loading...
loading...

सहेली की भाई का लुंड से मेरी सील टूटी

शादी के बाद मेरे पति 15 दिन ही मेरे साथ रहे.. उसके बाद वो मलेशिया चले गए, बोले- जल्दी ही मेरा वीसा बनवा कर मुझे ले जायेंगे। शादी के बाद मैं मायके आ गई। एक दिन मेरी सहेली ममता कैफ़े में बैठे थे.. तो उसके भाई का भी वहाँ आ गया।उसका नाम राहुल था.. वो देखने में बहुत ही स्मार्ट था, मैं उसको देखती ही रह गई।ममता ने उससे मेरा परिचय करवाया।हम दोनों एक-दूसरे को देखते ही रह गए यह बात ममता ने नोट कर ली।
वो जैसे मेरे मन को भा गया।मैं जब भी ममता के घर जाती वो मुझे वहाँ मिल ही जाता था.. उसको देख कर मेरे चेहरे पर एक मुस्कान सी आ जाती थी।यह बात ममता समझ रही थी।एक दिन उसने मुझसे कहा- राहुल तुझसे दोस्ती करना चाहता है।मैंने तुरंत हामी भर दी.. ममता ने मेरा जबाव उस तक पहुँचा दिया।दूसरे दिन जब हम दोनों कैफ़े में बैठे थे.. तो ममता ने राहुल को फोन करके बुला लिया।जैसे ही राहुल आया तो ममता मुझसे बोली- यार मुझे जाना है.. तू राहुल से बात कर.. मैं अभी 1 घंटे में आती हूँ।ऐसा कह कर वो चली गई..

भाई का लुंड से मेरी सील टूटी
सहेली की भाई का लुंड से मेरी सील टूटी

हम लोगों ने एक-दूसरे से बात की.. उसके बाद उसने मेरा फ़ोन नंबर ले लिया और वो चला गया।हमारी फ़ोन पर बात शुरू हो गई.. धीरे-धीरे मैं उसकी तरफ खिंचने लगी। ममता भी मुझे उसका नाम ले कर छेड़ने लगी थी।लगभग दस-बारह दिनों में ही हम एक-दूसरे के करीब आ गए थे।एक दिन मैं और ममता कैफ़े के केबिन में थे.. जो कि एक प्राइवेट केबिन जैसा था.. जहाँ कोई आता नहीं था। वहाँ राहुल आ गया। ममता ने उसको मेरे पास बैठा दिया और बोली- राहुल जब से तुम इसको मिले हो.. तब से यह बहुत खुश रहती है। मैं इसको ऐसे ही खुश देखना चाहती हूँ।उसने मेरे कंधे पर हाथ रखा और बोला- आप फिकर मत करो। मैं इसको ऐसे ही खुश रखूँगा..
फिर ममता बोली- तुम लोग बात करो.. मैं जाती हूँ।जैसे ही वो गई.. उसने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मेरे होंठों को हल्के से चूम लिया।मैं कुछ कहती.. इतने मैं तो उसने मेरा हाथ में अपने लौडा पर से छुआ दिया..मैं हैरान रह गई और वहाँ से चली गई लेकिन मेरे आँखों के सामने उसका चेहरा घूमने लगा।लेकिन तभी मुझे मेरे पति की याद आ गई.. मैं उनसे धोखा नहीं करना चाहती थी।फिर राहुल ने मुझे फ़ोन किया.. उसका नंबर देखते ही मुझे फिर से पता नहीं क्या हो गया।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने फोन उठाया तो उसने सीधा बोला- आई लव यू..मेरे मुँह से भी निकल गया- आई लव यू टू..फिर तो वो बहुत खुश हो गया और मेरी तारीफ़ करने लगा कि मेरा साइज़ बहुत मस्त है.. मेरे मम्मे बहुत मस्त हैं। मेरा साईज उस समय 34-28-36 का था।उसने मुझसे कहा- तुम मुझे किस करो।मैंने मना कर दिया तो बोला- अरे फोन पर तो चुम्मा दे दो।मैंने उसको ‘पुच्च…’ की आवाज निकाल कर किस दे दिया..उसके बाद से हम रोज सेक्स पर भी बात करने लगे।मैं अन्दर से सुलगने लगी.. लेकिन अपने पति के बारे में सोच कर आगे नहीं बढ़ रही थी। वो कई बार मुझसे रात को मिलने की जिद करता था। मेरा भी खूब मन करता था.. पर मैं मना कर देती थी, मैं अपने पति को धोखा नहीं देना चाहती थी।

इस बात के बारे में ममता को मैंने बता दिया तो उसने कहा- जो तेरी इच्छा हो वो तू कर।हम लोग मिलते थे.. तो वो मुझे किस भी करता था और सेक्स की मांग करता था.. बात यह थी कि मैं रात को बाहर नहीं जा सकती थी इसलिए वो संभव नहीं था।मेरी शादी को लगभग दो महीने होने वाले थे.. तभी ममता ने बताया कि उसकी बहन और उसके भाई की शादी फिक्स हो गई और उसने मेरे घरवालों से बात कर ली कि मैं 7 दिन के लिए उसके वहाँ रहूँगी।इस बात के बारे में मैंने राहुल को बताया तो वो बहुत खुश हुआ। ममता की बहन की शादी से एक दिन पहले महिला संगीत को उसने मुझे मना लिया कि मैं उसके साथ रात को खाने पर उसके घर आऊँ।मैं तैयार हो गई.. क्योंकि घर पर उसका परिवार होगा.. महिला संगीत रात को 8 से 11 बजे तक था। उसके बाद मेहंदी और बाकी की रस्में थीं..मैंने काली साड़ी पहनी.. इसमें में बहुत ही मस्त लग रही थी।मैंने ममता को बताया- मैं राहुल के साथ उसके घर जा रही हूँ.. डिनर पर.. दस बजे तक आ जाऊँगी।तो वो बोली- जानेमन मत जा.. वरना तू सुबह तक भी नहीं आ पाएगी।
मैंने पूछा- क्यों?
तो वो बोली- आज वो तेरे साथ सुहागरात मनाने वाला है.. आज वो तुझे रात भर जम कर चोदेगा.. आज रात वो अपनी इच्छा पूरी करके ही रहेगा।मैंने कहा- नहीं यार.. उसके घर पर उसका पूरा परिवार है.. ऐसा कुछ नहीं होगा।तो ममता बोली- मेरी जान उसका परिवार तो अभी यहाँ आने वाला है.. और 4 दिन तक यहीं रहेगा और वैसे भी तू आज बहुत सुंदर लग रही है.. वो आज तुझे नहीं छोड़ेगा।मैंने कहा- वैसे तो ऐसा होगा नहीं.. फिर भी अगर हो ही गया.. तो फिर हो जाने दे.. देखा जाएगा।तो ममता बोली- ठीक है मेरी जान.. मतलब यह कि आज तेरा पूरा मन हो गया है कि आज तो अपना सब कुछ उसको देकर ही रहेगी..मैं बोली- यार बेचारे को बहुत तरसा दिया है.. अब आज मौका मिला है तो कर लेने दो.. उसकी मुराद पूरी..मैंने मजाक करते हुए कहा तो ममता बोली- फिर जा.. तेरी मर्जी.. अपना ख़याल रखना।मैं वहाँ से निकल पड़ी.. राहुल की गाड़ी में जैसे ही बैठी.. तो राहुल बोला- आज तो तुम क़यामत लग रही हो.. बहुत ही खूबसूरत।मैं मुस्कुरा दी।हम दोनों उसके घर पहुँचे.. सबने खाना खाया और उसके परिवार वाले ममता के घर को जाने लगे।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो राहुल बोला- अम्मी मैं रूबी को लेकर आ जाऊँगा.. आप गाड़ी भेज देना।वो लोग चले गए और घर पर सिर्फ मैं और राहुल रह गए थे।मुझे लगने लगा कि ममता सही कह रही थी.. मन तो मेरा भी बहकने को था.. पर अपने पति का ख़याल मुझे बहकने नहीं दे रहा था।राहुल मुझे अपने कमरे में ले गया कमरे में अँधेरा था.. जैसे ही उसने लाइट जलाई.. तो पूरा कमरा फूलों से सजा हुआ था.. जैसे सुहागरात की सेज सजी हो।मैंने पूछा- राहुल.. यह क्या है?तो वो बोला- डार्लिंग आज हमारी सुहागरात है।ममता ने सही कहा था। मेरा मन भी मुझे अब धोखा देने लगा था। मैं कुछ कहती.. उससे पहले राहुल ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मुझे चूमने लगा।मेरे नाजुक से ठोस मम्मे दबाने लगा.. मैं गर्म होने लगी थी और मेरा मन भी फिसलने लगा.. लेकिन मैंने खुद को संभाला और राहुल को मना किया- मैं यह नहीं करूँगी।
राहुल मुझे समझाने लगा.. पर मैं नहीं मानी.. तो उसने कहा- ठीक है.. हम चुदाई नहीं करेंगे.. जब तुम कहोगी.. तभी करेंगे.. पर आज बहुत दिनों के बाद मौका मिला है.. थोड़ा प्यार तो करने दो। आज अपनी इन मस्त-मस्त चूचियों के दीदार तो करा दो। मैं वादा करता हूँ कि जब तक तुम नहीं कहोगी.. मैं तुमको चोदने की कोशिश भी नहीं करूँगा। बस एक बार अपने सन्तरे तो दिखा दो।

मैं उसकी बातों में आ गई और मैंने अपना ब्लाउज और ब्रा उतार दिया। ब्रा उतारते ही मैंने अपनी मम्मे हाथ से ढक लीं।राहुल बोला- अब पूरे दीदार करवा दो यार..तो मैंने अपने हाथ हटा लिए.. राहुल उनको देखता रह गया और उसने उनको छूने के इजाजत मांगी। मैंने मना किया.. पर वो नहीं माना और उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मेरी मम्मे मसलने लगा।पहली बार कोई अजनबी मेरे नंगे बदन को इस तरह से मसल रहा था। जैसे ही उसने मुझे छुआ.. मेरी ‘आह..’ निकल गई। बस उसने भांप लिया और वो धीरे-धीरे मेरी मम्मे दबाने लगा।
अब तो मैं मदहोश होने लगी.. वो मेरे बदन के साथ चिपक गया और मुझे चूमते हुए.. मेरे मम्मे दबाते हुए.. उसने धीरे से उसने मेरे पेटीकोट के नाड़े को खोल दिया।मुझे तब पता चला जब मेरी साड़ी नीचे सरक गई। फिर उसने मुझे सँभलने नहीं दिया। उसने मेरे कान के नीचे से चूमते हुए मुझे उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे चूचों को चूसने लगा और दबाने लगा।मैं अपने होश खोने लगी थी.. मेरी ‘आहें..’ निकलने लगी थीं.. मेरी चुनमुनियाँ से पानी निकलने लगा था। मैं अब पूरी तरह से उसके बस में थी।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी उसने अपना हाथ मेरी पैन्टी के अन्दर डाल दिया और मेरी चुनमुनियाँ को सहलाने लगा।मेरी चुनमुनियाँ पर उसका हाथ लगते ही मैंने अपने होश पूरे खो दिए, मैं भूल गई कि मैं शादीशुदा हूँ और मैंने राहुल को अपनी बांहों में भर लिया और उसको बोली- प्लीज..ज..ज… राहुल अब मत तड़पाओ न.. कुछ करो ना..
वो बोला- क्या करूँ?
मैंने कहा- चोदो मुझे..
वो बोला- मुझे अपनी चुनमुनियाँ के दीदार तो करवाओ..
मैंने कहा- अँधेरा करो.. मुझे शर्म आ रही है।
उसने लाइट बंद की और अपने कपड़े उतार कर मेरे पास आ गया। उसने मेरी पैन्टी उतारी और उतारते ही नाईट लैंप जला दिया।
मैंने अपना मुँह छुपा लिया.. जैसे ही मैंने मुँह छुपाया.. उसने अपना लौडा मेरे हाथ में दे दिया। उसका लौडा देख कर मैं डर गई.. 6 से 7 इंच लंबा और बहुत मोटा था।
मैंने उसको बोला- राहुल यह तो बहुत मोटा है.. अन्दर कैसे जाएगा?
तो वो बोला- मेरी जान यह अन्दर भी जाएगा और तुमको जन्नत की सैर करवा कर आएगा..
फिर उसने मेरी चुनमुनियाँ पर अपनी जीभ रख दी.. मैं तड़प उठी, वो मेरी चुनमुनियाँ चाटने लगा, मैं ‘आहें..’ भरने लगी।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। थोड़ी देर में मैं तड़पने लगी और बोली- राहुल.. प्लीज.. मत करो ऐसा.. अब चोद भी दो..राहुल बोला- जानेमन इतनी शानदार चुनमुनियाँ.. तू तो एकदम फ्रेश माल है.. बेवकूफ़ है तेरा पति.. जो इतना मस्त माल छोड़ कर लौडान चला गया। मेरी जान तुमको थोड़ा दर्द होगा.. लेकिन फिर मजा खूब आएगा। अब तुम तैयार हो जाओ।फिर उसने अपने लौडा में तेल लगाया और मेरी चुनमुनियाँ में धीरे से अपने लौडा को रखते हुए एक जोर से झटका दिया।उसका आधा लौडा मेरी चुनमुनियाँ में घुस गया।मैं जोर से चिल्ला उठी। मैंने राहुल को धकेलने का प्रयास किया.. पर वो मुझसे वजन में इतना भारी था कि मैं उसको हिला भी नहीं पाई और छटपटा कर रह गई।मैंने उससे विनती की- मुझे छोड़ दे..पर वो नहीं माना और मुझे चूमने लगा और मेरे निप्पलों को चूसने लगा। करीब 5-10 मिनट के बाद उसने धीरे-धीरे अपने लौड़े को मेरी चुनमुनियाँ में अन्दर-बाहर करना शुरू किया।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मुझे आनन्द की अनुभूति होने लगी और मैं भी उसको सहयोग देने लगी।फिर तो मेरी आवाजें पूरे कमरे में गूंजने लगीं। लगभग 10 मिनट तक हमारी चुदाई चली। उसके बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए।मैं उसकी बांहों में ही थोड़ी देर लेटी रही..हमने टाइम देखा तो 10 बज रहे थे.. तभी ममता का फ़ोन आ गया- हैलो.. रूबी.. तू कहाँ हैं? इधर कब पहुँच रही है? ‘यार ममता.. राहुल के साथ हूँ.. मुझे बहुत नींद आ रही है.. अब कल सुबह ही आऊँगी..’‘कहीं राहुल ने तुझे खा तो नहीं लिया.. माल बन कर गई थी न.. उसके घर..’‘हाँ यार.. खा लिया उसने..’‘मैंने तुझसे कहा ही था कि ऐसा होगा.. पर तुम नहीं मानी.. अब तो तुम सुबह ही आ पाओगी..’‘हाँ..’‘ओके.. खूब मस्ती करो.. बाय… गुड नाईट..’फोन रखते ही राहुल ने मुझसे बोला- वास्तव में.. तुम बहुत मस्त चीज हो.. आज मैं तुमको रात भर सोने नहीं दूँगा।फिर हम दोनों ने रात भर चुदाई की.. रात भर में उसने मुझे कई बार चोदा।कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी प्यासी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो अब जोड़ना चुदाई की प्यासी औरत

1 comments:

loading...
loading...

सेक्स कहानियाँ,Chudai kahani,sex kahaniya,maa ki chudai,behan ki chudai,bhabhi ki chudai,didi ki chudai

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter