Hindi Sex Story & हिंदी सेक्स कहानियाँ

Hindi me sex kahani, chudai ki kahani, new sex story hindi, चुदाई की कहानी, desi xxx hindi sex stories, हिंदी सेक्स कहानियाँ, adult sex story hindi, hindi animal sex stories, brothe sister sex xxx story, mom son xxx sex story, devar bhabhi ki xxx chudai ki story with hot pics, xxx kahani, real sex kahani hindi me, desi xxx chudai story, baap beti ki real xxx kahani with desi xxx chudai photo

किस्मत से मिली विदेशी मुस्लिम औरत की गुलाबी चूत

चुदाई कहानी Desi sex kahani, एक मुस्लिम महिला की चुदाई hindi story, भाभी की चुदाई, Muslim aurat ki mast chudai xxx desi kahani, चाची की चुदाई, Pakistani sexy aurat ki gulabi mansal choot ki namkin ras piya, शिक्षक की चुदाई, देवर भाभी की चुदाई, माँ बेटे की चुदाई, भाई बहन की चुदाई, बाप बेटी की चुदाई, बेटी की चुदाई, हिंदी XXX सेक्स कहानी, अचल हिंदी सेक्स कहानियाँ, सच हिन्दी सेक्स कहानी, गर्म सेक्स कहानी हिन्दी, हिंदी सेक्स स्टोरी

मेरे मोहल्ले में ही एक मुस्लिम की औरत रहती थी। मेरी उससे फेसबुक पर दोस्ती हो गयी। फिर मैं हर शाम डिफेंस कॉलोनी के पार्क में सुबह शाम जाने लगा। वो 35 साल की थी पर अच्छा माल थी। उसका नाम नोराफे डिकोस्टा था।वो घर पर अकेली रहती थी। उसने जवानी के दिनों में लव मैरिज की थी। पर उसका आदमी हमेशा 4 5 लड़कियों के साथ सम्बन्ध बनाये था। उसे ये बात शादी के 6 साल बाद पता चली। नोराफे ने मुझे बताया की शादी के साल भर तो वो वफादार रहा फिर वो उसे दोखा देने लगा।नोराफे मुझसे पट गयी। मैं उसके घर आने जाने लगा। वो भी मुझे चाहने लगी। मैं उसे हमेशा chinese माल कहकर बुलाता था। क्योंकि उसका चेहरा बिलकुल चीनी लड़कियों जैसा था।

6 साल के दौरान उसके 2 बच्चे हो गए। अपने आदमी की असलियत जान उसने उसे डिवोरस दे। दिया।
नोराफे जादातर स्कर्ट और जीन्स पहनती थी, टी शर्ट जीन्स भी पहनती थी। एक दिन एक शाम जब वो पार्क में जॉगिंग करने आई तो मैंने उसे पकड़ लिया।
नोराफे! बेबी ई लव यू   मैंने उसे प्रोपोज़ कर दिया
वो मुझसे पट कई। हम दोनों एक झाडी में चले गए। मैं उसके रसीले ओंठों का रसपान किया।
धीरे 2 मैं नोराफे के प्यार में डूब गया। मैं उसे नए 2 तोहफे देने लगा। वो भी मुझसे चाहने लगी। वो हिंदी नही जानती थी। इसलिए हम अंग्रेजी में ही बात करते थे। मैं सोचने लगा की इस मुर्गी की मशीन कैसै लूँ। दोस्तों 35 साल की होने के बावजूद वो जवान और खूबसूरत लगती थी।
मैं जानता था की वो मुझे दे देगी। एक दिन मैं उसके घर गया। वो जादातर बिअर पीती थी और पोर्क (सूअर का गोस्त) और चिकन। उसने मुझे भी बिअर, पोर्क और सूअर के गोस खाने को दिया। पहले तो मुझे घिन आई। फिर मैंने सोचा की इसकी मशीन लेनी है तो मुझसे उससे प्यार का नाटक करना ही होगा। आखिर मैंने भी सूअर का गोस खा लिया।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। खाने के बाद मैंने उसे एक हिंदी गाना सुनाया। वो खुश हो गयी। नोराफे ने मुझे बताया की फिलीपींस में i love u को महल किता बोलते है।
नोराफे महल किता !  मैंने उसे कॉम्प्लीमेंट दिया। वो पट गयी। मैं उसका हाथ पकड़ लिया। मैंने उसे इसरा किया की कमरे में चलते है। उसने कहा की बच्चों के सोने के बाद। मैं उसके बेडरूम में उसका बेसब्री से इंतजार करने लगा।
इस दौरान मैंने उसके वासरूम में जाकर तेल से अपने लिंग में मालिश भी कर ली। मैं चाह रहा था की उसका जदरबस्त सेवा दूँ जिससे वो बार 2 मेरी अडिक्ट हो जाए और  मशीन देती रहे। 1 घण्टे बाद वो बेडरूम में आई। मैंने उसे अपने बाहुपाश में ले लिया। दोस्तों वो बेइन्तहां सुंदर लग रही थी। मैंने उसकी स्कर्ट में कमर के पास हाथ दाल दिया। और अपने लबो को उसके लबो से लगा दिया।
मेरा जादू उसपर चलने लगा। वो भी मुझसे प्यार करने लगी। उसकी शाँसे गर्म थी। मैं अपने हाथों को उसकी चिकनी कमर पर जो जीन्स के ठीक ऊपर होती है सहलाने लगा। उसे प्यार का नशा चढ़ने लगा। वो भी मेरे लबो को चूमकर फ्रेंच किस करने लगी। उसकी झीब मेरे मुँह में आने लगी। मैं पागल होने लगा। मैं में अपनी झीब उसके मुँह में डालने लगा। हम दोनों फ्रेश किस करने लगे। धीरे 2 हम दोनों जलते कोयले की तरह गर्म हो गए।
एक पुरुस होने के नाते मैं अधिक उत्तेजित हो गया। मेरे हाथ उसके मम्मो पर चले गए। मैं हल्का 2 उनको सहलाने लगा। फिर उन्हें दबाने लगा। नोराफे बॉय कट में ही रहती थी। उसकी तस्वीर आज भी मेरे जहन में है।
बेबी लेट्स मेक लव  मैंने उससे कहा
उसने हाथ ऊपर कर लिए। मैं उसका स्कर्ट निकलने लगा। ज्यों ही मैं उसका स्कर्ट निकाला एक गोरा स्वेत जिस्म मेरे सामने आ गया। एक बढ़िया कद काठी की गोरी रंग वाली औरत। मैं बेकाबू हो गया। मैं उसपर टूट पड़ा। और गले से लगा लिया।
नोराफे  बेबी यू आर रियली डैम ब्यूटीफुल  मैंने कहा।
दोस्तों आज अरसे बाद किसी औरत को अपने सीने से लगाया था बिना कपड़ों के। मैं बहुत किस्मतवाला था की एक विदेशी औरत की मशीन मिलने वाली थी। ये विदेशी औरत इंडियन औरतों जैसी नहीं होती है। इंडियन औरते तो खुल के देती भी नही है। जबकि विदेशी औरते बड़ी खुसमिजाज होती है। और खुल के देती है।
इंडियन औरते जब एक बार किसी अजनबी से काम लगवा लेती है तो डर जाती है और महीनो नही देती है। समाज से डर्टी है की कहीं उनकी चुदाई वाली बात ना खुल जाए। पर दोस्तों विदेशी औरते की बात अलग है। वो अजनाबियों से चुदाई को बुरा नही मानती। और बॉयफ्रेंड बन जाने पर खुलकर बिना किसी लोक लाज के देती है। इसके साथ 20 20 खेलूँ या टेस्ट मैच खेलूँ।
बेबी यू लाइक क्विक और स्लो (तुमको धीरे पसंद है या जल्दी ) मैंने उससे पूछा।
धीरे   वो बोली
मैंने नोराफे को साइन से चिपकाकर खूब चुम्मा चाटी की। खूब उसका दूध पिया। दोसतों जहाँ हिंदुस्तानी औरतों के मम्मे में निपल के चारों ओरे काला घेरा होता है वैसे ही उन फिलिपिन्स की औरत का था पर काला नही था लाल था। 2 बच्चे होने के बाद भी उसमे मम्मे रसीले और गोल गोल थे। मैं जी भरके उसके मम्मे पिए।
जब मन भर गया तो जल्दी 2 उसकी निपल्स पर जल्दी 2 जीभ फिराने लगा। वो उत्तेजित हो गयी। मैं उसे बिस्तर पर ले गया। मैंने उसकी जीन्स के बटन खोल दिए और जीब निचे करने लगा। उसकी मशीन की खुसबू मुझे आने लगी। अंदर देखा तो पाया की उसने पर्पल कलर की लास वालो पहन रखी थी। मेरी खुशि का ठिकाना नही था।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं उसकी पैन्टी को ऊपर से ही चाटने लगा। लेश से उनकी बुर के दर्शन हो रहे थे। मैं उसे पूरा मजा देना चाहता था। मैंने फ्रीज़ से एक आइस कूब बर्फ का टुकड़ा निकाला और उस ही नाभि पर रख दिया। वो कमर उठाने लगी। ऊपर ठण्डा, निचे गर्म उसे 2 2 मजे एक साथ मिलने लगे। मैंने पैंटी के अंदर हाथ दाल दिया। मेरी नाजुक उँगलियाँ उसकी झांटों की हरी भरी घास से होते हुए उसकी मशीन ढूंढने लगी।
फिर मैंने उस रस से ओटप्रोत्त  सुरंग की खोज कर ली। मैंने अपनी लम्बी नरम लचीली उँगलियाँ उसकी सुरंग में दाल दी। वो चिहुक उठी। मैंने नोराफे डेस्कोस्टा को अपनी गिरफ्त में ले लिया
बेबी ई लव यू!  बेबी ई लव यू।   मैं अपने प्यार की दुहाई देने लगा। मैंने
नोराफे से भी मुझे सीने से लगा लिया। उसके मस्त मुलायम मम्मे मेरी चाटी से चिपके थे। दोस्तों मेरा खून गर्म होकर उबाल मारने लगा। महीनो बाद आज मैं खाता खोंलने वाला था। इस विदेशी औरत को कैसे लू मैं सोचने लगा। मैंने अपने होठ उसके लबो पर रख दिए और जोर 2 उसकी बुर में उंगली करने लगा।
उस विदेशी औरत को मजा आने लगा। मैंने उँगलियों की ट्रेन को और तेज चलाया। नोराफे सुख के समुन्दर में दुब गयी। मैंने उसकी चड्डी नही उतारी और ऐसे ही उसकी बुर में ऊँगली करता रहा। उसे नशा चढ़ गया। उसने धीरे 2 अपने पैर फैलाना शूरु किया। मैं अब जल्द से जल्द उसे भोगना चाहता था।
उसने फिलिपिन्स की भासा में कहा की अब इंतजार ना करवाऊँ और सुरु कर दूँ। मैं उसकी मशीन में गहराई तक उंगली करता रहा। नोराफे मचलने लगी। मैंने पूरा हाथ ही उसकी चड्ढी में
डाल दिया। और जोर 2 हिलाने लगा जैसे बच्चे किसी बिल में खो गयी गोली को निकालते है। वो बेकाबू हो रही थी।
अब इस औरत को जादा इंतजार करना उचित ना होगा। अब इसे पेलना चाहिए  मैंने सोचा
मैंने उसके रस को चाट लिया। क्या नमकीन पानी था। उसने अपने पैर सीधे किये मैंने नोराफे की चड्डी उतार तो।
या खुदा  क्या गजब का सामान थी। मैं उसकी मशीन पर टूट पड़ा। और उसे अपने ओंठों से चाटने लगा। चाट चाटकर मैंने उसका पूरा पानी पी लिया। मैंने अपनी पैंट निकली और अपने लिंग को उसके मुँह में दाल दिया। वो मजे से चूसने लगी । हिंदुस्तानी औरते जहाँ लिंग चूसने में हजार नखड़े चोदती है वहीँ विदेसी औरतों को ये बड़ा पसंद होता है।
नोराफे जोश में आ गयी। और मेरी कमर को पकड़ मेरे लिंग को चूसने लगी। मुझे मजा आने लगा। मैंने अपनी आँखे बन्द कर ली। अपने हाथ से उसका सर पकड़ लिया। वो मजे से मेरे चूसने लगी। फिर चुदाई सुरु हुई। उसकी बड़ी 2 काली 2 झांटे थी।
तुम झांटे क्यों नही बनाती हो?  मैंने पूछा
कोई चोदनेवाला ही नही है। और फिर फिलिपिन्स की औरते झांटों को अच्छा मानती है। क्योंकि इससे बैक्टीरिया चूत में नही पहुँच पाते। झांटे बनाने पर उसकी चूत में लाल 2 चकत्ते पड़ जाते है। उसने बताया।
कोई नही  मैं ऐसे ही पेल दूंगा  मैंने कहा।
मैंने अपने लिंग को उसकी मशीन में इन्सर्ट किया जैसे मोबाइल में चार्जर लगाते है। कई सालों से नोराफे की मशीन चार्ज नही हुई थी इसलिए मेरा प्लग नही लग रहा था। फिर लग गया और मैं उसे चार्ज करने लगा। मैंने पहला धक्का दिया तो नाजुक बदन नोराफे से अपने सीने पर एक मुलायम चौकोर तकिये को अपने हाथों में भींच लिया।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने धक्का दिया तो उसने अपनी आँखे बन्द कर ली और सिसकारने लगी। जैसे उसने लाल मिर्च वाली चाट खा ली हो। मैंने उसे पेलना सुरु किया। अच्छी खासी टाइट मशीन मिली थी मुझे। ये किस्मत से ही मिली थी। मैंने धक्के पर धक्के देने लगा। नोराफे की जवानी फिर से वापिस आने लगी। उसे आनंद आने लगा।मुझे भी आनंद आने लगा। मैं उसे जोरदार धक्के मारने लगा। मैंने नही पानी आखे बन्द कर ली और रात की ट्रेन चलाने लगा। उसे बहुत चोदा। मेरा लिंग उसकी दिवार में अंदर ही अंदर सरपट सरपट दौड़ रहा था। जैसे घोड़े अँधेरे में किसी घने जँगल में दौड़ते है। मेरा मजबूत लिंग उसकी सुरंग का भरपूर चोदन कर रहा था। उसकी आखरी दीवार को छु रहा था। ये कमाल का अहसास था। उसकी बुर वे अंदर आग लग गयी थी। बुर फैलकर खूब बड़ी और गहरी हो गयी थी।
उनका पानी बहुत चिकना था और मेरे लिंग की ग्रीसिंग कर रहा था। मैं उसे ठका ठक ठोके जा रहा था। उसकी मशीन मेरे लिंग को अच्छे से खा रही थी। और मेरे लिंग को उसने अपने भीतर कस लिया था। उसे चोदते काफी देर हो गयी थी। फिर वो छटपटाने लगी। मैं जान गया की अब वो पानी छोड़ने वाली है।
मैंने उसे जोरदार धक्के मारने सुरु किये। जोरदार ऐतिहासिक धक्के। वो चरमसुख पा रही थी। मेरा बदन भी ऐंठने लगा। फिर भी मेरा पानी नही गिरा। सूअर खा खाके उसने क्या गजब बॉडी बना राखी थी। बिलकुल चिकना संगमरमर जैसा बदन। मैं जोश में आ गया। उसे पेलते 2 ही फिर मैंने उसे अपनी गोद में उठा लिया। उसके चिकने छूटड़ क्या कमाल के थे। उसने अपने पैर मेरी कमर पर कस लिए। अपना सर नोराफे ने मेरे गले में छुपा लिया। उसके हाथ मेरी पीठ पर कस गए।आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मुझे उस पर प्यार आ गया। मैं उसे लहरा लहरकर ऊपर निचे करने लगा। उसे मजा आने लगा। उसे अभोतपुर्व सुख मिल रहा था। मैं उसके आसमान में अपनी पतंग को उड़ाने लगा। दाँये बाये फिर ऊपर और ऊपर। मेरी लिंग उसकी योनि में धँसा था जैसे गमले में कोई गुलाब का पेड़ लगा रहता है। उसकी चिकनी चुस्त योनि मेरे बड़े से लिंग को पूरा 2 अच्छी तरह से खा रही थी।मुझसे भी अभूतपूर्व सुख मिल रहा था। नोराफे अब पानी छोड़ने वाली थीं। मैं जान गया था। मन हुआ की इसे और तड़पाओ और अपना लिंग निकालकर इसे पिलाऊँ। उसे मैंने बड़ी देर तक चोदा। फिर उसे अपनी साइकिल से निचे उतारा। वो घुहतनों के बल बैठ गयी। मैंने अपने लिंग को उसके मूल में पेल दिया। वो अपनी सफ़ेद उँगलियों से मेरे लिंग को फटने लगी।उसने मेरा मॉल खाने के लिए मुँह फैला लिया।काफी देर तक मेरा लिंग फेटने के बाद मेरे लिंग से पिचकरी छूट गयी। नोराफे एक विदेशी होने के कारण मेरा सारा मॉल पी गयी।अगर कोई मुस्लिम औरत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/NoraphiDiskota

The Author

Kamukta xxx Hindi sex stories

astram ki hindi sex stories, hindi animal sex stories, hindi adult story, Antarvasna ki hindi sex story, Desi xxx kamukta hindi sex story, Desi xxx stories, hindi sex kahani, hindi xxx kahani, xxx story hindi, hindi sister brother sex story, hindi mom & son sex story, hindi daughter & father sex story, hindi group sex story, hindi animal sex story, sex with horse hindi story,
Hindi Sex Story & हिंदी सेक्स कहानियाँ © 2018 Hot Hindi Sex Story