Indian sex kahani - Lagatar 3 din taak cousin sister ko choda

Ye indian sex story meri cousin sister ke saath sex ki hai.aab me meri cousin sister ke bare me bata du pehle,uska naam Reshu hai aur uski age 22 hai.sister boobs 36 size ke hain aur uski gaand bhi 36 ki hai.meri reshu se bhut banti thi main aur wo daily msg se baat kiya karte the.wo or main apni har baat ek dusre se share karte the.ek bar uske family wale 3 din ke liye out of station jane wale the to usne mujhe msg kr ke bataya aur kaha ki bhai tumhari bhut yaad aa rahi hai,milne aa jao na..maine use kaha thik hai main kal subah tak aa jaunga aur main raat ki train pakad kar subah uske ghar pahunch gaya.

wo us time naha kar aayi thi aur kitchen me kuch kam kar rahi thi,maine jaa kar use peeche se pakad liya,wo mujhe dekh kar bhut khush huyi,aur mere gale lag gayi.phir wo mujhse woli bhai tum fresh ho jao main khana lagati hu,main jab bathroom me nahane gaya to waha par maine uski panty dekhi jo usne abhi utari thi nahane se pehle,jo ki uske choot ke pani se puri geeli thi,mera to land ek dum khada ho gaya.maine uski panty ko utha kar apne hotho se laga kar pura pani chus liya aur apne lund par uski panty ko lapet kar ragadta raha jab tak mere lund se pani nahi nikal gaya phir main naha kar aaya aur uske sath baith kar khana khaya,phir wo woli bhai tum thak gaye hoge thodi der rest kar lo.main room me jaa kar let gaya.phir wo thodi der bad kaam khatam kar ke aayi or mere pas aa kar baith gayi.usne us time night suit pehna tha,phir wo mere seene par sir rakh kar baith gayi,Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.maine use pakad kar apne barabar me leta liya aur uske baalon me hath pherta hua usse baat karne lga,phir achanak maine uske maathe par kiss kar liya usne kuch react nahi kiya,maine use kas ke pakad liya aur uski gardan par halke 2 apne honth ragadne laga use bhi but acha laga raha tha wo mere baalo me apni ungliyan ghumane lagi,phir main uske lips ko chusne laga wo bhi mera pura sath de rahi thi,aur main apne ek hath se uski ek choochi ko dabane laga aur wo bhut exicted hone lagi.phir maine uska top nikal diya aur uski dono choochiyo ko bra ke upar se dabane aur chusne laga,phir main uski bra b nikal di aur uski ek choochi ko muh me daal kar chusne laga,aur apne ek hath ko uske lower me daal kar uski choot tak le gay,aur main to pagal ho gaya usne andar panty nahi pehni thi,mera hath seedha uski choot se touch hua,main apne hath se uski choot ko sehlane laga.wo bilkul pagal ho rahi thi usne apne ek hath ko mere short me daal kar mere lund ko pakad liya or use hilane lagi.phir maine neeche baith kar uski lower bhi utar di aur apne bhi sare kapde utar diye.ab maine dheere se apne honto ko uski jaangho par ragda or uski choot tak apne honthon se ragadta raha.

aur phir maine uski choot ko apne hontho se pakad liya aur chusne laga wo pagal ho rahi thi aur mere sir ki jor se apni choot par daba rahi thi,maine uski choot ko khol kar uski choot ki ek phaank ko pakad liya aur chusne laga wo jor 2 se chilla rahi thi aur chuso bhai aur jor se chuso kha jao meri choot ko.main 20 min tak uski choot ki phankho ko chusta raha,uski chut bhut geeli ho rahi thi,wo jor se chillayi bhai ab chod do meri choot ko,phaad do ise,apna pura lund andar tak thok kar chodo.phir maine sister ki jaangho ko pura phaila diya aur uski choot ki phankho me apne lund ke tope ko ragadne laga,wo bus pagal huyi jaa rahi,maine uski kamr ko pakad kar ek jor ka dhakka mara aur mera lund uski seal ko todta hua adha andar chala gaya,wo jor se chillane lagi,pls nikal lo ise bhut dard ho raha hai,main uske upar aa kar uske nipple ko chusne laga,jab use kuch aaram hua to maine apna pura lund andar daal diya aur use dheere 2 chodne laga.use ab maza aane laga aur wo bhi apni kamar hilane lagi.main use jor jor se chodne laga aur wo bhi chillane haan bhai chodo aur jor se chodo phad do apni behan ki choot ko,Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.meri choot ko itna chodo ki iski sari khujli mit jaye .main use aise hi 15 min tak chodta raha wo jhadne wali thi aor main bhi.maine use pucha main jhadne wala hoon kahan nikalu,usne mujhe kas ke pakad liya aur main jor 2 se dhakke marte huye uski choot me jhadne laga aur wo bhi sath me jhad gayi.usne apni choot me kas ke mere lund ko jakad liya.phir main aise hi uske upar leta raha.uske bad hum bathrum me gaye,waha jaa kar maine use commod par baitha diya aur uski janghon ko pura phaila kar neeche baith gaya aur uski choot ki phankon ko apne honthon se pakad kar chusne laga,wo apni choot me do ungli daal kar andar bahar kar rahi thi aur chilla rahi thi,bhai chuste raho aise hi apni behan ki choot ko kha jao.phir maine ghutno par baith kar uski choot me apna lund daal diya,wo apni kamar ko jor jor se aage peeche karne lagi or keh rahi thi bhai chodo aur jor se chodo aaj mujhe randi ki tarah chodo,meri choot ka bhosda bana do chod chod kar,main use aise hi chodta raha,phir main commod par baith gaya aur wo mere upar aa kar apni choot par lund laga kar us par baith gayi aur jor jor se uchalne lagi,ab uska paani nikalne wala tha,usne kaha bhai main jhadne wali hu main uski choot ke neeche baith kar uski choot ko chusne laga aur jab uska pani nikla to maine sara paani pee liya.

uske bad maine use bathroom ke farsh par leta diya aur use chodne laga main jor jor se uski choot ko phad raha tha,wo keh rahi rhi bhai aisa maja mujhe kabhi nahi aaya,bus mujhe aise hi chodte raho,phad do meri choot ko,main b ab jhadne wala tha maine do teen jor ke dhakke lagaye aur uski choot me hi jhad gaya.usne mujhe kas ke pakad liya hum thodi der aise hi lete rahe.phir hum naha kar aaye aur aise hi nange ek dusre se chipak kar lete rahe.kaisi lagi meri cousin sister ki chudai story.. ascha lage to share karo .. agar kisine meri sister ki chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/ReshmaSharma

Bus me chudai ki ek sacchi kahani

Mere ghar me hum 5 log he me, papa, maa, bhai and meri bhabhi. Bhai ki shadi 2 sal pahle ho gai thi par abhi tak unhe koi bachcha nahi hua tha.Bhabhi or mere sambandh bare hi dostana the par mene kabhi unko esi najro se nahi dekha tha. Bhabhi ek dam fit or modern type ki thi or hum aapas me bahut mazak kar liya karte the par apni had me rah kar. Ek bar bhabhi ke ghar Jodhpur se phone aaya tha ki unke bhai ke ladka hua he to ek function rakha he to unko jodhpur function attand karne jana he or  bhaiya ko apne office ke kam se tour par jana tha to bhaiya ne kaha ki raja tu ja or bhabhi ke sath ja ke jodhpur

Me function attand kar ke aa jana or bhaiya tour par 15 days ke liye nikal ghye. Papa ne rat vali  bas me mera and bhabhi ki 2 seat book kara di me and bhabhi bus station ja kar Jodhpur vali bas pakar li din thandi ke the to hum dono seat pe ja kar beth gaye, thodi der me bas chal di or me or bhabhi bate karne lage 1 ganta bit gaya fir thodi der me bhabhi ko halki se nind aane lagi to bhabhi ne apna hath sear rest pe rakha jaha ki pahle se hi mera hath rakha hua tha, jese he unka hath Mere hath se touch hua muze kuchh ajib sa mahsus hua, mene ekdum apna hath hata diya par mere man me bure khayalo ne ghar kar diya tha. Thodi der me mene fir se apna hath armrest par rakha to bhabhi ka hata fir se mere touch hua, is bar mene bhi apna hath nahi hataya or bhabhi ne sleeveless blouse pahan rakha tha to unka pura hath mere hath se touch ho raha tha muze dhire dhire sex nasha hone laga to mene thoda sa apne hath ko aage pichhe kiya to bhi Bhabhi ne kuchh nahi kaha shayad unko nind aa gayi thi fir mene apna hath hilaya to unke pure makhmali hath muze aachhe lag rahe the thbhi bhabhi hili to muze laga ki kahi fas nahi jau to mene aankhe band kar di or hath vahi rahne diya to bhabhi hili or mere seat ki taraf halki se juk gaye jis se meri kohni halki se unke under arm ke niche lag rahi thi to muze or chhad gayi, mene apna hath halka se hilaya to mera hath sidha unke brest ko touch ho gaya me ek dum se dar Gaya Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad raahe hai. and apna hath halka sa khich liya, and thodi der bad vapas halka sa press kiya to vapas bhabhi ke boobs par touch hua, mere tan badan me sihran se utha gai, pahli bar kise javan orat ke boobs press kar raha tha, bhabhi ki abhi bhi aankhe band thi to meri himmat badhi and mene mera hath halka sa bhabhi ke boobs par rakh deya or halka sa press kiya, thbhi bhabhi hili mene apna hath hata diya tabhi bhabhi ne kaha raja aaj thand jyada he me shol layi hu jise apan oodh Lete he, bhabhi ne shol nikala and seat ke bich ka hatta uppar kar ke hum dono ne shol odh liya, aab me or bhabhi ke bich me armrest (hatta) bhi nahi tha hum dono chipak ke bethe the or shol odh rakhi thi thbhi bhabhi ko nind aa gayi or unhone apna sir mere kandhi par akh diya or so gai, mene apna hath ko fir se harkat di jese hi bhabhi ke makhmali boobs ko press kiya bhabhi halki hili or jyada mere karib aagayi or apna hath mere kandhe par rakh diya or so gai jis se bhabhi

Ke boobs ek dam ubhar gaye or me bhi thoda or bhabhi ke pas sarak gaya, aab bhabhi ki garam sanse muze mahsus ho rahi thi mene fir se apna hath bhabhi ke boobs par rakha or press karne laga to bhabhi ne hath se halke se muze daba diya to me samaj gaya ki bhabhi ka green signal he mene bhabhi ke kan me halke se kaha ki koi problem to nahi he to bhabhi ne halke se sir hila diya ki koi problem nahi he fir mene ke naram hothoko kiss kiya to bhabhi ne bhi Mera sath diya or apni jibh mere muh me dal di or hum desi kiss karne lage or mene bhabhi ke boobs ko halke halke massage kiya or dhire dhire blouse ke button khol diye aab bhabhi bra me thi ab bhabhi ko halke se upar utha he hook khol diye to bhabhi ke dono boobs uchhal ke bahar aa gaye unki nipple ek dum pink thi or sidhi khadi thi unhe halke halke massage kiya to bhabhi mooming karne lagi, Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad raahe hai.bas chal rahi thi va sabhi soye hue the to kise ko pata bhi nahe chala ab Mene bhabhi ke boobs ko juk ke apne muh me le liya or unko chusne laga, bhabhi sharma gaye or muze mana karne lagi to mene bhabhi ko bola hi bhabhi aab to mene dekh hi liya he to aab isme sharmana kesa aaj to inpar mera adhikar he aaj to me jam kar dudh piyunga jese he mene kaha bhabhi ne apne dono hath se mera sar pakad kar boobs par mera muh daba diya ab me bhi jor se chus raha tha, chuste chuste mene apna hath bhabhi ke per ki taraf badha diya or bhabhi Ka petticoat uppar karne laga jese hi petticoat gutne tak aaya bhabhi ne mera hath pakad liya, or mana karne lahi or boli ki muze sharam aati he to mene ek tarkib lagai ki mene apne pent ki jip khol di or apna 7 inches ka lund nikal ke bhabhi ke hath me pakda diya, bhabhi ise dekh kar dung rah gai or unke muh se nikal gaya itna bada to tumhare bhaiya ka bhi nahi he tabhi bhabhi ne juk ke ise muh me le liya or me to satve aasman pe pahunch gaya or jannat ki ser karne laga.Tabhi dhire se mene bhabhi ke pero ki taraf se petticoat uppar kar diya, bap re bapkya thays thi bhabhi ki ek dum gori gori or sudol us par bhabhi ki black painty kya sean tha mene ek hath bhabhi ki painty me dal ke unke dono ubharo ko malish kiya or kabhi kabhi bich ki rarrar me bhi hath dal deta to bhabhi sihar utathi or mere lund ko or tej se khane lagti mene tabhi bhabhi ki painty ko khinch to vo nahi khuli tabhi bhabhi ne halki se apne gand uppar uthai or mene unki

Painty khol di thabhi muze unki chut he deedar huye o my! Kya chut thi us par chote chote bal uge huye the jese hi mene chut par hath gumaya bhabhi uchhal gayi or mere lund ko chhod diya mene bhabhi ko kaha ki apne thais ko choda kar de or unhone kar de or me unhe thais ke bich me unki god me so gaya or unke chut ka swad lene laga unko bhi maza aane laga tha or me regularly chat raha tha or bhabhi ne apne dono hath mere mathe pe rakh me or chut par or Pressure de diya jis se mera kam or aasan ho gaya or me puri chut ko maze se leak kar raha tha or bhabhi ne ek hath se mere lund ko pakad liya or jor jor se use masalne lagi to mera josh bhi badh gaya ,Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad raahe hai.abb bhabhi se bhi nahi raha ja raha tha and unhone mere kan me kaha hi me aapki god me beith jati hun. to me seat par beth gaya or bhabhi meri god me beth gai jis se mere lund sidhi uski chut ke muh pa lag gaya aab ek dum se bas ka pahiya ek gadde me gaya jisse hor ka Dhakka laga or mera lund sidha bhabhi ki chut me gus gaya or bhabhi uppar niche hone lagi thodi der me bhabhi jad gaye or fir mene bhi apna sara mal bhabhi ke under me hi nikal diya or fir hum dono alag ho gaye or bhabhi ne mere galo pe ek pyara sa kiss kar diya or hum so gaye ab aage ki kahani bad me. kaisi lagi meri chudai kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri pyasi bhabhi ki chudai karna chate ho to add karo Facebook.com/karunaKumari

Bua ko choda jee bhar ke

Ye chudai kahani mere bua ke sath chudai ki hai.ab main apko apni bua ke bare me batata hun meri bua 40 years ki hain unki shadi ko 12 sal ho gaye hain or unka 1 10 sal ka bacha bhi hai unka figure 32 26 34 hai height 5'4" wheatish color black hair and very beautiful wo jyadatar sari pehnti hai ye ghatna garmi k may mahine ki hai jab mere mummy-papa mere mama ki beti ki shadi me Chennai gaye the wo mujhe jane se pehle Bua k ghar chod k gaye or unhe mera khayal rakhne ko kaha bua khush ho gayin, bua ko main bahut pasand tha kyun k bua mujhse apni sari problems share karti or main unki sabhi batein dhyan se sunta main unke ghar rat 10 baje mummy-papa ko see-off karke pahuncha or driver se kaha gadi yahin park kar door chabi leke andar chala gaya aj wahan keval bua or rakshit bua ka beta the.

Main: bua fufaji kahan hain?

Bua: beta business tour pe gaye hain.

Main: chalo fir to acha hua main a gaya ab apko bhi akele dar nahi lagega.

Bua: hummm

Bua: mummy-papa ko ache se chod aya?

Main: han bua

Bua: kab wapis ayenge wo log?

Main: 4 din bad.

Bua: tune kuch khaya hai k nahin?

Main: kha hai bua, maine dinner kar liya.

Bua: pakka kuch khana hai to bol de

Main: casually nahi bua kuch nahin khana ab please mat puchna doodh wagarah chaiye kya kuch nahin chahiye mujhe fir hum logone thodi der tv dekhi thodi idhar udhar ki batein ki or fir rakshit ko neend a rahi thi to bua ne rakshit ko bed pe sula diya fir kamre ka gate band kar k bua boli
Bua: chal dusre kamre me aja main iron kar leti hun or wahin bat kar lenge
Main: thik hai chalo Bua jaise hi press karne baithin to unka pallu sarak gaya or mujhe unka clevage dikha wah kya nazara tha mera to yahi dekh k lund khada ho gaya. Bua k boobs bahut bade nhi the per bahut hi ache the bua press karte karte mujse boli Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.
Bua: tuje bura lag raha hoga n k summer camp ki wajah se tu nahi ja paya macha lagta hai.

Bua: koi bat nahi mera gal sehlate hue boli] koi bat nahi ab 2 mahine bad sumit ki shadi hai usme masti kar lena sari kasar nikal lena

Main: smile pass kar diain han bua mujhe to sab se milna or gharwalon k sath masti karna bahut

Bua: maine tere jijaji ki photo dekhi bahut sunder hain jodi achi hai.

Main: han bat karne me bhi polite hain or amir bhi hain bilkul apne standard k main bua k pass gaya or unhe gale laga k chup karane laga mujhe pata hai k bua apni married life se khush nahi hain or kitni bar dadi ji ko divorce k liye bolti rehti hain per meri dadi nahi mati fufaji bahut rich family ko belong karte hain kamate wagarah ache Hain polite bhi hain per  sharabi hain or roz pi k ghar ate hain pi k 1 bar to unhone bua per hath bhi uthaya tha bua ne bhi mujhe kas k pakad liya or jor rone lagi. main bua ko chup kara raha tha per sath hi sath unko gale lagane per body me current bhi daud raha tha. ab mujhse control nahi ho raha tha, maine bua ka face upar uthaya or unke asun ponche.

Main: bua aise admi k liye ro k kya faida jiki nazar me apki koi kimat nahi bua abhi bhi ro rahi thi

Bua: tujhe nahi pata sunny kitna bura lagta hai jab kisi ka pati us per bilkul dhyan nahi deta. tu bacha hai tu nahi samjhega.

Main: bua main samjhta hun apko kya chahiye ye keh k maine bua ko kiss karne ki koshish ki bua ne mujhe dur kiya or chila k kaha

Bua: kya badtamizi hai ye

Main: bua ye badtamizi nahi apki khushi hai jo fufaji apko nahi dete.

Bua: tu pagal ho gaya hai ye bol k bua palti or bedroom ki taraf jane lagi maine bua ki kamar piche se pakad li or kaha

Main: bua har khushi per sabka barabar haq hota hai agar fufaji apko ye khushi nahi dete to iska matlab ye nahi k aap is khushi ki haqdar nahi apko bhi sex ka pura haq hai bua meri taraf palti or chaunk k dekhi maine pehli bar unke samne sex jaisa shabd use kiya tha fir maine bua ka face pakda or unki ankh me jhank k kaha
Main: bua mera isme kya swarth aap to meri girlfriends k bare me sab janti hain n unme se kisi k sath bhi main sex kar sakta hun mujhe apke sath samjo bat ko ye apki khushi k liye hai samjho Bua: ye galat hai Sunny ye galat hai main bua ki bat bina sune unke hoton pe apne honth rakh diye or kiss karne laga pehle bua thoda hichkicha rhai thi per dhire dhire mera sath dene lagi ab hum dono 1 dusre k honth chus rahe the dono waise hi kiss karte karte bagal k room me chale gaye or maine bua ko bed pe gira diya dusre room me usme nahi jisme rakshit so raha tha maine meri t-shirt nikali or jeans utari or side me Main bua k upar chadha or 1 bar fir se hum kiss karne lage main kiss karte karte bua ka right boobs dabane laga ahaha maza a gaya kya soft assets hain bua ki, fir maine bua ka blouse utara bua ne black bra pehni hui thi bua ki boobs ko kiss karta hua main niche jane laga or fir maine bua ki puri body ko kiss kiya wapas upar ate hue maine bua ke petticoat ka nada khola or use dhire dhire niche sarka diya fir maine bua ki chadi ke upar se hi unki choot pe hath ferna shuru kar diya bua dhire dhire awazein karne lagi bua ne mera hath pakda or mujhe apni taraf khincha or main fir se apna face bua k face k pass le gay or hum fir lip kiss karne lage is bar to bahut hi passionate kiss ki aisa lag raha tha mano meri jibh unki jibh se lad rahi ho. 5 minute tak yuhin kiss karne k bad main bua k boobs ki taraf dhyan dene laga pehle to maine unhe bra k upar se khoob dabaya or fir 1 side se bra ko thoda hata diya unke nipples brown color K the Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.ab main unke nipples chus raha tha or mujhe bahut maza a raha tha mera lund to mano jaise meri chadi fad k bahar ana chahta ho main ab jangliyon ki tarah unke boobs chus raha tha or bich bich me kat bhi raha tha meri bua dhire dhire awazein kar rahi thi ahhhhh humm uff humm ye awazein mujhe or pagal bana rahi thi, fir bua ne khud hi apni bra nikal di or mere muh ko apne boobs me jor se dabane lagi 10 minutes tak unke boobs dabane or chusne k bad main niche unki choot ki taraf gaya or unki panty utarne laga. unhone mera hath pakad liya or kaha

Bua: nahi ye galat hai.

Main: kya galat hai bua

Bua: main tere sath ye sab nahi kar sakti.

Main: bua humne itna kuch to kar liya hai ab apko kya achanak ye sab galat lagne laga

Bua: nahi sunny bus nahi

Main: bua khoon karo ya khoon ki koshish saza to 1 hi milti hai agar ye sab galat nahi tha to sex kyun galat hai ab mat roko bua mujhe bua mana karne lagi or mujhe laga k jaldi kuch n kiya to ye mauka to gaya hath se maine turant bua k boobs pakde or unhe zor se dabane laga main fir se bua k upar chadh gaya or ab unhe lip kiss kar raha tha. jab bua ka dhyan kiss me tha maine mauka pa k bua ki panty ghiska di per bua ne
Mera hath fir pakad liya per is bar main bua ki 1 nahi chalne dene wala tha or thodi si mushakat k bad maine bua ki panty utar di wah kya nazara tha bua ki balon se bhari chut thik mere samne thi or main use dekh k pagal hua ja raha tha maine apni bich wali ungli bua ki choot me dal di or andar bahar karne laga bua ki choot bahut gili ho Chuki thi bua siskiyan bharne lagi ah ah ah um ah maine bua ki choot sunghi bhi kya khusbu thi kasam se gulab bhi aisa madhosh nahi kar sakta jaisi unki choot ki khusbu ne madhosh kar diya tha. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.fir maine meri chadi utari or akhir kar mera 6" ka lund azad ho gaya or shikar ko betab tha main bua k upar a gaya or apne lund ko unki chut per ragadne laga.

Bua: nahi sunny mat kar.

Main: bua ab mat roko mujhe aj ji bhar k chodne do.

Bua: bahut drad hoga

Main: ha ha bua aap to aise keh rahe ho jaise pehli bar chud rahe ho or main hsne laga maine phir bua k hothon per apne hothn rakh diye or unhe kiss karne laga 2-4 kiss k bad unke honth chate hue maine 1 zordar jhatka lagya or mera adha lund andar chala gaya bua chikh uthi ahh

Main: bua dhire rakshit uth jayega yar aap to sach me aise kar rahe ho jaise pehli bar chud rahe ho.

Bua: sunny dard ho raha hai bahar nikal.

Main: kuch nahi hoga apko shant raho abhi to maza shuru bhi nahin hua thodi der waise hi position me raha or fir bua k normal ho jane per dhire dhire dhakk lagane laga kuch 1 minute bad maine 1 or zor ka dhakka mara or mera pura lund ab bua ki chut me tha bua 1 dam se hil gayi or unhone meri pith per nakhun gada diye fir main bua ko dhake lagane laga pehle dhire dhir or fir unki raftar badhata gaya bua bhi ab Sex ka maza le rahi thi or siskiyan bhar rahi thi uf uff uum  ah pura kamra thap thap ki awaz se bhar gaya tha thap thap thap main occasionally bua k boobs bhi dabata or unhe kiss bhi karta bua ki right hand ko maine tight pakda hua tha karib 10 minute aise hi chodne k bad bua zor se chilai ahhhh hunnn or lambi sanse lete hue bed pe shant hoke gir gayi. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Main samjh gaya bua chut chuki hai main bhi thodi der waise hi raha bua ne mujhe 1 deep lip kiss kiya maine fir dhakke lagane shuru kar diye bua ne apne dono per meri kamar se lapet diye main bhi ab jhadne wala tha to maine apne dhakke or tez kar diye or tez or 2 minute bad main bhi chut gaya. maine bahut zor se apna lund akhri dhake me bua ki chut me dala or kafi der tak waise hi dale rakha humne fir 1 dusre ko kiss Kiya or main bua k upar hat gaya sach keh raha hun us din to main itna chuta jitna k main muth marne me to kabhi nahi chuta bua ki chut se mera sperm bahar tapak raha tha per hum dono iss bat ki chinta kiye bina 1 dusre se chipak k so gaye.. kaisi lagi bua ko chodne ki kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri bua ki chut me lund daala na chahte ho to add karo Facebook.com/AakritiSharma

Baithe baithe mast chudai bus me

Khubsurat Moti gaand or mast lund kabhi zyaada der tak alag nahi reh sakte. Esa hi kuch hua mere saath bus se ek baar safar karte hue.jo mujhe nahi jaante unhe bata du apne bare me ki me 19 saal ki delhi ki rehenewali college student hu. Mera figure 35b 27 37hai height-173 cm weight-62 kg. Kaali aankhein kaale baal.Badi badi aankhein sundar si naak jo ki mera best feature hai or patle but cute lips complexion very fair and spotless deri k liye maafi chahti hu. So baat tab ki hai jab me first year me thi or chuttiyan khatm hone par ghar se hostel dukhi mann se wapas jaa rahi thi.Mere family mujhe drop karne bus stand tak aayi thi. Papa mere liye seat book karwa rahe they volvo me or me mummy or didi se baatein kar rahi thi.  Me, mumma aapki yaad aaegi Mumma oh mera baccha.

Do din or ruk jaati bade din bad to aayi thi. Didi-ohho madam sara time yahi ruk jaaogi to padhai kaun karega. Me-haa didi aap to mujhe pyaar karti nahi bas jaldi se bhagana chahti ho taki mom ka sara affection tumhe hi mile. Didi-hmm yahi baat hai. Me tujhse pyaar nahi karti mere pyari gudiya or unhone mere gaal pakad kar chutki kaati. Mom-sweety mat kar use lag rahi hogi.Me-ouccch didi bas I know tum mujhe bahut pyaar karti ho and i love you too. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Dad-lo beta tumhara ticket ab jaldi karo bus jaane wali hai and give me a pyaari si jhappi. To isi khushi k mahaul me bus me chadhi or apni seat par jaakar baith gayi joki last seat thi.sari bus full thi par last ki seat par kuch gira tha jisse wo gandi ho gayi thi par waha do log baith sakte they. Mujhe jaate hue accha nahi lag raha tha or me dukhi hokar muh latkaye phone par gaane sunne lagi.Mene loose black top or white skin tight jeans peheni thi and baal halke curls me khule hue they. Karib 10 minutes bad bus ek jagah ruki or koi 50 saal ki age k ek uncle bus me chade. Unhone idhar udhar dekha or mujhe dekhte hi mere taraf aane lage. Mene ek dum se aankhein fer li ki wo kahi or baith jaaye. Par wo meri side me aakar baith gaye. Uncle-hello young lady aap kaha tak jaa rahi hain. Me-hi. Delhi Uncle-im atul.nice to meet you. Me-im ishika.pleased to meet you too.Uncle-mene aapko disturb to nahi kia ishika? Me-oh no it’s fine wese bhi me bore hi ho rahi thi. Uncle-tum to kafi bright lag rahi ho dikne me. Lagta nahi ki bore ho let me guess? Student!wapas jaa rah ho hostel Me-are!aapko kese pata. Uncle-well tum young ho student k alawa kuch or nahi ho sakti and tumhara clean bhari bag dekhkar laga ki tum wapas jaa rahi ho. Me-wow im impressed uncle ne aankh maari mazak me or kaha kya sach me.Me sharma gayi and kaha ki haan ek tarike se. Uncle kafi jolly nature k they or thodi hi der me meri maayushi ki jagah interest ne le li uncle k sath baat karte hue kafi comfortable lag raha tha koi bhi topic ho wo bade maze se uske bare me baat kar rahe they. Mene notice kiya ki uncle choti height k they or unke sar k upar baal nahi they par fir bhi unka face kaafi sexy tha or wo bhi handsome they. Shayad uncle ko pata chal gaya ki me unhe notice kar rahi thi Uncle-aap kahi kho gayi ishika?

Me-nahi.kuch nahi u look nice. Uncle-oh shukriya mohtarma aap bhi kisi pari se kam nahi. Uncle-mazaak to nahi kar rahi na? Me-nahi sach me uncle-kaafi maintain kiya hai mene.tum gym jaati ho? Me-kabhi kabhi Uncle-tum bhi kaafi shape me ho Kuch time k liye me bhool hi gayi ki wo mujhse karib 30 saal bade hain Me- thank you.par aapko kya lagta hai me or acchi kese dikh sakti hu. Uncle-mmmm. Mujhe kuch exercise pata hai par leave it tumhe accha nahi lagega.Me-please mujhe bura nahi lagne wala im sure. Uncle-kyun? Me-me bahut frank hu. Uncle-ok ummm tum driver k paas tak mujhe chalkar dikhao. Me-kya?par kyun? Uncle-come on mujhe dekhna hai tumhara figure kesa hai. Mere chehre par ek shaitani smile aa gayi and ek eyebrow upar karte hue kaha oooh Uncle-arey tabhi to bata paunga kaun si exercise karni hai. Me uthi or uncle ki taraf gaand karte karke nikalne lagi nikalte time meri badi gaand unke pant par ragad gayi.Shayad unhone jaan bujhkar kiya tha me excited thi or apni gaand normal se zyaada matkaate hue driver k paas jaakar pucha ki lunch k liye kab rukenge driver-abhi to bot time hai g tussi aram naal so jaao jado pahuchange khabr kar denge Me-aaho g thank you. Uncle ki taraf aate time apni breast ko fula kar chalne lagi. Mere saans tez thi kyuki sab log mujhe hi dekh rahe they. Uncle k paas aakar me chup chap baith gayi apni window seat par pehle ki tarah jab me uncle ki taraf gaand kar k nikal rahi thi to is baar unhone seat par adjust hone k bahane mere chutad k beecho beech ek zordaar jhatka maar diya apne lund se Me-ouuucchh Uncle-oh sorry. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Me-it’s ok uncle- show k liye thank you.mene acche se dekha or ab me bata sakta hu ki tumhe kaun si exercise karni chahiye.  Me-accha thank you.bataiye. Uncle-ese nahi or unhone ek paper or pen nikala or dhire se kaha. Uncle-tum bahut sundar or sexy figure wali ladki ho par Tab unhone us page par nangi ladki ki photo banai ek aage ki or ek piche ki. Me aankhein faadkar uncle ki or dekh rahi thi Uncle-to ishika arey picture ki taraf dhyaan do. Me-par, Uncle-don’t ask any questions agar tum chahti ho ki me tumhari help naa karu to thik hai batao Me-arey nahi its fine plese do help. Uncle ne fir picture k upar mera naam likha or kaha ye tum ho or unhone picture k lips boobs,gaand or kamar par gole bana diye. Me-ye kya hai. Uncle-ye areas hai jaha tum improve kar sakti ho. Me bade dhyaan se sun rahi thi tabhi uncle ne idhar udhar dekaha or laga ki hume koi nahi dekh raha hai to unhone jhat se apni zip kholi or apna lund baahar nikaal liya.  Mera muh pura khula ka khula reh gaya or me unke mote or jhurriowale aadhe khade lund ko ghoor rahi thi. Uncle-dekh kya rahi ho tumhari pehli exercise hai tumhare patle lips ko mota banana.

Me-kya?aap pagal ho gaye ho. I was shocked. Uncle-dekh ishika me teri help hi to kar raha hu aaja choos le mera lund. Me- ye kis type ki help hai. Uncle- come on sweetheart. Me jaanta hu u like me meri kuch samajh me nahi aa raha tha lund dekh kar muh me to paani aa raha tha par ye galat lag raha tha. Uncle ne tabhi mere lips par halke se smooch de diya bas us smooch k bad to me unki deewani ho gayi. Tabhi uncle ne mujhe baalo se halka sa pakda or dono haatho se dhire dhire peessure badhate hue apne lund par mera muh jhuka diya.Mene bh apna muh khol liya taki us mote laude k maze le saku. Mene apne hothon ko dabakar uncle k lund ke supade ko choosne lagi uncle mere sir ko dqba rahe they. Me apna sir upar niche kar rahi thi uncle k supade par. Jab tak unka lund khada nahi hua tab tak to thik tha jese hi mere choosne ki wajah se unka lund bada hua mera pura muh unke lund se bhar gaya or mujhe laga ki mere muh me garma garm cake ho jise me chaba nahi sakti.Uncle halke halke aawaaz nikaal rahe the mene apni jeans ka button khola or niche khiska diya uncle ne meri black panty ko kafi dikkat ke bad mere gore gore chutado k beech se kheechkar niche jhaanghon tak sarkaaya uncle mere choot ko ungliyon se sehla rahe they or me kutiya ki tarah jhukkar lund choosne lagi thi. Uncle meri choot se khel rahe they mujhe bahut mazaa aa raha tha unki moti moti mardaana ungliyan Mere gand k darar me khalbali macha rahi thi tabhi ek dum se uncle ne ek ungli meri choot me ghusa di or gol gol ghumane lage. Masti me aakar apne saare tariko se unka lund choosa.uncle ko mene ishare se bataya ko zor zor se karo meri choot tapakne wali hai. Uncle hasne lagi or zor zor se meri choot me ungli karne lage or jhuk kar mere sare chutad par apni jeebh se chaatkar thuk lagane lage.Mera climax hone wala tha or me upar uth kar halke se moan karne lagi jispar uncle ne mujhe chup rehene ko kaha. Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Uncle ne mera hath apne lund par rakha or khud hi mere hath pakad kar muth marwa ne lage. Udhar mera paani nikal gaya rha or me bahut khush thi mene uncle k lips par kiss kiya. Uncle-bahen chod saali pakade jaate abhi dhire dhire moan kiya kar. Me-sorry or me unhe choomne lagi Uncle-randi saali mera lund kaun choosega or me unke khade hue mote lund par zoz se muh chalaane lagi jab Uncle ka nikalne wala tha to unhone ek hath se mere baal pakad kar mere mooh ko apne lund par upar niche dhakelne lage or ek hath mere chutad par ghumane lage.Jese hi unka lund nikalne laga unhone mera muh or niche daba diya or meri gardan tight pakadkar or bahut tez or halke jhatke maarne lage apni kamar hilakar or meri gaand ke chhed me usi time apna angutha daal diya.  Mujhe halka sa dard hua.uncle ne mere muh me hi pichkari maar di jise mujhe pina pada. Pata nahi kitne saalo se uncle ne apne tatto me itna muth jama kiya tha. Kuch muth meri naak se bahar tapakne laga jise dekhkar uncle ki hasi chut padi. Mene jaldi se unki shirt se naak saaf ki or sidhi hokar kapde thik kiye. kaisi lagi meri sex kahaniya.. ascha lage to share karo .. agar kisine meri ras bhari chut me lund daalna chahte ho to add karo Facebook.com/PriyaSharma

पड़ोसन दीदी को चोद चोद कर औरत बना दिया

यह चुदाई कहानी एक सच्ची कहानी है और मेरी अपनी है। यह आज से 6 माह पहले की घटना है.. जब मैंने पटना कॉलेज में दाखिला लिया था और में इससे पहले दिल्ली में रहता था और जून या जुलाई में मेरा दाखिला पटना कॉलेज में हो गया था।में छपरा का रहने वाला हूँ और मैंने दाखिले के बाद पटना में ही यहीं पर रूम लिया और में जहाँ पर रहता हूँ वहीं पर सभी अपनी अपनी फेमिली के साथ रहते है और उसमे में ही एक सिंगल लड़का हूँ जो कि एक सिंगल रूम वाला फ्लेट लेकर रह रहा हूँ। मेरा फ्लेट पहली मंजिल पर है और उस मंजिल पर दो और फ्लेट है जिसमे दो फेमिली रहती है.. एक जिनकी अभी नई नई शादी हुई..

मतलब नया शादीशुदा जोड़ा और एक अंकल आंटी है जिनकी एक ही बेटी है जिसका नाम प्रिया है। वो एक मस्त माल है.. उसका फिगर 30-28-32 का होगा। वो इतनी मस्त है कि उसे देखने के बाद मुझे मुठ मारनी पड़ती है और उसे मैंने पहली बार अपने मकान की छत पर घूमते हुए देखा था.. जहाँ पर उसने एक पतली सी टॉप एक लोवर पहन रखा था। में तो उसके बूब्स का दीवाना हो गया था और मैंने मन ही मन यह सोच लिया था कि इसे मुझे कैसे भी करके इसे चोदना है।में बातें बहुत करता हूँ और मेरी इसी अदात के कारण प्रिया के पापा से बहुत बनती थी और में उनका छोटा मोटा काम कर दिया करता था.. क्योंकि उनके घर में कोई लड़का नहीं था। एक बार प्रिया छत पर घूम रही थी तो में भी छत पर चला गया और जैसे ही मैंने उसे देखा तो मेरा लंड खड़ा होने लगा और में उसे देखकर मुस्कुरा दिया तो उसने भी मुस्कुरा कर जवाब दिया। तभी में समझ गया कि हंसी तो फंसी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने आगे बात बड़ाकर उससे उसका नाम पूछा। तभी उसने बताया कि मेरा नाम प्रिया है। वो भी मंद मंद मुस्कुरा रही थी और मैंने लोवर पहन रखा था इसलिए मेरा तना हुआ लंड उसे साफ साफ दिख रहा था और में अपने लंड को दीवार से रग़ड़ रहा था और वो अपनी नजरे झुकाए शरमा कर मुस्कुरा रही थी और फिर इसी तरह हम छत पर हर रोज मिलने लगे। तभी मैंने एक दिन उससे उसका मोबाईल नंबर माँगा तो उसने मुझे अपना मोबाईल नंबर दे दिया। फिर हम रोज जब भी मौका मिलता फोन पर घंटो बातें करने लगे। फिर एक दिन मैंने उसे एक फिल्म देखने के लिए कहा लेकिन वो मना करने लगी शायद वो अपने घर वालो के डर से मना कर रही थी और मेरे बहुत समझाने पर वो थोड़ी देर बाद मान गई। फिर वो मेरे साथ फिल्म देखने के लिए सिनेमा हॉल गई। मैंने साइड की दो टिकट ली और हम लोग फिल्म देखने चले गये। फिर फिल्म चल रही थी और पूरे हॉल में अंधेरा था और एक बार एक चुंबन का सीन आया तो मेरी हालत बहुत खराब हो रही थी और प्रिया भी अपनी चूत को जीन्स के ऊपर से ही घिस रही थी। मुझे ये देखकर नहीं रहा गया और मैंने भी अपना लंड सहलाना शुरू किया।

फिर फिल्म में एक और सीन आया जिसमे लड़के ने लड़की को बेड पर लेटा दिया और उसके टॉप को उतार रहा था। तभी में अपने आप को रोक नहीं पाया और मैंने प्रिया का हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया.. लेकिन वो घबरा गई और उसने अपना हाथ हटा लिया। फिर भी में अपने लंड को अपने हाथ से रगड़ता रहा और इंटरवेल हो गया। तभी मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने सिनेमा हॉल के बाथरूम में जाकर मुठ मार ली। फिर हम लोगो ने फिल्म देखी और फिल्म खत्म होने के बाद हम घर की और चल दिए.. लेकिन रास्ते में उसने मुझसे बात नहीं की। फिर शाम को हम छत पर फिर से मिले तो मैंने उससे पूछा कि तुमने मुझसे आते समय बात क्यों नहीं की? तो उसने कहा कि तुम हॉल में तो खुद पर कंट्रोल कर लेते और इतना कहकर वापस नीचे चली गई। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसने मेरे फोन करने पर भी कोई संतुष्ट जवाब नहीं दिया ना ही ठीक से बात की।तभी अगले दिन प्रिया के पापा मेरे पास आए और मुझसे बोले कि बेटा हम एक दिन के लिए कुछ काम से बाहर जा रहे है तो क्या तुम प्रिया का ख़याल रख लोगे? और उसे किसी भी चीज़ की ज़रूरत होगी तो ला देना। फिर मैंने कहा कि अंकल आप टेंशन मत लो.. में उसके सब कर लूँगा और फिर दिन में उनकी ट्रेन थी और उन्हे रेलवे स्टेशन छोड़ने में और प्रिया भी गये थे और हम उन्हे रेलवे स्टेशन छोड़कर घर पर वापस आ गये और मैंने घर पर पहुंच कर प्रिया से कहा कि किसी भी चीज़ की दिक्कत हो तो मुझे कॉल करना और इसी तरह शाम हो गई और मैंने प्रिया को फोन किया और कहा कि में खाना होटेल से लाकर दे देता हूँ.. तुम खाना मत बनाना। शाम को 7 बजे में ख़ाना पेक करवा कर उसके घर गया उसने दरवाजा खोला तभी में उस देखकर दंग रह गया।वो आज कुछ ज़्यादा ही हॉट और सेक्सी लग रही थी और उसे इस तरह से देखकर मेरा लंड खड़ा होने लगा.. उसका लोवर बहुत ही छोटा था जिससे उसकी जाँघ दिख रही थी। में तो पागल हो रहा था। फिर हमने साथ में खाना खाया और फिर उसने कहा कि उसे घर में अकेले डर लग रहा है इसलिए में आज उसी के यहाँ पर रुक जाऊँ।

तभी मैंने कहा कि में चेंज करके आता हूँ और मैंने एक हॉलीवुड सेक्सी फिल्म की डीवीडी ले ली और उसके घर गया और हम लोग फिल्म देखने लगे और में बेड पर लेटकर फिल्म देख रहा था और धीरे धीरे मेरा लंड गरम हो गया और साथ साथ वो भी गरम हो गई और वो अपनी चूत को सहलाने लगी। तभी मैंने उसे अपनी बाहों में भर लिया.. लेकिन पहले तो उसने विरोध किया फिर मेरे कहने पर वो भी मेरा साथ देने लगी और में उसे गोद में उठाकर बेडरूम में ले गया और मैंने दीदी को बेड पर पटक कर उसके कपड़े उतार दिए और में उसके काले कलर की ब्रा में सफेद कलर के बूब्स को देखकर पागल हो गया और ब्रा के ऊपर से ही बूब्स पर टूट पड़ा और में उसके बूब्स को दबाने और चूसने लगा। वो भी आँहे भरने लगी ऊऊऊऊऊऊ अह्ह्ह्हह और कहने लगी कि और ज़ोर से दबाओ खा जाओ मेरे बूब्स को और में पागल की तरह बूब्स को चूस रहा था।तभी मैंने ब्रा को बूब्स के ऊपर से हटा दिया.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकिन खोला नहीं क्योंकि मुझे लड़की कुछ कपड़ो में अच्छी लगती है। फिर मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया वो बहुत गीली थी। तभी मैंने उसका लोवर उतार दिया लेकिन उसने पेंटी नहीं पहन रखी थी। में तो चूत देखकर उसकी चूत का दीवाना हो गया क्योंकि मैंने आज तक कुवारीं लड़की की चूत नहीं देखी थी। तभी मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में लगा दी और चूसने लगा। वो जोर जोर से चिल्लाने लगी वो पागल हो रही थी और सिसकियाँ ले रही थी आआआअहह में मर जाऊंगी आआआहह आज चोद दो मुझे लड़की से अपनी रंडी बना दो। मैंने लगभग 15 मिनट तक उसकी चूत चूसने के बाद अपनी पेंट उतारी और अपना लंड दिखाया तो वो देखते के साथ ही उसे मुहं में लेकर चूसने लगी और 10 मिनट तक चूसती रही।मैंने अब अपना लंड उसकी चूत पर रखा और एक जोरदार धक्का लगाया तो मेरा लंड चूत में 1 इंच अंदर चला गया और वो चीखने लगी.. लेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी और उसकी चूत में लगातार जोर जोर के धक्का लगाता रहा और फिर 3-4 शॉट के बाद मेरा आधा लंड उसकी चूत के अंदर था और वो दर्द से रो रही थी और कह रही थी कि प्लीज छोड़ दो मुझे और उसके बेड पर उसकी चूत से खून निकल कर गिर रहा था। फिर में उसका दर्द कम करने के लिए उसके बूब्स चूसने लगा। 10 मिनट बाद उसका दर्द कम हुआ। फिर मैंने दोबारा से धक्के लगाने शुरू किए में उसे सीधे लेटा कर चोद रहा था और 20 मिनट की जोरदार चुदाई में वो 2-3 बार झड़ गयी थी और अब मेरे झड़ने की बारी थी।

तभी मैंने उससे कहा कि में झड़ने वाला हूँ। तो उसने कहा कि प्लीज अंदर ही डालकर मेरी चूत की गर्मी को शांत कर दो। फिर जोर जोर के धक्को के साथ ही उसकी चूत में झड़ गया और 10 मिनट तक उसके ऊपर ही लेटा रहा। फिर हम दोनों उठकर बाथरूम गये और उसने मेरा लंड चाट चाटकर साफ किया और अपनी चूत को भी धोकर साफ किया। मेरा लंड फिर से तनकर खड़ा था उसकी चुदाई करने के लिए और मैंने उसकी चूत को फिर से चोदा। उस रात हमने 3 बार चुदाई की और वो एक लड़की से एक औरत बन गई थी। फिर अगले दिन सुबह हम 11 बजे उठे और उसके पापा मम्मी शाम को आने वाले थे तो हम लोग एक साथ नहाए फिर हमने एक बार फिर चुदाई की और आज भी हमे जब मौका मिलता है हम चुदाई करते है ।कैसी लगी पड़ोसन दीदी की चुदाई कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी दीदी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SeemaSharma

कजिन बहिण के साथ चुदाई की दिवाली

ये चुदाई की कहानी आज से 5 महीने पहले की है जब में अपनी बुआ के घर पर पूजा में गया था। वहाँ पर मेरी मामा की लड़की यानी मेरी कज़िन आई थी। वो पहले तो मेरे से ढंग से बात भी नहीं करती थी.. लेकिन उस दिन वो मुझे देखकर बहुत खुश हो गयी और मुझसे बहुत चिपकने लगी। में गाड़ी से कहीं पर भी जाता तो वो मेरे साथ बैठ जाती और मुझसे एकदम चिपक कर बैठती थी। ऐसे दिनभर चलता रहा और रात हो गयी।फिर रात में जब सब अपने अपने सोने के लिए जगह ढूंड रहे थे तो मैंने पलंग पर सोने के लिये बुआ से बोला तो उन्होंने हाँ कर दी.. लेकिन वो भी उस पलंग पर मेरी जगह पर सोने के लिए बोलने लगी।

तभी मैंने उससे कहा कि में सोऊंगा और वो मुझसे लड़ने लगी और ज़िद करने लगी.. लेकिन में नहीं माना उसी टाईम पता चला कि बुआ के कोई रिश्तेदार आने वाले है तो उससे बुआ ने बोला कि तू जागना उन्हे खाना देने के लिए.. लेकिन तभी उसने कहा कि मुझे तो बहुत नींद आ रही है और वो पलंग पर सोने चली गयी। फिर मैंने बुआ से बोला कि में पलंग पर ही सोऊंगा और वो सोने का नाटक करने लगी। तभी इतने में बुआ के रिश्तेदार आ गये और फिर उन्होंने खाना खाया और दूसरे घर को देखने के लिए चले गये.. क्योंकि उन्होंने एक नया घर बनवाया था और उसी का उद्घाटन था। मेरी कज़िन सो रही थी.. लेकिन वो सो क्या रही थी बस सोने का नाटक कर रही थी।तभी मैंने उससे बोला कि मुझे भी नींद आ रही है तो प्लीज तुम दूसरी जगह पर जाकर सो जाओ.. लेकिन वो मान नहीं रही थी तो मैंने उसे गुस्से में कहा कि में यहीं पर सोऊंगा तो उसने कहा कि सो जाओ मुझे क्या पड़ी है तुम कहीं पर भी सो जावो।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  तभी मैंने उससे कहा कि.. लेकिन कोई कुछ बोलेगा तो नहीं? फिर उसने कहा कि कुछ नहीं होगा.. लेकिन में डर रहा था क्योंकि मेरे मम्मी पापा भी आए हुआ थे। मैंने उसे फिर बोला कि तुम दूसरी जगह सो जाओ लेकिन वो नहीं मानी। तभी मैंने उसे प्यार से किस किया तो वो कुछ नहीं बोली मैंने फिर से उसे जाने को बोला.. तो वो मान ही नहीं रही थी तभी मैंने उसके बूब्स दबा दिये तो वो कुछ नहीं बोली में बहुत डर भी रहा था फिर में उसे किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी।तभी मैंने उससे कहा कि अब तुम दूसरी जगह सो जाओ। फिर जब रात में सब सो जाएँगे तो तुम आ जाना लेकिन वो फिर भी नहीं मान रही थी। इतने में मेरी बुआ और फूफाजी आ गये। फिर उन्होंने सभी को सोने के लिए बोला.. सभी लोग अपनी अपनी जगह पर सोने चले गये। तभी बुआ ने उसे मेहन्दी लगाने के लिए बोला तो उसने हाँ कर दी और गुस्से में उठकर मेहन्दी लगाने चली गयी। अब उसकी नींद उड़ गई थी और मेरी भी। फिर बुआ ने मुझसे बोला कि तू मेरी दादी के पास सो जा क्योंकि दादी अकेली दूसरे पलंग पर सो रही थी। मैंने बोला ठीक है और में सोने चला गया लेकिन में सो कहाँ रहा था बस सोने का नाटक कर रहा था। फिर उसने बुआ के मेहन्दी लगा दी और बुआ के पास सोने का नाटक करने लगी और उसे भी नींद नहीं आ रही थी।

तभी थोड़ी देर में वहाँ पर मौजूद सभी लोग सो गये.. क्योंकि सभी लोग थके हुए थे.. लेकिन में और वो जाग रहे थे। फिर थोड़ी देर बाद मैंने उससे बोला कि हम दूसरे पलंग पर चलते है जो कि दूसरे रूम में था। पहले तो उसने मना किया फिर बोली कि पहले में वहाँ पर जाऊँ। फिर में दूसरे रूम पर चला गया। फिर मेरे जाने के दो मिनट बाद वो भी आ गई और मैंने जल्दी से उसे पकड़कर किस किया और बूब्स दबाने लगा। उसे तो और भी ज्यादा सेक्स चड़ गया। वो मेरा पूरा पूरा साथ दे रही और में उसके बूब्स को उसके सूट के ऊपर से ही दबा रहा था और धीरे धीरे उसे गरम कर रहा था क्योंकि पास में सभी लोग सो रहे थे। इसलिए डर भी था कि कहीं कोई जाग ना जाए.. क्योंकि हम इसलिए भी बहुत डरे हुए थे क्योंकि हमारा ये सब कुछ पहली बार था।फिर में उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा वो और फिर गरम हो गयी। तभी मैंने एक हाथ से उसकी पेंटी को धीरे से नीचे कर दिया और एक हाथ से बूब्स दबा रहा था और दूसरे से चूत को सहलाने लगा और वो सिसकियाँ लेने लगी तो मैंने उसके एक हाथ को अपने लंड पर रख दिया वो मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगी। फिर में उसके ऊपर आ गया और फिर मौका देखकर अपना लंड कजिन बहिण की चूत पर रखा.. लेकिन वो मना करने लगी कि कहीं कोई जाग ना जाए क्योंकि घर के बाहर उसके पापा भी सो रहे थे.. लेकिन में कहाँ मानने वाला था मुझ पर तो चूत का भूत सवार था। फिर में धीरे धीरे कजिन बहिण की चूत और बूब्स को फिर से सहलाने लगा। वो फिर से गरम हो गयी और मैंने अपना लंड एक हाथ से पकड़ा और उसकी चूत के पास ले जाकर सेट किया और हल्का सा धक्का दिया.. लेकिन लंड अंदर नहीं जा रहा था। क्योंकि वो वर्जिन थी।तभी मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रखे और एक ज़ोर का झटका मारा मेरा थोड़ा सा लंड अंदर गया तो वो बोली कि मुझे बहुत दर्द हो रहा है प्लीज इसे बाहर निकालो। तभी मैंने कहा कि तुम्हे अभी थोड़ा दर्द होगा.. लेकिन थोड़ी देर में मजा आने लगेगा। फिर में थोड़ी देर बिना हिले ऐसे ही रहा और फिर मैंने एक झटका और मारा तो लंड अंदर चला गया और उसे बहुत दर्द हुआ लेकिन मेरे होंठ उसके होंठो पर थे तो वो जोर से चीखी पर उसकी आवाज ज्यादा जोर से बाहर नहीं आई। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकिन उसकी आँखों से आँसू जरुर निकल गये थे। में फिर से वहीं पर रुक गया और थोड़ी देर बाद जब दर्द कम हुआ तो अपने लंड को आगे पीछे करने लगा। फिर थोड़ी देर बाद उसे भी मज़ा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी और मज़े से अपनी गांड उछाल उछाल कर मज़ा लेने लगी और कुछ 25 मिनट तक उसे चोदने के बाद मैंने उससे कहा कि में झड़ने वाला हूँ तो उनसे कहा कि तुम वीर्य बाहर निकालो और मेरे ऊपर अपना वीर्य छोड़ो। मैंने वैसा ही किया और लंड को चूत से बाहर निकालकर पूरा वीर्य उसके ऊपर छोड़ दिया। लेकिन वो अभी भी नहीं झड़ी अब रात बहुत होने के कारण मैंने उसे दुबारा और नहीं चोदा और मैंने उसे अपने वीर्य को चाटने को कहा तो वो पहले मना कर रही थी।

फिर थोड़ी देर बाद मेरे बहुत कहने पर उसने मेरे वीर्य को थोड़ा सा चाटा फिर मैंने उससे पूछा कि कैसा लगा? तो उनसे कहा कि थोड़ा नमकीन है पर बहुत अच्छा है और वो मेरे पूरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी। करीब 10 मिनट बाद मैंने उससे कहा कि अब मत करो नहीं तो ये फिर से खड़ा हो जाएगा और मुझसे रहा नहीं जाएगा और रात भी बहुत हो चुकी है। तब रात के करीब 3 बज चुके थे और वो मान गयी और हमने अपने कपड़े ठीक किए और सोने के लिए जाने लगे। तो मैंने उसे पहले बाहर जाने को कहा और वो चली गयी और उसके पांच मिनट बाद में भी चुपचाप जाकर सो गया। फिर सुबह 6 बजे घर के सभी उठे.. लेकिन मुझे तो सुबह 8 बजे तक सोने की आदत थी तो में जाग तो गया लेकिन लेटा रहा और वो भी नहीं उठी थी.. उसे भी नींद आ रही थी.. लेकिन थोड़ी देर बाद उसे बुआ ने उठा दिया तो वो मेरे पलंग पर आकर सो गयी। तभी मैंने बुआ से बोला कि इसे सोने दो ये बहुत रात तक जागी है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर हम एक चादर में लेटे रहे तो मैंने उसका हाथ अपने लंड पर और अपना एक हाथ उसके बूब्स पर रख दिया। तभी वो मेरे लंड को सहलाने लगी और में भी उसके बूब्स धीरे धीरे दबा रहा था फिर मैंने उसे किस किया और कहा कि अब उठ जाओ। तो वो उठ गयी और में भी उठ गया।दोस्तों आप सोच रहे होंगे कि मैंने लड़की का फिगर और अपने लंड का साईज़ नहीं बताया तो मुझे फिगर के बारे में ज़्यादा नहीं पता क्योंकि ये मेरी पहली चुदाई थी। लेकिन हाँ मेरा लंड 7 इंच का होगा जो किसी भी लड़की को संतुष्ट कर सकता है।कैसी लगी कजिन बहिण की चुदाई  , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी बहिण की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SurmaSharma

कामवाली को रखैल बनाया

दोस्तों मुझे सेक्सी कहानियाँ पढ़ना बहुत अच्छा लगता है। यह कामवाली की चुदाई कहानी आज से 3 साल पुरानी है। दोस्तों यह बात उन दिनों की है.. जब मेरे पापा ने मेरी पढ़ाई पूरी होने के बाद मुझे डिग्री मिलते ही मुझे उनका बिजनेस संभालने के लिए दिल्ली भेज़ दिया। फिर में वहाँ पर अकेला रहता था और 4-5 साल से मेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी.. क्योंकि में काम के सिलसिले में हमेशा ही बहुत व्यस्त रहता था।मेरे घर पर एक कामवाली आकर मेरा सभी छोटा मोटा काम किया करती थी.. उसका नाम पूनम था और उसकी शादी 2 महीने पहले ही हुई थी और उसकी उम्र 26 साल थी।

वो एक काम वाली थी.. लेकिन उसके चहरे से वो बिल्कुल भी नहीं लगती थी और वो बहुत सेक्सी थी। उसका गौरा रंग, फिगर करीब 32-23-34 होगा और उसकी 2 बहने थी आस्था और इंदु। उसकी बहनें उसके साथ ही रहती थी.. लेकिन उनकी हालत बहुत खराब थी क्योंकि घर में सिर्फ़ पूनम कमाने वाली थी.. उसका पति कुछ काम नहीं करता था। वो सिर्फ दारू पीकर सब उड़ा देता था और वो पूनम को हमेशा मारा करता था और फिर वो कभी कभी कई दिनों तक काम पर नहीं आती थी और उसकी जगह उसकी बहनें आती थी। इंदु सिर्फ़ 18 साल की थी और आस्था एक महीने पहले ही 22 साल की हुई थी और उन दोनों बहनों का रंग काला था.. लेकिन फिगर बहुत मस्त था और वो दोनों भी दिखने में बहुत सेक्सी लगती थी।तो दोस्तों अब में अपनी कहानी शुरू करता हूँ। तो उस दिन रविवार था और में सुबह से ही घर पर ही था.. पूनम और उसकी दोनों बहनों में से कोई भी बहुत दिनो से काम पर नहीं आई थी। तो सुबह करीब 8 बजे एकदम से दरवाज़ा खोलकर आस्था रोती हुई आई और मेरे पास आकर बोली कि साहब हमारी मदद कर दो.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने पूछा कि क्या हुआ?आस्था : साहब पूनम के पति ने उसे तलाक़ दे दिया है और हमें मारकर घर से निकाल दिया। हमारे सारे पैसे और सामान सब उसने हमसे छीन लिया। अब हम सड़क पर आ गये है साहब।
में : देखो में कुछ नहीं कर सकता यह आपके घर का मामला है इसे आप ही सम्भालो।
आस्था : साहब अभी मदद कर दो.. हम सब काम करके चुका देंगे।
में : ठीक है यह लो कुछ पैसे और कुछ टाईम के लिए तुम यहाँ पर रह सकती हो.. ऊपर वाला कमरा वैसे भी खाली है और हाँ में कुछ दिनों के लिया मदद कर सकता हूँ.. बाद में मुझे भी मेरे पैसे वापस चाहिए।
आस्था : बहुत बहुत शुक्रिया साहब।
फिर वो तीनो बहनें ऊपर वाले कमरे में रहने लगी 2-3 दिन बाद मैंने पूनम से कहा कि अब मेरा कमरा खाली कर दो.. इससे ज्यादा में कोई मदद नहीं कर सकता बस।
पूनम : साहब हमारे पास पैसे नहीं है ऐसा मत करो।
में : तो में और क्या करूं?
पूनम : साहब हम आपका सारे दिन काम कर देंगे फुल टाईम हमें यहीं पर रख लो।
में : लेकिन मेरे पास बाकी का काम करने के लिए और भी नौकर है मुझे तुम्हारी ज़रूरत नहीं है।
पूनम : लेकिन साहब जो में कर सकती हूँ वो बाकी नौकर नहीं कर सकते। आप एक बार कह कर तो देखो।

फिर में पूनम का इशारा समझ गया और में करता भी क्या? वो थी ही इतनी सेक्सी और मेरी बहुत सालों से कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी। तभी मैंने उसका हाथ पकड़ते हुए उसे कहा कि अच्छा ठीक है तुम आज से मेरी फुल टाईम नौकर.. तुम यहीं पर रह जाओ और तुम्हारा सारा खर्चा में उठाऊंगा लेकिन मेरी कुछ शर्तें है? पहली यह कि जो भी में कहूँगा वो तुम करोगी और तुम कुछ मना नहीं कर सकती और दूसरी की तुम्हारे साथ तुम्हारी बहनों को भी अपनी चूत मेरे हवाले करनी होगी।पूनम : ठीक है साहब.. आज से आप हमारे राजा और हम आपकी दासियाँ। आस्था को में मना लूँगी.. लेकिन इंदु अभी बहुत छोटी है।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
में : ठीक है तुम कहती हो तो इंदु की चुदाई नहीं होगी.. लेकिन बाकी सभी काम उसे भी करने होंगे।
पूनम : ठीक है शुक्रिया साहब।
में : ठीक है चलो अब अपनी बहनों से बात करो और फिर मेरे कमरे में लाओ उन्हें।
फिर पूनम बहुत खुश हो गयी और वहाँ से चली गयी.. लेकिन पता नहीं पूनम ने उन दोनों को कैसे मनाया और वो इंदु और आस्था को दो मिनट बाद ही मेरे कमरे में ले आई। फिर मैंने पूनम को कहा कि इन्हें सब समझा दिया।
पूनम : हाँ जी साहब।
में : एक बार तीनो फिर सोच लो.. कोई ज़बरदस्ती नहीं है अभी भी तुम जा सकती हो.. अगर मंज़ूर नहीं है तो।
आस्था : आप हमारे राजा है साहब.. अब आप जो भी आदेश करोगे हमे मंज़ूर है।
में : ठीक है.. इंदु तू साईड में बैठ जा और चाहे तो बाहर जाकर काम कर ले.. लेकिन इंदु वहीं पर साईड में बैठ गयी।
में : इंदु क्या अपनी बहनों की चुदाई देखोगी?
फिर वो शरमा कर बोली कि नहीं सीख लूँगी साहब.. बाद में पूरी जिन्दगी भर मुझे भी यही करना है।
में : चलो अब पूनम और आस्था तुम दोनों एक दूसरे को किस करो और एक दूसरे को धीरे धीरे नंगा करो।

तभी मेरे कहते ही झट से आस्था ने पूनम को पकड़ा और किस करने लगी.. फिर मेरा 7.5 इंच का लंड स्टील की पेंट में तरह तनकर टेंट बन गया। इंदु साईड में बैठी पागलों की तरह मेरे लंड को घूर रही थी। तभी थोड़े टाईम बाद दोनों ने एक दूसरे की सलवार कमीज़ को उतार दिया और अब दोनों सिर्फ़ पेंटी में थी। फिर मैंने कहा कि अब तुम दोनों यहाँ बेड पर आ जाओ और 69 पोज़िशन में आकर एक दूसरे की चूत चाटो। फिर पूनम बोली कि जी साहब आपका हुक्म सर आँखों पर और दोनों 69 पोज़िशन में आ गयी.. बस अब मेरा कंट्रोल खत्म हो गया और मैंने झट से अपने सारे कपड़े उतार दिए और पूनम को आस्था के ऊपर से हटाया और अपना लंड कामवाली के मुहं में दे दिया और इंदु साईड में बैठे बैठे गरम होने लगी और कामवाली ने अपना एक हाथ अपनी सलवार में डाल लिया और वो अपनी चूत सहलाने लगी।तभी मैंने पूनम को हटाया और आस्था के मुहं में अपना लंड डाल दिया.. वाह आस्था क्या गरम थी। मुझे ऐसा लगा कि जैसे मैंने लंड आग के गोले में डाल दिया हो और में अब पूरा गरम हो गया था। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने झट से पूनम को बेड पर लेटाया और मैंने अपना पूरा 7.5 इंच का लंड एक बार में ही उसकी चूत में जोर से धक्का देकर घुसा दिया और जोर जोर से झटके मारने लगा और फिर आस्था के बूब्स चूसने लगा.. लेकिन पूनम पागल हुई जा रही थी और ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी अह्ह्ह ऊफफ्फ साहब.. मेरे राजा साहब ऊहह।फिर मैंने आस्था से कहा कि तू इसके मुहं पर अपनी चूत रख दे जिससे इसकी आवाज थोड़ी कम होगी.. नहीं तो सभी पड़ोसी सुन लेंगे कि अंदर क्या हो रहा है। तभी आस्था ने उसके मुहं पर अपनी चूत रख दी और मुझे किस करने लगी और हम तीनो ने त्रिभुज बना दिया। पूनम सीधी लेटी थी और पूनम के मुहं पर आस्था अपनी चूत रखकर बैठी थी और पूनम की चूत को में चोद रहा था और आस्था और में किस कर रहे थे। फिर मैंने उसकी चूत से लंड बाहर निकाल कर उसकी गांड में लंड डाल दिया और थोड़े टाईम बाद के बाद में अपना वीर्य छोड़ने वाला था। तभी इंदु आई और मेरे लंड के पास मुहं खोलकर बैठ गयी और में उसका ईशारा समझ गया और मैंने सारा वीर्य इंदु के मुहं में छोड़ दिया। इंदु एकदम सारा वीर्य आम की तरह चूस चूस कर पी गयी और पूरा लंड साफ कर दिया। फिर आस्था बोली कि मेरे लिए तो छोड़ देती साली.. तभी में बोला कि रुक आस्था में तुझे और देता हूँ। फिर पूनम ने इतने में सारा वीर्य चाटकर इंदु के मुहं पर लगा सारा वीर्य साफ कर दिया।

तभी मैंने अब आस्था को लेटा लिया और उसकी चूत पर लंड रखकर घुसाने की कोशिश की.. लेकिन उसकी चूत बहुत टाईट थी। फिर पूनम बोली कि कुँवारी चूत है साहब.. जरा ज़ोर से झटका मारो धीरे धीरे धक्को से इसकी चूत में कोई असर नहीं होगा। फिर मैंने एक ज़ोर से झटका मारा और लंड आधा अंदर चला गया और आस्था की चूत से खून आने लगा। तभी पूनम बोली कि मुबारक हो तेरी चूत का उदघाटन हो गया.. लेकिन आस्था ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी.. क्योंकि उसकी यह पहली चुदाई थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो पूनम ने उसे किस करके चुप करवा दिया और मैंने जोर जोर से धक्के मारने शुरू कर दिए और लंड पूरा का पूरा चूत के अंदर कर दिया.. लेकिन दोस्तों आस्था की चूत पूनम की गांड से भी बहुत टाईट थी।फिर मैंने एक घंटे तक लगातार उसकी ताबड़तोड़ चुदाई की और धीरे धीरे उसे भी चुदाई का मजा आने लगा। फिर आखरी के तीन चार धक्को के बाद में झड़ने लगा और मैंने अपना सारा वीर्य आस्था के बूब्स पर डाल दिया। फिर पूनम और आस्था ने सारा वीर्य चाट लिया.. लेकिन हम सब अब थक चुके थे और में आस्था के ऊपर ही लेट गया और पूनम साईड में और मुझे किस करते करते हम तीनो सो गये। इंदु रात भर अपनी चूत अपनी उँगलियों से चोदती रही और सुबह हो गयी और हम अगले दिन दोपहर तक वैसे ही पड़े रहे। दोस्तों उसके बाद आज तक वो तीनो मेरी पत्नियों की तरह रहती है ।कैसी लगी कामवाली की चुदाई कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई कामवाली की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/PoonamSharma

मौसी की गुलाबी चूत की खुशबु

ये चूत की कहानी मेरी और मेरी मौसी के बीच की एक सच्ची घटना है। दोस्तों में कोलकाता का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र 18 साल की है।अभी मौसी की उम्र कुछ 47 साल की होगी और तब उनकी उम्र शायद 44 या 45 की थी। मुझे हमेशा उन पर एक सेक्स आकर्षण था और में सोचता था कि एक ना एक दिन में उन्हें ज़रूर चोदूंगा और उनकी शादी के कुछ समय बाद ही उनका तलाक भी हो चुका था.. क्योंकि उनके पति का कोई और लड़की के साथ शारीरिक संबंध था। वो थोड़ी मोटी है लेकिन बहुत गोरी है.. लम्बे बाल और बूब्स भी बड़े बड़े है.. लेकिन मुझे फिगर के साईज़ का कोई अंदाज़ा नहीं है।

उनका एक बेटा था लेकिन वो अपने पिता के पास रहता था और कभी कभी मौसी से घर पर आकर मिला करता है। में मौसी के पास रहता हूँ और वो मुझे अपने बेटे से भी ज़्यादा प्यार करती है।में जो भी मांगू वो मुझे लाकर देती है.. वो बहुत आमिर है क्योंकि उनकी तलाक के कारण उन्हें एक मोटी रकम मिली थी और उनका एक घर है गावं में जो कि उन्होंने किराए पर दिया हुआ है। में नहीं जानता कि उन्हें सेक्स में ज्यादा रूचि है कि नहीं। में हर रोज़ रात में अपने रूम में सोने से पहले उनके दिए हुए लॅपटॉप में ब्लूफिल्म देखता रहता हूँ.. मस्त चुदाई वाली चुदाई मेरा करना और फिल्मो में देखना मुझे बहुत अच्छा लगता है। मेरे रूम से जो बाथरूम है वो उनके रूम से भी जुड़ा हुआ है और बाथरूम में दो दरवाज़े है जब भी कोई भी बाथरूम में जाएगा वो अंदर से दोनों दरवाज़े लॉक करेंगे। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। में रात को बाथरूम में जाकर उनकी पेंटी में अपना लंड रगड़ कर अपना रस उनकी पेंटी से पोछता हूँ यह में हर दिन रात को सोने से पहले करता हूँ और कभी कभार अगर उनकी पेंटी नहीं मिले तो में बाथरूम में ही गिरा डालता हूँ।फिर एक दिन अचानक से उनका पेंटी रखना बंद हो गया और उनके स्वाभाव में भी बदलाव आ गया और वो हमेशा मुझसे गुस्से से बात करने लगी और करीब दो हफ्ते बाद जब मौसी मुझे सुबह उठाने आई तो में फ्रेश होकर किचन के पास डाइनिंग टेबल पर गया तो उनका मूड ठीक नहीं था और नाश्ता करते करते हम इधर उधर की बातें कर रहे थे.. जैसे पढ़ाई के बारे में और उनके दोस्तों के बारे में और उनकी पार्टी वगेरह वगेरह। फिर उन्होंने पूछा:
मौसी : बेटा आज रविवार है और क्या तेरी कहीं पर ट्यूशन है?
में : नहीं मौसी आज कहीं पर ट्यूशन नहीं है. क्यों?
मौसी : नहीं में सोच रही थी कि अगर आज हम लंच बाहर करें और कहीं पर घूमने चलें तो कैसा होगा क्योंकि में बहुत बोर हो रही हूँ और फिर हम शाम को फिल्म देखते हुए घर पर लौटेंगे।
में : ठीक है मौसी में आ कर तैयार हो जाता हूँ और आप भी तैयार हो जाईए।
मौसी : ठीक है बेटा।

फिर हम लोग एक मॉल में गये वहाँ पर मौसी ने कुछ शॉपिंग की मुझे कंप्यूटर गेम्स का बहुत शौक था तो उन्होंने मुझे 4 गेम्स खरीद कर दिए। फिर हम लोगो ने मॉल में पिज़्ज़ा खाया और फिल्म देखने हॉल में घुसे तो फिल्म शुरू होने में अभी भी 20 मिनट बाकी थे तो हम बातचीत कर रहे थे। तभी अचानक मौसी ने कहा कि बेटा एक बात पूंछू.. सच सच बताएगा?
में : हाँ मौसी पूछो ना।
मौसी : तू मेरी पेंटी से हर रात को खेलता था ना?
तभी में बहुत डर गया और ऐसी में बैठकर भी मुझे पसीना आने लगा तो उन्होंने कहा कि बेटा रिलॅक्स हो जा और सच सच बोल दे में कुछ नहीं कहूँगी।
में : वो मौसी.. हाँ में वो करता था।
मौसी : क्या करता था?
में : में वो मुठ मारा करता था.. लॅपटॉप मे ब्लू फिल्म देखने के बाद.. मौसी मुझे माफ़ करना प्लीज और में कभी भी नहीं करूँगा। मुझे बस एक बार माफ़ कर दो.. मौसी प्लीज़ गुस्सा मत होना।
मौसी : अरे बेटा रिलॅक्स.. कोई बात नहीं में भी कभी कभी रात को चूत में उंगली करती हूँ। यह तो सब करते है इसमे गुस्सा होने की क्या बात है?
में : थेंक्स मौसी.. सही में आप बहुत अच्छी हो मौसी।
मौसी : चल ठीक है बेटा।
फिर मैंने मौका बहुत अच्छा समझा उन्हें पटाने और उनकी चुदाई करने का तो फिल्म शुरू होने के बाद में जानबूझ कर उन्हें दिखा दिखा कर अपने लंड को सहलाने और दबाने लगा और मौसी भी मुझे हर बार देख रही थी। फिर करीब दस मिनट के बाद में झड़ने वाला था तो मैंने मौसी से कहा कि मौसी में टॉयलेट हो कर आता हूँ।
मौसी : क्यों रुक जा और थोड़ी देर इंटरवेल के बाद में जाना।

में : नहीं मौसी मुझे अभी जाना है।

तो मौसी ने मेरा हाथ पकड़ कर बैठा लिया और कहा कि..

मौसी : क्यों बेटा पेंटी उतार कर दूं क्या अगर इतनी जल्दी है तो?

में तो डर गया और मौसी से बोला कि नहीं मौसी ऐसी कोई बात नहीं है.. तो उन्होंने कहा कि कोई बात नहीं चल में चलती हूँ तुम्हारे साथ। फिर वो बाहर आई और मुझसे बोली कि।

मौसी : तू यहीं पर रुक बेटा में लेडिस टॉयलेट में जाकर पेंटी उतार कर लाती हूँ।

में : क्या सच में मौसी आप मुझे पेंटी लाकर दोगी?

मौसी : हाँ रुक में लाती हूँ।

फिर वो अंदर गयी और में बहुत टेंशन फ्री हो गया था। मौसी बाहर आई और चुपके से उन्होंने मेरे हाथ में अपनी पेंटी को दे दिया। फिर में अंदर गया तो मैंने देखा कि उनकी पेंटी थोड़ी भीगी हुई थी तो में समझ गया कि वो गरम है। फिर मैंने उसी पर अपना वीर्य डाल दिया और बाहर आकर चुपके से मौसी को पेंटी दे दिया और मैंने सोचा कि वो अपने बेग में रख लेगी लेकिन वो अंदर टॉयलेट में जाकर पहन कर वापस आ गयी और मुझसे कहा कि मैंने पहन लिया है तो में और गरम हो गया। फिर उन्होंने मुझे कहा कि तूने तो पूरा गीला कर दिया तभी में हंस दिया और कहा कि मौसी में एक बात बोलूं तो क्या आप बुरा नहीं मनोगे ना?
मौसी : अरे नहीं बिल्कुल नहीं.. बेझिझक बोल दे।

में : मौसी आपने कहा कि आप भी कभी कभी चूत में उंगली करती हो.. तो आप भी मेरे अंडरवियर में वो सब कुछ किया करो।

मौसी : वाह बेटा.. तू तो सच में बड़ा हो गया.. लेकिन में नहीं करूँगी। में तेरी मौसी हूँ यह नहीं हो सकता।

में : लेकिन क्यों मौसी अगर में कर सकता हूँ तो आप क्यों नहीं?

मौसी : चल ठीक है लेकिन तेरी मम्मी, पापा या किसी और को भी इस बारे में पता नहीं लगना चाहिए.. ठीक है।

में : चलो ठीक है मौसी।

फिर हम दोनों फिल्म देखकर घर वापस आए और रात का खाना बाहर से मंगवा लिया और जब रात को सोने जा रहा था तो मैंने मौसी से उनकी पेंटी माँगी तो उन्होंने मुझे अपनी ब्रा को भी दे दिया और कहा कि पेंटी में तो तू कर चूका है मेरी ब्रा क्यों बाकी रहें? और में उन्ही के सामने उनकी ब्रा को सूंघने लगा तो वो शरमा कर चली गयी। फिर थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे रूम में नॉक किया तब में उनकी ब्रा को अपने लंड पर रगड़ रहा था तो मैंने तुरंत टावल पहना और दरवाज़ा खोला तो देखा कि वो नाईटी में है और कहा कि मेरा अंडरवियर दे दो मुझे कुछ काम है।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  तो मैंने कहा कि काम अच्छे से करना मौसी तो वो हंसने लगी और मेरा अंडरवियर लेकर चली गयी।कुछ दिन ऐसे ही बीत गये और में भी हर रोज़ कम से कम दिन में दो बार उनसे उनकी पेंटी और ब्रा माँगता और वो उठाकर दे देती और वो रात को मेरे रूम से ले जाती। फिर कभी कभी तो वो कहीं बाहर जाने से पहले भी अपना रस मेरे अंडरवियर में डालती और मुझे देकर चली जाती और कभी कभी में स्कूल जाने से पहले उनसे मेरा अंडरवियर माँगता और पहन लेता था जो कि हमेशा गीला रहता था और में उन्हें कहता कि मौसी मुझे गीली अंडरवियर पहनने की आदत हो गयी है तो उन्होंने कहा कि मुझे भी। फिर एक दिन लंच टाईम पर मैंने उनसे कहा कि..

में : मौसी एक बात कहूँ अगर आप बुरा ना मानो तो?

मौसी : हाँ बोल ना।

में : मौसी वो मुझे आपको देखना है।

मौसी : तो देखना में तो तेरे सामने बैठी हूँ और इस बुड्डी को देखकर क्या करेगा?

में : नहीं मौसी आप मुझे बुड्डी नहीं लगती बल्कि सेक्सी लगती हो। मुझे आपकी खुश्बू बहुत पसंद है जो कि पेंटी में सूंघता हूँ और वैसे भी मुझे आपको सू सू करते हुए देखना है।

मौसी : नहीं.. यह नहीं हो सकता है।

में : नहीं मौसी सच में मुझे देखना है.. प्लीज।

मौसी : ठीक है फिर कल सुबह देख लेना में दरवाज़ा खुला छोड़ दूँगी।

में : आपको बहुत बहुत थेंक्स मौसी।

मौसी : फिर तुझे भी में जो कहूँगी करना पड़ेगा.. सोच ले।

में : आपके लिए कुछ भी करूँगा मौसी।

मौसी : ठीक है.. शुभ रात्रि।

फिर हम सोने चले गये। फिर सुबह में जल्दी जाग गया और देखा कि बाथरूम का दरवाज़ा खुला है तो में दौड़ कर गया तो देखा कि मौसी अपनी लोवर्स उतार रही थी। तो उन्होंने मुझे देखा और कहा कि बेटा उठ गया क्या तू? फिर मैंने कहा कि हाँ।फिर वो टॉयलेट पर बैठी और मूतने लगी और में झुककर उनके बालों से भरी हुई चूत को देखता रहा और में पास में जाकर देखने लगा और सूंघने लगा तो उन्होंने कहा कि क्या कर रहा है। यह गंदी चीज़ है.. तो मैंने कहा कि नहीं मुझे यह बहुत अच्छी लगती है तो उन्होंने कहा कि बेटा मेरी पेंटी रखी हुई है तू ले सकता है। तो मैंने कहा कि मौसी में इधर ही मुठ मार लूँ.. तो उन्होंने कहा कि हाँ और में पेंट उतार कर मौसी की पेंटी को सूंघने लगा और चाटने लगा वो हैरान होकर मुझे देखती रही। में मौसी की पेंटी में अपना लंड रगड़ रहा था और वो देख रही थी।फिर वो अचानक से खड़ी हो गई। तो मैंने कहा कि मौसी मुझे आपकी गांड को देखकर झड़ना है.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। प्लीज़ आप ऐसे ही रहिए। तो उन्होंने कहा कि ठीक है जरा जल्दी कर। फिर में जब झड़ने वाला था तो उनकी गांड में अपना लंड सटा कर उनके छेद के बाहर ही झड़ गया तो उन्होंने मेरा वीर्य अपनी गांड और चूत पर मसल लिया और फिर उन्होंने पेंटी पहन ली और वो मेरे लंड को दबा कर बाहर चली गयी। उसके बाद में और मौसी एक दूसरे के सामने नंगे ही रहने लगे.. लेकिन दोस्तों मौसी ने मुझे अभी तक चुदाई नहीं करने दी.. लेकिन जब में उनकी चुदाई करूँगा तो आप लोगों को जरूर बताऊंगा ।कैसी लगी मौसी की चुदाई  स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी मौसी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/ShilpaSharma

पड़ोस में रहने वाली आंटी के साथ चुदाई

दोस्तों यह चुदाई की कहानी मेरे पड़ोस में रहने वाली एक आंटी की है और मुझे वो आंटी बहुत अच्छी लगती थी.. क्या माल थी वो एकदम सेक्सी.. उसका फिगर 38-30-38 था और उनकी उम्र 38 साल थी.. फिर भी वो शक्ल से 20 साल की लगती थी और उनका नाम सोनिया था। उनकी बड़े बड़े बूब्स और बहुत सेक्सी गांड थी कि मेरा लंड अक्सर उसको देखकर टाईट हो जाता था और उनकी गांड का हाल पूछो मत.. मोटी मोटी गांड और जब जब वो चलती थी तो गांड हिलती रहती थी और जब जब में आंटी की गांड देखा करता था.. तो मेरा लंड जोश में आकर मेरी पेंट ऊँची करके टेंट बनाया करता था। आंटी बहुत ही सेक्सी थी.. लेकिन बैचारी आंटी अंकल के काम की वजह से एंजाय भी नहीं करती थी।

क्योंकि उसके पति बाहर एक अच्छी कम्पनी में एक ऑफिसर थे और अक्सर बाहर ही रहते थे। फिर एक दिन में उनके घर गया तो सोनिया आंटी घर पर अकेली थी। तो मैंने आंटी से पूछा कि सभी लोग कहाँ है? तो आंटी ने जवाब दिया कि अंकल की तो तुम्हे पता ही है और सभी बच्चे मामा के घर गये है और वो आज रात को नहीं आएँगे।तभी आंटी ने कहा कि चलो बैठो। तो मैंने थोड़ी देर बैठकर आंटी से इधर उधर की बातें की और फिर मैंने आंटी को कहा कि ठीक है आंटी.. में अब चलता हूँ। फिर आंटी ने मुझे रोक लिया और कहा कि अभी रुक जाओ मुझे नहाना है.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। जब तक तुम मेरे घर का ख़याल रखना.. में बस अभी पांच मिनट में नहाकर आती हूँ। आंटी मेक्सी में थी और उस गुलाबी मेक्सी में उनके बूब्स बड़े सेक्सी लग रहे थे। फिर वो बोली कि और तू मेरा पीसी भी ठीक कर के जाना.. वो बहुत दिनों से खराब है.. लेकिन मुझे नहीं पता था कि आंटी भी पीसी ऑपरेट करती है और में वहीं पर रुक गया और आंटी नहाने के लिए बाथरूम में चली गई और में बेडरूम में बैठकर आंटी का इंतजार कर रहा था।तभी अचानक मेरी नज़र बेड पर पड़ी.. बेड पर टावल, पेंटी और ब्रा पड़ी थी। ब्रा और पेंटी बहुत बड़ी थी और फिर करीब 15 मिनट बाद आंटी ने मुझे आवाज़ दी और कहा कि टावल दे दो मुझे। फिर मैंने आंटी को टावल दिया। फिर आंटी ने कहा कि अमन प्लीज़ मेरी पेंटी और ब्रा भी दे दो ना। तो मैंने आंटी को पेंटी और ब्रा भी दे दी। अब आंटी नहाकर बाहर निकली और आंटी ने सफेद कलर का सूती कपड़े का सूट पहना था और उसमे से आंटी की काली ब्रा साफ साफ नज़र आ रही थी। फिर मैंने आंटी को कहा कि आंटी अब में चलता हूँ.. तो आंटी ने कहा कि क्या तुम्हे कुछ काम से जाना है? तो मैंने कहा कि नहीं फिर आंटी ने मुझे कहा कि थोड़ी देर और रुक जाओ.. में अकेली हूँ और में बोर हो जाऊंगी.. हम कुछ बातें करते है। तो में उनके कई बार कहने पर बैठ गया और आंटी बैठी बैठी अपनी लाईफ के बारे में बता रही थी।

तभी धीरे धीरे आंटी बहुत खुलकर बातें करने लगी और मुझसे पूछने लगी कि तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड्स है या नहीं और तुमने कभी सेक्स किया है या नहीं? फिर में तो ऐसी बातें सुनकर हैरान ही हो गया। तो कुछ देर बाद में भी खुल गया था और मैंने आंटी से पूछा कि क्या आंटी आपको सेक्स पसंद है? तो आंटी ने जवाब दिया कि सेक्स हर किसी को पसंद होता है पागल। आंटी ने कहा कि क्या तुम्हे पसंद नहीं है? फिर मैंने जवाब दिया कि मैंने कभी किया ही नहीं है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो आंटी ने कहा कि तू झूठ मत बोल.. मुझे मालूम है तुम बहुत बुरे हो। तुमने अपनी काम वाली को चोदा है और नेहा को भी। मुझे सब पता है और जी करता था कि तुम को रात को ही अपने घर बुलाकर अपनी प्यास बुझा लूँ.. लेकिन बच्चे घर पर थे। मैंने सोचा कि जब घर आओगे तब ही तुम से बात करूँगी। तेरी माँ को बोलना पड़ेगा कि जल्दी से तेरी शादी करवा दे।तभी में अचानक से बहुत डर गया और फिर आंटी ने कहा कि डरो मत.. में कुछ नहीं कहूंगी और मैंने तो तुम को नंगा भी देखा है। फिर मैंने आंटी से पूछा कि कब देखा आपने मुझे नंगा? तो आंटी ने जवाब दिया कि जब तुम मेरे घर के बाथरूम में पेशाब कर रहे थे। अब बिल्कुल चुपचाप हो गया और मैंने उनसे कुछ भी नहीं कहा। फिर वो बोली कि मेरी भी चूत प्यासी है.. क्या अपनी आंटी की प्यास नहीं बुझाएगा? चुप क्यों बैठा है बोल.. अब तुम्हारा लंड क्या मेरी चूत की प्यास बुझाएगा? फिर में सोनिया आंटी की बातों से मन ही मन खुश हो रहा था और मैंने कभी भी सोचा नहीं था कि आंटी खुद तैयार हो जाएगी और में उनसे डरता भी था.. क्योंकि वो बहुत गुस्से वाली थी।आंटी ने अब अपना हाथ मेरे लंड पर रखा मुझे तब बहुत अच्छा लगा। मेरी आंटी बहुत प्यासी थी। वो बिल्कुल गोरी थी और वो अभी भी बिल्कुल जवान लगती थी और ज़िंदगी में आज पहली बार में 38 साल कि औरत के साथ सेक्स करने जा रहा था। फिर आंटी ने मुझसे कहा कि अपनी पेंट उतारो.. में भी देखूं तुम्हारा प्यारा सा लंड और फिर मैंने अपनी पेंट उतार दी। मैंने उस दिन अंडरवियर नहीं पहनी थी। में अब नीचे से नंगा था और फिर आंटी मेरे पास आई और मेरी शर्ट भी उतार दी और उन्होंने मुझे पूरा नंगा कर दिया। आंटी को मेरा लंड बहुत अच्छा लगा और आंटी ने मेरा एक हाथ अपने बूब्स पर रखा और कहा कि दबाते रहो प्लीज़.. मैंने बहुत देर तक उनके बूब्स दबाए और आंटी को भी बहुत मज़ा आ रहा था। फिर आंटी ने अपनी कमीज़ उतारी और फिर सलवार भी उतारी और फिर मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर जोर जोर से चूसने लगी। फिर में आंटी की ब्रा खोलने की कोशिश कर रहा था।

तो आंटी मुस्कुराकर बोली कि बेटा तू रुक.. में खोल देती हूँ। फिर आंटी ने ब्रा को खोल दिया और पेंटी भी उतार दी। फिर आंटी का गोरा गोरा जिस्म मेरे सामने पूरा नंगा था और आंटी ने अपने बड़े बड़े बूब्स को मेरे लंड पर रख दिया और अपने बूब्स से मुझे चुदाई का मज़ा दे रही थी। तभी कुछ देर बाद में आंटी की चूत को चाटने लगा और आंटी की सेक्सी सेक्सी आवाज़े निकल रही थी.. आआहह ऊऊऊहह अमन बेटा आआह ज़ोर से बेटा आआआहह तेरी आंटी प्यासी है मेरी प्यास बुझा दे बेटा। फिर आंटी ने कहा कि अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दे.. बहुत प्यासी है। चूत प्यास की बुझाओ जल्दी से.. प्लीज। तभी मैंने आंटी के दोनों पैरो को अपने हाथों से अपने कंधो पर रखा और चूत पर 8 इंच का लंड रखा। आंटी की चूत बहुत टाईट हो रही थी और मैंने धीरे से एक धक्का दिया तो आंटी की चीख निकल गई और आंटी ने कहा कि थोड़ा आराम से डालो.. क्या जल्दी है तुमको? फिर मैंने कहा कि आंटी ठीक है अब आराम से डालूंगा।फिर मैंने हल्के हल्के झटको से लंड को आगे बड़ाया और आंटी को मज़ा आ रहा था। आंटी की आवाज़े निकल रही थी ऊओह ऊऊफ्फ्फ्फ्फ्फ उह्ह माँ और डालो और डाल.. आज मेरी चूत को मज़ा दे.. फाड़ दे प्लीज़ अमन.. और तेज़ करो। तभी मैंने अपनी स्पीड को और तेज़ कर दिया। फिर आंटी मुझे बेड पर ले गयी और मुझे बेड पर धक्का दे दिया और बोली कि आज तुझसे में चुदवाती हूँ और सोनिया आंटी ने मेरे लंड का टोपे को किस किया और मुझे सीधा लेटा दिया और मेरे लंड के ऊपर अपनी चूत रख दी और ज़ोर जोर से हिलाने लगी और चिल्लाने लगी.. आहह बेटा.. अमन बेटा आआहह मज़ा आ गया.. तुम्हारा लंड अब मेरी प्यास बुझा देगा और ज़ोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी। फिर ऐसे में मेरे लंड को भी बहुत दर्द हो रहा था। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। आंटी और में दोनों पागल हो गए और मैंने आंटी को उठा लिया और नीचे लेटाकर उनके पैर खोल दिए और फिर से चुदाई शुरू कर दी। तभी आंटी झड़ने वाली थी और हमको 15-20 मिनट हो गए थे और मेरा भी पानी निकालने वाला था। फिर आंटी ने कहा कि अंदर नहीं निकालना।तो मैंने कहा कि ठीक है अब मैंने अपना लंड निकाला और आंटी के बूब्स पर पूरा वीर्य निकाल दिया। फिर आंटी ने मेरा लंड चूसा और पानी पी गई और 15 मिनट तक हम नंगे ही बेड पर लेटे रहे। फिर मैंने आंटी से कहा कि आंटी मुझे आपकी गांड भी मारनी है। तो आंटी ने जवाब दिया कि आज से सब कुछ तुम्हारा है बेटा.. ये गांड भी तुम्हारी है जब बोलोगे दे दूँगी.. मेरी चूत के मालिक। तभी मैंने कहा कि तो क्या अभी मिल सकती है? तभी आंटी ने कहा कि.. क्यों नहीं? और आंटी ने फिर मेरे लंड को चूसना शुरू किया और 5 मिनट के बाद में आंटी की मोटी मोटी गांड पर अपनी जीभ फेरने लगा। तो आंटी ने कहा कि यह क्या कर रहे हो? आज तक किसी ने मेरी गांड पर जीभ नहीं फेरी।

तो मैंने जवाब दिया कि आंटी मैंने एक सेक्सी फिल्म में देखा था। फिर आंटी ने कहा कि अमन तुम को तो बहुत कुछ पता है सेक्स के बारे में। फिर आंटी डोगी स्टाईल में थी और मुझे मेरा लंड उनकी गोरी गोरी मोटी मोटी गांड में उन्हें चोदने के लिए डालना था। फिर आंटी ने कहा कि आराम आराम से डालना यह चूत नहीं गांड है और इसमें बहुत दर्द होता है। तो मैंने कहा कि आंटी आप फ़िक्र मत करो.. में बड़े आराम से आपकी गांड की चुदाई करूंगा। फिर मैंने आंटी की गांड में हल्का सा झटका दिया.. लेकिन आंटी को बहुत दर्द होने लगा और उनकी चीख निकल गई.. आआआहह हरामी बाहर निकाल फट जाएगी.. रहम कर आआहह नहीं बेटा.. प्लीज अहह ऊऊईईए माँ मरी में.. आअहह बाहर निकाल।फिर मैंने अपनी स्पीड हल्की कर दी और अब हल्के हल्के मेरा पूरा लंड आंटी की गांड में जा चुका था और आंटी को भी बहुत मज़ा आया गांड में लंड लेकर। तो मैंने आंटी को कहा कि आंटी वीर्य निकलने वाला है। तो आंटी ने कहा कि बाहर निकाल लो और फिर आंटी ने सारा वीर्य फिर से पिया और लंड को चूसने लगी। अब जब भी हमे मौका मिलता है में आंटी की प्यास बुझाता हूँ ।कैसी लगी आंटी के साथ चुदाई स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी आंटी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/GouriSharma

चाचा ने अपनी जवान बेटी गरिमा को चोदा

आज में आप सभी को एक आँखों देखी सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ। यह बात उस समय की है.. जब में सेक्स के बारे में इतना कुछ नहीं जानता था और मेरे घरवालों ने मुझे पढ़ाई के लिए मेरे अंकल के पास छोड़ दिया.. वहाँ पर अंकल आंटी और अंकल की एक लड़की जिसका नाम गरिमा है.. वो रहती है। में अक्सर उसके साथ खेला करता था और वो मुझे बहुत तंग किया करती थी.. लेकिन उस समय में सेक्स के बारे में कुछ भी नहीं समझ पाता था। तभी अचानक एक दिन आंटी की तबियत खराब हो गई और उन्हें हॉस्पिटल ले जाना पड़ा। फिर हॉस्पिटल जाने पर हमे पता चला कि आंटी को इन्फेक्शन है और कैन्सर भी है.. जिसके कारण वो अब कुछ दिनों की महमान है।

फिर जब में सोता था तो गरिमा अपने मम्मी, पापा के कमरे के पास रात को जाकर के होल से कुछ देखती थी और जब में पूछता था कि तुम क्या देखती हो? तो वो जवाब देती कि कुछ नहीं और तुम्हे देखना है तो देख लो। तभी मैंने एक बार देखा तो अंकल, आंटी को किस कर रहे थे और फिर यह देखने के बाद उसने कहा कि तुम जाकर सो जाओ में अभी आती हूँ। इसके बाद वो आधे घंटे बाद आई और मुझे किस करने लगी। तो मैंने कहा कि प्लीज़ मुझे सोने दो और में सो गया। फिर समय बीतता गया और में 6 क्लास में चला गया और फिर गरिमा की माँ का इन्फेक्शन ठीक नहीं हुआ और 6 महीनों के बाद उनका देहांत हो गया। अब गरिमा का एडमिशन कॉलेज में हो गया और गरिमा की आदत में बहुत बदलाव आ गया। अब वो अक्सर अपने कपड़े दरवाजा खोलकर बदलती तो कभी घर में केवल ब्रा पेंटी में घूमती तो कभी मिनी स्कर्ट में तो कभी पारदर्शी नाईटी में।फिर उसके पापा अक्सर उस पर नज़र डालते रहते थे और वो अपने बूब्स किसी ना किसी बहाने से उन्हें दिखाती रहती थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो उसका पूरा फ़ायदा उठाते और कभी मौका मिलने पर उसके बूब्स को अंजान बनकर दबा भी देते थे जैसे कुछ हुआ ही नहीं। तभी एक दिन मैंने देखा कि अंकल गरिमा को कपड़े बदलते हुए देख रहे थे और उसने जानबूझ कर अपने सूट की चैन खुली छोड़ दी और जब वो बाहर आई तो अंकल ने उसकी चैन लगाई और धीरे से उसके बूब्स को भी सहलाया। अब गरिमा बहुत खुल चुकी थी और अपने बाप से मज़े लेने की सोच में लगी रहती थी। तभी एक दिन में अपने स्कूल से आया तो देखा कि अंकल गरिमा से किचन में पीछे से चिपके हुए थे और उसके गाल पर किस कर रहे थे। तभी मुझे देखकर उन्होंने गरिमा को छोड़ दिए। फिर एक दिन जब हम सो रहे थे तब गरिमा के पापा ने उसे बुलाया और कहा कि उन्हें सर में बहुत दर्द हो रहा है। तो गरिमा उनके सर में बाम लगा रही थी और में सोने चला गया। फिर मुझे पता नहीं क्या हुआ? में वापस अंकल के कमरे की और चला गया और एक होल से देखने लगा। फिर मैंने जो देखा उस में देखकर दंग रह गया..

गरिमा के पापा गरिमा के बूब्स पकड़े हुए थे और उसे किस कर रहे थे और कह रहे थे कि तुम्हारे बूब्स बचपन में बहुत छोटे थे और अब बहुत बड़े हो गए है और उसे अपने बेड पर लटा दिया और उसकी सलवार कमीज़ उतारने लगे। गरिमा उन्हें चूमने लगी और कहने लगी कि इतने दिन से दिखा कर रही हूँ.. लेकिन आपकी नज़र ही नहीं जाती यहाँ.. पर आज गई है। फिर उसके पापा ने उससे पूछा कि क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है? तो उसने कहा कि नहीं है.. तो अंकल ने कहा कि अच्छा यानी किसी से कभी कुछ नहीं किया। तो वो बोली कि हाँ कभी नहीं किया ये सुनते ही अंकल उसके ऊपर चड़ गए और उसकी ब्रा खोल दी और उनके ब्रा खोलते ही उसके बूब्स बाहर आ गए.. तभी उसके गोल बड़े बड़े बूब्स को अंकल देखते ही रह गए और कहने लगे कि वाह! क्या बूब्स है तुम्हारे.. लगता है आज मजा आ जाएगा और उसके बूब्स को अपने हाथों में ले कर दबाने लगे और किस करने लगे। फिर एक के बाद एक बूब्स को किस करते और उसके निप्पल को मुहं में लेकर चूसते जिससे गरिमा के मुहं से उहह अह्ह्ह की आवाज़ निकलती और गरिमा अपने होंठो को काटती।फिर अंकल ने गरिमा के एक बूब्स को अपनी उँगलियों के बीच में रखकर जोर से खींचा और फिर गरिमा शऊऊउ आअहह करती और अंकल मज़े लेते। तभी अंकल ने अपनी शर्ट पेंट उतार दी और गरिमा की पेंटी उतार दी.. लेकिन उसकी चूत पर बहुत बाल थे। अंकल अपनी जीभ उसकी चूत के बाल पर फेरने लगे और कहने लगे कि यह तो गीली हो गई है और उसकी चूत के पास मुहं ले जाकर चाटने लगे और वो पागलो की तरह तड़पने लगी और उसके पापा मज़े ले रहे थे। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर उन्होंने कहा कि चलो बाथरूम में चलते है और उसे उठाकर बाथरूम में ले गए और कोई 7 मिनट के बाद वापस आए। उसके बाद मैंने देखा तो उसकी चूत के बाल साफ हो गए थे और उसकी चूत चमक रही थी। तभी यह सब देखकर में दंग रह गया और मैंने देखा कि अंकल ने अभी तक अपना अंडरवियर नहीं उतारा है। फिर उन्होंने गरिमा से कहा कि चलो अब मेरा अंडरवियर उतारो।तो उसने उसे उतार दिया और उसकी आंखे फट गई.. क्योंकि उनका लंड 9 इंच का था और उसने आज से पहले कभी भी उनका लंड इतने करीब से नहीं देखा था। इतना मोटा और लंबा और वो कहने लगी कि बाप रे इतना बड़ा लंड मेरी माँ अपनी चूत में कैसे लेती थी? फिर वो बोले कि बेटा घबराओ नहीं पहले तुम्हारी माँ को भी दिक्कत हुई थी और बाद में वो भी बड़े आराम से अपनी चूत में डलवाकर बहुत मज़े लेती थी.. तुम्हे भी बड़ा मज़ा आएगा। फिर वो कहने लगी कि मेरी चूत बहुत छोटी है में नहीं ले सकती.. प्लीज़ मुझे छोड़ दीजिए। फिर वो बोले कि मैंने तुम्हे अभी कहा कि कुछ नहीं होगा तुम्हे.. तुम तो मेरा लंड मुहं में लो और इसे चूसो.. लेकिन उसने मना किया और उसके बाद ज़बरदस्ती अंकल ने उसे अपना लंड हाथ में दे दिया और हिलाने को कहा वो तैयार हो गई और अंकल के लंड को आगे पीछे करने लगी।

फिर कुछ देर ऐसे ही करने के बाद अंकल उसे फिर उसके होंठो पर चूमने लगे और कहा कि मुहं में लो ना प्लीज़। फिर उनके बहुत कहने पर उसने अपने मुहं में उनका बड़ा लंड ले लिया और वो चूसने लगी और अंकल आहह्ह्ह आहहह और जोर से और अंदर लो.. कह कर अंकल मज़े में डूब गए। फिर थोड़ी देर बाद अंकल के लंड में से बहुत सारा पानी जैसा निकला और गरिमा के बूब्स पर गिर गया और वो उसको लेटाकर उसके ऊपर लेट गए और पूछने लगे कि मज़ा आया? लेकिन गरिमा के पसीने छूट गए थे.. फिर उसने कहा कि हाँ बहुत मज़ा आया। तो अंकल ने कहा कि आज यहीं पर सो जाओ हम बहुत मज़े करेंगे अभी तो पूरी रात बाकी है हमे बहुत मज़ा आएगा.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। यह रात एसे ही कट जाएगी। अंकल फिर उसके बूब्स चूसने लगे और गरिमा की चूत से पानी निकल गया। अंकल ने पूछा कि क्या मज़ा आया? तो उसने कहा कि बहुत मज़ा आया। उसके बाद अंकल ने कहा कि अब तुम्हे और मज़े दूँगा और उसके पैर फैला दिए और उसकी चूत चाटने लगे। फिर मैंने देखा कि उनका लंड फिर से बड़ा हो गया है और वो अचानक लेटे और गरिमा को किस करने लगे और अपने लंड को गरिमा की चूत पर रगड़ने लगे। गरिमा ओह ओहआह की आवाज़े निकाल रही थी कि अचानक उन्होंने उसकी चूत पर लंड रखा और एक धक्का दिया। गरिमा की बहुत जोर से चीख निकल गई। तभी मैंने देखा कि अंकल का आधा इंच गरिमा की चूत में घुस गया है और गरिमा कह रही थी निकालो प्लीज़ में मर जाऊंगी। फिर अंकल उसे किस करते रहे और उसका मुहं बंद कर दिया और एक जोर का धक्का मारा गरिमा तड़प उठी और अहह माँ मरी की आवाज़ करके रोने लगी।फिर मैंने देखा कि उसकी चूत से खून की धार निकल रही है और अंकल का लंड भी 2 इंच ही अंदर घुस सका और उसकी हालत बहुत खराब हो गई थी और अभी तो बाकी का 7 इंच घुसना बाकी था। तभी में तो डर ही गया था कि यह कैसे घुसेगा.. यह तो हो ही नहीं सकता। तभी अचानक मैंने देखा कि गरिमा बेहोश हो गई और अंकल उठकर पानी लाए और उन्होंने उसके चहरे पर पानी डाला और वो होश में आकर कहने लगी कि मुझे बहुत दर्द हो रहा है प्लीज इसे बाहर निकालो.. लेकिन अंकल ने उसकी एक भी नहीं सुनी और फिर उसके ऊपर चड़ गए और किस करने लगे और कहा कि कुछ नहीं होगा तुम्हे.. पहली बार तेरी माँ को भी बहुत दर्द हुआ था.. लेकिन तेरी चूत इतनी टाईट है कि तेरी माँ की भी नहीं थी.. पता नहीं साली रंडी किस किस से चुदवा कर आती थी। मुझे इतना मजा नहीं आता था उसकी चूत का जितना तेरी चूत में आ रहा है और अपना लंड उसकी चूत पर फिर से रखकर बिना हरकत किए एक ज़ोर का झटका मारा। अब अंकल का लंड उसकी चूत में 5 इंच जा चुका था और गरिमा जोर जोर से चीखने लगी जैसे कोई बिजली गिरी हो और कहने लगी कि आपके लंड ने मेरी चूत को फाड़ दिया है.. लेकिन अंकल कहाँ मानने वाले थे उन्होंने कहा कि यह तो अभी आधा ही घुसा है तुम्हे तो पूरा लेना है।

तभी उसकी आँखों से आंसू निकल आए और वो कहने लगी कि में मर जाऊंगी.. लेकिन पूरा नहीं ले पाउंगी। प्लीज़ आज पूरा मत डालना। फिर अंकल ने अपना लंड वहीं पर रखा और आगे पीछे करने लगे और वो दोनों चुदाई के मज़े लेने लगे.. फिर अचानक से अंकल ने अपना लंड पूरा निकाल लिया और फिर से एक जोर का झटका दिया जिससे उनका 7 इंच का लंड अंदर चला गया। फिर भी दो इंच जाना बाकी था और गरिमा फिर से बेहोश हो गई। तभी अंकल ने उसे बेहोशी की हालत में भी एक और ज़ोर का झटका दिया और पूरा 9 इंच का लंड उसकी चूत में डाल दिया.. यह देखकर में दंग रह गया और अंकल अपना लंड बिना बाहर निकाले उसके चहरे को चाटने लगे। उसे होश आया और अंकल ने कहा कि अब तुम्हे दर्द नहीं होगा। मेरा पूरा लंड तुम्हारी चूत के अंदर चला गया है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी वो चीख पड़ी और कहने लगी कि मेरी चूत में लग रहा है कि किसी ने लोहे का गरम गरम टुकड़ा डाल दिया है.. प्लीज इसे जल्दी से बाहर निकालो।फिर भी अंकल कहाँ सुनने वाले थे उन्होंने अपने आप को 5 मिनट ऐसे ही रखा और उसके बाद धीरे धीरे धक्के देने लगे। गरिमा हर एक धक्के से हिल जाती और चीखती ओह उई माँ उई माँ अब गरिमा जोर जोर से चीखी और कहनी लगी कि में झड़ने वाली हूँ। तभी उसके पापा ने अपनी स्पीड और भी तेज़ कर दी और वो दोनों एक दूसरे से कसकर चिपक गए और फिर अंकल और गरिमा एक साथ दोनों ही झड़ गए। तभी अंकल ने कहा कि आज तो मज़ा ही आ गया इतने दिनों बाद किसी को चोदना मिला है.. लेकिन गरिमा की तो हालत ही बहुत खराब हो गई थी। फिर उसके पापा उस पर से उठे तो उसकी चूत का सुराग साफ साफ दिख रह था और ऐसा लग रहा था कि जैसे कुछ ऊपर नीचे उसके अंदर हो रहो हो। फिर गरिमा ने अपनी चूत पर हाथ रखा और वो रोकर कहने लगी कि मुझे बहुत दर्द हो रहा है.. शायद मेरी चूत फट गई है। फिर अंकल ने अलमारी से दर्द कम होने की एक गोली उसे निकाल कर दी। फिर 15 मिनट बाद दोनों सोने लगे.. फिर में भी अपने कमरे की और चला गया.. लेकिन सोते समय मेरी आँखों में नींद कहाँ थी? फिर में वापस आकर कमरे की और देखने लगा.. अंकल फिर से अपना लंड गरिमा से चुसवा रहे थे और वो फिर से खड़ा हो गया। फिर अंकल ने कहा कि फिर एक बार हो जाए तो गरिमा ने कहा कि नहीं प्लीज अब नहीं हो पाएगा मुझे सू सू लगी है और गरिमा बेड से उतरने की कोशिश कर रही थी.. लेकिन उससे एक कदम भी चला नहीं जा रहा था। फिर अंकल ने उसे गोद में उठाया और सू सू कराने ले गए और वापस गोद में ले आए और गरिमा को बेड पर लेटा दिया और उसके बूब्स फिर से चूसने लगे।

फिर वो उसके ऊपर चड़ गए और फिर से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और हिलाने लगे.. गरिमा को भी अब मजा आ रहा था। तभी अंकल उठे और पता नहीं उन्होंने किस चीज की एक गोली खाई और फिर उसे चोदने लगे। फिर इसी दौरान करीब आधे घंटे तक चोदने के बाद गरिमा दो बार झड़ चुकी थी.. लेकिन अंकल दवाई खाने के बाद झड़ने का नाम ही नहीं ले रहे थे। फिर 1 घंटे बाद अंकल बोले कि अब में तुम्हारी गांड मारूंगा.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकिन गरिमा बोली कि यह नहीं हो सकता.. यह आपका लंड गांड में डालकर मुझे मारना है क्या? मेरी चूत फाड़कर आपको मज़ा नहीं आया क्या? जो मेरी गांड भी फाड़ना चाहते हो? तभी अंकल ने बोला कि तुम्हे दोनों छेद का अनुभव होगा तो ज्यादा अच्छा होगा और यह कहते ही उन्होंने अपना लंड चूत से बाहर निकाला और उसे पलटने को कहा उसने पलटने से मना किया तो अंकल ने उसके गाल पर ज़ोर का थप्पड़ मारा और कहने लगे कि साली रंडी तेरी माँ की मैंने गांड भी कई बार मारी है और में तेरी भी आज ही मारूँगा.. तू समझती क्या है अपने आपको साली? आज में तुझे दुनिया की सबसे बड़ी छिनाल बना कर छोडूंगा और फिर उन्होंने उसे पीछे पलट दिया और वो जोर जोर से फूट फूटकर रोने लगी।फिर अंकल ने उसकी एक भी ना सुनी और अपनी अलमारी से एक तेल निकाल कर लाए और थोड़ा अपने लंड और थोड़ा उसकी गांड के छेद में डाल दिया। तभी वो कहने लगी कि नहीं पापा.. प्लीज़ नहीं.. मेरी गांड तो छोड़ दो। मेरी चूत का तो भोसड़ा आपने बना दिया है.. अब मेरा गांड को मत फाड़ो.. लेकिन अंकल कहाँ सुनने वाले थे और उन्होंने अपना 9 इंच का लंड उसकी टाईट गांड पर रखा और एक ही झटके में 4 इंच लंड घुसा दिया। बैचारी गरिमा चीख पड़ी और एक और झटके के साथ अंकल ने 6 इंच लंड डाल दिया और रुक गए। गरिमा ने कहा कि में मर गई मेरी गांड फट गई। आपका लंड तो लोहे का गरम डंडा लग रहा है में आपकी बेटी हूँ.. कोई रंडी नहीं.. थोड़ा तरस तो खाओ। तभी अंकल ने कहा कि थोड़ा दर्द तो तेरी माँ को भी हुआ था.. लेकिन साली तेरी माँ पूरी छिनाल थी और उसकी गांड पहले से ही भोसड़ा थी। वो कॉलेज टाईम में ही ना जाने किस किस से चुदवा कर अपनी चूत और गांड को चोड़ा करवा चुकी थी और उसने शादी मुझसे कर ली और जब मैंने तेरी माँ की चूत और गांड को मारी तो उसे कुछ हुआ ही नहीं और ना ही उसकी गांड और चूत से खून निकला.. अच्छा हुआ वो मर गई और अपनी बेटी को मुझसे चुदने के लिए छोड़ गई। फिर यह सब सुनकर ऐसा लग रहा था जैसे अंकल ने कभी कोई वर्जिन लड़की नहीं चोदी थी और आज उन्हें गरिमा मिल गई थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। आज वो अपनी सारी प्यास उससे बुझाना चाहते थे। फिर उनका मोटा लंड उसकी गांड में आगे पीछे हो रहा था फिर उन्होंने एक ज़ोर का झटका दिया और अपना पूरा का पूरा लंड गरिमा की गांड के अंदर डाल दिया और जोर जोर से झटके पे झटके देते रहे.. लेकिन अंकल में ना जाने इतनी ताकत कहाँ से आ गई थी? गरिमा की हालत खराब हो गई थी और अंकल झड़ने का नाम नहीं ले रहे थे। करीब आधे घंटे के बाद अंकल ने उसकी गांड में से अपने लंड को बाहर निकाला और उसकी गांड के ऊपर ही झड़ गए उनके लंड ने ढेर सारा क्रीम निकला और वो थक कर ढेर हो गए और कहने लगे तू सचमुच जन्नत है.. मुझे आज तक ऐसी चूत और गांड नहीं मिली। आज से में तुझे रोज चोदूंगा और हर रात तुझसे में अपनी प्यास बुझाऊँगा। थेंक्स रेणु.. ऐसी बेटी देने के लिए।फिर अंकल ने गरिमा से कहा कि आज से तू हर रोज मेरे कमरे में सोएगी और में रोज तुझे चोदूंगा और अंकल सो गए और गरिमा अभी भी रो रही थी। फिर अंकल ने उसे एक और गोली दी और एक ग्लास पानी दिया और फिर दोनों ही सो गए और में भी सोने अपने कमरे में चला गया ।कैसी लगी बाप बेटी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई गरिमा की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/GarimaSharma

Chacha ne berahmi se apni beti ko choda

Ye ek sacchi kahani hai. jaha baap ne apni beti ko choda.Mai bahut chota tha or sex ke bare mai kuch bhi samajh nahi pata tha wo mere sath soti the mujhe nahaliti the mere lund ko kichti the mai kuch bhi samajh nahi pata tha raat ko sote samai wo mere lund mai hath daal ke soti oe mere ko aapna hath aapne boobs pe rakhne ko kahat ye sab hote hote 1 mahine beet gai aachanak 1 din aunty ki tabyat kharab ho gai or unahe hospital le jana pada waha jene per pata chala ki aunty ki lungs mai infection Hi cancer ke jiske karan wo aab chand dino ki meh man hai greeshma aaksar jab mai sota tha to aapene mummy papa ke kamare ke pas rat ko ja kar key hole se kuch dhekhti thi jab mai puch ta tha kya dhekh ti ho to jabab deti ki kuch nahi tumehe dhekhna hai to dhekh lo maine 1 baar dhekha to uncal aunty ko kiss kar rahai the.ye dhekhne ke baad usne kaha tum ja k so jawo mai aati hu is ke baad wo aadhe ghunte baad aye or mero ko kiss karne lagi maine kaha please.

Mujhe sone do or mai so gaye samay bitata gaiya or mai 6 class mai chala gaye greesh ki maa ka lungs ka infection theak nahi hua or 6mihani baad unka dehant ho gaiya greeshma ka admission coll mai ho gaiya greeshma ke aadat mai badlav aagaye ow aaksar aapne kapade door khole ke badalti to kabhi ghar mai kawal bra panty mai ghumati to kabhi mini skert mai to kabhi transparent nity mai uske papa aaksar uspe najar dalate rahete the or or apne boobs Kisi na kisi baha ne se unhe dikhati rahiti thi wo uske pure faida uthate or kabhi mauka milne par uske boobs ko anjan ban ke daba bhi dete jai kuch hua he nahi 1 din maine dhekha ki uncl greeshma ko kapa badalte hue dheakh rahi the or wo jan boojh kar aapne nity ke chain khuli dhod di jab wo bahar aaye to uncal ne uski chain lagai or dhere se uski boobs ko bhi aab greesma kafi khul chuki the or aapne baap se maje lene ki soch mai lagi rahiti the 1 din mai Aapne school se aaye to dhekha ki unsal greeshma se kitchen mai piche se lipete hue  the or usko gall pe kiss kar rahae the mukhe dheakh kar unho ne use chood diye 1 din jab hum so rahi the tab greeshma ke papa ne use bullai or kaha ki unehe sar mai dard ho raha hai greeshma baam unke saar mai laga rahi the or mai sone chala gaiye phir mujhe pata nahi kya hua mai wapas uncal ke kamere  ke woor chala gaiye or key hole se dhekh ne laga maine jo Dhekha us se mai dang rah gaiya greeshma kepapa ne greeshma ke boobs pake hue the or use kiss kar rahai the or kah rahai the bachpan mai bahut chote the aab bahut bade ho gai hai tumahere boobs or use aapne beed pe lata diye or uski salwar kamiz utarne lage greeshma unhe chumane lagi or kahe ne lagi ki itene dine se kry kar rahi hu aapki najar he nahi jati yaha aaj gai hai ,Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.us ke dad ne usse pucha tumahere koi bf hai to usne kaha nahi hai to uncal ne kahi Huuu yani kise se kabhi nahi kiya nahi kabhi nahi kiye ye sunte he uncal uske upar chad gai or uski bra khol di unke bra kholte he uski boobs bahar aa gai uske gool gool boobs ko uncal dhekh te rah gai or kahe laga wah ka boobs hai tumahera lagata hai aaj majaaajaya ga or uske boobs ko aapne hatho mai le ke dabane laga or kiss karne lage ek ke baad 1 boob ko kiss harte or unke nippal ko muh mai le k chush te jisse greeesh ke muh se uhhh ki aawaj nikalti the or

Greesh ma aapane ootho ko katati uncal ne greeshma ki 1 boobs ko aapne aungalio ke beech mai rakh ke kichte or greeshma ohh uhhh karti or uncal maje leta uncal ne aapni shit pant utar di or greesh ma ki panty uatr di uski chut pe kafi ball the uncal ne aapni unali tski chut ke ball pe pharne lage or kahe laga ye to geela ho gaye hai or uske choot ke paas muh je ja ke chate nage yo pagalo ki tarah tadapane lagi or uske papa maje le rahi the unohe ne kaha chulo bath Room mai chalte hai use uthe ke bath room mai le gai or koi 7 min baad aaye uske baad maine dhekha to uske chut ke baal saaf ho gai the or uski chut chamak rahi the ye sab dhekh ke mai dang rah gaiya maine dhekha ki uncal aabhi tak aapna underware nahi utar hai unohe ne greeshma se kah ki chola aab mera underware utaro usne use utar or uski aakkha phat gai unka bada 9inch ka lund dhekh ke aaj tak unka lund usne itne karib se nahi dhekha tha itna Mota or lamba or wah kahe ne lahi baap re itna bada lund meri maa aapne chut mai kaise leti the beeta ghabrao mai phale tumahe maa ko dikat hue the baad mai wo bade aaram se aapne chut mai daall kar maje lete the tumhe bhi bada maja aaraga wo kahe lagi meri chut bahut choti mai nahi le paungi please mujhe chod dijea maine tumhe aabhi kaha kuch kiya hia tum mere lund muh mai lo or ise chusho usne maana kiya use ke baad jabardasti uncal ne.Use aapnea lund hath mai de diya or hillane ko kaha wo tayar ho gai or uncal ke lund ko aage peeche karne  lagi kuch deer aaise karne ke baad uncal use phir chumne laga lip pe or kaha ki muh me lo n please unke request pe usne aapni muh me unka bada lund wo chush ne lagi or uncal ahhh ahhh or joor se or aander lo kah kar uncal maje mai doob gai thodi deer baad uncal ke lund mai se dher sara pani jaisa nikala or greeshma ke boobs per geera diya or usko leta ke uske upar let gai or khene laga maja aaye greeshma ke pasene chut gai the usne kaha ha maja aaya to uncal na kaha aaj yahi so jao bahut maje karenge aabhi to puri raat baki hai bahut maja aaya ga ye aayese he ket gai uncal phi uske boobs chush ne lage or greeshma ke chut se pani neekal gai ,Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.uncal ne phucha maja aaye to usne kaha bahut maje aaye iske bad uncal ne kaha aab tume he or maje dunga or uske pair faila diya ro uske chut

Chatne lage maine dhekha ki unka lund phir se bada ho gaiya hai or wo aachanak uathe or Greeshma ko kiss karne lage oe aapne lund ko greeshma ki chut pe ragadne lage greesh oh oh ah ah ki aawaje nikal rahi the aachanak unho ne uske chut pe lund roka or dhake diye greeshma ki cheekh nilal gai maine dhekha ki uncal ka 1/2 inch greesh mai ki chut mai ghush gaiya hai pr greeshma kah rahi the nikalo please mai maar jayungi uncal ne use kish karte hahe or uska muh band kar diya or 1 goor ka haka maar greeshma tadap uathi or gu gu gu ki Aawaj karke rone lagi maine dhekha uske chut se khoon ki dhar nikal rahi hai ro uncal ka lund aanhi 2 inch he undar ghush ahai uski halat bahut kharab ho gai the or aabhi to baki ka 7 inch ghush na baki tha mai to dar he gaye the ke ye kaise ghuse ga ye to ho he nahi sakata aachanak maine dheekha ki greesh ma behosh ho gai uncal dowd ke pani laye or us ke chare pe pani dala or wo kahene lagi ki mujhe bahut dard ho raha hai uncal ne uski 1 bhi nahi suni or phi uske upar chad gai or kiss karne lage or kaha kuch nahi hoga tumhe pahila baar teri maa ko Bhi dard hua tha lakin teri chut itni tite hai teri maa ki nahi the pata nahi saali randi kis kis se chudawa ke yai the mujhe itna maaja nahi aata tha uske churt ka jitena teri chut mai aa raha hai or aapne lund uske chut pe phir se rakh kar bine harkat kiye 1 jor ka jhata ka maar aab ungal ka lund uske choot mai 5 inch ja chuka tah or greesh ma joor ke cheekhi jaise koi beejali greeho or kahe lagi aapka lund mere bachadeni ko phar diya uncal kaha manane wale the Unho ne kaha ye to aabhi aadha he ghusha hai tumhe pura lene hai uski aakho se aasu nikal aaye or kahe lai mai maar jayungi lakin pura nahi le paungi please aaj pura mat dalna uncal ne aapne lund wahi rakh ke aagr phche karne lage we done maje lene lage aachanak se uncal ne aapna lund pura nikal liye Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.or phir se joor ka jhata diya jise se unka 7 inches jund unde chala gaiya aanhi bhi 2 inch jana baki tha or greesh ma phir se behosh ho gai uncal ne use behosi ki Hat mai bhi 1 or jor ka jhataka diya or pura 9inch ka lund uski chut mai daal diya ye dekh kar mai dang rah gaiya uncal ne aapna lund bina bahar nilale uske chere ko chatene lage use hoos aaye or uncal ne kah aab tumehe dard nahi hoga mera pura lund tumahere under chala gaye hai woo cheekh padi or kahene lagi mere chut mai lag raha cai kisi ne lohe ka garam garam loha daal diya ho plz bahar nikalo uncal kaha sune wale the wo aapn aap ko 5 min aaise he

Rakhre or uske baad dheer dheer jhate ke dene lage greeshma har ek jhateke se pheeche jati or chikh ti oh ui maa ui maa aab greesh maa joor se cheekhi or kaheni lagi mai jheerne wali hu uske papa ne aapni speed or bhi tez kar di or done ek dusere se kas ke chupat gai or uncal or greeshma ghar gae uncal ne kaha aaj to maja he aa gaye itene dino baab kisi ko chodene milla hai lakin greeshma ki to halat he kharab ho gai the uske dad usper se uathe to uske chut ka Surong saaf dikh rah tha or aaisa lag raha tha jaise kuch upar niche uske ander ho raho ho phir greeshma ne aaphi chut pe hath rakhi or kahe lagi mujhe bahut dard ho raha hai meri chut phat gai hai .phir uncal ne almari se pain killer nikal ke usko diya phir 15 minat baad dono sone lage phir maine aapne kamere ki or chala lakin sote samai mere aakho mai neend kahe the mai Wapas aa ke kamere ki or dhekhne laga uncal aapne phir se lund greeshma se chush wa rahai the or wo phir se khada ho gai phir uncal ne kaha phir ek baar ho jai to greeshma ne kahi nahi plz aab nahi ho payaga mujhe susu lagi hai greeshma bed se utarne ki kosis kar rahi the lakin 1 kadam bhi usse nahi chala ja raha tha phir uncal ne use good mai utha ke susu karene le gai or wapas good mai le aaye or uske boobs phir se chush ne lage greeshma ko bed pe letete he Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.Wo uske upar chad gai or phir se aapna lund uske chut mai daal diya or hilane lage greeshma ko bhi maje aarahai the tabhi uncal uthe or pata nahi 1 goli khai or phir use chod ne lage isi doran karib 1/2 chodene ke douran greeshma2 baar ghad chuki thi lakin dawai khane ke baad   jhadne ka naam he nahi le rahai the 1 ghante baad uncal boole aab mai tumahiri gand marunga greeshma boli ye nahi ho sakata mai to ye aapka lund gand mai dalu mujhe marna hai kya meri Chut phad ke aapko maja nahi aaya kya jo meri gand marna chate hai uncal ne boola ki dono chedo mai experience ho ga to jada aacha hoga or yr kahe te he unho ne aapni lund chut se bahar nikal le or use palat ne ko kaha usne palatene se mana kiya to uncal ke uske gaal pe jor ka chata maera or kahane lage to saali randi meri maa ki maine gand mari hai or tri bhi aaj he marunga to samajhti kya hai aapne aap ko to saali aaj mai tukhe dunia ka sabase badi chanel

Bane ke chudaunga or use pheeche palat diya or wo joor joor se phoot phoot ke rone lagi uncal ne uski 1 bhi na sumi or aapnee almeri se 1 tel nikal ke je aaye or thoda aapne lund or thode uske gand ke cheed mai daal diya wo kahani lagi no dad please no meri gand to chod meri choot ka to bhosade aapne bana diya hai aab mera gang ka mat banao kaha sune wale the unohe ne aapne 9 inch ka lund uske tight gand pe rahki or 1 he jhateke mai 4 inch ghusa di Bechari greeshma cheekh padi or 1 or jhate ke sath uncal ne 6 inch pel de or ruk gai greesh ma ne kahamai maar gai meri gand phat gai aapka lund nahi ye to lohe ka garam danda lag raha hai mai aapki beti hu koi randi nahi thode tara to kahiya uncal ne kaha thoda durd to teri maa ko bhi hua tha lakin saali teri maa puri chanal thi uski gand phale se he bhosad the call time mai na jane ki kis se chud kar aapne chut or gand chuda karwa liya tha or saadi mere se kar liye jab maine teri maa ki chut ko gand mari to use kuch hua he nahi or nea he uske ganda or Chut se khun nikeli aacha hua maar gai or aapni beti mujhse chudne ke liye chod gai ye sab sun kar aaysa lag raha tha jaise dad ko kabhi koi mom ke aawali ladki nahi chodi the or aaj unehe greeshma mill gai the aaj wo aapna saare payas usse bhujane chate the unka mota lund us ke gand mai aage piche ho raha tha ek jor ka jhataka diya or aapna sara lund greeshma ke ander daal diya Aap ye kahani newhindisexstory.com paar paad rahe hai.or jhateke pe jhatke de te rahai uncal mai na jane itni tagat kaha se aa gai The greesh ki halat kharab ho gai the or uncal jhadne ka naam nahi le rahai the 1/2 hr baad uncal ne uski gand mai se aapna lund ko bahar nikala ar uske gand pe jhar gai dher sara cream unhe lund se nikala or wo dhear ho gai kahene laga to to sach much jannat hai mujhe aaj tak aaisi chut or gand nahi mill aaj se mai tujhe rooj chuduanga or har raat tujh se mai aapni payass bujhunga thanks renu aaisi beti dene ke liye phir uncal ne greeshma se kaha aaj Se to har roj mere kamere mai soyagi or mai rooj tujhe choudunga or uncal so gai or greeshma aabhi bhi ro rahi thi phir uncal ne use 1 or goli de or 1 glass pani diya or phir done he so gai or mai bhi sone aapne kamere mai chala gaiya.. friends kaisi lagi meri cousin sister ki sex kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri cousin sister ki chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/GeetaSharma

सेक्स कहानियाँ,Chudai kahani,sex kahaniya,maa ki chudai,behan ki chudai,bhabhi ki chudai,didi ki chudai

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter