Hindi Sex Story & हिंदी सेक्स कहानियाँ

Hindi me sex kahani, chudai ki kahani, new sex story hindi, चुदाई की कहानी, desi xxx hindi sex stories, हिंदी सेक्स कहानियाँ, adult sex story hindi, hindi animal sex stories, brothe sister sex xxx story, mom son xxx sex story, devar bhabhi ki xxx chudai ki story with hot pics, xxx kahani, real sex kahani hindi me, desi xxx chudai story, baap beti ki real xxx kahani with desi xxx chudai photo

बीबी और मेरी भाभी की चुदाई कहानी

चुदाई कहानी, bhabhi ki chudai, हिंदी सेक्स कहानी, Chudai Kahani, 30 साल की सेक्सी भाभी को चोदा sex story, भाभी की प्यास बुझाई xxx kamuk kahani, भाभी ने मुझसे चुदवाया, bhabhi ki chudai story, भाभी के साथ चुदाई की कहानी, भाभी के साथ सेक्स की कहानी, bhabhi ko choda xxx hindi story, भाभी ने मेरा लंड चूसा, भाभी को नंगा करके चोदा, भाभी की चूचियों को चूसा, भाभी की चूत चाटी, भाभी को घोड़ी बना के चोदा, 8 इंच का लंड से भाभी की चूत फाड़ी, भाभी की गांड मारी, खड़े खड़े भाभी को चोदा, भाभी की चूत को ठोका,

कोमल से चला नहीं जा रहा था। तभी मैंने उसे उठाकर नहलाया और खाना बनाया फिर भाभी के कमरे में उसे लेटा दिया और आराम करने को कहा और भाभी की चूत को गरम पानी से सेका और कुछ दर्द की दवाई दी जिसे ख़ाकर वो सो गयी और जब वह रात को उठी तब वो कुछ ठीक लग रही थी।
फिर मैंने भाभी को और कोमल दोनों को नंगा किया और खुद भी नंगा हो गया और फिर उसकी चुदाई करने लगा लेकिन आज भी उसे उतना ही दर्द हो रहा था.. करीब 5 दिनों के बाद उसका दर्द कम हुआ। फिर उसके अगले दिन मैंने उसकी चुदाई की तो मैंने बहुत ज़ोर ज़ोर से धक्के मारे और वो भी मजे कर रही थी। फिर अगले दिन मैंने भाभी से कहा कि मुझे गांड मारने का मन कर रहा है। तभी भाभी बोली कि प्लीज़ ऐसा मत करो। तभी मैंने कहा कि आपकी गांड नहीं में तो कोमल की गांड मारना चाहता हूँ। फिर भाभी बोली कि ऐसा करना भी मत वो बच्ची मर जाएगी। फिर मैंने कहा कि आप उसकी चूत के समय भी ऐसा ही कह रही थी इसलिए में आज रात उसकी गांड मारूँगा। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर में मुस्कुराया और भाभी को किस करके कहा कि अब अपनी सौतन को सजाकर रखना रात में सुहागरात मनाऊंगा और बाहर घूमने चला गया। फिर में रात के 9 बजे घर लौटा और में कुछ बियर की बॉटल ले आया था। फिर मैंने घर आकर खाना निकालने को कहा और हम तीनों खाना खाने लगे और उसी समय मैंने कहा कि आज कोई पानी नहीं पिलाएगा क्या? प्यास लगने पर बियर की बॉटल कि और इशारा करके उसे पीने को कहा और हमने वैसा ही किया उन दोनों को वो कड़वी लगी। क्योंकि उन्होंने पहली बार पी थी। जिससे उन्हे थोड़ा नशा भी आने लगा फिर हम खाना ख़ाकर उठे और मैंने दोनों को नंगा किया और कोमल को कहा कि

वो भी मुझे नंगा करे तो उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और में भी नंगा हो गया फिर में उन दोनों को लेकर नहाने चला गया और हम एक घंटे तक नहाते रहे। फिर में दोनों के साथ बेडरूम में गया और मैंने भाभी को कहा कि वो कोमल को तेल लगा दे ख़ासकर पीछे। तभी भाभी समझ गयी और उन्होंने कोमल को उल्टा लेटाकर उसकी गांड में खूब तेल लगाया।थोड़ा तेल मेरे लंड पर भी लगा दिया। फिर मैंने कोमल को कुतिया की तरह करके उसकी गांड पर लंड टिकाया और के खूब ज़ोर का धक्का दे दिया वो इतनी ज़ोर से चीखी की पूरा रूम गूँज उठा और मेरा आधा लंड अंदर चला गया लेकिन कोमल को तो कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था.. वो केवल चीख रही थी और छोड़ने की गुहार कर रही थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तभी भाभी ने कहा कि थोड़ा धीरे करो लेकिन मैंने उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और फिर एक ज़ोर का धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड अंदर चला गया और कोमल चीख के साथ ही बेहोश हो गयी और उसकी गांड से खून निकलने लगा तब मैंने भाभी को कहा कि कोमल पर पानी डाले तब पानी डालने पर कोमल होश में आई और गिड़गिड़ाने लगी की मुझे छोड़ दो। लेकिन में फिर तेज़ी से गांड मारने लगा और कोमल फिर दूसरी बार बेहोश हो गयी और आधे घंटे के बाद में उसकी गांड में झड़ गया और उसके ऊपर ही गिर गया। सुबह जब में उठा तब मैंने देखा कि भाभी बेड पर नहीं है और कोमल वैसे ही पड़ी है वो दर्द से तड़प रही है मैंने उठकर फिर उसकी गांड मारी जबकि परी मुझे मना कर रही थी

लेकिन मैंने भाभी की बात नहीं सुनी और मैंने देखा कि कोमल की हालत खराब हो चुकी है तब में बाज़ार गया और दवाई लाकर दी जिसे ख़ाकर कोमल को कुछ राहत हुई और उसके बाद 5 दिनों तक मैंने कोमल की गांड नहीं मारी लेकिन में रोज उसकी चूत ज़रूर मारता था। जिसमे भी उसे बड़ा दर्द होता था। लेकिन फिर भी चूत में उसे कुछ राहत थी और 5 दिनों के बाद जब उसकी गांड ठीक हुई तो मैंने फिर भाभी को उसकी गांड पर तेल लगाने को कहा तो भाभी जब उसकी गांड पर तेल लगाने लगी तो वो समझ गयी कि में उसकी गांड मारने वाला हूँ और उसने तेल नहीं लगवाया। फिर जब रात हुई तो मैंने उसे नंगा किया तो उसने कहा कि गांड नहीं.. वहाँ पर बहुत दर्द होता है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तब मैंने कहा कि ठीक है और भाभी की चूत में लंड डाल दिया और जब वो चुदाई में खोई थी तभी मैंने लंड निकाला और उसकी गांड पर टिकाकर एक ज़ोर का धक्का दे दिया और मेरा आधा से ज्यादा लंड कोमल की गांड में घुस गया और वो दर्द से चिल्ला उठी।तभी भाभी ने कहा कि अगर तुम तेल लगवा लेती तो तुम्हे इतना दर्द नहीं होता। फिर मैंने उसकी गांड मारी इस बार उसे दर्द तो हुआ लेकिन कुछ देर बाद मज़ा भी आने लगा और 20 मिनट के बाद में उसकी गांड में झड़ गया और उस रात मैंने उसकी गांड एक बार और मारी लेकिन हर बार उसे उतना ही दर्द होता था क्योंकि उम्र कम होने के कारण अभी बीबी की चूत और गांड ठीक से खुली नहीं थी। फिर एक महीने की लगातार चुदाई के बाद कोमल की चूत और गांड मेरे लंड को आसानी से लेने लगी।

फिर जब अगले 3 महीनो तक जब तक भाभी को बच्चा नहीं हुआ तब तक में कोमल को चोदता रहा। फिर 3 महीने के बाद भाभी को ऑपरेशन से लड़का पैदा हुआ और डॉक्टर ने कम से कम एक महीने तक सेक्स करने से मना किया। परी भाभी जब घर आ गयी तब मैंने कोमल को कहा कि वो हॉल में सोए और मुझे जब चोदने का मन होता तब में हॉल में बीबी को चोद लेता और भाभी के साथ नंगा सोता था। जब भाभी मुन्ने को दूध पिलाती तो में भी दूसरी चूची में मुहं लगाकर चूसता था और डिलवरी होने के 15 दिन के बाद भैया 15 दिन की छुट्टी लेकर घर आए तब मेरी और कोमल की चुदाई भी बंद हो गयी। फिर भैया बच्चे को देखकर बहुत खुश हुये। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकिन वो डॉक्टर के मना करने के कारण भाभी को चोद नहीं पा रहे थे लेकिन अपना लंड रोज़ दो बार भाभी के मुहं में देकर अपने लंड का पानी ज़रूर गिराते थे। फिर अंतिम दिन उनसे रहा नहीं गया और उन्होंने भाभी की चूत तो नहीं लेकिन गांड ज़रूर मारी और फिर ड्यूटी पर चले गये।मैंने भी 15 दिनों से चूत की चुदाई नहीं की थी इसलिए मेरा लंड तड़प रहा था फिर भैया के जाने के अगले दिन हम डॉक्टर के पास गये उसने चेकअप किया और कहा कि आप ठीक है टांके भी सूख चुके है। फिर मैंने चलते समय डॉक्टर से पूछा कि क्या अब हम सेक्स कर सकते है? ये सुनकर भाभी शरमा गयी और अपने हाथों से अपना चेहरा ढक लिया। तो डॉक्टर ने कहा कि हाँ बिल्कुल अब कोई प्राब्लम नहीं है।

क्योंकि में ही हमेशा भाभी के साथ डॉक्टर के पास जाता था इसलिए डॉक्टर यही सोचता था कि में ही उनका पति हूँ। फिर हम घर आ गये और रास्ते से ढेर सारे फूल और ढेर सारे कॉंडम ले लिये.. तो भाभी ने मुझसे पूछा कि इन सबका अब क्या करोगे? तभी मैंने कहा कि मुन्ने के सामने सुहागरात मनाऊंगा.. ठीक उसी तरह जैसे पहली बार तुम्हारी सील तोड़ी थी। फिर भाभी थोड़ी हंस दी। फिर मैंने घर आकर कोमल को सारा समान दे दिया और भाभी ने उसे समझा दिया कि उसे किस तरह से सजाना है। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर कोमल रूम को सजाने लगी और में थोड़ी देर के लिए बाज़ार चला गया और वाईन और बियर की बोतल ले आया।जब रात हुई तो हम खाना खा चुके थे। फिर मैंने पानी की जगह वाईन पिलाया और जब हल्का नशा हो गया तब मैंने भाभी को गोद में उठाया और रूम में सेज़ पर ले गया भाभी बोली कि तुम कुछ देर के लिए बाहर जाओ। तभी मैंने पूछा कि क्यों? फिर उन्होंने कहा कि ऐसे ही, फिर में 10 मिनट के लिए बाहर आया और कोमल को किस करने लगा और जब में वापस रूम में गया तो भाभी अपनी शादी का जोड़ा और गहने पहनकर तैयार थी। फिर में उनके पास गया और बोला कि भाभी.. तभी उन्होंने कहा कि परी कहो। फिर मैंने कहा कि परी आज तुम बहुत खूबसूरत लग रही हो। फिर उन्होंने अपनी नज़रे नीची कर ली। फिर मैंने उनका घूँघट उठाया और उन्हे किस करने लगा। आधे 10 मिनट तक में और परी एक दूसरे को किस करते रहे।

में आज पूरी रात उन्हे चोदना चाहता था। फिर मैंने उनकी साड़ी खोल दी और उनका ब्लाउज और ब्रा खोलकर उसे दबाने और चूसने लगा लेकिन इस बार जब में चूची चूसता था.. तो मेरा मुहं दूध से भर जाता था। फिर में आधे घंटे तक उनका दूध पीता रहा मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। फिर वो बोली कि क्या केवल दूध ही पीने का इरादा है? तभी मैंने उनकी पेंटी और पेटीकोट खोलकर उन्हे पूरा नंगा किया और चूत चाटने लगा और 1 घंटे तक चाटने के बाद वो मेरे मुहं में झड़ गयी और सिसकियाँ लेने लगी और हमे ध्यान ही नहीं था कि कोमल दरवाजे पर खड़ी होकर ये सब देख रही है और अपनी उंगली को चूत में घुसा कर आगे पीछे कर रही है।फिर मैंने कहा कि परी ये चुदाई.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। सुहागरात से भी ज्यादा यादगार बना दूँगा और तुम मेरे लंड की दीवानी बन जाओगी। आज के बाद तुम्हे मेरे सिवाए किसी और का लंड अच्छा नहीं लगेगा। तभी परी बोल पड़ी की वो कैसे? फिर मैंने कहा कि बस देखती जाओ। फिर मैंने अपना लंड परी के मुहं में डाल दिया और वो मेरा लंड चूसने लगी 5 मिनट के बाद मैंने परी के मुहं से लंड बाहर निकाला और में उठकर अलमारी में रखा आर्टिफिशियल लंड निकाल लाया और उसमे बेल्ट लगा था और उसे मैंने अपनी कमर में पहन लिया तो मेरे 2-2 लंड दिखाई देने लगे।फिर मैंने भाभी को कुतिया की तरह से उल्टा किया और अपना असली लंड उनकी चूत के छेद पर रखा और आर्टिफिशियल लंड को उनकी गांड के छेद पर रखा और

फिर मैंने पूछा कि परी तैयार हो ना? तभी परी बोली कि हाँ 6 महीने के इंतजार के बाद ये पल आया है। तभी मैंने एक बहुत ही ज़ोर का धक्का मारा और मेरे दोनों लंड पूरे के पूरे जड़ तक परी की चूत और गांड में घुस गए और परी इतनी ज़ोर से चिल्लाई की जैसे पहली बार उन्हे किसी ने चोदा हो और वैसे भी उनकी डेलिवरी ऑपरेशन से होने के कारण उनकी चूत फैली नहीं थी और 6 महीनो से चुदाई नहीं होने के कारण चूत बिल्कुल कुवारी चूत की तरह सिकुड़ी हुई थी। उनकी आँखो से आंसू गिरने लगे और वो रोने लगी और कहने लगी कि मोहित मुझे छोड़ दो प्लीज.. आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मोहित तुम आगे जो भी कहोगे में वही करूँगी.. बस आज एक बार छोड़ दो.. माँ मुझे बचा लो इस दरिंदे से.. साले रंडी बाज़ छोड़ मुझे तुने मेरी गांड और चूत दोनों को फाड़ डाला.. छोड़ मुझे निकाल साले अपने घोड़े जैसे लंड को.. में मर गई.. भगवान मुझे आज बचा लो साले ने मेरी गांड और चूत में गरम सलाखे डाल दी.. हाए में मरी। मोहित तुम इतनी चुदाई करते हो फिर भी तुम्हारा मन नहीं भरता आईईई तुम्हे तुम्हारी माँ की कसम अह्ह्ह छोड़ रंडी बाज। भाभी के मुहं से पहली बार ऐसे शब्दों को सुन रहा था लेकिन मुझे बहुत मज़ा आ रहा था । तभी मैंने अपने दोनों लंड को पीछे खींचकर फिर से एक ही धक्के में जड़ तक डाल दिया और परी के दर्द की कोई चिंता किए बगैर करीब वैसे ही 15 धक्के मारे। फिर भाभी की हालत खराब हो गयी और वो ज़ोर ज़ोर से चिल्लाते हुए कह रही थी अगर आज में बच गयी

तो तुम्हारी कोई भी एक मांग पूरी करूँगी। करीब आधे घंटे के बाद उन्हे मज़ा आने लगा इस बीच वो दो बार झड़ चुकी थी। इस कारण उनकी चूत गीली हो चुकी थी और लंड आसानी से जा रहा था और पूरे कमरे में फक्चा फॅक फक्चा की आवाज़ और भाभी की चीख सुनाई दे रही थी और में उनकी चूची को पकड़ कर दबा भी रहा था और उसमे से दूध गिर रहा था और नीचे का बेड गीला हो रहा था। फिर में और आधे घंटे तक उन्हे इसी तरह से चोदता रहा और फिर हम एक साथ झड़ गये और में उनके ऊपर गिर गया और सो गया। कैसी लगी बीबी और मेरी भाभी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी बीबी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/KomalKumari

The Author

Kamukta xxx Hindi sex stories

astram ki hindi sex stories, hindi animal sex stories, hindi adult story, Antarvasna ki hindi sex story, Desi xxx kamukta hindi sex story, Desi xxx stories, hindi sex kahani, hindi xxx kahani, xxx story hindi, hindi sister brother sex story, hindi mom & son sex story, hindi daughter & father sex story, hindi group sex story, hindi animal sex story, sex with horse hindi story,
Hindi Sex Story & हिंदी सेक्स कहानियाँ © 2018 Hot Hindi Sex Story