे को किस करने लगा और मेरा लंड उसके गांड से टच हो रहा था। और एक हाथ से बोब्स दबाने लगा और दूसरे हाथ से स्कर्ट उपर करके चूत धीरे धीरे हाथ फेरने लगा। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। क्या चूत थी। मज़ा आ गया। वो कह रही थी की तडपती हू मे तुमसे मिलने के लिय आज तो खा ही जाना। छोड़ना मत। और सिसकारिया ले रही थी। जैसे जैसे मे बोब्स के निप्पल और चूत हाथ फेर रहा था। वैसे वैसे उसकी आवाज़े और सिसकारिया बडती जा रही थी। उसने कहा की मुझे पीछे कुछ चुभ रहा है।और वो अपने आप मेरे लंड को पकड़ने लगी। मेरा लंड लंबा हो गया था। वो उसको अपने हाथ से दबा रही थी,  और आवाज़े निकल रही थी। क्या मस्त लंड है। इसको तो मे खा जाउंगी। कितने दिन से चुदना चाहती थी तुमसे और ना जाने क्या क्या बोल रही थी। मेरा लंड बाहर निकाला और अपनी स्कर्ट उपर करी और गांड के बीच में मूठ मार रही थी। और उसकी आखे बंद थी वो मुझे होटो पे किस करने लगी मदहोश होकर। वो सच मे भूखी शेरनी लग रही थी।

मै उसके बोब्स दबाने लगा और निप्पल को भी दबाने लगा। तो वो कहने लगी और ज़ोर से दबाओ। मैने उसके शर्ट के बटन खोलने लगा। फिर पूरे बटन खोल दिए और उसके बोब्स जो बाहर आये तो देखने लायक थे। उसके निपल्स अच्छे थे और बड़े थे। लग रहा था की खुद इनको रोज मालिश करती है। तभी इतने बड़े है।मैने दोनो बोब्स को हाथ मे लिया। मैने कहा जान क्या बोब्स है। खुद दबाती हो की कोई आता है दबाने इतने बड़े हो गए। उसने कहा की पड़ोस का लड़का कभी कभी दबा देता है। और जब स्कूल जाती थी तो दोस्त और टीचर से दबाते थे। मैने कहा जान पहले तो कभी नही बताया ये सब और कितने राज छुपाए है। वो कहने लगी बस तुम मेरी इस भूख को शांत करो मे सब बताती हू। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मे उसके बोब्स दबाए जा रहा था दोनो हाथो से। वो स्पंज बॉल की तरह लग रहे थे। सॉफ्ट।मे उसके पीछे से दबा रहा था और वो एक हाथ मे लंड पकड़ के गांड और चूत मे फेर रही थी और दूसरे हाथ से अपने निपल्स दबा रही थी। और कह रही थी की ऐसे दबाओ और आ…. आ… की सिसकारिया ले रही थी और फिर कहने लगी। आज जम कर चोदना मुझे खा ही जाना सुबह तक चोदते रहना।जब मैने देखा की साली खुद ही अपने निप्पल दबा रही है। तभी इतने बड़े हुए हे। उसने कहा ऐसा क्या देख रहे हो। कभी लड़की को खुद से खेलते नही देखा क्या और मुझे आगे कर के मेरा सिर अपने बोब्स मे डाल दिया और कहने लगी खा ले मेरे राजा….चूस डाल…काट ना…..मेरे निप्पल को बारी बारी….कितना मज़ा आ रहा है….भगवान तुमने चुदाई क्या चीज़ बनाई हे। शरीफ से शरीफ लड़की भी चुदते वक्त रांड़ बनना चाहती है। मैने उसका शर्ट पूरा निकाल दिया अब वो सिर्फ़ स्कर्ट मे थी।

मेरा हाथ तो उसके गांड मे था। स्कर्ट के कपड़े के उपर से सहलाने मे जो मज़ा आ रहा था वो बता नही सकता। उसने मेरा बनियान निकाला और मेरे निप्पल को चाटने लगी।मुझे तो मज़ा आ रहा था। मे लंड उसकी चूत लंड से रगड रहा था। लंड रगड करने से वो मुझे और ज़ोर से पकडने लगी और जो आवाज़े निकलती थी उससे तो मदहोश हो रहा था। उसने मुझे छोड़ा और नीचे झुक कर मेरा लंड मुह मे ले लिया। एक बार मे पूरा। मे तो समझ गया था की ये तो रंडी है। खूब मज़ा आएगा पर वो हमेशा मुझसे कहती थी की वो केला डालती रहती है चूत मे। मैने उससे कहा कितने लंड ले चुकी हो। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो उसने लंड को चूसते हुए कहा की एक लंड लिया है बहुत बार एक महीने मे। मैने कहा कौन तो उसने कहा की छोटे चाचा ने तो मैने उसे उपर उठाया और कहा पहले क्यू नही बताया तो उसने कहा की क्या कहती की चाचा ने चोदा है मुझे मैने उससे बेड पे बैठाया और उसका स्कर्ट उपर करते हुए किस कर रहा था। क्या टाइट थे… मे उससे प्यार से बाते करता हुआ उसकी चूत पे आया। क्या सुगंद थी यार मज़ा ही आ गया। और मैने कहा की पेंटी क्यू नही पहनी तो उसने कहा की अभी उतार के आई हू। तो मैने कहा की मुझे तुम्हारी पेंटी की सुगंद लेनी है तो उसने कहा क्यू मैने कहा की मुझे सुगंद अच्छी लगती है। और तुम्हारी चूत की सुगंद बहुत मस्त है तो उसने कहा ठीक है पर पहले मेरी चूत चूसो और मेरा सर पकड़ के डाल दिया।

मैने उसकी चूत कुत्ते की तरह चाटी और अपनी जीभ से अंदर बाहर करने लगा। वो अपनी गांड हिला के चुसवा रही थी। वो क्या आवाज़े निकाल रही थी और ज़ोर से हिल हिल कर करवाना चाह रही थी उसे और जोश आ रहा था। उसने कहा मुझे लंड चूसना है। मे नीचे और वो मेरे उपर मैने उससे अपने मुह पर बैठाया पहले और उसकी चूत को खूब मूह लगाया जीभ डाली। वो मेरे उपर बेठ के हिल रही थी और दूसरे हाथ से मेरा लंड उपर नीचे कर रही थी। फिर थोड़ी देर बाद उसे नही रहा गया और उसने मेरे मूह मे बैठे बैठे अपना चूत रस छोड़ दिया। मेने  पूरा चाट लिया। और फिर वो नीचे झुकी और लंड चाटने लगी क्या मज़ा आ रहा था। फिर मैने थोड़ी देर लेटा रहा। फिर वो अपनी चूत मेरे मूह मे रगड़ करने लगी तो मे समझ गया की फिर से आ गयी जोश मे।मैने इस बार उसकी गांड को दबाने लगा। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो तो उचकने लगी और कहन लगी ये क्या कर रहे हो।।किसी ने आज तक वहा किस नही किया। तुम क्या कर रहे हो।।।और वो सिसकारिया ले रही थी। मैने पूछा तुमको मज़ा आ रहा है की नही तो वो बोलने लगी बहुत आ रहा है। मैने बारी बारी चूत और गांड खूब चाटी और उसने भी लंड खूब प्यार से चाटा। मेरा निकालने वाला था तो मैने पूछा की मेरा निकालने वाला है तो वो और ज़ोर से चूसने लगी। और मे उसके मूह मे छुट गया। वो लंड घुमा घुमा के चूस रही थी। मज़ा आ गया…मैने चाट चाट के गांड और चूत लाल कर दिए थे। उसको बड़ा मज़ा आया।

फिर उसने मेरा लंड छोड़ा और कहने लगी की मुझे घोड़े की सवारी करनी है। मे समझ गया आज तो पुरा मज़ा देगी ये। वो सीधी हुई और मेरे मुह मे सीधे आकर बैठ गयी और पलंग को हाथ से पकड़ कर आगे पीछे होने लगी। वो कह रही थी…आ..हा मेरे घोड़े और ज़ोर से भाग और ऐसे कहते कहते झड़ गयी। और मेरे पास मे लेट गयी। ये सब देख के तो मेरा लंड खड़ा हो गया था। उसने मेरा खड़ा लंड देखा और वो बिना कुछ कहे मेरे लंड पर बैठ गयी और उपर नीचे होने लगी और सिसकारिया ले रही थी। आ…आआ…उ.ऊ.. मज़ा आ गया…. यह दिन मे आज तक नही भूल पाया। क्या गांड हिला हिला के गोल गोल लंड ले रही थी। मे तो उसको देख कर और जोश मे आ गया,  आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। ऐसा लग रहा था की जन्नत यही है। उसका चेहरा इतना नशीला लग रहा था बताना  मुश्किल होगा। वो अपने बोब्स को खुद दबा रही थी और एकदम से उसको पता नही क्या हुआ। कहने लगी…मार भोसड़ी के…आज तो मेरा भुर्ता बना दे। गली के लड़के तो मेरे आगे पीछे घूमते रहते है।मैने कभी उनमे से किसी से नही चुदवाया…मे खुद भी चाहती हू की कोई मुझे निचोड़ के रख दे….इतना प्यार करे की मेरी सारी प्यास भुझ जाए….पर मैने कभी उनको मोका नही दिया बदनामी के वजह से….अब तुम आ गये हो….छोड़ना मत…बस चोदते रहो। मैने उसकी कमर पकड़ी और एक बार मे उसको लेटा दिया लंड डाले रहने दिया। और जो शॉट मारने शुरू किया पलंग हिलने लगा और पूछ पूछ की आवाज़े आने लगी। इतने ज़ोर से मैने कभी किसी की चुदाई नही की होगी। वो बनी ही चुदाई के लिए थी।

मे लगातार 5 मींनट तक शॉट मारता रहा। कभी बोब्स दबाता…निपल्स दबाता….वो मचल उठती। वो जब अपने हाथ से चूत रगड रही थी। और मे चुदाई मे लगा हुआ था। ये सीन देख कर और जोश आ गया। ये सारा जोश मुझे अपने लंड पे महसूस हो रहा था। में अपनी गांड हिला हिला के चुदाई कर रहा था। फिर जब वो झडने के लिए हुई….तो उसकी आखे बड़ी हो गयी और अपनी गांड ज़ोर से उचकाने लगी। मुझे ये देखकर झडने का मन हुआ तो में भी झड़ गया। क्या आवाज़े निकल रही थी….आआ..आआ.. करते झड़ गये हम दोनो पसीना पसीना हो गये थे। मे उसके उपर लेट गया और थोरी देर लेटा रहा। उसके बाद हम उठे पानी पिया। वो बाथरूम जा रही थी। उसकी पीछे से गांड देखने लायक थी क्या हिल रही थी। बिल्कुल टाइट थी और मोटी गांड थी। उपर नीचे होते जा रही थी।कैसी लगी हम डॉनो की वाइल्ड सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई 18 साल की लड़की की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/RekhaSharma

चूतड़ को पकड़ के पीछे से भाभी को जोर जोरसे चोदा

भाभी का नाम स्नेहा था। में जब भी स्नेहा भाभी को देखता था तो मेरा लंड पेंट से निकलकर भाभी की चूत में घुसने के लिए तड़प उठता था.. लेकिन क्या करूं स्नेहा भाभी बहुत शर्मीली औरत थी और इसलिए वो जब भी मुझे देखती थी सर झुकाकर घर में घुस जाती थी और उनका एक छोटा बच्चा था। भाभी की उम्र 22 साल थी.. लेकिन उनके पति 40 साल के आसपास थे। राजेश के पापा बहुत शराब पीते थे और एक ही ऑफीस में होने के कारण स्नेहा भाभी के पति भी उनके साथ बहुत शराब पीते थे और वो अपनी पत्नी के साथ ज़्यादा बात नहीं करते थे और ना ही सेक्स करते थे क्योंकि राजेश के पापा और वो रोज़ रात शराब पीने के बाद किसी रंडी के यहाँ जाते थे उसे चोदने के लिए.. इसलिए रात को देर से आते थे।

फिर जब स्नेहा भाभी की नई नई शादी हुई थी तो उनके पति कम से कम महीने में 1 या 2 बार ही उनको चोदा करते थे.. लेकिन जब से उनकी बेटी पैदा हुई उस दिन से वो भी बंद हो गया। अब तो वो स्नेहा भाभी को ठीक से देखते भी नहीं चोदना तो दूर की बात थी और बेचारी स्नेहा भाभी इस भरी ज़वानी में अपने पति का प्यार पाने के लिए तरस गयी थी। फिर इस बारे में उन्होंने उर्मिला भाभी को बताया था। जब से में उर्मिला भाभी को चोदने लगा तो उन्होंने मुझे स्नेहा भाभी के बारे में बताया। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी ये सुनते ही मेरे मन में लड्डू फूटने लगे और में मन ही मन बहुत खुश हुआ क्योंकि मुझे अब यकीन हो गया कि में उनको चोद सकता हूँ.. लेकिन वो मुझसे कभी बात ही नहीं करती थी तो फिर मैंने उर्मिला भाभी से कहा कि वो स्नेहा भाभी को पटाकर चोदने में मेरी मदद करें। तभी ये सुनकर उर्मिला भाभी ने कहा कि अगर ऐसा हो जाए तो उस बेचारी की भी तमन्ना पूरी हो जाएगी.. क्योंकि उसकी ज़वानी तो अभी अभी आई है और उसे उसका मज़ा भी नहीं मिलता लेकिन उसके चक्कर में तुम हम माँ बेटी को मत भूल जाना। तभी मैंने कहा कि नहीं भाभी ऐसा कभी हो ही नहीं सकता कि में आप दोनों को भूल जाऊँ। फिर उसके बाद उर्मिला भाभी अपने काम में लग गयी.. स्नेहा भाभी को मेरे सामने झुकाने के लिए। वो जब भी स्नेहा भाभी से बात करती उस टाईम ज़्यादातर बात वो मेरे बारे में उनको बताने लगी और इस काम में रिमी ने भी उनकी बहुत मदद की।फिर ऐसा रोजाना करने से तो स्नेहा भाभी मुझे देखते ही भाग जाती थी। फिर धीरे-धीरे बातों-बातों में उर्मिला भाभी ने किसी बाहर वाले से चुदवाने का आईडिया स्नेहा भाभी को दिया।

पहले तो वो मना करने लगी क्योंकि वो अपने पति से बहुत डरती थी। लेकिन वो उर्मिला भाभी की बातों को बड़े ध्यान से सुनने लगी कि कैसे वो दूसरे से चुद कर जीवन का मज़ा लूट रही है। फिर उसके बाद उर्मिला भाभी ने मुझसे स्नेहा भाभी की पहचान करवा दी.. उस दिन मैंने स्नेहा भाभी से पहली बार बात की.. वो सर झुकाकर मुझसे बात कर रही थी। फिर उस दिन के बाद में जब भी उनको अकेले पाता तो चिड़ाता था। फिर धीरे धीरे वो मुझसे हँसी मज़ाक करने लगी और उर्मिला भाभी ने उनसे पूछा कि तुम्हे आशु कैसा लगता है? अगर तुम कहो तो तुम्हारी चुदाई के लिए में उसे पटा दूँ।तभी ये सुनकर स्नेहा भाभी थोड़ा डर गयी और थोड़ी देर बाद मुस्कुरा कर चली गयी.. क्योंकि पिछले 7-8 महीने से उन्होंने अपने पति से नहीं चुदवाया था और उनकी चूत में भी आग लगी हुई थी। तभी उर्मिला भाभी की बात सुनकर उनकी उत्सुकता और बड़ गयी और ये सुनते ही में भी ख़ुशी से झूम उठा। फिर एक दिन साहस करके उनके घर में घुस गया और उस वक़्त उनके पति ऑफिस जा चुके थे। तभी मुझे देखकर वो समझ गयी कि मुझे उर्मिला भाभी ने भेजा है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने उनसे इधर उधर की बातें करते करते उनका हाथ पकड़ लिया तो वो डर गयी और हाथ छुड़ाकर बेडरूम में घुस गयी। तभी में भी उनके पीछे पीछे अंदर घुस गया और अंदर जाते ही मैंने उनको अपनी बाहों में भर लिया और उनके होंठ पर किस करने लगा।तभी इस हरकत से वो थोड़ी घबराई हुई थी और फिर मैंने उनको सोफे पर बैठाया और समझाया कि वो कुछ ग़लत नहीं कर रही है और वो अपनी जवानी का पूरा आनंद उठाए वरना जब ये ढल जाएगी तो आपको पछताना पड़ेगा और में किसी से कुछ नहीं कहूँगा और उनको पूरा प्यार दूँगा और में उनके बूब्स को दबाने लगा।

उनकी बेटी छोटी थी और वो माँ के दूध से ही अपना पेट भरती थी तो स्नेहा भाभी के दोनों बूब्स बहुत नरम लग रहे थे और ज़्यादा दूध के कारण उनकी चूचियाँ बहुत जोर से हिलती थी.. उनका रंग गोरा था और वो बहुत खूबसूरत थी। उनके होंठो के साईड में एक काला तिल था जो उनकी खूबसूरती को और भी बढ़ा रहा था। फिर में उनकी आँखों में आंखे डालकर किस कर रहा था क्या सेक्सी आंखे थी उनकी.. मेरे हाथ लगाने से ही उनके सारे रोम रोम खड़े हो गये। तभी करीब 15 मिनट तक मैंने उनको किस किया और हम दोनों की जीभ एक दूसरे से टकरा रही थी। में उन्हे स्नेहा भाभी बुला रहा था तभी उन्होंने कहा कि आज के बाद में तुम्हारे लिए सिर्फ़ स्नेहा हूँ.. तुम मुझे नाम से बुलाओगे तो मुझे बहुत अच्छा लगेगा।फिर मैंने स्नेहा को सोफे पर लेटा दिया और उनके ब्लाउज के बटन एक एक करके खोलने लगा। उन्होंने अंदर सफेद कलर की ब्रा पहनी थी सफेद ब्रा के ऊपर से ही उनके भूरे कलर के निप्पल साफ दिख रहे थे। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर में ऊपर से ही बूब्स को चूमने लगा और कुछ देर बाद मैंने ब्रा का हुक खोलकर उनकी चूचियों को आज़ाद कर दिया और उन्हें जोर जोर से चूसने लगा.. उनकी चूचियों में बहुत दूध था जो कि मेरे मुहं में भर गया। तभी अचानक उनकी बेटी जाग गयी और रोने लगी तो स्नेहा उठकर बेड पर लेट गयी और मेरे सामने अपनी बेटी को दूध पिलाने लगी। में उसके पीछे कमर पर हाथ रखे हुए लेटा हुआ था उनकी बेटी कुछ देर बाद सो गई तो स्नेहा ने उसे बेड से उठाकर झूले पर सुला दिया। फिर वो मेरी छाती पर सर रख कर लेट गयी और में उसके हाथ को चूमने लगा और फिर वो मेरे सामने अपने सारे दुखड़े रोने लगी।

उसने मुझे बताया कि सुहागरात के दिन भी उसके पति शराब पीकर कमरे में आए थे और जब उन्होंने उसका घूँघट उठाकर उसके चहरे पर किस किया तो शराब की बदबू से स्नेह की सांस रुकने लगी। फिर नशे की हालत में उन्होंने स्नेहा के सारे कपड़े नहीं उतारे और सिर्फ़ पेंटी खोलकर चोदने लगे.. लेकिन स्नेहा का ये पहली बार था तो उसे बहुत दर्द हुआ और वो दर्द से तड़पने लगी.. लेकिन उसके पति को होश ही नहीं था तो उनका ध्यान इस पर गया ही नहीं। फिर 10-12 मिनट के बाद वो झड़ गए और सारा माल उसकी चूत मे छोड़ दिया और साईड में बेहोश हो गये। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर उस पूरी रात स्नेहा दर्द से तड़पती रही। इस तरह वो अपने पति से चुदवाते चुदवाते जल्दी ही प्रेग्नेंट हो गई और उस दिन के बाद उसके पति ने उसे आज तक हाथ नहीं लगाया। ये सब कहते हुए उसकी आँखों में आँसू आ गए।तभी मैंने उसके माथे को चूमते हुए कहा कि अब चिंता मत करो आज से में तुम्हारा ख़याल रखूँगा। तुम्हे पति का सारा सुख दूँगा। फिर मैंने उसे अपने ऊपर लेटा दिया और उसके बूब्स को चूसने लगा वो मेरे लंड को सहलाने लगी। उसके बाद उसने मेरे कपड़े उतार दिए। फिर मैंने उसे बेड पर लेटाकर साड़ी और उसके बाद पेटीकोट को भी खोल दिया। उनके पेट में टांके लगे थे। तभी मैंने पूछा तो उसने बताया कि उसकी बेटी को ऑपरेशन करके निकाला गया है। तभी ये सुनते ही में खुश हो गया क्योंकि उसकी चूत अभी भी टाईट होगी। स्नेहा ने रेड कलर की पेंटी पहनी हुई थी मैंने उसकी पेंटी को भी निकाल दिया और उसकी चूत में बाल थे लेकिन ज़्यादा घने नहीं थे.. वो इतनी गोरी थी कि उसकी चूत के बाल भूरे कलर के थे और चमड़ी के कलर के साथ मिलते थे.. दूर से देखने से पता ही नहीं चलता कि चूत में बाल है। फिर मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो उसके मुहं से शह्ह्ह अहह की आवाज़ निकलते हुए उसके शरीर में सिहरन पैदा हो गई.. उसकी चूत अभी भी टाईट थी।

फिर मैंने चूत का मुहं खोलकर अंदर देखा तो गुलाबी रंग की दीवार थी और चूत से पानी टपक रहा था भाभी की गुलाबी चूत को देखकर टूट पड़ा और चूसने लगा। तभी मेरे चूत चाटने से भाभी की शरीर में करंट दौड़ने लगा और वो मेरे बालों को पकड़ कर अपनी चूत में दबाने लगी वाह क्या गरम चूत थी और फिर उसके मुहं से शहह अह्ह्ह्हह्ह क्या कर रहे हो.. निकल रहा था? लेकिन भाभी की चूत चाटने में मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था एकदम रसीली चूत थी उसकी वो मेरे लंड को हाथ से मुठ मार रही थी। फिर स्नेहा ने मुझे बताया कि आज तक किसी ने उसकी चूत नहीं चाटी थी और वो चुदवाने के लिए इतनी भूखी थी कि 5 मिनट चूत चाटने से ही चीख चीखकर झड़ गई और सारा पानी मेरे मुहं पर डाल दिया।फिर मैंने उसे लंड चूसने के लिए कहा तो उसने मना कर दिया क्योंकि उसने कभी अपने पति का लंड चूसा ही नहीं था और मेरे बहुत समझाने के बाद ही जाकर उसने मेरे लंड को अपने मुहं में लिया लेकिन मुहं में डालते ही निकाल देती थी उसे लंड चूसना आता ही नहीं था। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी मैंने उसे कहा कि लंड को मुहं में भरकर आइस्क्रीम की तरह चूसो और अंदर बाहर करो। फिर उसने ऐसा ही किया और मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था क्योंकि वो अज़ीब तरीके से लंड चूस रही थी लंड को मुहं में भरकर बिना बाहर निकाले लोलीपोप की तरह चूसने लगी उसके ऐसे चूसने से मुझे बहुत मज़ा आता था। में उनकी चूत पर हाथ फैर रहा था। उसने मेरे लंड को चूस चूसकर लोहे की रोड बना दिया फिर मैंने स्नेहा को ऊपर उठाया और किस करके बेड पर लेटा दिया।

तभी उसने कहा कि आज से पहले मैंने कभी किसी का लंड नहीं चूसा था.. मुझे बहुत मज़ा आया तुम्हारा लंड चूसकर.. लेकिन ये तो बहुत ही बड़ा है मेरे पति का तो इससे बहुत छोटा है और वो जब मेरी चूत में घुसता था तो मेरी गांड फट जाती थी लेकिन अब पता नहीं इतना बड़ा लंड जब मेरी चूत में घुसेगा तो मेरा क्या हाल होगा? तभी मैंने कहा कि मेरी जान जिन्दगी का यही तो असली मज़ा है पहले दर्द होता है और उसके बाद मज़ा आने लगता है और इतना कहकर में उसके पैरों को फैलाकर बैठ गया लेकिन उसकी चूत को ज्यादा चोदा नहीं गया था इसलिए पैर पूरे खोलने के बाद भी उसकी चूत का मुहं बंद था। फिर मैंने चूत के होंठ को हाथ से खोला और उस पर मेरा लंड रगड़ने लगा लेकिन स्नेहा बहुत कामुक थी उसकी चूत को हाथ लगते ही वो अशह्ह्ह करने लगी थी। मैंने एक हाथ से चूत के होंठो को खोल रखा था और दूसरे हाथ से लंड को पकड़ कर चूत के अंदर डालने लगा। जब भी में ज़ोर लगाकर लंड को अंदर घुसाने लगता तो स्नेहा चिल्ला उठती थी और में रुक जाता था। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। ऐसा बहुत बार करने के बाद में उसके ऊपर लेट गया और मैंने उसके मुहं को अपने मुहं से बंद कर दिया और लंड पर ढेर सारा थूक लगाकर ज़बरदस्ती चूत के अंदर लंड को घुसेड दिया। इस हरकत से स्नेहा तड़प उठी और उसने अपने हाथ पैर मारने शुरू कर दिए और मैंने उसके दोनों हाथों को अपने हाथों में पकड़ लिया लेकिन मेरे लंड के मुक़ाबले उसकी चूत बहुत टाईट थी तो इतनी कोशिश करने के बाद बस आधा ही लंड चूत में घुस पाया। शायद उसके पति ने नशे की हालत में उसे ठीक से चोदा ही नहीं होगा और उनको क्या पता कि चूत में लंड कितना घुसा है उतने में ही वो शुरू हो जाते थे।

फिर स्नेहा ने बताया था कि बहुत बार वो उनका सारा माल बाहर ही गिर जाता था.. लेकिन में तो पूरा लंड घुसाकर ही चोदने वाला था। फिर उस आधे घुसे लंड से ही मैंने उसे चोदना शुरू कर दिया क्योंकि मुझे पता था कि धीरे धीरे वो चूत में चला जाएगा। स्नेहा अह्ह्ह शीई करती रही.. उसके नाख़ून बहुत बड़े बड़े थे और वो उनको मेरी पीठ पर गड़ा रही थी। फिर मैंने एक ज़ोर का धक्का मारकर पूरा लंड चूत में घुसा दिया।ऐसा करने से स्नेहा को बहुत दर्द होने लगा.. उसकी साँसे फूलने लगी.. चूत से बहुत खून निकलने लगा। तभी में समझ गया कि उसके पति ने कभी पूरा लंड घुसाकर नहीं चोदा है और वैसे भी उसने अपने पति से बहुत कम चुदवाया है और फिर उसकी ऐसी हालत देखकर में थोड़ा रुक गया और उसे किस करने लगा.. बूब्स चूसने लगा और उसके मुहं से ओहह्ह्ह जैसी आवाज़ निकल रही थी। उसके होठों को किस करते करते मैंने उसे चोदना शुरू किया। तभी उसकी आँखों से पानी बहने लगा लेकिन वो तो कई महीनों से चुदाई की आग से जल रही थी तो वो अपने दर्द को सहने की कोशिश कर रही थी। मुझे भी बड़ा मज़ा आ रहा था उसे चोदने में.. क्योंकि वो भी मेरा साथ दे रही थी और मेरे शरीर पर हाथ चला रही थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर हम दोनों ही चुदाई की मस्ती में मधहोश थे फिर ऐसे ही कुछ देर चोदने के बाद मैंने उसे उल्टा सोने को कहा ताकि में उसकी गांड मार सकूँ।उसे पता ही नहीं था कि गांड में भी लंड घुसाकर चोदा जाता है स्नेहा ने मुझे कहा कि गांड नहीं सिर्फ़ चूत चोदो क्योंकि चूत चुदवाने में जब इतना दर्द हो रहा है तो गांड का छेद तो बहुत छोटा होता है और इतना बड़ा लंड अगर उसमे घुसेगा तो में मर जाऊंगी। तभी मैंने उसे समझाया कि एक बार गांड चुदवा कर देखो कैसा लगता है अगर तुम्हे अच्छा नहीं लगे तो अगली बार से गांड नहीं मारूँगा। मैंने किसी तरह उसे गांड मरवाने के लिए मना लिया। फिर मैंने उसे उल्टा लेटने को कहा वो मुहं के बल लेट गयी उसके ड्रेसिंग टेबल से मैंने वैसलीन के डब्बे से बहुत सारी वैसलीन उंगली में लगा कर गांड के छेद में घुसा दी जिससे अंदर तक अच्छे से लग सके और थोड़ा सा मेरे लंड पर भी लगा ली और उसे गांड को दोनों तरफ से फैलाने के लिए कहा ताकि में लंड आराम से डाल सकूँ।

फिर स्नेहा ने गांड को अपनी दोनों हाथों से खोला और में लंड हाथ में पकड़कर अंदर डालने लगा.. लेकिन उसकी गांड बहुत टाईट थी इसलिए लंड घुसाने में तकलीफ़ हो रही थी। फिर जैसे ही लंड का गुलाबी हिस्सा गांड के अंदर घुसा स्नेहा चीख पड़ी ओह्ह्ह माँ बहुत दर्द हो रहा है शईईइ अह्ह्ह्ह ज़रा धीरे डालो। फिर में उसकी पीठ को चूमने लगा और चूचियों को दबाने लगा। तभी मैंने एक जोर का धक्का मारकर पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया और उसकी गांड के अंदर की दिवारों को चीरता हुआ मेरा लंड जड़ तक घुस गया। स्नेहा चिल्ला रही थी शीईई ऑश निकालो सहा नहीं जाता। फिर मैंने उसकी एक भी बात नहीं सुनी और चोदने लगा गांड तो बहुत टाईट थी लेकिन वैसलीन की चिकनाहट के कारण लंड जड़ तक अंदर बाहर हो रहा था। तभी कुछ देर बाद धीरे धीरे चोदने के बाद मैंने स्पीड बड़ा दी और स्नेहा चिल्लाती रही और में पागलों की तरह उसकी गांड मारता रहा। फिर मैंने उसकी गांड करीब 10 मिनट तक मारी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसके बाद मैंने उसे सोफे के ऊपर ही बैठा दिया और एक पैर नीचे तो दूसरे को अपने कंधे में उठाकर लंड को चूत में डाल दिया और उसकी जांघ को पकड़ कर तेज़ी से चोदने लगा एसे चोदने से लंड सीधा चूत के अंडर तक घुस रहा था। स्नेहा सोफे पर झुक गयी थी और थोड़ा उसके बाद मैंने लंड को चूत में डाले हुए उसे गोद में उठाकर खड़े खड़े चोदने लगा।फिर स्नेहा ने मेरे गले में अपने दोनों हाथ डाल रखे थे और उसे बहुत दर्द हो रहा था। फिर में सोफे पर बैठ गया और उसे लंड के ऊपर बैठा दिया और नीचे से चोदने लगा उसकी पीठ मेरी तरफ थी। मैंने उसकी दोनों चूचियों को पकड़ा और ज़ोर जोर से दबाने लगा। उसी तरीके से मैंने उसकी चूत से लंड निकाल कर फिर से गांड में डाल दिया और चोदने लगा। फिर जब भी मेरा लंड जड़ तक घुसता था तो मेरा शरीर उसके चूतड़ से टकराकर फच फच की आवाज़ निकाल रहा था। फिर में आगे हाथ ले जाकर उसके चूत में उंगली डालकर चोदने लगा और में उसे दोनों तरफ से चोद रहा था। फिर स्नेहा को भी मज़ा आने लगा था और वो भी ऊपर नीचे हो रही थी। फिर मैंने उसे बेड पर लेटाकर एक बार और लंड चुसवाने के बाद उसके पैर खोलकर आगे से चूत में लंड डालकर चोदने लगा स्नेहा बहुत सेक्सी औरत थी और वो मदहोश होकर चुदवा रही थी और उसकी आँखें आधी बंद थी।

फिर जब मेरा वीर्य निकलने वाला था तो में उसके ऊपर लेट गया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा। तभी इस बीच वो 5-6 बार झड़ चुकी थी और उसकी चूत से ढेर सारा पानी निकलकर बिस्तर पर, सोफे पर और ज़मीन पर भी गिरा था। उसकी चूत में जो बाल थे उसके साथ साथ मेरे लंड के बाल भी पूरे भीग चुके थे और में झड़ने वाला था और वो भी झड़ने वाली थी तो हम दोनों ही मजे ले रहे थे। फिर स्नेहा झड़ गयी और उसकी चूत का गरम पानी मेरे लंड पर लगते ही मेरा भी वीर्य निकलना शुरू हो गया और हम दोनों ने एक दूसरे को कसकर पकड़ लिया और में ज़ोर के झटके मार मार के झड़ने लगा। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर में आखरी बूँद निकलने तक चूत में झटके मार रहा था और जब सारा वीर्य उसकी चूत में गिरा दिया तो में थक कर उसके ऊपर लेट गया और वो भी मुझे अपनी बाहों में पकड़ कर लेट गयी। तभी कुछ देर बाद मैंने उसके गाल को चूमा और लंड को बाहर निकाला। फिर हम दोनों ने साथ में बाथरूम जाकर एक दूसरे को अच्छे से साफ किया और फिर कपड़े पहन कर बेड पर लेट गये। स्नेहा मेरे हाथ पर सर रखकर लेटी हुई थी उसने मेरे ऊपर अपने दोनों हाथ रखे हुए थे। तभी स्नेहा ने कहा कि आज से पहले मुझे पता ही नहीं था कि चुदाई में इतना मज़ा आता है अगर तुम नहीं होते तो मेरी जवानी एसे ही बेकार चली जाती आज के बाद में तुम्हारी पत्नी हूँ.. जो कुछ में अपने पति के लिए करती हूँ वो सब तुम्हारे लिए करूँगी। वो तो बाहर वाली के चक्कर में मुझ पर कभी ध्यान ही नहीं देते.. रात को देर से आते है वो भी नशे की हालत में और आते ही बिना कपड़े उतारे सो जाते है। अब से तुम रात को भी आकर मुझे चोदना में तुम्हारे साथ दूसरे कमरे में सो जाउंगी।

फिर इतना कहने के बाद उसकी आँखों में आँसू आ गए और फिर मैंने कहा कि रोना मत भाभी.. आज से मेरे ऊपर आपका हक है आप जैसा कहोगी में वैसा ही करूँगा। फिर इस तरह हमारी प्रेम कहानी शुरू हुई। तब से में रोज़ रात को उनके घर में जाकर उनको चोदने लगा और सुबह 5 बजे में वहाँ से चला आता था। फिर दिन में उर्मिला भाभी को चोदता था और फिर छुट्टी के दिन में रिमी और उसकी माँ दोनों को एक साथ चोदता था। ये मेरा रोज़ का प्रोग्राम हो गया था।फिर जब उनकी बेटी 3 साल की हुई तो उसे अपनी माँ (बेटी की नानी) के पास भेज दिया। स्नेहा भाभी का मयका उसी शहर में था और उनके घर के पास ही बच्चों का अच्छा स्कूल था। फिर वो बच्ची वहाँ पर रहकर पढ़ने लगी उनकी बेटी के जाने के बाद हमे चुदाई करने का और ज़्यादा टाईम मिला। फिर 2 साल बाद उनको एक बेटा हुआ जिसका बाप में ही था और उसके बाद भी जब तक में उस शहर में था और उनको चोदने जाता था और आज भी मेरी उनसे फोन पर कई बार बात होती है। में जब भी अपने घर जाता हूँ स्नेहा भाभी को होटल में ले जाकर चोदता हूँ लेकिन आज कल वो थोड़ी मोटी हो गई है.. लेकिन दिखने में पहले से भी खूबसूरत हो गई है ।कैसी लगी भाभी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी भाभी की गुलाबी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SnehaSharma

मालिश वाला ने मम्मी को नंगा करके खूब चोदा

शादीशुदा औरत को जब कोई दूसरा आदमी या कोई जवान लड़का गरम करता है और चोदता है। मेरी मम्मी भी इसी तरह की औरत है और उन्हें भी एक बार एक पराए मर्द ने घर में चोदा वो चोदने वाला एक मालिश करने वाला था। मेरे घर में सिर्फ़ तीन ही लोग है में और मेरे मम्मी-पापा। पापा की उम्र 55 साल है और मम्मी की उम्र 50 साल है और में अब 25 साल का हूँ। मेरी मम्मी का फिगर 34-38-41 है। ये बात आज से 5 साल पहले की है जब मम्मी ने एक मालिश करने वाले के साथ संभोग किया। वो सर्दियो की बात है मम्मी की तबीयत खराब रहने लगी थी उनके पैरो में बहुत तकलीफ़ हो रही थी।

फिर जब हमने उन्हें डॉक्टर को दिखाया तो उन्होंने कुछ दवाईयाँ दी और उनसे कुछ आराम तो मिला लेकिन कुछ दिनों के बाद फिर वही हालत। इसलिए इस बार पापा मम्मी को लेकर आर्युवेद के डॉक्टर जिन्हे वैध जी कहा जाता है उनके पास लेकर गये। फिर उन्होंने मम्मी को देखकर कहा कि इनके पैरो का दर्द सही हो जाएगा और उन्होंने कुछ दवाईयां लिखी और साथ में तेल मालिश करने के लिए भी बोला इससे ज्यादा फायदा होगा। तभी इसके बाद मम्मी का इलाज शुरू हो गया लेकिन तेल मालिश शुरू नहीं हुई।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर पापा तेल मालिश करने वाले को ढूंढ रहे थे तो एक आंटी है जो हमारी बहुत अच्छी मिलने वाली है उनकी और मम्मी की बहुत अच्छी दोस्ती है। तभी उन्होंने पापा को एक 50 साल के आदमी से मिलवाया जो की तेल मालिश करता था आंटी उस आदमी की बहुत तारीफ कर रही थी और बोल रही थी कि उनको भी ऐसी ही तकलीफ़ थी जो कि उसने दूर कर दी। उस आदमी का नाम दयाल था और वो 50 साल का था ज़रूर लेकिन बहुत हेल्थी था। फिर अगले दिन से वो आदमी हमारे घर आने लगा और मम्मी की मालिश करने लगा। जब वो आदमी मालिश करता तो पापा या में हम दोनों में से कोई एक घर में होता ही था 10 दिन तक ऐसा ही चलता रहा लेकिन एक दिन पापा को भी ऑफीस जाना था और मुझे अपने फ्रेंड के यहाँ पर जाना था क्योंकि उसके बड़े भाई की शादी थी। तो पापा ने आंटी को फोन किया और सारी बात बताई और कहा कि प्लीज अगर आप कल सुबह आ जाओ तो बहुत अच्छा है और आंटी मान गयी। तभी अगले दिन पापा ऑफीस चले गये और में घर पर ही था और में आंटी का इंतजार कर रहा था करीब आधे घंटे बाद आंटी घर आई और 5 मिनट बाद ही मालिश वाला भी आ गया।

फिर मालिश वाला आंटी को देखकर बहुत खुश हुआ और उनसे बातें करने लगा। फिर में दूसरे कमरे में गया और मम्मी को बोला कि आंटी और मालिश वाला दोनों आ गये है अब में भी चलता हूँ। तभी मम्मी ने कहा कि ठीक है। आंटी और मालिश वाला रूम में बैठे बातें कर रहे थे। जब में रूम में घुस रहा था तो मालिश वाला आंटी से कुछ बोल रहा था और आंटी उसकी बात सुनकर ज़ोर से हंसी और कहा कि में कुछ करती हूँ और आज तेरा काम हो जाएगा। तभी मैंने पूछा कि क्या हुआ आंटी कुछ ज़रूरत है क्या अंकल को? तो आंटी ने कहा कि हाँ इसका एक काम अटका हुआ है उसी को करवाने की बोल रहा था मैंने हाँ कर दी। तभी मैंने पूछा कि क्या मेरी कोई मदद चाहिए? तो आंटी ने हंसते हुए कहा कि नहीं बेटा नहीं में करवा लूँगी। इसके बाद में वहाँ से चला गया। मम्मी भी अब रूम में आ गई और आंटी से बातें करने लगी थोड़ी देर बाद आंटी ने कहा कि मालिश करवा ले और हम भी बातें करते रहेगे। फिर मालिश करने वाले ने मम्मी के पैरो की मालिश शुरू कर दी और जब मालिश ख़त्म हो गई और दयाल हाथ धोने बाथरूम में गया तो आंटी ने मम्मी से बोली कि कभी तुमने पीठ और हाथों पर मालिश करवाई है दयाल बहुत अच्छी मालिश करता है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी मम्मी ने कहा कि नहीं मैंने नहीं करवाई और में ऐस कैसे पराये मर्द को छूने दूँ पैरो की मालिश ही बहुत है। तो आंटी बोली कि अरे कुछ नहीं होता में भी तो इससे मालिश करवाती हूँ और मुझे दो साल हो गये है और ऐसा भी नहीं है कि में किसी से छुपके करवाती हूँ और मेरे पति को भी पता है।

तभी मम्मी बोली कि फिर भी कुछ होता होगा? फिर आंटी बोली कि अगर तुझे प्राब्लम हो रही है तो ले में आज तेरे सामने ही मालिश करवाती हूँ अगर तुझे पसंद आए तो तू तब ही करवा लेना। फिर मम्मी ने हाँ बोल दी। तभी दयाल जब आया तो आंटी ने उससे कहा कि मेरी बॉडी पर ऑईली मसाज कर दे फिर अगर तेरी भाभी को अच्छी लगी तो वो भी करवाएगी। दयाल बोला कि ठीक है में तो बहुत अच्छी मालिश करता हूँ आपको तो पता ही है। अब आंटी और मम्मी बेडरूम में चली गयी और वहाँ पर आंटी ने अपने ब्लाउज को उतार दिया और ब्रा भी उतार दी और बेड पर उल्टा लेट गयी। फिर दयाल आ गया और उसने मालिश शुरू करी। दयाल बहुत ध्यान से आंटी की मालिश कर रहा था सिर्फ़ पीठ पर उसने इधर उधर कहीं भी हाथ नहीं लगाया 30 मिनट तक मालिश चली उसके बाद दयाल मालिश करके दूसरे रूम में चला गया और आंटी उठकर बैठ गयी और अपने कपड़े पहनते हुए बोली कि क्यों कैसा लगा सही करता है ना? आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मम्मी ने कहा कि हाँ करता तो है।तभी आंटी बोली कि फिर क्या तू भी तैयार है? मम्मी अब भी झिझक रही थी लेकिन आंटी के बार बार बोलने पर करवा ले.. एक बार करवा कर देख तो सही। फिर मम्मी मान गयी लेकिन मम्मी ने कहा कि तुम यहाँ से थोड़ी देर के लिए भी नहीं जाना। आंटी ने हंसते हुए कहा कि ठीक है में कहीं पर भी नहीं जाऊंगी। तभी मम्मी ने भी अपना ब्लाउज और ब्रा को उतार दिया और बेड पर उल्टा लेट गयी। आंटी ने दयाल को आवाज़ देकर बुलाया और कहा कि देख वो राज़ी है मालिश करवाने के लिए और अच्छी मालिश करना जिससे बार बार तुझे करने को कहे और धीरे से बोली कि मैंने काम कर दिया है अब तू संभालना।

तभी मालिश वाला स्माईल करके चला गया और मम्मी के पास जाकर बैठ गया और मालिश करने लगा पहले वो मम्मी के हाथों की मालिश करने लगा। आंटी भी उसी रूम में बैठ गयी। थोड़ी देर तक तो सही करने लगा लेकिन थोड़ी देर में दयाल मम्मी से बोला कि भाभी जी एक बात कहूँ आप बुरा तो नहीं मानोगी? तभी मम्मी ने कहा कि बोलो। दयाल बोला कि आपकी त्वचा बहुत मुलायम है और अब तक मैंने जितनो की मालिश की है उस में से सबसे मुलायम आपकी है। मम्मी नाराज़ नहीं हुई और स्माईल करने लगी।फिर दयाल ने मम्मी के हाथों की मालिश पूरी होने के बाद वो मम्मी की पीठ की मसाज करने लगा। तभी थोड़ी देर में उसने अपनी शर्ट उतार कर रख दी मम्मी को इस बात का पता नहीं चला और अब दयाल ऊपर से नंगा था और उसने मालिश लगातार रखी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर उसने धीरे धीरे अपनी धोती भी उतार दी और मम्मी को मसाज के कारण बहुत मज़ा आ रहा था उन्हें पता नहीं चला लेकिन आंटी सब कुछ देख कर मुस्कुरा रही थी। अब दयाल मम्मी की पीठ के साथ उनके साईड में हाथ चलाने लगा जिससे मम्मी के बूब्स को वो छूने लगा। मम्मी अपने पेट के बल लेटी हुई थी तो मम्मी के बूब्स बिस्तर से लगे हुए थे 1-2 बार छूने के बाद जब मम्मी ने कुछ नहीं बोला तो उसने मम्मी के नीचे हाथ घुसा दिए और बूब्स मसलने लगा। तभी मम्मी उठकर बैठ गयी और बोली कि ये क्या कर रहे हो? लेकिन दयाल ने मम्मी को पीछे से पकड़ा और बूब्स भी पकड़ लिए और उन्हें मसलना चालू रखा। तभी मम्मी छूटने की कोशिश कर रही थी लेकिन कामयाब नहीं हुई उन्होंने आंटी को देखा जो कि हंस रही थी। मम्मी उनसे बोली कि तू क्यों हंस रही है? ये क्या कर रहा है? प्लीज इससे मना कर। आंटी बोली अरे क्या हुआ ये मालिश ही तो कर रहा है करने दे में भी तो करवाती हूँ।

तभी आंटी बोली कि अरे तू दयाल का कमाल तो देख तुझे इतना संतुष्ट करेगा.. जितना तू कभी नहीं हुई। दयाल तू ज़रा अपना हथियार इन्हें दिखा तो। तभी दयाल ने मम्मी को अपनी और घुमाया और अपनी अंदरवियर उतारा और 7 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा लंड बाहर निकाल कर रख दिया और मम्मी ने लंड देखकर ही अपनी आंखे बंद कर ली। दयाल ने मम्मी के हाथों में अपना लंड दे दिया और फिर मम्मी ने हाथ हटा लिया। मम्मी आंटी से बोली कि ये क्या है? क्या तू भी इसके साथ मिली है? तभी आंटी ने कहा कि हाँ इसने कहा कि तू इसे बहुत पसंद है तो मैंने कहा कि ठीक है दयाल तुझे आज इसकी चूत दिलवाते है। अब दयाल मम्मी से बोला कि भाभी प्लीज एक बार प्यार करने का मौका दो में वादा करता हूँ कि आपको निराश नहीं करूंगा और मम्मी को किस करने लगा।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। आंटी बोली अरे मज़े ले मज़े मम्मी ने कहा कि में शादीशुदा हूँ और किसी पराये मर्द के साथ ऐसा नहीं कर सकती हूँ।तभी आंटी बोली कि अरे में भी तो शादीशुदा हूँ और में भी तो इसका लंड लेती हूँ लेकिन अपने पति से बहुत प्यार करती हूँ.. ऐसे ही किसी के साथ सेक्स करने से कुछ नहीं होता तू सिर्फ़ मज़े कर.. शोर मत मचा कोई आ गया तो तुम दोनों को नंगा देखकर क्या सोचेगा और वो तो तुझे ही गलत समझेगा तेरी ही बदनामी होगी। फिर दयाल भी बोला कि भाभी प्लीज एक बार सिर्फ़ एक बार करवा लो और मम्मी को किस करने लगा। ठीक उसी टाईम डोर बेल बजी आंटी देखने गयी कोई किसी का मकान ढूंढ रहा था और हमारे घर में आ गया था। फिर आंटी ने उसे वापस भेज दिया। फिर वापस आकर आंटी बोली कि देख तेरे चिल्लाने से तेरे पड़ोसी आ गये थे मैंने उन्हें अभी तो टाल दिया है लेकिन सोच अगर तू और चीखेगी या चिल्लाएगी तो अगली बार वो अंदर आ जाएगे और तुझे और दयाल को नंगे देखेंगे तो तुझे ही ग़लत समझेगे अब आगे तेरी मर्ज़ी ये तो तुझे आज चोदकर ही छोड़ेगा।

तभी आंटी की बात सुनकर और बदनामी की बात सोच कर मम्मी को रोना आ गया और मम्मी ने रोते हुए कहा कि ठीक है सिर्फ़ एक बार और फिर नहीं। तभी दयाल बोला कि हाँ हाँ सिर्फ़ आज फिर कभी नहीं। दयाल ने मम्मी को लेटा दिया और मम्मी के ऊपर लेट गया और उन्हें चूमने लगा। मम्मी को वो लिप किस करना चाहता था लेकिन मम्मी अपना सर इधर उधर कर रही थी। तभी दयाल ने मम्मी का मुहं पकड़ा और होंठो पर किस करने लगा। फिर किस करते हुए वो मम्मी के बूब्स तक पहुंचा और बूब्स को चूमने लगा उन्हें दबाने लगा। मम्मी के मुलायम मुलायम बूब्स को पकड़ कर दयाल पागल हो गया। वो कभी तो सीधी चूची को चूसता तो कभी उल्टी चूची चूसता। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मम्मी भी अब कामुक होने लगी थी और उनके निप्पल कड़क होने लगे दयाल मम्मी की चूचियों को जितना हो सकता अपने मुहं में ले लेता।मम्मी का रोना अब कम हुआ लेकिन और दयाल ने मम्मी को देखा और शैतानी मुस्कान भरी और कहा कि अब तो चुप हो जाओ और मज़ा लो मज़ा और फिर वो मम्मी के पेट की और बड़ा और मम्मी की नाभि को किस किया और उसमे जीभ डालकर जीभ फैरने लगा। फिर उसने मम्मी की साड़ी को उतार डाला और फिर पेटिकोट का नाड़ा खोल दिया और खींच कर उतार दिया और दयाल मम्मी की जांघो को देखने लगा मम्मी की जांघे गोरी गोरी और मोटी थी.. वो उन्हें चूमने लगा दोनों जाँघो को चूमता हुआ मम्मी की चूत तक पहुंचा.. मम्मी की चूत पर जाते ही उसमें से पेशाब और चूत की मिली जुली खुश्बू थी।

मालिश वाला ने मम्मी को बहुत कामुक कर दिया था जिसकी वजह से मम्मी की चूत गीली हो गयी थी दयाल ने मम्मी की गीली चूत देख मम्मी से कहा कि भाभी अब तो आपको भी मज़ा आने लगा है पहले तो बहुत नाटक कर रही थी अब तो चूत भी गीली हो गयी है। मालिश वाला ने मम्मी की चूत में उंगली डाल दी मम्मी के मुहं से आह्ह्ह निकलने लगी। तभी मालिश वाले ने चूत चाटनी शुरू कर दी इससे मम्मी बहुत उत्तेजित होने लगी और वो ज़ोर ज़ोर से आहे भरने लगी आह्ह्ह्हह उहह हाईईईईईई। मम्मी की आवाज़ सुनकर आंटी रूम में आई और मम्मी को देखकर हंसी और बोली मज़ा आया ना.. पहले फालतू के नखरे कर रही थी।तभी दयाल बोला कि अरे मुझे भी ऐसी औरते पसंद है.. जो पहले नखरे दिखाती है। उन्हें चोदने में बहुत मज़ा आता है और आप भी तो पहली बार एसे ही नखरे दिखा रही थी। तभी आंटी ने कहा कि चुप बदमाश उधर ध्यान दे। फिर दयाल उठा और मम्मी की चूत में लंड घुसाने लगा। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसने चूत से लंड लगाया और सेट करके धक्के मारने लगा। एक धक्के से लंड चूत में आधा गया और मम्मी के मुहं से हल्की सी आह निकल गई। फिर दयाल ने एक और धक्का लगाया जिससे लंड पूरा अंदर चल गया और मम्मी के मुहं से इस बार और ज़ोर की आवाज निकली। तभी दयाल ने लंड थोड़ी देर चूत के अंदर ही रखा और फिर हल्के हल्के झटके मारने लगा। दयाल ने एक हाथ से मम्मी के बूब्स को दबाना चालू रखा मम्मी हल्की हल्की आहें भर रही थी। फिर करीब दो मिनट तक धीरे धीरे धक्के मारने के बाद दयाल ने लंबे और जोरदार धक्के मारने शुरू किए। अब मम्मी को भी मज़ा आने लगा और वो भी दयाल का साथ देने लगी।

तभी दयाल एक बार फिर रुका दयाल के रुकते ही मम्मी उसे देखने लगी और इशारे में पूछा कि क्यों रुक गये हो? दयाल समझ गया और वो मम्मी के ऊपर झुका और मम्मी के होंठ चूमने लगा और फिर चूचियां चूसने लगा। दयाल ने फिर हल्के झटके मारने शुरू किए और धीरे धीरे स्पीड बड़ा दी.. इस बार दयला रुका नहीं। सर्दी के मौसम में भी मम्मी और दयाल पसीने से भीग गये थे और मम्मी ज़ोर ज़ोर से सांस ले रही थी और आहें भर रही थी। दयाल का भी यही हाल था.. उसने अपनी स्पीड और बड़ा दी और 15 धक्को के बाद उसका वीर्या निकल गया और उसने मम्मी की चूत में ही अपना वीर्य निकाल दिया और मम्मी भी उसके साथ ही झड़ गयी और दयाल मम्मी के ऊपर ही गिर गया। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी थोड़ी देर में जब दयाल ठीक हुआ तो वो उठा और मम्मी के पास ही बैठ गया।मम्मी अब भी लेटी हुई थी। फिर दयाल ने पास में ही पड़ी मम्मी की साड़ी को उठाया और मम्मी उसे देख रही थी। दयाल ने मम्मी को देखते हुए अपना लंड साड़ी से साफ किया और फिर अपना पसीना भी साफ किया और फिर मम्मी के ऊपर फेंक दिया और उठकर दूसरे रूम में जहाँ पर आंटी थी उनके पास चला गया। बिस्तर की हालत खराब थी और बिस्तर पर सलवटे पड़ी हुई थी और मम्मी के बाल बिखरे हुए थे और बदन पर दयाल के दातों के निशान थे और मम्मी की चूत से निकला पानी और मम्मी के पानी से बेड शीट पर निशान हो गए थे मम्मी इस सब को देखकर रोने लगी। तभी उधर दूसरे कमरे में दयाल आंटी से बोला कि क्या औरत थी? पतिव्रता बनती थी लेकिन जब लंड घुसा तो सब भूल गयी और आहें भर रही थी.. लेकिन मज़ा आ गया.. मुझे आज बड़ा सुख मिला है।

तभी आंटी ने कहा कि अच्छा तू अब कपड़े पहन में उसके पास से आती हूँ और आंटी बेडरूम में आ गई। मम्मी ने चादर अपने ऊपर डाल ली थी और अपना सर घुटनो पर रखकर बैठी थी। आंटी मम्मी के पास आई और कहा कि क्या हुआ? फिर मम्मी उसे देखकर रोने लगी और बोली कि तूने क्यों एसे आदमी से मिलवाया अब में किसी को मुहं दिखाने लायक नहीं रही और रोने लगी।तभी आंटी ने मम्मी को गले लगा लिया और कहा कि तू रो मत रो मत किसी को कुछ पता नहीं चलेगा तू चुप हो जा और में किसी को कुछ नहीं बताउंगी और ना ही दयाल किसी को कुछ बताएगा। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी थोड़ी देर में मम्मी का रोना कम हुआ आंटी ने कहा कि देख तेरे बेटे के आने का टाईम हो गया है तू जल्दी से कपड़े पहल ले जब तक में ये सब बिस्तर को सही करती हूँ वरना तेरा बेटा क्या सोचेगा? फिर मम्मी ने यह सुनकर उठी और कपड़े पहनना शुरू किया आंटी ने बिस्तर सही किया। फिर सब कुछ काम होने के बाद आंटी ने मम्मी से पूछा कि उन्हें कैसा लगा? और दयाल ने तुझे संतुष्ट किया या नहीं? लेकिन मम्मी कुछ नहीं बोली। आंटी ने फिर पूछा और कहा कि तू मुझे तो बता ही सकती है तब मम्मी ने कहा कि हाँ दयाल ने मुझे बहुत अच्छे से संतुष्ट किया है और दयाल वहीं दरवाजे पर खड़ा था। वो मम्मी के पास आया और उनसे कहा कि क्या सच भाभी?तभी मम्मी ने दयाल को देखकर अपना मुहं अपने हाथों से छुपा लिया और दयाल मम्मी की इस हरकत को देखकर पागल सा हो गया उसने मम्मी को पकड़ा और गोद में उठाकर हवा में घुमाया और फिर नीचे उतार कर मम्मी को गले लगाया मम्मी भी उसके गले लग गयी। तभी घर के सामने बाईक रुकने की आवाज़ आई आंटी ने खिड़की में से देखा तो पापा आ गये थे मम्मी और आंटी दोनों ड्रॉयिंग रूम में आकर बैठ गये और दयाल भी आकर जमीन पर बैठ गया। फिर पापा अंदर आए तो उन्होंने दयाल को देखा और पूछा कि अब तक वो यहाँ पर कैसे?

तभी आंटी बीच में बोल पड़ी की आज मैंने भी यहाँ पर दयाल से मालिश करवा ली है इसलिए इसे देर हो गई। फिर पापा ने कहा कि ठीक है और पापा ने कहा कि में अभी 5 मिनट में आया और पापा अपना हेलमट रखकर बाथरूम में चले गये। तभी दयाल ने यह देखा और मम्मी के पास गया और उनके होंठ चूसने लगा लेकिन मम्मी ने कहा कि मेरे पति आ जायेंगे.. लेकिन दयाल नहीं माना और बोला कि बस एक छोटा सा किस फिर में चला जाऊंगा और फिर मम्मी ने उसे होंठ चूमने दिए।तभी दयाल चला गया और अगले दिन दयाल अपने टाईम पर आया और उस टाईम घर पर मम्मी के अलावा कोई और नहीं था। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। पापा ऑफीस चले गये थे और में अपने एक दोस्त के साथ मार्केट चला गया था। घर पर मम्मी को अकेला देखा दयाल खुश हो गया। तभी मम्मी उसकी खुशी देखकर समझ चुकी थी कि दयाल क्या चाहता है और मम्मी भी दयाल के साथ सेक्स करना चाहती थी.. क्योंकि दयाल ने उन्हें पहले ही बहुत अच्छे से संतुष्ट किया था और मम्मी के मन में सेक्स की भूख जगा दी थी.. लेकिन मम्मी ने दयाल के इशारे को ना समझने का नाटक किया। जब दयाल मम्मी के पास आया तो मम्मी ने दयाल को एक धीरे धक्का देकर हसंते हुए बेडरूम में भाग गयी। जब दयाल बेडरूम में पहुंचा तो उसने देखा कि मम्मी बिस्तर पर लेटी हुई है और दयाल को स्माईल दे रही है।दयाल जल्दी से गया और मम्मी के ऊपर कूद गया और दोनों एक दूसरे को किस कर रहे थे। कभी मम्मी दयाल के ऊपर और कभी दयाल मम्मी के ऊपर, दोनों के कपड़े इस बीच उतार गये थे। दयाल मम्मी के पूरे बदन को चूम रहा था और फिर मम्मी ने भी दयाल के पूरे बदन को चूमा और चाटा

दयाल और मम्मी बहुत उत्तेजित हो गये थे। अब दयाल ने मम्मी को लेटाया और मम्मी की चूत में लंड घुसाने लग गया। मम्मी भी उसका पूरा पूरा साथ देने लगी थी और पूरा रूम फच फच की आवाज़ से गूँज रहा था। तभी 10 मिनट की चुदाई के बाद दयाल का वीर्य मम्मी की चूत में गिर गया। दयाल और मम्मी दोनों एक साथ ही झड़े और दयाल मम्मी के ऊपर ही गिर गया और फिर थोड़ी देर बाद दयाल मम्मी को किस करने लगा और किस करते करते सो गया। जब दयाल सो कर उठा तो मम्मी उसकी छाती पर हाथ फैर रही थी। फिर दयाल उठकर बैठ गया और मम्मी ने उसे दूध का ग्लास दिया। दयाल ने ग्लास लिया और दूध पीने लगा और दूध पीकर उसने मम्मी को पीने को कहा और दयाल के कहने पर मम्मी ने दयाल का झूठा दूध पी लिया।दूध पीने के बाद दयाल ने मम्मी को होंठ पर चूमना शुरू किया और दोनों के बीच एक बार फिर सेक्स हुआ। फिर एक महीने के बाद मालिश वाले की ज़रूरत नहीं रही डॉक्टर ने मम्मी को कहा कि अब वो बिल्कुल सही हो गयी है। फिर इसलिए पापा ने दयाल को आने को मना कर दिया। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर जिस दिन दयाल को आने को मना किया उस दिन से मम्मी बहुत उदास हो गयी। फिर अगले दिन मम्मी आंटी के घर गयी और उन्हें सारी बातें बताई तो आंटी ने कहा कि बस इतनी सी बात है और तुम उदास हो गयी लो अभी तुम्हारी उदासी दूर करते है और आंटी ने दयाल को फोन किया और 15 मिनट के बाद ही दयाल वहाँ पर आ गया। तभी मम्मी दयाल को देखकर बहुत खुश हुई और मम्मी भाग कर दयाल के गले लग गयी और रोने लग गई। दयाल ने मम्मी को चुप करवाया और कहा कि हम इस घर में मिल लिया करेंगे और मम्मी ये बात सुनकर खुश हो गयी और वहीं पर दयाल को चूमने लग गयी। फिर दयाल शहर में तीन साल और रहा और तब तक वो मेरी मम्मी और आंटी से शारीरिक संबंध बनाता रहा ।कैसी लगी हम मम्मी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी मम्मी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/KavitaRani

चाची के साथ सुहागरात और चुदाई की सिलसिला

मुझे चुदाई का बहुत शौक है और मेरा लंड हमेशा चूत और गांड का स्वाद चखने को बैताब रहता है। आज में आपको ऐसी ही एक स्टोरी सुनाने जा रहा हूँ जिसमे मैंने अपने लंड की प्यास अपनी चाची को चोद कर बुझाई। दोस्तों मेरे चाचा की अभी कुछ समय पहले नई नई शादी हुई थी। उनकी शादी बहुत लेट हुई थी और मेरे चाचा की उम्र 32 साल है और चाची की उम्र 29 साल है और काम की वजह से चाचा को अक्सर बाहर आना जाना पड़ता है। इस वजह से चाची को अकेले घर पर रहना पड़ता है। चाची का जिस्म बहुत ही कातिलाना, सेक्सी है और वो थोड़ी सी सांवली है लेकिन नाक नक्श बहुत मस्त है। उसकी वजह से वो एकदम मस्त लगती है। उनके होंठो का रंग भी सावला है और उनका फिगर 36-30-34 इंच है जो कि उन्होंने एकदम अच्छी देख रेख करके बहुत अच्छा बनाया हुआ है।

फिर एक दिन मेरे चाचा का फोन मेरे पास आया और उन्होंने मुझे घर पर बुलाया क्योंकि वो किसी काम से एक महीने के लिए बाहर जा रहे थे तो उन्होंने मुझे चाची के साथ रहने के लिए बुलाया। तभी में जल्दी से तैयार हो गया.. क्योंकि में पहले से ही इस मौके की तलाश में था जो मुझे आज मिल ही गया और में उनके घर पहुँचा और फिर जैसे ही मैंने दरवाजा खोला तो मेरे सामने चाची खड़ी थी.. सफेद कलर के चूड़ीदार सूट में और में तो उन्हें देखता ही रह गया। सफेद सूट में उनका सावला रंग और भी निखर कर सामने आ रहा था और में तो बस उन्हें ऊपर से नीचे तक हवस भरी आँखों से देख रहा था। तभी उन्होंने मुझे अंदर आने को कहा और में अंदर चला गया और चाचा जी जाने के लिए सामान पेक कर रहे थे और वो रात को चले गये और उनके जाने के बाद अब हम दोनों ही घर में अकेले थे।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  चाची बहुत फ्रेंक थी.. इसी वजह से में उनके साथ जल्दी घुल मिल गया और हम बहुत करीब भी आ गये। अब हम थोड़ी थोड़ी सेक्सी बातें भी करने लगे।फिर एक दिन बातों बातों में उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैंने कभी किसी के साथ सेक्स किया है? तभी मैंने हाँ कर दी तो उन्होंने कहा किसके साथ? फिर मैंने कहा कि मैंने 25 या 30 बार अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा है और अपनी पड़ोस वाली आंटी को भी कई बार चोदा है। तभी उन्होंने कहा कि उन्हें कितनी बार? तभी मैंने कहा कि उन्हें भी 15 से 20 बार। तो उन्होंने कहा कि क्या तुमने कभी 25 से 30 साल उम्र वाली की औरत से सेक्स किया है?

तभी मैंने कहा कि नहीं मुझे कभी मौका ही नहीं मिला। तभी चाची बोली कि और अगर मौका मिलेगा तो तू क्या करेगा? फिर मैंने कहा कि हाँ क्यों नहीं.. ये भी कोई पूछने वाली बात है।फिर मैंने कहा कि लेकिन किससे? तभी चाची बोली कि क्या तू मेरे साथ सेक्स करना चाहेगा? तभी मैंने कहा कि क्या आपसे? तो चाची बोली कि हाँ क्या कोई हर्ज है? फिर मैंने कहा कि ये ठीक नहीं है। तो फिर चाची बोली कि सेक्स में कुछ भी ग़लत नहीं होता और 15 मिनट चाची के समझाने के बाद में मान गया और उन्हें चोदने को तैयार हो गया और बाहर से ना चोदने का दिखावा कर रहा था लेकिन अंदर से मन ही मन बहुत खुश था। फिर हमने रात को खाना खाया और हम चाची के बेडरूम में आकर टीवी देखने लगे। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर चाची भी मेरे पास आकर बैठ गई और में टीवी देखते देखते चाची के बूब्स दबाने लगा उन्हें मज़ा आने लगा और वो भी बहुत मज़ा ले रही थी।तभी में चाची के कपड़े उतारना चाहता था लेकिन उन्होंने मना कर दिया। तभी मैंने कहा कि क्या हुआ चाची? तभी वो बोली कि मुझे तुम्हारे साथ सुहागरात मनानी है और तुम मुझे मेरे नाम से बुलाओ.. मैंने कहा कि ठीक है सपना.. उनका नाम सपना है। तभी वो उठकर अंदर चली गई और लगभग आधे घंटे बाद मुझे आवाज़ लगाई तो में टीवी बंद करके उनके पास दूसरे रूम में चला गया। फिर वो एकदम दुल्हन की तरह लाल कपड़ो में घुंघट डालकर बेड पर बैठी थी.. एकदम नई नवेली दुल्हन की तरह.. में तो ये सब देखकर पागल सा हो गया और मैंने बेड पर बैठकर उनका घूंघट बड़े आराम से उठाया।

मेकअप के कारण उनका रंग रूप और भी निखर गया था। तभी मैंने उन्हें बेड पर लेटाया और उनके लिपस्टिक लगे लाल होंठो को चूसने लगा। में उन्हें एक भूखे शेर की तरह चूस रहा था और वो भी मेरा साथ दे रही थी और हम दोनों एक दूसरे की बाहों में लिपटे हुए थे और सारी दुनिया को भुलाकर प्यार कर रहे थे। फिर मैंने चाची की ब्लाउज और ब्रा का हुक खोल डाला और चाची की चूचियों को आज़ाद कर डाला वो बहुत कामुक लग रही थी चाची की चूचियाँ बाहर आकर और बड़ी हो गई और में बड़ी बेरहमी से उन्हे दबाने चूसने लगा। में एक एक करके दोनों को बारी बारी से चूसने लगा और बीच बीच में अपनी एक ऊँगली उनकी गांड में भी डाल देता। तभी वो एकदम चीख पड़ती.. जानू ऐसा मत करो ना.. प्लीज़। में नहीं माना कुछ देर बाद उनके मुहं से भी सिसकियाँ आने लगी अहहहहह उफ़फफूफुफ ओह और वो बड़े मजे ले रही थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अब मैंने उनकी साड़ी पेटिकोट और पेंटी भी उतार दी। अब वो मेरे सामने एकदम नंगी लेटी हुई थी तभी उनकी बहुत बड़ी सी चूत देखकर में पागल सा हो गया था।तभी मैंने उनकी चूत पर किस किया.. वो गीली थी और एक मादक खुश्बू भी दे रही थी और अब मेरे सब्र का बाँध टूट पड़ा और में उनकी चूत को चाटने लगा। तभी वो बहुत जोर जोर से आवाज़े निकालने लगी और कहने लगी कि आहहहह और तेज चाटो और तेज और तेज करो ओह आआ मेरी चूत.. अब सब्र नहीं होता.. मेरी चूत में अपना लंड डाल कर फाड़ डालो। तभी मैंने चाची की दोनों पैरों को अपने कंधो पर रखा और अपना लंड चाची की चूत के निशाने पर लगाया और एक जोरदार झटका मारा जिससे मेरा आधा लंड अंदर चला गया। वो बहुत तेज चीख पड़ी उूउइíई में मर गयी रे.. उनकी चूत बहुत टाईट थी वो दर्द से कराह रही थी।

फिर में थोड़ी देर वैसे ही रहा और उनके होंठो को चूमने लगा और जब मुझे लगा कि उनका दर्द कम हो गया है तो मैंने एक और ज़ोरदार झटका मारा और मेरा पूरा लंड उनकी चूत की गहराइयों में समा गया और वो रो पड़ी उन्हे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन में धीरे धीरे झटके मारने लगा और वो भी उन झटको का मज़ा लेने लगी। अब में उनकी चूत को जमकर तेज तेज धक्को के साथ चोदने लगा और उनकी अच्छे से चुदाई करने लगा। वो एकदम जन्नत का जैसा मज़ा लूट रही थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। 45 मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद में झड़ने वाला था और फिर मैंने पूछा कि पानी कहाँ पर गिराऊँ तो उन्होंने कहा कि मेरी चूत में ही झाड़ दो.. वैसे भी में दोबारा झड़ने वाली हूँ और मैंने तेज तेज झटके मारने शुरू कर कर दिए और हम दोनों एक साथ चिपके हुए झड़ गये। उस दिन मैंने उन्हें 9 बार चोदा और उनकी चूत चुदाई की वजह से सूज गई थी। मैंने उन्हें इसके बाद पूरे 15 दिनों तक दिन रात चोदा और उन्हे बहुत मज़ा दिया और उनकी चूत के साथ साथ उनकी गांड भी मारी और अपनी लंड की पूरे 15 दिनों तक प्यास बुझाई। कैसी लगी चाची की चुदाई  की स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चाची की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/ReetuSingh

उधार के बदले पंजाबी आदमी ने माँ को बेरहमी से चोदा

मेरी माँ एक 40 साल की औरत है जो गोरी है करीब 5 फीट लंबी है उनकी घने लंबे बाल है माँ की चूची लगभग 34 साईज़ की है उनके कूल्हों में बहुत चर्बी है और उनकी गांड का 38 साईज़ है और वो जब चलती है तो उनकी गांड बहुत हिलती है और सभी लोग उनकी गांड को देखकर अपना लंड बड़ा कर लेते है। करीब 4 साल हो गये है मेरे पापा को गुजरे हुए और ये कहानी उनके गुजर जाने के लगभग 6 महीने बाद की है।पापा के गुजर जाने के बाद हमारे घर की आर्थिक स्थिति थोड़ी खराब हो गई थी.. क्योंकि मेरी पड़ाई भी थी और फिर घर के सारे ज़रूरी काम ठीक से पूरे नहीं हो पाते थे। तभी मेरी मम्मी ने सोचा कि वो किसी से कुछ रुपये उधार ले ले जिससे सब कुछ थोड़ा ठीक हो जाए तो बहुत अच्छा होगा। फिर हमारे मोहल्ले में एक पंजाबी आदमी रहता था..

जो लोगों को पैसा उधार देता था और वो ब्याज भी लेता था और वो यही बिजनेस करता था। तो मम्मी उसके पास गयी और उनसे 50 हज़ार रुपये माँगे और उन्होंने कहा कि वो 2 महीने बाद वापस कर देगी। क्योंकि उन्हें मेरे पापा के बीमे के पैसे मिल जाएँगे। तो उन्होंने मेरी मम्मी को पैसे उधार दे दिए.. लेकिन जब वो मम्मी के साथ बात कर रहा था तो वो इस तरीके से मम्मी को घूरकर देख रहा था और मुझे समझ में आ रहा था कि उसको अगर मौका मिले तो वो मम्मी को नहीं छोड़ेगा। फिर उसने मम्मी से मोबाईल नंबर माँग लिया.. इस बहाने से कि अगर उसे पैसे के बारे कुछ पूछना पड़ा तो वो फोन करेगा है तो मम्मी ने उसे अपना मोबाईल नंबर दे दिया और हम चले आए।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर उस दिन के बाद से हर रोज़ वो मम्मी को गंदे गंदे चुटकुले मैसेज करता था। मम्मी भी कुछ नहीं बोल पाती थी क्योंकि उन्होंने पैसा जो लिया है। फिर ऐसे ही चलता रहा कुछ दिनों के बाद से वो मम्मी को कभी कभी फोन करके उनके हालचाल पूछता था और कभी कभी वो रात को 10 बजे भी फोन करता था। फिर धीरे धीरे मम्मी को भी उसकी इस हरकत से आदत पड़ चुकी थी तो मम्मी भी उससे फोन पर बात किया करती थी.. अब उसे लगने लगा था कि वो मेरी मम्मी को पटा सकता है। फिर कुछ दिनों बाद वो अचानक से हमारे घर पर एक दिन आ गया और जब मम्मी ने दरवाजा खोला तो उसने कहा कि बस वो हालचाल पूछने आया है तो मम्मी ने उसे बैठाकर चाय बनाकर पिलाई तो वो लगभग आधे घंटे तक रुककर चला गया और इस तरीके से उसने हमारे घर पर भी आना जाना शुरू किया और वो जब भी घर पर आता था तो वो एक लूँगी और कुर्ता पहन कर आता था।

फिर वो मम्मी के साथ बैठकर या खड़ा होकर जब भी बात करता था तो वो अपनी लूँगी के ऊपर से लंड को खुजाता रहता था। उससे पता चल जाता था कि वो अंदर अंडरवियर नहीं पहन कर आया है और ये सब देखकर मम्मी बहुत ज़्यादा शरमा जाती थी। फिर दो महीने बाद जब पापा के बीमे का पैसा नहीं आया और पता चला कि वो रुपये मिलने में और एक साल लगेगा तो मम्मी घबरा गयी और मम्मी ने उसे फोन करके सब कुछ बता दिया।तभी उसने बोला कि तुम चिंता मत करो में अभी घर पर आता हूँ और फिर हम बैठकर बात करेंगे.. तो फिर वो अगले दिन हमारे घर पर आया। लेकिन आया रात के 10.30 बजे करीब और हम लोग खाना खाने ही वाले थे। तभी वो आया और मम्मी ने उसे भी खाना खाने को कहा तो उसने कहा कि ठीक है हम खाना खाने के बाद बात करते है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर खाना खाने के बाद मम्मी उससे रूम में बैठकर बात कर रही थी तो उसने मम्मी से पूछा कि तुम्हारे पास कोई गहने है जो मेरे पास गिरवी रख सकती हो? तभी मम्मी ने कहा कि हाँ मेरे पास कुछ गहने है। तो उसने कहा कि दिखाओ तो मम्मी उसे अपने बेडरूम में जहाँ पर अलमारी में गहने रखे है वहाँ लेकर गयी। तो उसने वहाँ पर गहने देखकर कहा कि ये तो बहुत कम है। तभी मम्मी बोली कि अब में क्या करूँ? ये कहने के साथ साथ ही उसने मम्मी को बेडरूम के अंदर ही पकड़ लिया और ज़बरदस्ती उनकी चूचियों को मसलने लगा।मम्मी उससे छुड़ाने की कोशिश कर रही थी और बोली कि में जोर से शोर मचाऊँगी। तभी उसने मम्मी को छोड़ दिया और फिर कहा कि अगर मेरे पैसे वापस नहीं मिले तो कल आऊंगा और मुझे ये घर गिरवी चाहिए तुझे जो करना है कर।

तभी मम्मी रो पड़ी तो उसने मम्मी से कहा कि अगर तू मुझे तेरी चूत देती है तो तेरा पैसा मुझे नहीं चाहिए.. सोचकर कल मुझे फोन करके बताना। इतना बोलकर वो चला गया। फिर मम्मी पूरी रात रोती रही और ये बात सोच सोचकर वो सोई नहीं। फिर अगले दिन मम्मी ने दोपहर को उसे फोन किया और बोली कि और कोई चारा नहीं है क्या?तो उसने कहा कि नहीं.. फिर मम्मी ने कहा कि तो फिर आपकी जो मर्ज़ी हो वो कर लो। तभी उसने कहा कि क्या में अभी आ जाऊँ? फिर मम्मी ने उसे हाँ कर दिया और थोड़े ही देर में वो घर में आ गया और उसने आकर दरवाजा बंद कर दिया और मम्मी को हाथ पकड़ कर बेडरूम में लेकर गया और बोलने लगा कि आजा मेरी रानी अब तो तुझे में अपनी रंडी बनाऊंगा और उसने अपनी लूँगी खोल दी और मम्मी उसका लंड देखकर दंग रह गयी.. काला मोटा 9 इंच का एक सांप जैसा लंड उसने कहा कि क्या देख रही है कुतिया ले इसे अपने मुहं में.. मम्मी ने इससे पहले कभी मुहं मे लंड नहीं लिया था तो वो बहुत मुश्किल से उसे चूसने लगी घुटनो पर बैठकर। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर उसने कुछ देर बाद मम्मी के बाल पकड़ कर लंड को गले तक घुसा दिया और मुहं में जोर जोर से धक्के देकर लंड डालने लगा। तभी मम्मी की साँस रुक चुकी थी और वो छटपटा रही थी तभी उसने लंड को थोड़ा बाहर निकाल लिया और बोला कि रंडी तेरे कपड़े उतार।तभी मम्मी ने धीरे धीरे अपने सारे कपड़े उतार दिए और वो मम्मी की बिल्कुल साफ गोरी चूत देखकर पागल सा हो गया। उसने तुरंत मम्मी को उठाकर बिस्तर पर डाल दिया और थोड़ा सा थूक लगाकर मम्मी की चूत में लंड डालने लगा और मम्मी बहुत जोर से चिल्ला रही थी.. क्योंकि लंड बहुत बड़ा था और मम्मी को बहुत दर्द हो रहा था।

फिर वो किचन से तेल लेकर आया और फिर चूत पर तेल लगा दिया और लंड को ज़बरदस्ती घुसा दिया और फिर सांड की तरह चोदने लगा। मम्मी दर्द के मारे चिल्ला रही थी। फ़िर भी उसने रहम नहीं किया और बोलने लगा कि साली रांडी तेरी चूत से में अपना पैसा निकालूँगा.. तू देखती जा साली कुतिया इस तरीके से वो मम्मी को एक घंटा तक चोदता रहा और जब उसका वीर्य गिरने वाला था तो उसने मम्मी के मुहं में लंड डाल दिया और मम्मी के मुहं में सारा वीर्य गिरा दिया और मम्मी को मज़बूरी में सारा वीर्य पीना पड़ा। फिर उसने मम्मी को पकड़ा और वहीं पर सो गया। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मम्मी दर्द के मारे बिल्कुल बिखर चुकी थी तो मम्मी भी उसके सीने पर सर रखकर सो गयी कुछ एक घंटे बाद फिर से उसका लंड खड़ा होने लगा और वो धीरे धीरे मम्मी की गांड को मसलने लगा तो मम्मी भी उठ गयी। तभी मम्मी ने पूछा कि क्या हुआ? तो उसने बोला कि मेरी रानी तेरी मस्त गोरी गांड को भी चोदना है।तभी मम्मी ने कहा कि नहीं प्लीज़ वहाँ पर नहीं मैंने कभी नहीं करवाई। तो उसने बोला कि बहुत अच्छी बात है तेरी कुँवारी गांड की सील आज में तोड़ूँगा.. इतना कहकर वो उठ गया और तेल की शीशी लेकर आया और मम्मी को उल्टा करके उनकी गांड के छेद में तेल डालने लगा। मम्मी मज़बूरी में चुपचाप पड़ी रही और उसने एक उंगली घुसकर तेल लगा लिया और अपने लंड पर भी तेल लगाकर अपने लंड को मम्मी की गांड में सेट कर दिया और धीरे धीरे धक्का देकर घुसाने लगा। मम्मी के मुहं से आवाज़ निकली तो उसने एक हाथ से मम्मी का मुहं पकड़ लिया और पूरा लंड ज़बरदस्ती घुसा दिया।

 करीब 5 मिनट वहीं पर रखा और फिर धीरे धीरे आगे पीछे करके चोदने लगा। मम्मी आधी बेहोश हो गयी थी। इस तरीके से उसने फिर 10 मिनट बाद अपनी स्पीड तेज़ कर दी और फिर से वो सांड बन गया.. फिर आधे घंटे तक चोदने के बाद उसका वीर्य माँ की गांड में ही झड़ गया। वो फिर से उनके पास ही सो गया और कुछ देर सोने के बाद बोला कि अभी में जा रहा हूँ फिर रात को आऊंगा। ये कहकर वो चला गया और अब वो ना तो दिन देखता है और ना ही रात। जब भी उसका लंड खड़ा होता है तो वो मेरी माँ के पास उसे ढीला करवाने आ जाता है ।कैसी लगी माँ की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी मां की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/NeetuSharma

Dost ki maa ke sath sex ki story

Ye sex ki kahani aaj se karib 6 saal phele ke hai mere ek dost tha jiska naam sidhu tha. Uske ghar per dost ki mummy, do behan aur ek chota bhai tha. Sidhu apne ghar per subse bada tha. Mein aur wo ek saath college mein padai karte they. Saath he hamne computer class bhi shuru kar rakhi thi. Mera aksar uske ghar par ana jana tha lekin mein kabhi Bhi buri nazar se uski maa aur bahen ko nai dekh tha sidhu ke papa ek govertment job karte they aur uske bhai bahen school jatey they. College ke baad sidhu govt. job ke tyari mein lag gya jee jaan se lekin muje govt. job mein koi interest nai tha. Govt. job pane ke chakkar mein sidhu subha se lekar raat tak padai karta tha. Jiska natiza ye hua ke usko govt. job mil gaye aur uski posting delhi se bahar ho gye.

Lekin mera sidhu ke ghar aan jana tha mein month mein ek aad bar chal jata tha. Sidhu ke mummi ko jab bhi koi smaan lana hota tha to wo muje phone karti thi ke ravi ye la do wo la do kyonki market unke ghar se door thi esliye wo muje bolti thi smaan lane ke liye. Esey karte karte 2 saatl gujar gay ek sidhu ke maa ka phone aya aur boli muje ek samaan mangwana hai to mein bola bolo aunty kya lana hai lekin sidhu maa khul ke bol nai rahi thi.Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.To mein bola aunty bolo kya lana hai to aunty thoda hichkicha rahi thi. Mere force karne par aunty boli ravi muje bra la dogey kyonki meri old bra sari fat gyee hai and market janae ka time nai lag raha hai. ye sunte he mere mein 1 mint ke liye hill gya lekin phir meine himmat karke bola ke aunty kiss size ke laani hai to aunty boli 42 no. ke to mein haa kar di. Aunty boli ravi kissi ko btna mat ke mein tumse ye cheez mangwai hai.Mein samaj gya aur himmat karke bol diya aunty ek sharat par launga agar pehna kar dekhogey to aunty boli phele laa to do. Mein us din sham ko bra khridi aur raat bar sochta raha kya such mein kal mein aunty ko bra mein dekh paunga. Kher jaise taise raat gujri. Agle din mein 9 baje tyar ho gya kyonki aunty ka phone jo ana tha. 9.30 par aunty ka phone aya kab aogey mein bola aunty mein to ready hu aap bolo kab aao and Uncle office gya kya to boli sub gye sidhu ke behney bhi gaye wo 1 baje ayeingi school se mein bola theek hai mein aa raha hoo abhi. Mein jaldi se bike nikali aur 10 baje aunty ke ghar pahuch gya. Jaise ghar ke andar gusa aunty night gown mein aur aunty ke figar ek dum nazar aa rahi thi motey motey boobs and ubhri hoyee gand us din meiney phele baar aunty ko es nazar se aur gur se dkha. Kher aunty paani le aye to mein bola aunty aapka samaan aunty ne pakda aur chali gaye.

Aunty thodi der baad akar mere samne bethe gaye. Mein bola aunty check to kar le phen ke to boli koi nai mein baad mein kar lungi mein bola aundy apne bola tha dekhogi phena ke to aunty boli nai meine to nai bola tha. Phr mein chup hokar betha gaya aunty ko laga shayd mein naraaz hogya hoo to aunty boli kya hua mein bola kuch nai mood upset ho gya to boli kyo mein bola mein kitne khwab dekhe te kee ap bra pehna kar dekhoge.To aunty boli chal mein abhi aati tu TV dekh. 5 minutes baad aunty aye aur mere samney night gown mein aa gye aur boli dekh le to mein bola dekho to aunty nai apna gown upar kar diya aur jaldi se niche gira diya. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Mein 1 minutes ke liye dekhta reh gya kya sexy lag rahi thi aunty mein bola aunty apne to jaldi se gira diya kam se kam ache se dekho. To aunty mna karne lagi mein himmat karke utha aur aunty ke pass chal gya Aur bola dekho aunty boli dekha to diya mein bola aunty pass se dekhna hai to aunty mana karney lagi lekin mein himmat karke aunty ka gown uthey laga upar ko. Aunty boli ravi mat karo please lekin mein nai mana aur aunty ko bed par leta diya aur aunty ka gown pura upar kar diya aunty mana karti rahi aur mein aunty ka gown upar karta raha aur dherey dherey mein aunty ka gwon pura upar kar diya aab aunty meer Samne white bra jo mein khareed ke lya tha aur skin color ke penty mein thi aunty ne apni ankhein band kar li aur apna gown niche karne ke koshish karti rahi. Mein himmat karke aunty ke boobs par haath rakh diya aur aunty ke dusre boobs par kis karne laga aunty mana karne lagi lekin mein bola aunty aaj mana mat karo. Dhere dhere aunty ne apne aapko dhela choda diya aur meine ek haath aunty ke choot par

Rakh diya aur penty ke upar se choot ko sehlane laga aab aunty kuch nai bol rahi thi shyad wo garm ho rahi thi and mein uncantrol ho cuka tha. Mein jaldi se apni shirt, paint and baniyan utarkar underwear mein aunty ke upar late gya aur aunty ke boobs suck karne laga aur aunty ke choot par apna land ke setting bethkar halke halke ragdne laga ab mein aunty ke gown bhi pura nikal diya aur aunty ke bra khol dee.Aur gore gore mom dekh kar mein pagal sa ho gya aur jor jor se suck karne lag aunty boli ravi aram se karo kato mat pher aunty ke lips par kis karne laga 10 minutes kiss karne ke baad mein wapis boob suck karne laga aur sucking karte karte mein aunty ke pet ke nabhi par jeeb pherane laga to aunty machlney lagi. Pher dhere dher mein niche ke taraf bada aur aunty ke choot ko penty ke upar se chatne lagi phir mein aunty ko Ulta lita diya aunty ke badi gande dekhkar mein ruk na pya aur aunty ke kamar par kiss karta karta hips par pahuch gya aur hips par halke se kat diya. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Phir mein apna underwear utar diya aur penty ke ander se hips par ragdne laga phir mein dost ki mummy ko sidha kiya aur unki panty ko khol diya ,dost ki mummy ki choot ek daam saaf thi. Phir mein dost ki maa ki choot ko chatne laga aur saath saath finger dalkar ander bahar karne laga aunty to ek dam madosh ho chuki thi.Shyad pheli baar kissi ne aunty ki choot chati hogi hir mein unki chest par bethkar unke boobs ko chodne laga apne 8 inch ka lund se to mera lund aunty ke lips par touch ho raha tha. To aunty apna moo edhar udhar kar rahi thi phir mein aunty ko bola aunty suck karo to aunty ne mana kar diya lekin mein bola sirf ek mint to uno ne mo khola to mein apna lunda andar daal diya. Thodi der suck karwane ke baad mein uthkar unki choot ke paas aa gya aur dubara suck karne laga to aunty boli ravi ab karo aur na tadpao.To mein aunty ke tange apne shoulder par rakhi aur apna lund aunty ke choot ke ched par rakha aur jor se jatka diya to aunty thoda sa hili phir ek jatka diya aur lund pura ander chal gya. Aur phir mein aunty ko chodne laga phir mein aunty ke upar pura late kar chodne laga mere aur aunty ka ek ek ang apas mein mil rah tha muje bada anand aa rha tha 15 minutes baad jab mein jadne laga to aunty se pucha kaha chodo aunty

Boli bahar karna to jaise mera niklne ko hua to mein apna sara virye aunty ke pet aur choot ke upar chod diya aur wapis late gya thodi der baad mein upar se utha aur apna lunda saaf kiya to aunty mujse boli ye baat kissi ko pta nai lagni chiyee and aab bhool to nai jaoge aunty ko mein bola nai aunty aab to mein roz aya karunga. Phir aunty uthi aur boli meri bra aur penty pakda do to mein bola phena bhi deta hoo phir mein aunty Ke bra penai aur panty bhi phir aunty ne gwon pena aur kichen mein chali gye chaye banana ke liye aur mein tv dekhta raha thodi der baad mein phir tyar ho gya to mein bhi kichen mein chal gya aur aunty ka gwon upar karke phir apna lund aunty ek gand mein ragrta raha. Aunty boli ab nai ravi mein thak gye hoo lekin meine nai suni aur gown upar karke aunty ke penty niche karke mein kichen mein aunty ko jukha diya aur chudai karne laga. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Dusra round hone ke waja se es bare mera 30 minutes tak aunty ko chodta raha es bich aunty 3 bar jad gye thi. Es bar meine bina bole apna veery aunty ki choot mein choda diya. Jaise meri ek boond aunty ke ander giri aunty apne ko chudane lagi lekin mein kaskar pakad liya aur apana sara cum aunty ke choot mein choda. Jab mein apni pakad dilli kee to aunty boli tumne ander kyo choda agar mein pregnant ho gye to mein bola aunty aap samjdar pregrnant kese hotey hai apko pta hai. Phir aunty boli tum to bade badmash nikley phir hamne chaye pee aur wapis aney laga to aunty boli atey rehna. Mein bola ji aunty ab to roz ana padega aab bus phone kar diya karo ke gahr per ko nai hai us din se lekar aaj tak mein aunty ko chod raha hoo. Lekin aunty ne kabi apni gand nai marne de lekin es baar mera pura mnn hai aunty ki gand marne ka. friends.. kaisi lagi dost ki maa ke sath sex ki story .. ascha lage to share karo .. agar kisine mere dost ki mummy ki gand me chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/SwatiKumari

Dost ki behan ki chudai story with sex image

Hello dosto ,, aaj jo dost ki behan ki chudai ki story batane jaa raha hu wo meri dost ki behan ki chudai ki hai. aaj main bataunga kaise dost ki shadi shuda behan ko choda,kaise nanga kar ke dost ki behan ki choot ko chata aur boobs ko chusa,kaise hotel mein dost ki behan ko choda, kaise chod chod kar dost ki behan ko aurat bana diya.kaise dost ki behan ke sath suhagraat manayi. Hotel ke room ki Suhagraat ki sej par jab Dost ki behan reshma ne mere lund ko chat kar saaf kar diya aur phir hum dono chipak kar let gaye . Hum dono ek doosre ke lips par kiss kar rahe the. Romy aur Jija ji ko hospital gaye abhi sirf one hour hi hua tha, hamare paas bahoot time tha isliye Rashmi ne mujhse kaha ki agar mein permission do to wo apni dulhan ki dress utarkar doosre light kapde pehanna chahti hai aur uska nahane ka bhi dil kar raha tha.

Maine Rashmi ko kaha ki hum naha sakte hai lekin jija ji aayenege aur tuhmare khule baal aur normal kapdo mein dekh kar bura to nahin manege. Rashmi boli unhone hi to kaha tha ki naha kar fresh ho jana aur waise bhi beautician ke makeup ki wajah se aur beautician ne jo mera hair style banaya hai use mujhe problem ho rahi hai. Beautician ne Rashmi ke hairs par bahoot hair fixer lagaya tha uski hair styling ke liye jiski wajah se uske hairs bahoot hard ho gaye the aur Rashmi ko headache ho rahi thi.Maine bathroom mein jakar bath tub mein garam pani bhar liya aur foam soap daal diya. Rashmi ne pehle apne hairs ko shampoo se wash kiya aur phir bath tub mein mere upar aa kar back kar ke let gayi. Maine dost ki behan ki boobs ki massage karni shuru kar di aur uske lips ka juice per aha tha. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Mera lund uski gaand par ragad kha raha tha jiski wajah se lund bahoot hard ho gaya aur Rashmi ki gaand mein chubhne laga. Mujhe bhi problem ho rahi thi isliye maine peeche se apna lund Rashmi ki chut mein daal diya aur hum ek doosre ki massage karne lage.Bath tub ki side mein maine orange juice se bhara glass rakha tha jisse ek sip lekar mein apne lips se Rashmi ko pilata aur phir Rashmi sip lekar apne lips se mujhe pilati thi. Ek ghante tak bath tub mein nahane ke baad hum nikale aur phir bath tub ka sara pani drain kar diya, uske baad humne shower ke neeche khade hokar ek doosre ko nehlaya. Towel se apne badan pochne ke baad maine Rashmi ko apni Bahon mein uthaya aur room mein bed par lakar lita diya. Rashmi ne kaha ki wo do cup chai banati hai. Milk, Tea aur shugar table par hi the to Rashmi ne 2 cup chai banayi. Hamne kapde nahin pehne the aur Rashmi ne pehle 1 cup mein chai daali aur meri god mein aa kar b th gayi. Hum done ek hi cup se eke k sip karke chai pee rahe the. Pehla cup khatam hone ke baad humne doosra cup bhi waise hi finish kiya aur bed par let gaye.

Rashmi ne mujhse kaha ki wo bahoot khuskismat hoti agar mein uski zindgi mein uska husband hota. Wo meri pyar karne ki katil adao ki deewani ho chuki thi aur mujse ek pal ke liye bhi alag nahin ho rahi thi. Uski baat sunkar mein bhi bahoot emotional ho gaya aur maine usko bola ki hum bhag chalet hai. Rashmi boli ki ab bahoot late ho chuki hai ab yeh possible nahin hai, waise bhi maine hamesha tuhmari rahoongi. Rashmi boli tum jab chaho mujse milne aa sakte ho mujhe hamesha tuhmara intezar rahega aur yeh pyar bhi kam nahin hoga.Iske baad maine Rashmi ko side chair par bethne ko kaha aur uske dono pairon ko utha kar alag alag chair ki arm support par rakh diya aur samne se jakar maine apne dono haatho ko jodkar uski gaand ke neeche le jakar uski gaand ko neeche se upar uthaya aur uski phaili hui pyari chikni naram gulabi chut ko chatna shuru kar diya. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Rashmi bhi apni gaand uttchaal uttchaal kar apni chut ke takkar mere muh par mar rahi thi aur kareeb 10 minute ke baad uski chut ka butter pighal kar bahr nikalne laga.Hum dono phir bed par let gaye aur Rashmi apni najuk ungliyon se mere lund ko aur meri goliyon ko bade pyar se sehla rahi thi. Main bhi Rashi ki choochiyon ko choos raha tha aur dost ki behan ki chut ko sehlate hue use dobara garam kar raha tha kyonki abhi tak mere lund ne to Rashmi ki chut ko salami nahin di thi. Mera lund bahoot tight tha aur jaise hi Rashmi thodi garam hui to maine apne lund ko tight mutthi mein pakada aur lund ke supare ko dost ki behan ki chut par ragadne laga.Jab Rashmi ne mere lund ko apni chut ke ander lene ke liye gaand uthani shuru ki to main eek dhakke se apna poora lund dost ki behan ki chut mein ghusa diya.Rashmi ke muh se cheekh nikal gayi aur uski pyari jheel si gehri aankhon se aansoo nikal pade kyonki lund kafi der se intezar kar raha tha aur bahoot tight, garam aur mota ho gaya tha. Maine dheere dheere dhakke marne shuru kiye aur betahasha Rashmi ke chere par kises kar rah tha. Thodi der ke baad jab mein apna lund nikalne laga to Rashmi ne poocha ki kya hua to mein bola ki mein jhadne wala hoon. Rashmi boli meri jaan meri chut mein hi apna pyar bhar do mein tumse bepanah pyar karti hoon aur mein tuhmare bacche ki Maa banana chahti hoon. Maine apne lund ke garam veery se dost ki behan ki chut ko bhar diya aur uski body par late kar relax karne laga, Phir hum dono ek doosre se chipak kar so gaye kyounki dono raat se jag rahe the aur bahoot tired bhi the.

Hum subah 11:00 baje soye the aur 02:00 baje dopahar ko apne mobile par lagaye alarm ki aawaj se hum uth gaye. Maine Rashmi ko bola ki mein lunch order kar deta hoon to wo boli ki mujhe to bhookh nahin hain maine to tuhmara lund khana hai. Rashmi boli pehle pyar karte hai phir lunch order karenege. Hum dono ne bathroom mein jakar face wash kiya aur room mein aa gaye.Maine Rashmi ko ulta bed par aadha kamar tak litaya aur uske paanv floor par the . Maine neeche se uske paanvo ko chumte hue uski neck tak gaya aur phir neck se neeche paanv tak aaya. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Aise kafi der tak kiya aur phir apne lund ko uski gaand ke saath satakar uske back ko choomne laga aur kabhi kabhi pyar se kaat bhi raha tha. Uski julfon ko neck se hata kar kiss karta aur uske ears par kaat leta. Rashmi mere pyar ko bahoot enjoy kar rahi thi. Phir mein Rashmi ki dono tango ke beech mein beth gaya aur uske paanv phaila kar uski chut ko chatne laga,Jab Rashmi ne chodne ke liye kaha to maine usse bed par seedha kiya, Mein floor par khada tha aur uski dono pairon ko apne haatho se pakad kar phailaya aur uski chud mein apna lund ghused diya. Mein bade pyar se apne lund ko uski chud mein ander bahar kar raha tha lekin uske pairon ko maine phailaya hua tha jiski wajah se uski tight chud kheench kar aur bhi tight ho gayi thi. Kuch der ke baad jad Rashmi jhadne wali thi to maine bhi jaldi jaldi jor jor se dhakke marne shuru kar diye aur tej tej ukhadti saanso ke saath hum ek doosre mein sama gaye.Rashmi ne apni chud tight kar lit hi aur aisa lag raha tha jaise uski chut ne mere lund ko uski garden se pakad rakha tha. Mere lund bhi uski chut mein aaram se jhadne ke baad thandi saansein le raha tha.Hum thodi der ke baad alag hue, Lunch mangvaya, Saath mein beth kar ek plate mein lunch enjoy kiya aur phir bed par rest karne lage. Hum phir se so gaye aur thodi der ke baad phone ki bell se utthe.Jija ji ka phone tha wo ek ghante ke baad aane wale the aur unki night ki 10:00 baje ki train thi.

Abhi sham ke  06:00 baje the hamne chai mangwayi aur chai ki chuskiyon ke saath baatein karne lage.Night ko hum sab milkar poore Baaratiyon aur Rashmi ko vida karne station par aaye. Jija ji ki mother abhi hospital mein thi isliye keval jija ji ke parents hi nahin gaye.Doston Rashmi ab 3 Bacchon ki Maa hai. Rashmi ki do betiyan aur ek ladka hai jisme uski badi beti meri Aulad hai. Aaj bhi hum jab milte hai to purani baate yaad karte hai, masti karte hai aur aaj bhi hum dono ek doosre se utna hi pyar karte hai. Meri story bahoot lambi ho gayi hai isliye short mein bolta hoon ki mein Rashmi ko kai 3-4 amhine mein ek baar zaroor milne jata hoon. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Maine uske bacche hone ke baad kai baar uska doodh bhi bahoot maze lekar piya aur uski gaand bhi kai bar maari hai. Wo meri kisi bhi baat ka bura nahin manati hai aur khud hi mujhe poori tarah se sex satisfaction dene ki koshish karti hai.friends.. kaisi lagi dost ki behan ke sath sex ki kahani .. ascha lage to share karo , agar kisine mere dost ki behan ki chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/ReshmaSharma

सेक्स कहानियाँ,Chudai kahani,sex kahaniya,maa ki chudai,behan ki chudai,bhabhi ki chudai,didi ki chudai

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter