Hindi Sex Story & हिंदी सेक्स कहानियाँ

Hindi me sex kahani, chudai ki kahani, new sex story hindi, चुदाई की कहानी, desi xxx hindi sex stories, हिंदी सेक्स कहानियाँ, adult sex story hindi, hindi animal sex stories, brothe sister sex xxx story, mom son xxx sex story, devar bhabhi ki xxx chudai ki story with hot pics, xxx kahani, real sex kahani hindi me, desi xxx chudai story, baap beti ki real xxx kahani with desi xxx chudai photo

हरामी बॉयफ्रेंड ने मेरी चूत फाड़ दी

चुदाई कहानी, Sex kahani, बॉयफ्रेंड से चूत की खुजली मिटवाई xxx chudai kahani, बॉयफ्रेंड ने मुझे चोदा xxx story, बॉयफ्रेंड का 9 इंच का लंड से खूब चुदी xxx real kahani, बॉयफ्रेंड ने चूत की प्यास बुझाई hindi story, बॉयफ्रेंड से चूत चटवाई, बॉयफ्रेंड से गांड मरवाई, बॉयफ्रेंड से चूत की प्यास बुझाई antarvasna ki hindi sex stories,

मेरी सहेली ने मुझे बताया कि वो उसके साथ चुदाई का मज़ा ले चुकी है और वो भी स्कूल में ही चुदी थी।मैं उसकी बात सुन कर गर्म हो चुकी थी और मेरा मन कर रहा था कि कोई आकर मेरी भी चुनमुनिया में अपना लण्ड डाल दे..पता नहीं इस ख़याल में मेरा हाथ पता नहीं कब चुनमुनिया पर चला गया.. और मैं उसको सहलाने लगी।उस वक्त मेरी मुन्नी पर बाल थे..तभी रोशनी ने मुझको बोला- चल तुझको ठंडी कर देती हूँ।मैं मना किया.. लेकिन वो मानी नहीं और मुझे टॉयलेट में ले गई।उस वक्त वहाँ कोई नहीं था.. क्योंकि स्कूल की छुट्टी हो चुकी थी।मैं वहाँ गई.. तो उसने जाते ही मेरी पैन्टी और सलवार एक झटके में उतार दिया। मैं हैरान थी कि वो करना क्या वाली है। उसके बाद वो मेरी मुन्नी को सहलाने लगी.. कभी वो अपनी उंगली मेरी चुनमुनिया में अन्दर कर दी.. कभी बाहर..मैं अपने होश में नहीं थी.. पर मुझे मज़ा आ रहा था।
बस 5 मिनट में ही मेरी मुन्नी ने पानी छोड़ दिया और रोशनी ने अपने रूमाल से मेरी मुन्नी को साफ़ किया।उसके बाद बोली- चुनमुनिया की सफाई नहीं करती है क्या?मैंने कहा- रोज़ तो नहाती हूँ.. और साबुन से रोज चुनमुनिया साफ़ करती हूँ।वो बोली- पागल बचपन वाली सफाई नहीं.. बड़ी वाली।मैं समझी नहीं कि वो कहना क्या चाहती है।उसने बोला- तू ऐसे ही खड़ी रह और अपनी आँखें बंद कर ले।जैसा वो बोली.. मैंने किया.. तभी मुझे लगा कि मेरी चुनमुनिया पर कुछ चल रहा है.. लेकिन मैं देख नहीं पाई.. क्योंकि उसने मेरी आँखों पर रूमाल बाँध दिया था।मैंने रूमाल हटाया तो देखा.. मेरी मुन्नी का वो आधा मुंडन कर चुकी है।
मैंने उससे बोला- क्या कर रही है..?बोली- तेरी मुन्नी को बड़ा बना रही हूँ।कुछ ही देर में उसने मेरी मुन्नी को पूरी तरह से गंजा कर दिया। पहली बार मैंने अपनी चुनमुनिया को बिना बालों के देखा था। बहुत प्यारी लग रही थी। उसके बाद वो और मैं क्लास में वापस आ गए। आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। प्रैक्टिकल हुआ और सब घर जाने को रेडी हो गए.. मैं.. राज.. रोशनी और उस का ब्वॉय-फ्रेण्ड ही रह गए थे।
रोशनी बोली- डॉली तुम जाओ.. मैं थोड़ा सा लेट आऊँगी।
मैं समझ गई.. और बोला- ठीक है..
उसके बाद मैं ओर राज जाने लगे कि तभी राज को कुछ काम याद आ गया, वो बोला- डॉली तुम चलो.. मैं अभी आता हूँ… मुझे कुछ काम है।
मैंने बोला- ठीक है।
मैं चलने लगी.. तभी मुझे रोशनी की याद आई कि देखना चाहिए कि वो वहाँ कर क्या रही है?
मैंने सोचा वापस जा कर देखती हूँ कि माज़रा क्या है।
मैं वापस स्कूल में गई.. सब जगह देखा.. पर मुझे वो दोनों नहीं दिखे।
मैं वापस आने लगी.. तभी कुछ ‘खुस्स फुस्स’ की आवाजें आ रही थी- आराम से डालो.. आह्ह.. मैं मर जाऊँगी.. आह्ह..

मैंने वापस जाकर देखा कि रोशनी पूरी नंगी थी और जय रोशनी का ब्वॉय-फ्रेण्ड भी नंगा था। रोशनी उसकी गोद में बैठी थी.. और पागलों की तरह उछल रही थी।उन दोनों को कुछ भी होश नहीं था कि मैं भी यहाँ हूँ।दस मिनट तक वो उसकी गोद में मज़े ले रही थी। उसके बाद रोशनी उसके कान में कुछ बोली तो जय ने उसको गोद से उतार कर बड़े वाले डेस्क पर ले गया और वहाँ लिटा दिया। उसके बाद जय अपना लौड़ा उसकी चुनमुनिया में डालने लगा।इस चुदाई को देख कर मैं भी पागल हो गई थी.. ये क्योंकि पहली बार था जब मैंने किसी लड़के का लौड़ा रियल में देखा था… वो भी अपनी बेस्ट फ्रेण्ड की चुदाई करते हुए।उसके बाद जय रोशनी के ऊपर चढ़ गया और तेज-तेज झटके देने लगा। रोशनी पागलों की तरह.. कभी किस करती.. कभी अपने चुचों को दबाती.. कभी कुछ करती..जय ने अपना लण्ड आराम से निकाला और एकदम से उसकी गाण्ड में डाल दिया।रोशनी उसके लिए रेडी नहीं थी.. वो चिल्लाई.. लेकिन जय ने उसका मुँह बंद कर दिया और पूरा लौड़ा उसकी गाण्ड में डाल दिया।  आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। रोशनी अब भी मज़े ले रही थी.. थोड़ी देर बाद वो दोनों झड़ गए और कपड़े पहनने लगे।मैं भी वापस जाने के लिए जैसे ही मुड़ी.. तो मैंने देखा कि मेरे पीछे राज खड़ा था और उसकी पैन्ट आगे से गीली और ऊपर को उठी हुई थी।मैंने उसको हटाना चाहा.. तो बोला- डॉली.. तुम ऐसी होगी.. मैं सोच नहीं सकता था।उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और उसी कमरे में अन्दर ले गया.. जहाँ रोशनी की चुदाई चल रही थी।थोड़ी देर हमारी बहस हुई तो पता चला कि यह इन तीनों का प्लान था कि मेरी और राज की भी चुदाई करवा ही दी जाए।मैं ये सुन कर हैरान थी कि मेरी बेस्ट फ्रेण्ड ही मेरी ठुकाई की तैयारी करवा रही थी।मैंने मना कर दिया- मुझको ऐसा कुछ नहीं करना है..

लेकिन राज ने मेरा हाथ पकड़ लिया- आई लव यू.. मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ।
मेरे होंठों को चूसने लगा..
तो मैंने कहा- नहीं राज.. ये सब ग़लत है.. तुम मेरे फ्रेंड हो..
राज ने मेरे कंधे हाथ रख दिया और कहने लगा- देखो डॉली मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ.. और जैसे-जैसे तुम जवान हो रही हो.. मैं तुम्हें और भी प्यार करना चाहता हूँ।
उसने मेरे गाल पर एक चुम्बन कर दिया.. मैं शर्मा गई और मैंने कहा- राज प्यार तो मैं भी तुमसे करती हूँ.. पर अगर किसी को पता चल गया.. तो बहुत बुरा होगा।
राज बोला- अरे किसी को कुछ पता नहीं चलेगा..
मैं तो वैसे ही रोशनी की चुदाई देख कर गर्म हो चुकी थी… मैंने ज्यादा नाटक नहीं किया।
फिर उसने धीरे से अपने हाथ मेरे चुचों पर रख दिया और कहा- डॉली मैं इनका रस पीना चाहता हूँ।
उसने मेरे शर्ट को ऊपर कर दिया। आगे कुछ और होता.. इससे पहले वहाँ से रोशनी और जय चले गए थे।
रोशनी मेरे हाथ में जाने से पहले कन्डोम का पैकेट दे कर हँसते हुई बोली- हैपी फकिंग डे..
मैं भी हँस पड़ी थी।  आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसके बाद राज ने मेरी कमर में अपना हाथ डाल दिया, अब मैं भी गर्म हो गई थी, राज मेरे चुचों को ब्रा के ऊपर दबाने लगा.. वो बेरहमी से चुचों को मसल रहा था।एक साथ दोनों चुचों को बुरी तरह मसलने से मैं एकदम से चुदासी हो उठी। राज ने मेरे गुलाबी होंठों पर अपने होंठों को रख दिए और उन्हें बुरी तरह चूसने लगे।वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगा था। अब उसने मेरे कपड़े उतारना शुरू किए.. पहले मेरी कमीज़ निकाली.. फिर मेरी सलवार खींच दी।अब मैं सिर्फ पैन्टी और ब्रा में थी। फिर राज ने मेरी ब्रा भी निकाल दी और वो मेरे तने हुए चुचों को चूमने-चाटने लगा।
राज के साथ ये करते हुए बहुत सेक्सी लग रहा था..मैं अपने दोस्त के साथ नंगी थी, राज मेरे चुचों को मुँह में पूरा भर के चूस रहा था और अपने एक हाथ से मेरी चुनमुनिया को भी सहला रहा था।फिर थोड़ी देर बाद राज ने मेरी अनछुई चिकनी-चिकनी जाँघें चूम लीं.. मैं सिहर उठी।

राज पागलों की तरह मेरी जाँघों को अपने मुँह से सहला रहा था और चूम रहा था। फिर हौले से राज ने मेरी पैन्टी भी निकाल दी।मेरी बिना बालों वाली अधखिली गोरी गुलाबी चुनमुनिया को देखते ही वो एकदम से चकित रह गया और बोला- रोशनी शेव अच्छी करती है।मैं हँस दी..उसने मुझको बोला- रोशनी को मैंने ही बोला था कि तेरी मुन्नी का मुंडन कर दे।राज ने मेरे पूरी चुनमुनिया हाथ में थाम ली और मेरी पूरी चुनमुनिया को दबा दिया।चुनमुनिया को सहलाता हुआ राज बोला- हाय डॉली.. मेरी जान.. क्या चीज़ है तू.. क्या मस्त माल है.. हहमम्म ससस्स हहा..राज ने अन्दर तक मुँह डाल कर मेरी जाँघें बड़े प्यार से चूमी और सहलाते हुए मेरी जाँघों को फैला दिया..अब वो मेरी चुनमुनिया को बुरी तरह मसलने लगा, मुझे बहुत मज़ा आने लगा.. मैं सिसकारी भरने लगी..
राज और जोश में चुनमुनिया को मसलने लगा.. उसने मसल-मसल कर मेरी चुनमुनिया लाल कर दी थी।
उसके इस तरह से रगड़ने से मेरी मुन्नी 2-3 बार झड़ चुकी थी, बहुत गीला हो गया था, राज के हाथ भी गीले हो गए थे.. सारा पानी निकल बाहर रहा था, मैं निढाल हो रही थी।  आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर राज ने मेरी चुनमुनिया की दोनों फांकों पर होंठ रख दिए और मेरी कसी हुई चुनमुनिया के होंठों को अपने होंठों से दबा कर बुरी तरह चूसने लगा।मैं तो बस कसमसाती रह गई.. मैं तड़पती मचलती हुई ‘आआहह.. आअहह.. राज.. राज.. हाय.. उईईइ.. आहह..’ कहती रही और राज चूस-चूस कर मेरी अधपकी जवानी का रस पीता गया।बड़ी देर तक मेरी चुनमुनिया की चुसाई की, मैं पागल हो गई थी।तभी राज ने अपने कपड़े उतारे और खुद नंगे हो गया और उसका लंड फड़फड़ा उठा.. करीब 7 या 8 इंच का लोहे जैसा सरिया था। मैंने कहा- राज.. यह तो बहुत बड़ा और मोटा है.. ये मेरी चुनमुनिया में नहीं जा पाएगा।तो राज ने कहा- डॉली तू फिकर मत कर.. फिर मैं तेरे से प्यार करता हूँ.. तुझे कुछ नहीं होने दूँगा।उसने अपना लंड मेरी चुनमुनिया की तरफ बढ़ाया… तभी राज बोला- डॉली.. कन्डोम तो दे.. जो रोशनी ने जाते समय तुमको दिया था।

मुझ याद ही नहीं था कि इसकी भी जरूरत पड़ेगी। मैंने अपने हाथों से कन्डोम राज के लण्ड पर लगाया और सहलाने लगी।उसके बाद राज ने मुझको डेस्क पर आराम से लिटा दिया। मैं सोच रही थी जो हालत अभी रोशनी की थी.. अब मेरी होने वाली है।राज के लंड के टच करते ही मेरी चुनमुनिया ने पानी छोड़ दिया। मैं बुरी तरह तड़प रही थी।राज 5 मिनट तक मेरी चुनमुनिया को अपने लंड से सहलाता रहा.. फिर उसने मेरी चुनमुनिया पर हल्का सा ज़ोर लगाया.. तो मेरी चीख निकल गई। उसका लंड अन्दर नहीं जा रहा था।राज ने कहा- थोड़ा दर्द होगा.. लेकिन फिर ठीक हो जाएगा।मैंने मंत्रमुग्ध कहा- ओके.. लेकिन राज प्लीज़ आराम से करना।राज ने ज़ोर से अन्दर डाला.. तो उसका आधा लंड मेरे अन्दर कोई चीज़ तोड़ते हुए अन्दर घुसता चला गया।मेरी आँखों में आँसू आ गए- आह.. मैं मर जाऊँगी राज.. प्लीज़ निकालो.. बहुत दर्द हो रहा है.. आह ओफ… ममाआ..यह कहते हुए मैं उससे गिड़गिड़ाने लगी.. पर वो नहीं माना और उसने मेरे होंठों पर अपने होंठों लगा दिए।वो मेरे होंठों को चूसने लगा और अपने लौड़े को मेरी चुनमुनिया में ऐसे ही डाले रखा।  आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मेरी चुनमुनिया से खून निकल रहा था और मैं बुरी तरह तड़प रही थी।वो कहने लगा- तू मेरे लिए थोड़ा सहन कर ले प्लीज़।मैंने हल्के स्वर में कहा- राज आपके लिए तो मैं कुछ भी कर सकती हूँ।फिर राज ने एक जोरदार झटका मारा और उसका पूरा लंड मेरी चुनमुनिया में जड़ तक घुस गया।मैं सिहर उठी और ‘आह.. ओह्ह.. राज मैं मर गई..’ कहने लगी।राज मुझे तसल्ली देता रहा और 5 मिनट तक मेरे ऊपर ऐसे ही पड़ा रहा, वो मेरे दूध चूसता रहा।लगभग 5 मिनट बाद उसने धीरे-धीरे झटके मारना शुरू किए।मैं- आह्ह.. राज.. मज़ा आ रहा है…इस बीच मैं 2 बार झड़ चुकी थी और वो यूँ ही मेरे होंठों को चूसता हुआ मुझे चोदता रहा।लगभग 10 मिनट बाद राज ने अपना सारा माल मेरी चुनमुनिया में ही छोड़ दिया।हम लेट गए.. मेरी चुनमुनिया पानी और खून छोड़ती हुई बुरी तरह फड़फड़ा रही थी, मेरी चुनमुनिया का हाल-बेहाल हो चुका था।  आप ये कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। कुछ देर बाद राज ने मेरी चुनमुनिया को साफ़ किया और फिर से चूसने लगा।थोड़ी देर में राज का लंड फिर से खड़ा हो गया।राज ने मुझको लण्ड मुँह में लेने के लिए कहा पर मैंने मुँह में नहीं डाला और उसे किस करने लगी। पर राज के बहुत बार कहने पर मैंने उसको मुँह में ले लिया। मुझे लण्ड का स्वाद कुछ अजीब सा लगा।राज मुझसे कहने लगा- डॉली मुझे तो पता ही नहीं था कि मेरी फ्रेण्ड मुझसे इतना प्यार करती है।उसके बाद हम ऐसे ही लेटे रहे। इतनी अधिक थकान थी कि मेरी तो उठने की भी हिम्मत नहीं थी। राज ने मेरी टाँगों की मालिश की और मुझको कपड़े पहनाए.. उसके बाद जब मैं पैदल नहीं चल पा रही थी तो उसने मुझको रिक्शे से मेरे घर पर छोड़ा।उस के 1-2 हफ्ते तक मैंने उससे बात नहीं की.. मुझे लाज आ रही थी।उसके बाद सब नॉर्मल हो गया। कैसी लगी मेरी सेक्स कहानियों , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर तुम मेरी चुदाई करना चाहते हैं तो अब जोड़ना चुदाई की प्यासी लड़की

The Author

Kamukta xxx Hindi sex stories

astram ki hindi sex stories, hindi animal sex stories, hindi adult story, Antarvasna ki hindi sex story, Desi xxx kamukta hindi sex story, Desi xxx stories, hindi sex kahani, hindi xxx kahani, xxx story hindi, hindi sister brother sex story, hindi mom & son sex story, hindi daughter & father sex story, hindi group sex story, hindi animal sex story, sex with horse hindi story,
Hindi Sex Story & हिंदी सेक्स कहानियाँ © 2018 Hot Hindi Sex Story